MP में bjp ने खटखटाया सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा


कमलनाथ सरकार की 10 दिन जीवनरेखा बढ़ गई है। कोरोना का हवाला देकर विधानसभा अध्यक्ष ने 26 मार्च तक के लिए कार्यवाही को स्थगित कर दिया है। यानी आज बहुमत परीक्षण नहीं हुआ। इससे पहले राज्यपाल लालजी टंडन पूरा अभिभाषण पढ़े बिना सदन से चले गए। उन्होंने कहा कि सभी शांतिपूर्वक तरीके से अपने दायित्वों का पालन करें। 

राज्यपाल से मिले दिग्विजय सिंह

राज्यपाल लालजी टंडन के साथ मुलाकात के बाद कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने कहा, ‘मेरे राज्यपाल के साथ अच्छे संबंध हैं। यह एक शिष्टाचार मुलाकात थी और हमने राजनीति को लेकर कोई बात नहीं की।’

सुप्रीम कोर्ट पहुंची भाजपा

विधानसभा अध्यक्ष के फैसले के खिलाफ शिवराज सिंह चौहान ने उच्चतम न्यायालय ने याचिका दाखिल की है। जिसपर अदालत 12 घंटों के भीतर विश्वास सुनवाई के लिए तैयार हो गया है। याचिका में शिवराज ने विधानसभा अध्यक्ष, मुख्यमंत्री कमलनाथ और मुख्य सचिव को पार्टी बनाया है। वहीं भाजपा विधायकों के साथ शिवराज भी राजभवन पहुंच गए हैं।

विधानसभा की कार्यवाही स्थगित होने के बाद भाजपा विधायकों ने नारेबाजी की। अब सूत्र बता रहे हैं कि शक्ति परीक्षण नहीं कराए जाने से नाराज भाजपा कोर्ट जाने की तैयारी में है।

26 मार्च तक विधानसभा स्थगित

26 मार्च तक के लिए विधानसभा स्थगित।

राज्यपाल का अभिभाषण शुरू

राज्यपाल लालजी टंडन ने विधानसभा में अभिभाषण देना शुरू कर दिया है। उन्होंने कहा कि सब लोग अपनी जिम्मेदारी निभाएं। संविधान की रक्षा हो। मध्यप्रदेश के गौरव की रक्षा हो। हर विधायक शांतिपूर्णण तरीके से अपना दायित्व निभाएं। राज्य में लोकतांत्रिक मूल्य बरकरार रहें।

कमलनाथ ने राज्यपाल को लिखा पत्र

मुख्यमंत्री कमलनाथ ने राज्यपाल को पत्र लिखकर उनसे बहुमत परीक्षण को रोकने की मांग की है। उनका कहना है कि वर्तमान परिस्थिति में बहुमत परीक्षण करना अलोकतांत्रिक होगा।

विधानसभा पहुंचे भाजपा विधायक

भाजपा के सभी विधायक पहुंचे विधानसभा।

मास्क पहनकर मध्यप्रदेश विधानसभा पहुंचे कांग्रेस विधायक। उनके साथ मुख्यमंत्री कमलनाथ भी मौजूद हैं।
 

भाजपा विधायकों के साथ बस में सवार हुए शिवराज

आमेर ग्रीन होटल होटल से तीन बसों में भाजपा विधायक निकले हैं। इनमें एक में नरोत्तम मिश्रा बस में ही विधायकों के साथ बैठे हुए हैं। वहीं, दूसरी बस में शिवराज सिंह विधायकों के बैठे हुए हैं। बस के निकलने के दौरान भाजपा कार्यकर्ताओं ने बसों पर फूल बरसाए हैं। भाजपा कार्यकर्ताओं ने जय श्रीराम के नारे भी लगाए हैं।

भाजपा विधायकों से मिले शिवराज सिंह चौहान

रविवार रात 2 बजे हरियाणा के मानेसर से भाजपा के 100 से ज्यादा विधायक भोपाल पहुंच गए। इन सभी को आमेर ग्रीन होटल में रखा गया। होटल में 54 कमरे हैं। फ्लोर टेस्ट से पहले सुबह करीब 8.30 बजे शिवराज सिंह विधायकों से मिलने के लिए होटल पहुंचे। इसके बाद गोपाल भार्गव और फिर नरोत्तम मिश्रा पहुंचे हैं। तीनों नेता होटल में हैं और विधायकों के साथ विधानसभा में होने वाले संभावित फ्लोर टेस्ट को लेकर रणनीति बनाई।

जीतू पटवारी का पीएम पर वार

कमलनाथ सरकार में मंत्री जीतू पटवारी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा है। पटवारी ने कहा कि मुख्यमंत्री कह रहे हैं कि हमारे कुछ विधायकों को अपहरण कर लिया गया है। प्रधानमंत्री मोदी ने लोकतंत्र को कुचलने के लिए एक मॉडल की खोज की है। अपहरण, लालच, विधायकों का प्रबंधन और उन्हें पुलिस हिरासत में रखना, रिकॉर्ड करना और उनके वीडियो वायरल करना और फिर फ्लोर टेस्ट की मांग करना।

हम फ्लोर टेस्ट का सामना करने के लिए तैयार हैं: पीसी शर्मा

कमलनाथ सरकार में मंत्री पीसी शर्मा ने कहा कि हम फ्लोर टेस्ट का सामना करने के लिए तैयार हैं, लेकिन विधानसभा में सभी सदस्य नहीं आ रहे हैं। कांग्रेस के सोलह विधायकों को गायब कर दिया गया है, जिसके बारे में मुख्यमंत्री कमलनाथ ने गृह मंत्री अमित शाह को सूचना दी है।

कमलनाथ इस्तीफा दें: भाजपा

मध्यप्रदेश विधानसभा में विपक्ष के नेता गोपाल भार्गव ने कहा कि कमलनाथ सरकार फ्लोर टेस्ट का सामना करने से भाग रही है। उन्होंने कहा कि नैतिक रूप से कमलनाथ सरकार हार चुकी है इसलिए मुख्यमंत्री को नैतिक आधार पर इस्तीफा दे देना चाहिए।

कमलनाथ ने राज्यपाल से की मुलाकात

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने रविवार देर रात राज्यपाल लालजी टंडन से मुलाकात की। राजभवन से देर रात करीब 12 बज कर 20 मिनट पर बाहर आते हुए कमलनाथ ने संवाददाताओं से कहा कि राज्यपाल ने उन्हें चर्चा के लिए बुलाया था। उन्होंने कहा, ‘राज्यपाल ने मुझसे कहा कि विधानसभा की कार्यवाही सुचारू रूप से संचालित की जाए। इसलिए मैंने उनसे कहा कि मैं सोमवार सुबह इस बारे में स्पीकर से बात करूंगा।’

बागियों को राज्य वापस आने की इजाजत नहीं

मध्यप्रदेश के मंत्री पीसी शर्मा ने कहा, उन्हें (बंगलूरू में ठहरे हुए बागी कांग्रेस विधायक) उनको सम्मोहित और प्रताड़ित किया जा रहा है। उन्हें कुछ लोग राज्य वापस नहीं आने दे रहे हैं। उनके परिवार को भी प्रताड़ित किया जा रहा है।

बंधक बनाए गए विधायकों को छोड़ा जाए

जब मुख्यमंत्री कमलनाथ से पूछा गया कि क्या राज्यपाल के निर्देशानुसार सोमवार को बहुमत परीक्षण होगा तो उन्होंने कहा कि इस बारे में विधानसभा अध्यक्ष फैसला लेंगे। उनका कहना है कि वह राज्यपाल को लिखित सूचना दे चुके हैं कि उनकी सरकार बहुमत परीक्षण के लिए तैयार है, लेकिन पहले बंधक बनाए गए विधायकों को छोड़ा जाए। 

शिवराज बोले- करेंगे विश्वास प्रस्ताव की मांग

राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का कहना है कि यदि विधानसभा में बहुमत परीक्षण नहीं होता है तो वह राज्यपाल से विश्वास प्रस्ताव लाने की मांग करेंगे। चौहान ने कहा, ‘राज्य की वर्तमान सरकार बहुमत खो चुकी है। वह भाग क्यों रही है। हम कल राज्यपाल से विश्वास प्रस्ताव को लेकर बात करेंगे। मुख्यमंत्री का कहना है कि वह चाहते हैं कि बहुमत परीक्षण हो तो फिर वह उसे करवा क्यों नहीं रहे हैं। हमारी केवल यही मांग है किबहुमत परीक्षण हो।’

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s