गायों को हरा चारा, भूखों को भोजन पैकिट वितरण – कैलाश मंथन


भूखों को भोजन कराना ही सबसे बड़ा मानव धर्म

story.. Kailash Manthan

मुलतापी समाचार

गुना। प्राणी मात्र की सेवा ही सच्चा मानव धर्म है। भूखों को भोजन, प्यासों को पानी पिलाने एवं मूक प्राणियों एवं गौ की सेवा करनना ही मानव मात्र का सच्चा धर्म है। चिंतन मंच, जनसंवेदना के तहत अंचल सड़कों पर विचरण करने वाले गौवंश को प्रतिदिन हरा चारा खिलाया जा रहा है।

विराट हिन्दू उत्सव समिति एवं चिंतन मंच प्रमुख कैलाश मंथन ने बताया कि लॉकडाउन के चलते सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए इस बात का प्रयास किया गया कि अंचल की पिछड़ी एवं गरीब बस्तियों में कोई भी प्राणी भूख न सोये। साथ ही गौवंश के लिए चारे पानी की भी उचित व्यवस्था हो। मानव धर्म के मकसद से मार्च माह से ही की जा रही गौसेवा एवं भूखों को भोजन पैकेट वितरण का कार्यक्रम अनवरत जारी है।

वहीं मूक प्राणियों की प्यास बुझाने के लिए प्रमुख स्थलों पर पानी की टंकियां रखी गई हैं। प्रतिदिन कार्यकर्ताओं के ग्रुप मोहल्लों एवं बस्तियों एवं प्रमुख सड़कों पर विचरण करने वाले पशुओं को चारा पानी की व्यवस्था करते हैं। वहीं चिन्हित पिछड़ी बस्तियों में जरूरतमंदों को राशन एवं भोजन के पैकेट उपलब्ध कराए जाते हैं।

हिउस प्रमुख कैलाश मंथन के मुताबिक चिंतन मंच के तहत नि:शुल्क गीता वितरण अभियान एवं नाम संकीर्तन आदि कार्यक्रमों के माध्यम से देशभक्ति एवं धार्मिक कार्यक्रमों को प्रमुखता दी जा रही है। साथ ही उन सभी सहयोगियों का आभार पत्र देकर सम्मानित किया जा रहा है जिन्होंने विपत्तिकाल में मानवता की सेवा कर तन मन धन से सेवा कर रहे हैं।