ताप्ती फुटबॉल कप प्रतियोगिता में अमरावती ने फाइनल मैच, पूर्व केबिनेट मंत्री पांसे किया पुरुस्कार वितरण


मुलतापी समाचार

प्रतियोगिता के चौथे दिन शनिवार को प्रथम सेमीफाइनल अमरावती और मुलताई की टीम के बीच हुआ। जिसमें अमरावती की टीम ने मुलताई की टीम को एक गोल से पराजित किय।

मुलताई के हाई स्कूल के खेल मैदान पर आयोजित मां ताप्ती कप फुटबॉल प्रतियोगिता में फाइनल मैच में अमरावती की टीम ने परासिया की टीम को 1- 0 से हराकर जीत का परचम लहराया। शनिवार को आयोजित फाइनल मैच रोमांचक रहा। दोनों टीमों के खिलाड़ियों द्वारा किए गए उत्कृष्ट खेल प्रदर्शन का दर्शकों ने भरपूर आनंद उठाया। फाइनल मैच में मुख्य अतिथि बतौर उपस्थित पूर्व मंत्री,विधायक सुखदेव पांसे दोनों टीमों के खिलाड़ियों का परिचय लेने के बाद मैच का शुभारंभ हुआ।

दुसरा सेमीफाइनल परासिया और बैतूल की टीम के बीच हुआ। लेकिन निर्धारित समय में दोनों टीमों द्वारा गोल नहीं किए जाने के कारण पेनल्टी से हार जीत का निर्णय लिया गया। जिसमें प्रथम पेनल्टी में स्कोर 5-5 होने की स्थिति में पुनः पेनल्टी कराई गई। जिसमें परासिया की टीम ने बैतूल को 1-0 से पराजित किया। तीसरे स्थान के लिए मुलताई की टीम और रॉयल एनफील्ड बैतूल के बीच मैच खेला गया। इस मैच का निर्णय भी पेनल्टी से हुआ। जिसमें बैतूल की टीम ने 3-2 से मुलताई की टीम को पराजित किया। अंत में फाइनल मैच अमरावती और परासिया की टीम के बीच हुआ जिसमें अमरावती की टीम ने जीत दर्ज की।

*पूर्व मंत्री ने किया पुरस्कार वितरण*
प्रतियोगिता का समापन पुरस्कार वितरण के साथ हुआ विधायक सुखदेव पांसे ने प्रतियोगिता में विजेता अमरावती की टीम और उपविजेता परासिया की टीम को पुरस्कार प्रदान किए। श्रीपांसे ने फुटबॉल और क्रिकेट खिलाड़ियों की मांग पर खेल मैदान की उच्च व्यवस्था के लिए मैदान में शेष बाउंड्री वाल निर्माण,सुरक्षा गेट निर्माण के लिए राशि देने के साथ क्रिकेट प्रैक्टिस नेट प्रदान करने की घोषणा की।

राज्य निर्वाचन आयोग ने 3 महीने के लिए टाले नगरीय निकाय चुनाव, 20 फरवरी के बाद होंगे चुनाव


मुलतापी समाचार

भोपाल. मध्यप्रदेश में कोरोना के फिर से बढ़ रहे कोरोना संक्रमण के खतरे को देखते हुए राज्य निर्वाचन आयोग ने नगरीय निकाय और त्रिस्तरीय पंचायत चुनावों को टाल दिया है। फिलहाल इन चुनावों को टाला गया है । चुनाव कब कराए जाएंगे इस पर राज्य निर्वाचन आयोग 20 फरवरी के बाद निर्णय लेगा। राज्य निर्वाचन आयोग का कहना है कि कोरोना संक्रमण के खतरे के बीच वर्तमान परिस्थितियों में चुनाव कराना संभव नहीं है।

तीन महीने के लिए टले निकाय चुनाव


राज्य निर्वाचन आयोग की तरफ से शनिवार को नगरीय निकाय चुनाव और त्रि स्तरीय पंचायत चुनावों को टाले जाने के संबंध में आदेश जारी किया गया । इस आदेश में आयोग ने लिखा है राज्य के कुल 407 नगरीय निकायों में से 307 का कार्यकाल 25 सितंबर 2020 को समाप्त हो गया है और 8 नगरीय निकायों का कार्यकाल जनवरी और फरवरी 2021 में पूरा हो रहा है। त्रिस्तरीय पंचायतों में पंच, सरपंच, जनपद सदस्य एवं जिला पंचायत सदस्यों का कार्यकाल भी मार्च 2020 में समाप्त हो चुका है । इनके साथ ही 29 नवगठित नगर परिषदों का निर्वाचन भी कराया जाना है। चुनाव आयोग चुनाव कराने के लिए पूरी तरह से तैयार है। राज्य सरकार प्रदेश सरकार कोरोना संक्रमण की स्थिति पर नजर रखे ऱ जब भी आंकड़ों तथा अपनी तैयारी के हिसाब से सरकार ये तय करेगी कि अब चुनाव कराए जा सकते हैं तो राज्य निर्वाचन आयोग को सूचित करे, आयोग तत्काल चुनाव कराने के लिए तैयार है।राज्य निर्वाचन आयोग अध्यक्ष ने ये कहा
राज्य निर्वाचन आयुक्त बसंत प्रताप सिंह ने जानकारी दी है कि राज्य निर्वाचन आयोग द्वारा वर्तमान परिस्थितियों का आंकलन करने के बाद यह पाया गया है कि कोविड-19 के संक्रमण में निरंतर वृद्धि तथा जन-स्वास्थ्य सुरक्षा के दृष्टिगत स्वतंत्र एवं निष्पक्ष निर्वाचन प्रक्रिया सम्पादित किये जाने की स्थिति वर्तमान में नहीं है। अत: भारत के संविधान के अनुच्छेद 243-K एवं 243-ZA में प्राप्त शक्तियों का प्रयोग करते हुए नगरीय निकायों के माह दिसम्बर-2020 एवं जनवरी-2021 में प्रस्तावित आम निर्वाचन, नगर परिषद नरवर जिला शिवपुरी को छोड़कर (माननीय उच्च न्यायालय के निर्णय अनुसार), 20 फरवरी 2021 के बाद कराये जायेंगे। इसी तरह इन्हीं परिस्थितियों के मद्देनजर त्रि-स्तरीय पंचायतों के माह दिसम्बर-2020 एवं जनवरी-2021 में प्रस्तावित आम निर्वाचन माह फरवरी-2021 के बाद कराये जायेंगे।