अफीम तस्कर की दुकान एवं संपत्तियों की जांच कर संपत्ति को राजसात करने की जन आंदोलन मंच ने सौपा ज्ञापन


मुलताई में चल रहा है नसे का अवेध व्यपायर

अफीम तस्कर के तार  राजस्थान से जुड़े

अफीम तस्कर का अंतरराष्ट्रीय तस्करों से कनेक्शन भी हो सकते हैं

मुलतापी समाचार

मुलतापी में अफीम तस्करी का गोरख धंधा करने वाले अफीम तस्कर मग सिंह उर्फ मगन सिंह राजपुरोहित की अचल संपत्ति की जांच कर अचल संपत्ति पर जमींदोज करने की कार्रवाई किए जाने की मांग जन आंदोलन मंच ने की है सोमवार को जन आंदोलन मंच के अनिल सोनी, रजनीश गिरे, शमीम खान , श्रावण वाघमारे, महेश शर्मा, राजेश तायवाड़े, टीकाराम मंडले , गुलाब राउत सहित अन्य सदस्यों ने कलेक्टर और पुलिस अधीक्षक को संबोधित ज्ञापन एसडीओपी नम्रता सोंधीया को सौंपा ज्ञापन में बताया कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा अवैध धंधे करने वाले और नशे का कारोबार करने वाले माफियाओं के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने के साथ माफियाओं की अचल संपत्ति मकान आदि को जमींदोज किया जा रहा है इसी अभियान के तहत अफीम तस्कर मगन सिंह राजपुरोहित की अचल संपत्तियों की जांच की जाए और अचल संपत्तियों को जमींदोज किया जाए ज्ञापन में बताया कि अफीम तस्कर ने बीते कुछ सालों में करोड़ों की अचल संपत्ति खरीदी है संपत्ति खरीदने के लिए बताए गए आय के स्रोत की भी जांच की जाए साथ ही अफीम तस्कर द्वारा संचालित बीकानेर मिष्ठान भंडार और गोडाउन में रखी गई मिठाइयों की जांच की जाए मिठाई में अफीम आदि तो नहीं मिलाई गई है इसकी जांच के लिए तत्काल दुकान को सील किया जाए साथ ही अफीम तस्कर के तार  राजस्थान से जुड़े हैं इन परिस्थितियों में  जोधपुर बॉर्डर से पाकिस्तान की सीमा लगी होने से कहीं अफीम तस्कर का अंतरराष्ट्रीय तस्करों से कनेक्शन तो नहीं जुड़ा है इसकी भी जांच करने की मांग जन आंदोलन मंच ने पुलिस अधीक्षक और कलेक्टर से की है

संयुक्त किसान मोर्चा की बैठक सम्पन्न, प्रदेश के किसान CM को सौपेंगे ज्ञापन


संयुक्त किसान मोर्चा की बैठक सम्पन्न

18 मार्च को सभी जिलों में मुख्यमंत्री को ज्ञापन देने का निर्णय

किसानों से संयुक्त किसान मोर्चा के सभी कार्यक्रम सफल बनाने की अपील

16 मार्च को भोपाल में फिर जुटेंगे प्रदेश के किसान संगठन

मुलतापी समाचार

     संयुक्त किसान मोर्चा से जुडे़ किसान संगठनों की बैठक भोपाल के शाकिर सदन में डाॅ. सुनीलम की अध्यक्षता में सम्पन्न हुई। किसान संगठनों ने  भोपाल, ग्वालियर और छतरपुर में पुलिस प्रशासन द्वारा किसानों के खिलाफ की गई दमनात्मक कार्यवाहियों की निन्दा करते हुए कहा कि किसान आंदोलन सरकार के दमन से रूकने वाला नहीं है, यह  आंदोलन  तीन किसान विरोधी कानून रद्द किये जाने तथा सभी कृषि उत्पादों की लागत से डेढ़ गुना  समर्थन मूल्य पर खरीद की कानूनी गारंटी मिलने तक जारी रहेगा। किसान नेताओं ने बताया कि  अब तक अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति एवं संयुक्त किसान मोर्चा द्वारा राष्ट्रीय स्तर पर जो भी कार्यक्रम दिये गये हैं उन पर लगभग सभी जिलों में कार्यवाहियां की गई हैं जिनमें तेजी लाने की जरूरत है। बैठक में सभी जिलों में अगले एक सप्ताह में सभी 52 जिलों में संयुक्त किसान मोर्चा से जुडे़ किसान संगठनों की बैठक कर संयुक्त कार्यक्रम करने का निर्णय लिया गया। सभी जिलों  में 18 मार्च को सभी किसानों का गेहूं , चना और मसूर की समर्थन मूल्य पर खरीद किये जाने के लिए हो रहे पंजीयन कराने की तारीख बढ़ाने, राजस्व विभाग द्वारा पंजीयन हेतु आधार लिंक की व्यवस्था सुनिश्चित करने, बिजली कटौती एवं वोल्टेज के उतार-चढ़ाव के चलते किसानों की मोटरें जलने से होने वाले नुकसान की भरपाई बिजली कंपनी द्वारा किये जाने, बिजली बिलों की जबरन वसूली पर रोक लगाने एवं बैंकों द्वारा किसानों के कृषि यंत्रों की कुड़की पर रोक लगाने, किसानों से की गई खरीदी का गत तीन वर्षाें का बोनस एवं भावांतर राशि देने, फसल बीमा एवं राजस्व की फसल नुकसानी के मुआवजा की बकाया राशि का तुरंत भुगतान करने, मंडियों में न्यूनतम समर्थन मूल्य से कम पर हो रही खरीद पर रोक लगाने आदि मुद्दों को लेकर मुख्यमंत्री को ज्ञापन सौंपने का निर्णय लिया गया।
संयुक्त किसान मोर्चे से जुडे़ किसान संगठनों की अगली बैठक 16 मार्च को भोपाल में बीटीआर भवन, सुभाष नगर में आयोजित करने का भी निर्णय लिया गया है। बैठक में किसान मजदूर एकता को मजबूती देने के लिए संयुक्त किसान मोर्चे की श्रमिक संगठनों के साथ बैठक भी आहुत की जायेगी।
किसान संगठनों की बैठक में संयुक्त किसान मोर्चे के मध्यप्रदेश में होने वाले कार्यक्रमों को सफल बनाने हेतु प्रदेश के किसानों से अपील की गई। प्रहलाद दास बैरागी ने बताया कि अखिल भारतीय किसान सभा द्वारा सिंगरौली से 15 मार्च से 26 मार्च अनूपपुर तक तथा सीहोर से 15 मार्च से 20 मार्च ग्वालियर तक किसान जागृति यात्रा निकाली जा रही है। श्री प्रताप सामल ने बताया कि 3 मार्च को गुना में ऑल इंडिया खेत मजदूर संगठन द्वारा अखिल भारतीय किसान समन्वय समिति एवं संयुक्त किसान मोर्चा के बैनर तले किसान महापंचायत आयोजित की गई है। जिसमें भाग लेने समन्वय समिति के वर्किंग ग्रुप सदस्य सत्यवान एवं डाॅ. सुनीलम गुना पहुंच रहे हैं। भारतीय किसान यूनियन के रामकिशन दांगी ने बताया कि उन्हें राकेश टिकैत से 8 मार्च को श्योपुर, 14 मार्च रीवा, 15 जबलपुर पहुंचने की सूचना प्राप्त हुई है। जसविन्दर ने बताया कि छतरपुर में किसान संगठनों के द्वारा अमित भटनागर के नेतृत्व में 4 मार्च को किसान महापंचायत आयोजित की गई है।
बैठक में अखिल भारतीय किसान सभा के जसविन्दर सिंह, किसान जागृति संगठन के इरफान जाफरी, अखिल भारतीय किसान महासभा के प्रहलाद दास बैरागी, भारतीय किसान यूनियन अराजनैतिक के रामकिशन दांगी, क्रांतिकारी मजदूर संगठन के बाबूसिंह राजपूत, भारतीय किसान श्रमिक जनशक्ति यूनियन के संदीप ठाकुर एवं सुरेन्द्र ठाकुर, अखिल भारतीय क्रांतिकारी किसान सभा के विजय कुमार, ऑल इंडिया खेत मजदूर संगठन के प्रताप सामल, जोली सरकार, किसान संघर्ष समिति से एड. आराधना भार्गव, नर्मदा बचाओ आंदोलन से मुकेश भगोरिया, सीटू के प्रमोद प्रधान, श्रमिक जनता संघ के संजय चौहान और राजकुमार दुबे शामिल हुए।

बैठक के बाद गत 96 वें दिन से दिल्ली बॉर्डर पर चल रहे किसान आंदोलन के दौरान शहीद हुए 275 किसानों को श्रद्धांजलि अर्पित की गई।

बड़ी खबर देशी गाय के उत्पाद से निर्माण कर 5 से 10 हजार की आय प्राप्त कर सकते है प्रतिमाह


मुलतापी समाचार

यह प्रशिक्षण आज के समय में व्याप्त बेरोजगारी को दूर करने महत्वपूर्ण साबित हो सकती हैं

मुलताई। गायत्री पाक्तिपीठ मुलताई में गौ विज्ञान, गौ संवर्धन, गो उत्पाद निर्माण, गौ नस्ल सुधार, गौ आधारित कृषि एवं स्यावलंबन प्रशिक्षण कार्यशाला रविवार जो आयोजित हुई। प्रशिक्षण का शुभारंभ स्वानंद गौशाला सॉसर जिला छिंदवाड़ा के संचालक एवं अंतर्राष्ट्रीय प्रशिक्षक डा. जीतेंद्र भकने ने डॉ भाग्यश्री भकने एवं गायत्री ट्रस्ट मुलताई के मुख्य ट्रस्टी संपतराव धोटे ने गायत्री परिवार के सदस्यों एवं प्रशिक्षणार्थियों की उपस्थिति में दीप प्रज्वलन कर किया। प्रशिक्षण के प्रारंभिक सत्र में डॉ भकने ने देशी गाय के महत्व को बताते हुए कहा कि केवल देशी गाय के गोबर और गोमूत्र का सही उपयोग किया जाए तो 5 से 10 हजार रुपए प्रति माह एक गाय से कमाया जा सकता है।गाय के गोमूत्र अर्क सेवन से हजारों बीमारियां दूर होती है। व्यक्ति जीवन में कभी बीमार नहीं हो सकता।

देसी गाय के रीढ़ की हइडी ने सूर्य नाड़ी होती है जो सूर्य से ऊर्जा लेकर स्वर्णकार का निर्माण करती है जिससे गाय के दूध का रंग पीला स्वर्ण युक्त एवं पौष्टिकता से भरपूर बनता है। इस प्रकार देशी गोवधा के नस्ल के सुधार के बारे में भी प्रशिक्षण देते हुए बताया कि जिस गाय के बछड़े को भरपूर दूध पीने को मिलेगा यह हष्ट पुष्ट होगा एवं बछिया भी हष्ट पुष्ट होकर ज्यादा दूध देने वाली गाय बनती है।इसलिए गाय के बछड़ों को भरपूर दूध पिलाना आवश्यक है। जिससे देशी गाय की नस्ल को सुधारा जा सकता है। उन्होंने गो उत्पाद निर्माण का प्रशिक्षण देते हुए दीपक, अगरबत्ती ,साबुन हवन कुंड, गणेशजी एवं राधा कृष्ण जी की मूर्तियां, गृह सज्जा की वस्तुएं शुभ लाभ जैसे छोटे-छोटे आकर्षक एवं सुंदर वस्तुओं का गाय के गोबर से निर्माण करना बताया। इस दौरान प्रशिक्षणार्थियों ने भी स्वयं सामग्री बनाकर तैयार की। प्रशिक्षक डॉ भकने ने केयल गाय के गोबर से ही अनेक प्रकार के गृह सज्जा की वस्तुओं सहित धूपबत्ती अगरबत्ती निर्माण करना बताया साथ ही वस्तुओं के निर्माण हेतु सांचे बनाने का प्रशिक्षण दिया। गाय के गोबर से गोमय भस्म दंतमंजन, उबटन, गोमूत्र अर्क पयं कीटनाशक दवाई गोमूत्र से केचुआ खाद इत्यादि निर्माण करने का भी प्रशिक्षण दिया।


105 लोगो ने लिया प्रशिक्षण
गायत्री परिवार के मीडिया प्रभारी नारायण देशमुख ने बताया कि प्रशिक्षण में विकासखंड मुलताई पवं विकास खंड प्रभात पट्टन के 105 प्रशिक्षणार्थी भाई बहनों ने भाग लिया। जिसमें मुलताई, चौथिया, सांडिया, जामगांय, खेडीकोर्ट ,कुजया, घाट बिरोली, नरखेड भोपाल गोपालतलाई बघोड़ा,सिरसाबाड़ी, चंदोरा कला, मंगोना कला, पारडसिंगा,परमंडल खड़आमला, जाम,मासोद साईखेड़ा सहित करीब 40 ग्रामों के भाई बहनों ने भाग लिया। आगामी समय में ग्राम नरखेड में बनने वाले गा विज्ञान एवं स्वावलंबन प्रशिक्षण केंद्र में भी इसी प्रकार गौ आधारित प्रशिक्षण सत्र चलाकर किसानों एवं गौ पालकों को आत्मनिर्भर बनाने का कार्य गायत्री परिवार मुलताई डारा किया जाएगा। इस अवसर पर साधकों को गायत्री महामंत्र लेखन की पुस्तिका भी वितरित की गई

बड़ी खबर देसी गाय के उत्पाद से निर्माण कर 5 से 10 हजार की आय प्राप्त कर सकते है प्रतिमाह


मुलतापी समाचार

मुलताई। गायत्री पाक्तिपीठ मुलताई में गौ विज्ञान, गौ संवर्धन, गो उत्पाद निर्माण, गौ नस्ल सुधार, गौ आधारित कृषि एवं स्यावलंबन प्रशिक्षण कार्यशाला रविवार जो आयोजित हुई। प्रशिक्षण का शुभारंभ स्वानंद गौशाला सॉसर जिला छिंदवाड़ा के संचालक एवं अंतर्राष्ट्रीय प्रशिक्षक डा. जीतेंद्र भकने ने डॉ भाग्यश्री भकने एवं गायत्री ट्रस्ट मुलताई के मुख्य ट्रस्टी संपतराव धोटे ने गायत्री परिवार के सदस्यों एवं प्रशिक्षणार्थियों की उपस्थिति में दीप प्रज्वलन कर किया। प्रशिक्षण के प्रारंभिक सत्र में डॉ भकने ने देशी गाय के महत्व को बताते हुए कहा कि केवल देशी गाय के गोबर और गोमूत्र का सही उपयोग किया जाए तो 5 से 10 हजार रुपए प्रति माह एक गाय से कमाया जा सकता है।गाय के गोमूत्र अर्क सेवन से हजारों बीमारियां दूर होती है। व्यक्ति जीवन में कभी बीमार नहीं हो सकता।

देसी गाय के रीढ़ की हइडी ने सूर्य नाड़ी होती है जो सूर्य से ऊर्जा लेकर स्वर्णकार का निर्माण करती है जिससे गाय के दूध का रंग पीला स्वर्ण युक्त एवं पौष्टिकता से भरपूर बनता है। इस प्रकार देशी गोवधा के नस्ल के सुधार के बारे में भी प्रशिक्षण देते हुए बताया कि जिस गाय के बछड़े को भरपूर दूध पीने को मिलेगा यह हष्ट पुष्ट होगा एवं बछिया भी हष्ट पुष्ट होकर ज्यादा दूध देने वाली गाय बनती है।इसलिए गाय के बछड़ों को भरपूर दूध पिलाना आवश्यक है। जिससे देशी गाय की नस्ल को सुधारा जा सकता है। उन्होंने गो उत्पाद निर्माण का प्रशिक्षण देते हुए दीपक, अगरबत्ती ,साबुन हवन कुंड, गणेशजी एवं राधा कृष्ण जी की मूर्तियां, गृह सज्जा की वस्तुएं शुभ लाभ जैसे छोटे-छोटे आकर्षक एवं सुंदर वस्तुओं का गाय के गोबर से निर्माण करना बताया। इस दौरान प्रशिक्षणार्थियों ने भी स्वयं सामग्री बनाकर तैयार की। प्रशिक्षक डॉ भकने ने केयल गाय के गोबर से ही अनेक प्रकार के गृह सज्जा की वस्तुओं सहित धूपबत्ती अगरबत्ती निर्माण करना बताया साथ ही वस्तुओं के निर्माण हेतु सांचे बनाने का प्रशिक्षण दिया। गाय के गोबर से गोमय भस्म दंतमंजन, उबटन, गोमूत्र अर्क पयं कीटनाशक दवाई गोमूत्र से केचुआ खाद इत्यादि निर्माण करने का भी प्रशिक्षण दिया।


105 लोगो ने लिया प्रशिक्षण
गायत्री परिवार के मीडिया प्रभारी नारायण देशमुख ने बताया कि प्रशिक्षण में विकासखंड मुलताई पवं विकास खंड प्रभात पट्टन के 105 प्रशिक्षणार्थी भाई बहनों ने भाग लिया। जिसमें मुलताई, चौथिया, सांडिया, जामगांय, खेडीकोर्ट ,कुजया, घाट बिरोली, नरखेड भोपाल गोपालतलाई बघोड़ा,सिरसाबाड़ी, चंदोरा कला, मंगोना कला, पारडसिंगा,परमंडल खड़आमला, जाम,मासोद साईखेड़ा सहित करीब 40 ग्रामों के भाई बहनों ने भाग लिया। आगामी समय में ग्राम नरखेड में बनने वाले गा विज्ञान एवं स्वावलंबन प्रशिक्षण केंद्र में भी इसी प्रकार गौ आधारित प्रशिक्षण सत्र चलाकर किसानों एवं गौ पालकों को आत्मनिर्भर बनाने का कार्य गायत्री परिवार मुलताई डारा किया जाएगा। इस अवसर पर साधकों को गायत्री महामंत्र लेखन की पुस्तिका भी वितरित की गई

मुर्गा ने चाकू मार कर की मालिक की हत्या, पुलिस ने किया गिरफ्तार, कोर्ट में पेशी की तैयारी


मुलतापी समाचार

घटना 22 फरवरी की है, जब मुर्गों का की लड़ाई का खेल चल रहा था तो मुर्गे के पैरों में चाकू बंधा हुआ था। इसकी वजह से मुर्गा छटपटाने लगा। इस दौरान ही मुर्गे के पैर पर बंधा चाकू थानुगुला सतीश के जांघ ऊपर लग गया, जिसकी वजह से वो गंभीर रूप से घायल हो गए। उन्हें तुरंत आनन फानन में नजदीकी अस्पातल में भर्ती कराया गया, लेकिन डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।

गौरतलब है कि, मुर्गा लड़ाई पर तेलंगाना में प्रतिबंध लगा हुआ है, लेकिन इसके बाद भी येल्लम्मा मंदिर में मुर्गों की लड़ाई का खेल चलता है। हत्या की जांच में जुटी पुलिस हमला करने वाले मुर्गे को ही पकड़ कर गोल्लापल्ली पुलिस थाने ले आई है। मुर्गे की निगरानी के लिए पुलिस के कुछ कर्मचारियों को तैनात किया गया है, जो उसे दाना और पानी दे रहे हैं।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, पुलिस ने मुर्गे को गिरफ्तार कर लिया है, जबकि पुलिस इससे इंकार कर रही है। थाने के एसएचओ कहना है कि, मुर्गे को जरूर कोर्ट में पेश किया जायेगा, लेकिन उसे गिरफ्तार नहीं किया गया है। अब जो भी कोर्ट का निर्देश होगा, उसका पालन किया जायेगा।

अर्धनारीश्वर महादेव ज्योतिर्लिंग दर्शन मोहगांव, सौसर, छिंदवाड़ा


मुलतापी समाचार

बाबा महाकाल के अनन्य भक्त एक बार दर्शन करने जरूर जाए , जमसावली वाले चमत्कारी हनुमान जी दर्शन कर मोहगांव मात्र 5 किलोमीटर की दूरी पर स्तिथ है


हमारे देश में 12.5 ज्योतिर्लिंग है उनमेसे यह भी प्रमुख जोतिर्लिंग है, यह हर साल शिवरात्रि के समय बहुत बड़ा 9 दिन मेला लगता है, ओर दूर दूर से शिव भक्त दर्शन के लिए आते है ।
यह प्रसिद्ध अर्धनरेश्व र मंदिर ,पुरातन मंदिर, जाम शावली हनुमानजी मन्दिर से 5 किलोमीटर की दूरी ग्राम मोहगांव में स्तिथ है, जोकि सौसर तहसील में आता है।