मशहूर न्यूज एंकर रोहित सरदाना का हार्ट अटैक से हुआ निधन, कोरोना वायरस से थे संक्रमित


रोहित सरदाना टीवी न्यूज एंकर

मुलतापी समाचार

नई दिल्ली: जाने-माने टीवी पत्रकार रोहित सरदाना (Rohit Sardana) की शुक्रवार को कोरोना वायरस से मौत हो गई. Zee News के प्रधान संपादक सुधीर चौधरी ने एक ट्वीट के जरिए उनके असामयिक निधन की जानकारी दी.

सुधीर चौधरी (Sudhir Chaudhary) ने ट्वीट किया, ‘अब से थोड़ी पहले जितेंद्र शर्मा का फोन आया. उसने जो कहा सुनकर मेरे हाथ कांपने लगे. हमारे मित्र और सहयोगी रोहित सरदाना की मृत्यु की खबर थी. ये वायरस हमारे इतने करीब से किसी को उठा ले जाएगा, ये कल्पना नहीं की थी. इसके लिए मैं तैयार नहीं था. यह भगवान की नाइंसाफी है… ॐ शान्ति.’ 

लंबे समय से टीवी मीडिया का चेहरा रहे रोहित सरदाना इन दिनों ‘आज तक’ न्यूज चैनल प्रसारित होने वाले शो ‘दंगल’ की एंकरिंग करते थे। 2018 में ही रोहित सरदाना को गणेश शंकर विद्यार्थी पुरस्कार से नवाजा गया था। वरिष्ठ पत्रकार राजदीप सरदेसाई ने भी रोहित सरदाना की मौत की जानकारी दी है। उन्होंने ट्विटर पर श्रद्धांजलि देते हुए कहा, ‘दोस्तों बेहद दुखद खबर है। मशहूर टीवी न्यूज एंकर रोहित सरदाना का निधन हो गया है। उन्हें आज सुबह ही हार्ट अटैक आया है। उनके परिवार के प्रति गहरी संवेदना।’

भले ही कोरोना और दिल का दौरा पड़ने से वह दुनिया छोड़कर चले गए, लेकिन एक दिन पहले तक वह लोगों की मदद के लिए सक्रिय थे। कोरोना का शिकार हुए लोगों के इलाज के लिए रेमडेसिविर इंजेक्शन, ऑक्सीजन, बेड आदि तक की व्यवस्था के लिए वह लगातार सोशल मीडिया पर एक्टिव थे और लोगों से सहयोग की अपील कर रहे थे। यहां तक कि अपनी मौत से ठीक एक दिन पहले 29 अप्रैल को भी उन्होंने ट्वीट कर एक महिला के लिए रेमडेसिविर इंजेक्शनों की व्यवस्था करने की अपील की थी। इससे पहले 28 अप्रैल को उन्होंने लोगों से प्लाज्मा डोनेट करने की भी अपील की थी। 

राजदीप सरदेसाई ने किया याद, जुनूनी एंकर पत्रकार थे रोहित सरदाना

एक अन्य ट्वीट में रोहित सरदाना को याद करते हुए राजदीप सरदेसाई ने लिखा है, ‘रोहित मेरे बीच राजनीतिक मतभेद थे, लेकिन हमने हमेशा बहस को एंजॉय किया। हमने एक रात एक शो किया था, जो 3 बजे समाप्त हुआ था। इसके समाप्त होने पर उन्होंने कहा था, ‘बॉस मजा आ गया।’ वह एक जुनूनी एंकर पत्रकार थे। ईश्वर आपकी आत्मा को शांति दे, रोहित सरदाना।’ सरदेसाई के अलावा कांग्रेस के सीनियर लीडर गुलाम नबी आजाद ने भी रोहित सरदाना को श्रद्धांजलि दी है।

92 वर्षीय जानकी बाई, 28 वर्षीय जय कालभोर, 3 माह के मयंक ने जीती कोरोना की जंग


ग्राम बडोरा की 92 वर्षीय जानकी बाई झाड़े ने कोरोना से जीती जंग

जिला मुख्यालय के समीपस्थ ग्राम बडोरा निवासी 92 वर्षीय श्रीमती जानकी बाई झाड़े की कोविड के संभावित लक्षण होने के कारण 21 अप्रैल 2021 को रैपिड एंटीजन टेस्ट द्वारा जांच की गई। इनकी कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आने के कारण तथा बुखार एवं श्वास लेने की तकलीफ होने के कारण कोविड केयर सेन्टर सेहरा में भर्ती किया गया।

कोविड केयर सेन्टर सेहरा में मेडिकल ऑफिसर डॉ. अतुल राय, स्टाफ नर्स सुश्री ज्योति साहू, फार्मासिस्ट सुश्री मीनाक्षी पेन्द्राम एवं वार्ड बाय श्री पिरमू सलामे, आया सुश्री सीता बाई द्वारा नियमित देखभाल एवं उपचार के बाद श्रीमती जानकी बाई अब स्वस्थ हैं। मंगलवार 27 अप्रैल को श्रीमती जानकी बाई की पूर्ण स्वस्थ होने के उपरांत कोविड केयर सेन्टर से खंड चिकित्सा अधिकारी डॉ. उदयप्रताप सिंह तोमर द्वारा प्रमाण पत्र देकर करतल ध्वनि से सम्मानित कर छुटटी की गई। जानकी बाई को सम्मान एवं शुभकामनाओं के साथ वाहन से उनके निवास स्थान पर पहुंचाया गया। उन्हें मुंह पर मास्क लगाने, बार-बार साबुन से हाथ धोने एवं अन्य लोगों से दूरी बनाये रखने हेतु समझाइश दी गई। जानकी बाई द्वारा जिला प्रशासन एवं स्वास्थ्य विभाग का आभार व्यक्त किया गया।

ग्राम रोंढा निवासी 28 वर्षीय जय कालभोर ने दी कोरोना को मात

जिला मुख्यालय के समीपस्थ ग्राम रोंढा निवासी 28 वर्षीय श्री जय पिता श्री मदनलाल कालभोर की कोविड के संभावित लक्षण होने के कारण 20 अप्रैल 2021 को रैपिड एंटीजन टेस्ट द्वारा जांच की गई। जय की कोरोना रिपोर्ट 20 अप्रैल 2021 को पॉजिटिव आने के कारण तथा बुखार एवं सांस लेने में तकलीफ होने के कारण कोविड केयर सेन्टर सेहरा में भर्ती किया गया। कोविड केयर सेन्टर सेहरा में नियमित देखभाल एवं उपचार के बाद श्री जय स्वस्थ हैं। सोमवार 26 अप्रैल 2021 को खंड चिकित्सा अधिकारी सेहरा डॉ. उदय प्रताप सिंह तोमर द्वारा प्रमाण पत्र देकर पुष्प गुच्छ से सम्मानित कर इनकी छुटटी की गई।

जय को एसएमएस का पालन करने की समझाइश दी गई। उनके द्वारा जिला प्रशासन एवं स्वास्थ्य विभाग का बेहतर व्यवस्थाओं हेतु धन्यवाद दिया गया।

3 माह के नन्हे शिशु मयंक की जिजीविषा शक्ति कोरोना पर पड़ी भारी

डॉ घोरे के प्रयास लाये रंग

मयंक ने जीती कोरोना की जंग

जिले में जहां कोरोना से जंग जीतने वालों में वयोवृद्ध और युवा सम्मिलित हैं वहीं 3 माह के नन्हे शिशु मयंक ने भी कोरोना की जंग जीत ली है।

मयंक पंडोले पिता श्री कैलाश पंडोले माता श्री काजोल पंडोले उम्र 3 माह निवासी ग्राम शिरडी विकासखंड मुलताई जिला बैतूल 18 अप्रैल 2021 को तेज बुखार की शिकायत के साथ गंभीर स्थिति में जिला चिकित्सालय बैतूल में उपचार हेतु लाया गया। भर्ती के समय मयंक का बुखार 105.4 फेरेनहाइट, ह्रदय गति 170 प्रति मिनट, रेंडम ब्लड शुगर 117 एवं ऑक्सीजन का स्तर 60 प्रतिशत था | रैपिड एंटीजन किट से टेस्ट किए जाने पर मयंक कोविड पॉजिटिव आया | मयंक को नवीन कोविड वार्ड में भर्ती कर उपचार प्रारंभ किया गया |

जिला चिकित्सालय में पदस्थ शिशु रोग विशेषज्ञ डॉ. जगदीश घोरे द्वारा मयंक का पूरा उपचार किया गया | 20 अप्रैल 2021 को मयंक का बुखार कम होने लगा एवं मयंक को मां का दूध देने हेतु कहा गया | दिनांक 21अप्रैल 2021 को मयंक को पूर्ण स्वस्थ होने के उपरांत जिला चिकित्सालय बैतूल से छुट्टी दी गई | डिस्चार्ज होते समय मयंक का ऑक्सीजन स्तर 99 प्रतिशत था |

डॉ घोरे का कहना है कि आमतौर पर इतनी छोटी आयु के शिशुओं में इतनी जिजीविषा शक्ति नहीं देखी जाती जो नन्हे मयंक में थी | मेरे द्वारा पूर्ण प्रयास कर सम्पूर्ण उपचार देकर उसे स्वस्थ होने में योगदान दिया गया लेकिन शिशु का आत्मबल भी काबिले तारीफ़ रहा |

मयंक के माता पिता एवं परिजनों ने रविवार को चर्चा में बताया कि अब मयंक पूरी तरह से स्वस्थ है |शासन द्वारा प्रदाय नि:शुल्क उपचार हेतु परिजनों द्वारा चिकित्सालय स्टॉफ एवं जिला प्रशासन का आभार व्यक्त किया गया है ।

प्रदीप डिगरसे मुलतापी समाचार बैतूल 9584390839

MP में 3 मई तक इन जिलों में बढ़ा रहेगा लॉकडाउन


मुलतापी समाचार

MP के 7 शहरों मे बढ़ाया लॉकडाउन: भाेपाल, छिंदवाड़ा, जबलपुर, सागर, गुना, खरगोन और रतलाम में 3 मई की सुबह 6 बजे तक लॉकडाउन रहेगा

Nagpur जा रही समता एक्सप्रेस में आमला मुलताई के बीच पैसेंजर की हुई मौत, मुलताई में उतारा शव


समता एक्सप्रेस में सवार यात्री की आमला और मुलताई  स्टेशन के बीच मौत हो गई। इन परिस्थितियों में यात्री का शव शनिवार रात में मुलताई स्टेशन पर उतारा गया। सूचना पर रविवार दोपहर में दिवंगत यात्री के परिजन मुलताई पहुंचे थे। जीआरपी थाना आमला के सहायक उपनिरीक्षक श्रीराम पोर्ते ने बताया  शनिवार रात में भोपाल से नागपुर की ओर जा रही समता एक्सप्रेस में सवार यात्री की तबीयत बिगड़ने से आमला और मुलताई स्टेशन के बीच मौत हो गई। बोगी में सवार अन्य यात्रियों की सूचना पर दिवंगत यात्री का शव मुलताई स्टेशन पर उतारा गया। यात्री के पास मौजूद मोबाइल से उसकी पहचान गोविंदचंद्र साहू 43 साल निवासी मातलपुर जिला कोरापुर उड़ीसा के रूप में हुई। रात में ही मृतक के मोबाइल में सेव उसके परिजनों के फोन नंबर पर घटना की सूचना दी। रविवार दोपहर में मृतक के परिजन मुलताई पहुंच गए थे। सहायक उपनिरीक्षक श्रीपोर्ते ने बताया परिजनों से पूछताछ में यह जानकारी मिली कि मृतक गोविंदचंद्र साहू आगरा में कंपनी में काम करता था और वह आगरा से समता एक्सप्रेस में सवार होकर रायगढ़ जा रहा था। मृतक के पास रिजर्वेशन टिकट थी। परिजनों ने यह भी बताया कि वह यात्रा के दौरान परिजनों से घर आने की बात को लेकर मोबाइल पर चर्चा भी कर रहा था। गोविंदचंद्र की मौत किन परिस्थितियों में हुई इसका अभी खुलासा नहीं हुआ है। श्रीपोर्ते ने बताया मृतक के शव का पोस्टमार्टम कराकर शव परिजनों को सुपुर्द किया है।


बैतूल- पुरुष प्रधान संस्कृति को पीछे छोड़ते हुए छह बेटी एवं एक बेटी ने अपने पिता की अर्थी को

पुरुष प्रधान संस्कृति को पीछे छोड़ते हुए छह बेटी एवं एक बेटी ने अपने पिता की अर्थी को कंधा दिया

कहते हैं कि बेटी कभी पिता पर बोझ नहीं होती इसी का जीता जागता उदाहरण आज हमें ग्राम सांडिया में देखने को मिला जहां ग्राम सांडिया के सेवानिवृत्त प्राचार्य श्री निंबाजी नागले जी का 76 वर्ष की उम्र में अस्थमा के अटैक से 18 अप्रेल 21 को देहांत हो गया था कोरोना काल की आपदा को ध्यान में रखते हुए हैं
परिवार वालों ने ना ही परिजनों को बुलाया और ना ही गांव वासियों को बुलाया
ऐसी परिस्थिति में कल 19 अप्रैल को अन्त्येष्टि छ: बेटियां व एक बेटे ( निरुपमा, करुणा, ममता, हेमलता, बबली, बाली एवम बेटा बुद्धिशंकर नागले) द्वारा कंधा देकर गांव के मोक्ष धाम मैं अंतिम क्रिया कर्म के सभी संस्कार पूरे किए
सभी छह बहनों एवं एक भाई ने एक साथ मृत पिता को मुखाग्नि भी दी |

Kavita:-
इतनी सारी उलझन है और पप्पा तुम भी पास नहीं
ये बिटिया तो टूट चुकी है, अब तो कोई आस नहीं

पर पप्पा ! तुम घबराना मत, मैं फिर भी जीत के आउंगी
मेरे पास जो आपकी सीख है, मैं उससे ही तर जाऊंगी

कंधा दिया

कहते हैं कि बेटी कभी पिता पर बोझ नहीं होती इसी का जीता जागता उदाहरण आज हमें ग्राम सांडिया में देखने को मिला जहां ग्राम सांडिया के सेवानिवृत्त प्राचार्य श्री निंबाजी नागले जी का 76 वर्ष की उम्र में अस्थमा के अटैक से 18 अप्रेल 21 को देहांत हो गया था कोरोना काल की आपदा को ध्यान में रखते हुए हैं
परिवार वालों ने ना ही परिजनों को बुलाया और ना ही गांव वासियों को बुलाया
ऐसी परिस्थिति में कल 19 अप्रैल को अन्त्येष्टि छ: बेटियां व एक बेटे ( निरुपमा, करुणा, ममता, हेमलता, बबली, बाली एवम बेटा बुद्धिशंकर नागले) द्वारा कंधा देकर गांव के मोक्ष धाम मैं अंतिम क्रिया कर्म के सभी संस्कार पूरे किए
सभी छह बहनों एवं एक भाई ने एक साथ मृत पिता को मुखाग्नि भी दी |

Kavita:-
इतनी सारी उलझन है और पप्पा तुम भी पास नहीं
ये बिटिया तो टूट चुकी है, अब तो कोई आस नहीं

पर पप्पा ! तुम घबराना मत, मैं फिर भी जीत के आउंगी
मेरे पास जो आपकी सीख है, मैं उससे ही तर जाऊंगी

कुए में गिरने से हुई मौत , पिता ने धोती डालकर जान बचाने की कोशिश की लेकिन अधिक गहरा होने से बेटे तक नही पहुँच सकी


बेटे की जान ना बचा सका पिता आँख के सामने गहरे कुए में गिरा बेटा,

रस्सी आते तक तोड़ा दम , कुए में गिरकर हुई मौत

मुलतापी समाचार

मुलताई । युवा पुत्र को कुएं में गिरते देख आनन-फानन में बुजुर्ग पिता ने कुएं में धोती डालकर पुत्र को बचाने का प्रयास किया। लेकिन कुआं गहरा होने से पिता का प्रयास असफल हो गया और पुत्र की कुएं में भरे पानी में डूब जाने से मौत हो गई। थाना क्षेत्र के ग्राम खतेड़ाकला निवासी कैलाश पिता प्रेमलाल कालभोर 35 साल शुक्रवार सुबह किसान रोशनलाल 
अडभूते के खेत के कुए पर मवेशियों को पानी पिलाने के लिए लेकर गया था। कुए से पानी निकालने के दौरान कैलाश का संतुलन बिगड़ गया और कुएं में गिर गया। कुछ ही दूरी पर खेत में मौजूद कैलाश के पिता प्रेमलाल 62 साल ने पुत्र कैलाश को कुए में गिरते हुए देखा तो दौड़ कर कुए के पास पहुंचा। और आनन-फानन में पहनी हुई धोती को कुए में डालकर पुत्र को बचाने का प्रयास किया। लेकिन कुएं की गहराई अधिक होने से धोती कैलाश तक नहीं पहुंच पाई। तो प्रेमलाल दौडकर गांव में गया जहा रोशनलाल मिला। रोशनलाल  लंबा रस्सा लेकर प्रेमलाल के साथ कुए के पास पहुंचा। जब तक कैलाश पानी में डूब गया था। ग्रामीणों की मदद से कैलाश को कुये से बाहर निकाला। सरकारी अस्पताल उपचार के लिए लेकर आए डॉक्टर ने कैलाश को मृत घोषित कर दिया। प्रेमलाल की सूचना पर पुलिस ने  मर्ग कायम किया है।

नही रहे समाजसेवी सेवाराम परिहार


बैतूल- जिला क्षत्रिय पवार समाज संगठन बैतूल के संरक्षक, मार्गदर्शक, पूर्व सचिव, समाजसेवी मध्यप्रदेश विद्युत विभाग से सेवानिवृत्त भग्गुढाना बैतूल निवासी श्री सेवाराम जी परिहार का निधन आज दिनांक 23/04/2021 दिन शुक्रवार को लम्बी बीमारी के कारण हो गया। ईश्वर दिवंगत आत्मा को अपने श्री चरणों में श्रेष्ठ स्थान प्रदान करे एवं शोकाकुल परिवार को इस असीम दुःख को सहन करने की ईश्वर शक्ति प्रदान करें। श्री सेवाराम जी परिहार का निधन समस्त पवार समाज के लिए अपूरणीय क्षति है।

समाज के जिलाध्यक्ष अध्यक्ष बाबूलाल कालभोर सहित समस्त कार्यकारिणी सदस्यों और सामाजिक बंधुओं ने विनम्र श्रद्धांजलि अर्पित की है। साथ ही मुलतापी समाचार बैतूल भी श्री सेवाराम जी परिहार को विनम्र श्रद्धांजलि अर्पित करता है।

प्रदीप डिगरसे मुलतापी समाचार बैतूल 9584390839

ऑक्सीजन का स्तर बनाए रखने के लिए एक एक पोटली अपने विभाग में बाटी – मुलताई पुलिस ने की नई पहल


आक्सीजन का लेवल बढ़ाने हेतु घरेलू उपाय, सभी आजमा

मुलतापी समाचार

मुलताई

थाना मुलताई में एसडीपीओ सुश्री नम्रता सोंधिया द्वारा स्टाफ के सभी अधिकारी कर्मचारियों को अपने आसपास ऑक्सीजन का स्तर बनाए रखने के लिए एक पोटली में कपूर लॉन्ग इलायची अजवाइन जायपत्री दी गई जिसकी सुगंध बार बार लेने से ऑक्सीजन की मात्रा को अपने शरीर में बढ़ाने में सहायता मिलेगी और आसपास संक्रमण से भी बचाव करने में सहायता मिलेगी

ओर उन्होंने जनता से भी अपील है कि सभी लोग अपने घरों में ही रहे और एक सूती कपड़े में इन पांचों चीजों की पोटली बनाकर सुगंध लेते रहे ताकि कोरोनावायरस संक्रमण से बचाव में सहायता हो सके

मुलतापी समाचार

विनम्र अपील

इस विषम परिस्थिति में आप सभी लोग घर मे रहे

सुरक्षित रहे, बहुत जरूरी काम होने पर ही माक्स लगाकर बाहर निकले, हॉस्पिटलो का नजारा बहुत भया वह है , बहुत कठिन दौर चल रहा है , यह बीमारी समहलने तक का समय नही दे रही है ।

मेरे घर से परिवार के तीन सदस्य कोरोना वारियर्स के रूप में हॉस्पिटल में पदस्थ कार्य कर रहे है जो प्रतिदिन इस स्थिति का सामना कर रहे है , कोरोना को हराने के लिए ।

जो सीरियस पेसेंट है उन्हें रेमडेसीवीर इंजेक्शन नही मिल पा रहा है जिसकी कीमत मनमानी तय हो रही है , मेडिकल वाले इस समय भी अपना उल्लू सीधा करने को लगे हुए है , जिसकी कीमत 20 हजार से लेकर 35 हजार ओर कई ऐसे भी लोग है जो 50 हजार तक देने को तैयार पर मिल नही रही है

परन्तु यह इंजेक्सन एक बार लगाने से मरीज सुधर जाए इसकी कोई गयारेन्टी नही कमसे कम 5 इंजेक्शन लगाने पड़ सकते है जिसकी कीमत 1 लाख से लेकर 2 लाख तक आपको देने पड़ सकते है

आक्सीजन लेवल बढ़ने के लिए लाल प्याज का सेवन सेंदया नमक के साथ करे और अधिक अधिक प्याज खाये जिससे भी आपका आक्सीजन स्तर सुधरेगा

फिटकरी को घुमाकर पानी पिये

एक जैन मुनि जी का वीडियो वाइरल हो रहा जिसमे उन्होंने बताया है कि आप रोज सुबह दोपहर शाम को 5 से 10 बार एक गिलास में पानी लेकर फिटकरी को घुमाना है और उस पानी को पीना है , ऐसा हर बार करे जिससे हमारे मुह में पेट मे बैक्टेरिया जमा न होकर वह मल मूत्र के साथ बाहर निकाल देगा , फिटकरी का काम है बैक्ट्रिया को साफ करना , आपने देखा या सुना तो ज़रूर होंगा की हमारे यहा नगर में बड़ी बड़ी पानी की टँकी है जिससे हमारे घर पानी आता है उसमें प्रति दिन कई गेलन से पानी भरा रहता है और उसमें काई ओर बैक्टीरिया भी जम जाती तो उसे साफ करने के लिए पानी को शुद्ध करने के लिए फिटकरी कई किलो से डाली जाती हैं जिससे वह पानी सुध ओर साफ हो जाये और पीने युक्त हो जाता है । और पानी हल्का मीठा भी लगता है।

इसलिए आप सभी से आग्रह है यह घरेलू नुस्खे जरूर अपनाए , इससे हानि नही होंगी वरन फायदा जरुर होंगा ,

डॉ से परामर्श ओर उनकी दवाइयों के साथ साथ यह नुस्खे भी करते रहे इससे आपका स्वास्थ ठीक होंगा

आक्सीजन लेवल बढ़ाने हेतु एक इंजेक्शन ऐसा है जिसकी कीमत मात्र 10 रुपये है और मार्केट में भी आसानी से मिलजाता है , जिसका नाम डेकसा है जो मात्र 10 में बिकता है और यह धीरे असर करता इस लिए डॉक्टर इस प्रिफर न कर अन्य दवाइया सजेस करते है

अपने आसपास शासकीय डॉ से परामर्श जरूर लेते रहे

जनहित में जारी

नही रहे समाजसेवी अवनीश पाटनकर


बैतूल- लोनारी कुनबी समाज सेवा संगठन के पूर्व अध्यक्ष और कर्मठ समाजसेवीयों में गिने जाने वाले ग्राम करजगाँव की माटी के लाल श्री अवनीश पाटनकर का बीती रात 12:30 बजे के करीब भोपाल के चिरायु अस्पताल में निधन हो गया। जैसे ही श्री अवनीश पाटनकर के निधन का समाचार प्राप्त हुआ कुनबी समाज सहित जिलें में भी शोक की लहर व्याप्त हो गई। कोरोना काल के चलते श्री अवनीश पाटनकर जी के चाहने वालों ने सोशल मीडिया के माध्यम से श्रद्धांजलि अर्पित की है। साथ ही पूर्व मंत्री और वर्तमान मुलताई विधायक श्री सुखदेव पांसे ने भी नहीं सोशल मीडिया के माध्यम से शोक प्रकट किया है।

वे समाज के सच्चे व कर्मठ सेवक थे, उन्होंने समाज को एक नई दिशा दी, उनके निधन पर मुलतापी समाचार भावपूर्ण विनम्र श्रद्धांजलि अर्पित करता हैं और ईश्वर से प्रार्थना करता हैं कि दिवंगत आत्मा को सदगति मिले।

प्रदीप डिगरसे मुलतापी समाचार बैतूल 9584390839

समाजसेवी लोग कोरोनाकाल में बन रहे है सहारा


समाजसेवीयों ने की मरीजों के परिजनों के निशुल्क ठहरने व भोजन की व्यवस्था साथ ही ड्यूटी पर तैनात पुलिस व सैनिकों को बांटे जा रहे हैं चाय और बिस्किट

जिलें में 9 अप्रैल से लगातार लॉकडाउन चल रहा है फिर भी कोरोना का बढ़ता प्रकोप रुकने का नाम ही नहीं ले रहा है ऐसे में दूर दराज गांव से आए मरीजों के परिजनों को ठहरने एवं उनके खाने पीने की निशुल्क व्यवस्था नगर के

किरार मंगल भवन में समाजसेवी राजा सूर्यवंशी – 7000944756, 9301810022, हरीश गडेकर – 9425 656729, भरत सूर्यवंशी – 9826641933, मायवाड जी – 9009955112, दीपक सोलकी – 898272973, द्वारा की गई है साथ ही हॉस्पिटलों में जाकर मरीजों एवं उनके परिजनों को निशुल्क भोजन वितरण भी किया जा रहा है।

इतना ही नहीं जहां नगर में तैनात
पुलिस प्रशासन चौक चौराहे पर दिन रात Covid 19 का नियमों का पालन करवा रहे हैं ऐसे में समाजसेवी व्यापारी श्याम हीरानी भी पुलिस प्रशासन की सेवा करने के लिए आगे आए देखा जा रहा है कि हिरानी जी नगर में तैनात पुलिस प्रशासन को चौक चौराहों पर जाकर रोज सुबह शाम चाय और बिस्किट से सहायता दे रहे हैं हैं।

प्रदीप डिगरसे मुलतापी समाचार बैतूल 9584390839