टीका लगाने वालों को लगेगा ‘आई एम वैक्सीनेटेड’ का स्टाम्प


मध्यप्रदेश। प्रदेश में 25 एवं 26 अगस्त को कोरोना संक्रमण से सुरक्षा कवच देने के लिये टीकाकरण महा-अभियान चलाया जायेगा। महा-अभियान के दौरान वैक्सीन लगवाने आये प्रत्येक नागरिक के हाथ के पंजे के पीछे की तरफ एक टिक और दो टिक के निशान वाला वैक्सीनेट स्टाम्प वैक्सीन लगवाने के बाद लगाया जायेगा।

एक टिक वाले स्टाम्प का अर्थ होगा कि व्यक्ति को वैक्सीन की पहली डोज लग चुकी है। दो टिक वाले स्टाम्प के मायने यह होंगे कि व्यक्ति को वैक्सीन के दोनों डोज लग चुके हैं और वह वैक्सीनेट हो चुका है। ऐसे व्यक्ति अपने हाथ पर लगे दो टिक वाले स्टाम्प को अपनी दो ऊँगलियों से वी (V) बनाते हुए सेल्फी के द्वारा यह संदेश देंगे कि ‘आई एम वैक्सीनेटेड’।

टीकाकरण महा-अभियान में किये जा रहे इस नवाचार में वैक्सीनेट हुए व्यक्तियों की वैक्सीनेट स्टाम्प के साथ फोटो ली जाकर सोशल मीडिया पर शेयर की जायेगी। इससे आमजन में वैक्सीन के प्रति जागरूकता बढ़ेगी। आम नागरिक वैक्सीन लगवाकर सीएम ईवेंट पोर्टल पर भी अपने फोटो अपलोड कर सकेंगे। इसके लिये मार्गदर्शिका जारी की गई है।

जिले में धूमधाम से मना गया भुजलिया पर्व


फोटो – ग्राम भडूस में मनाया भुजलिया पर्व।

बैतूल। बैतूल जिले में प्रतिवर्ष के अनुसार इस वर्ष भी धूमधाम से भुजलिया पर्व मनाया गया और भुजलिया का विसर्जन पारंपरिक रूप से किया गया।

फोटो – ग्राम खेड़ीसाँवलीगढ़ में मनाया भुजलिया पर्व।

भुजलिया पर्व रक्षाबंधन के दूसरे दिन मनाया जाने वाला त्यौहार है जिसे शहर से लेकर गांव तक में बडी़ धूमधाम से मनाया जाता है और भुजलिया विसर्जन के लिये महिलाओ में खूब हर्षोल्लास रहता है।

महिलाओं के द्वारा भुजलिया विसर्जन से पूर्व भुजलिया की आरती की जाती है और अपनी कामनाओं के साथ भुजलिया का विसर्जन किया जाता है। जिसके लिए माताएं-बहनें भारी संख्या में जुड़ती है और अपनी पारंपरिक रूप से भुजलिया का विसर्जन किया जाता है। महिलाओं के द्वारा एक दूसरे के ऊपर पानी की बौछार की जाती है और एक दूसरे को भुजलिया देकर सुख समृद्धि की कामना की जाती है।

प्रदीप डिगरसे मुलतापी समाचार बैतूल

शाजापुर कालापीपल -सोयाबीन की फसल में हुए नुकसान को लेकर ग्राम लसूड़लिया मलक के किसानों ने दिया ज्ञापन…


ज्ञापन देते हुए किसान

कालापीपल क्षेत्र के ग्राम लसूड़लिया मलक मे वर्ष 2021 खरीफ की फसल सोयाबीन पूरी तरह से ख़राब हो चुकी है ग्रामीणों का कहना है की फसल का सर्वे करवाया जाए किसानों ने बड़ी उम्मीदों के साथ सोयबीन की फसल लगाई थी समय समय पर खाद दवाई का छिड़काव भी किया कुछ दिनों पहले तक फसलों की स्थिति बेहतर थी फसल देखकर किसान खुश थे लेकिन अब फसल पर प्राकृतिक प्रकोप आने लगा है सोयाबीन फसल पूरी तरह से बाँझ हो चुकी है लसूड़लिया मलक के किसानों द्वारा कालापीपल तहसील कार्यालय पहुंचकर तहसीलदार श्री रमेश सिसौदिया को ज्ञापन सौंपकर ज्ञापन में कहा गया कि सोयाबीन फसल का तत्काल सर्वे कराकर शासन के नियमानुसार राहत राशि प्रदान की जाए….