सांसद को तकलीफ है कांग्रेस के विधायकों से – निलय डागा


जनप्रतिनिधयों के अपमान के खिलाफ अनिश्चित काल के कॉलेज बन्द

प्रिंसिपल ने स्वीकारा सांसद के कहने पर हटाया विधायक का नाम


बैतूल । जेएच कालेज में नवीन कक्षों के वर्चुअल उद्घाटन और शिलालेख में बैतूल विधायक निलय डागा का नाम नही होने से खफा विधायक और उनके समर्थकों ने अनिश्चित कालेज बन्द कर धरने पर बैठ गए है । मंगलवार को जेएच कालेज में यूजीसी फण्ड से स्वीकृत 3 करोड़ की लागत से बने नवीन कक्षों का जिले के प्रभारी मंत्री इंदर सिंह परमार द्वारा वर्चुअल उद्घाटन किया गया । जेएच कालेज प्रबंधन ने कार्यक्रम में सांसद डीडी उइके को कार्यक्रम में आमंत्रित किया लेकिन बैतूल विधायक को ना बुलाकर प्रोटोकॉल का उलंघन किया । कार्यक्रम के बाद कांग्रेस आक्रमक हो गई विधायक की अनदेखी को मुद्दा बनाकर अब विधायक निलय डागा समेत कांग्रेसियों ने मुख्य द्वार पर ताल डाल कर धरने पर बैठ गए ।
विधायक निलय डागा ने कार्यक्रम में आमंत्रित नही करने की वजह जानी तो वह हैरान रह गए । जेएच कालेज की प्रिंसिपल विजेता चौबे ने निलय डागा को बताया कि आपके नाम पर सांसद डीडी उइके ने आपत्ति ली है ।
इस के बाद विधायक निलय डागा ने 
प्रिंसिपल से कहा कि आप हमे यही बात लिखित में दे दे लेकिन उन्होंने लिखित मे दिया जिसके बाद कांग्रेसी धरने पर बैठे रहे ।

माफी नही स्पष्टीकरण दे सांसद 

विधायक निलय डागा ने जिला प्रशासन के अधिकारियों और प्रिंसिपल से वार्ता में यह बात कही की सांसद की आपत्ति समझ से परे है । श्री डागा ने कहा कि यह पहला मौका नही है सांसद द्वारा विधायक की उपेक्षा दूसरी बार की है वो इस तरह की परिपाटी डाल रहे है जो कि निंदनीय है । सांसद के इस कृत्य पर माफी नही स्पष्टीकरण दे दें जिसके बाद यह धरना खत्म कर दिया जाएगा ।

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष सिद्दीक पटेल ने विधायक निलय डागा के असम्मान पर जेएच कालेज की प्रिंसिपल विजयेता चौबे बयान बदलने पर कहा कि मीडिया में आपका बयान रिकार्ड है जिसमे आपने सांसद की आपत्ति का ज़िक्र किया है ।

15 माह के शासन में हमने किसी का असम्मान नही किया – बब्बा राठौर

धरने में शामिल लवलेश बब्बा राठौर ने कॉलेज प्रबंधन भाजपाई रवैय्ये पर प्रिंसिपल कांग्रेस के 15 माह का शासन याद दिलाया उन्होंने कहा कि कांग्रेस के शासन में हमने जनप्रतिनिधियों ओर कालेज प्रबंधन का असम्मान नही होने दिया ।

कालेज प्रबंधन ने हटाया शिलालेख

जे एच कालेज में कल हुए वर्चुअल उदघाटन से उपजे विवाद के विधायक निलय डागा के धरने पर बैठने के पूर्व ही करोड़ो की लागत से बने भवनों के शिलालेख को आनन फानन में हटा लिया है । लेकिन विधायक के नही मानने से धरना जारी है 

पांच सरपंच,प्रधान पद से पृथक,तहसीलदार न्यायालय में वसूली के प्रकरण दर्ज किए गए


पांच सरपंच/प्रधान पद से पृथक,तहसीलदार न्यायालय में वसूली के प्रकरण दर्ज किए गए

बैतूल। कलेक्टर श्री अमनबीर सिंह बैंस द्वारा ग्राम पंचायतों में सरपंच/प्रधान प्रशासकीय समिति द्वारा निर्माण कार्यों में वित्तीय अनियमितता किए जाने तथा मप्र पंचायती राज एवं ग्राम स्वराज अधिनियम 1993 की धारा 92 के तहत अधिरोपित वसूली राशि जमा नहीं करने के फलस्वरूप जनपद पंचायत बैतूल अंतर्गत पांच ग्राम पंचायत सरपंचों/प्रधानों को पद से पृथक करने की कार्रवाई की गई है। इसके साथ ही तहसीलदार न्यायालय में वसूली के प्रकरण भी दर्ज किए गए हैं।

सीईओ जिला पंचायत श्री अभिलाष मिश्र से प्राप्त जानकारी के अनुसार जनपद पंचायत बैतूल अंतर्गत ग्राम पंचायत बांसपानी की सरपंच/प्रधान प्रशासकीय समिति श्रीमती केवल बाई कापसे के विरूद्ध धारा 92 में दर्ज प्रकरण तहत 6 लाख एक हजार 473 रूपए राशि अधिरोपित किए जाने पर पद से पृथक किया गया है। इसी प्रकार ग्राम पंचायत मोवाड़ के सरपंच/प्रधान प्रशासकीय समिति श्री शिवराम घंगारे पर 3 लाख 99 हजार 888 रूपए, ग्राम पंचायत नीमझिरी की सरपंच/प्रधान प्रशासकीय समिति श्रीमती मीणा कुमरे पर एक लाख 46 हजार 890 रूपए, ग्राम पंचायत रोंढा की सरपंच/प्रधान प्रशासकीय समिति श्रीमती मालती बाई काकोडिय़ा पर 60 हजार 875 रूपए एवं ग्राम पंचायत सोहागपुर के सरपंच/प्रधान प्रशासकीय समिति श्री संजय धोटे पर 43 हजार रूपए राशि की वसूली अधिरोपित होने पर पद से पृथक करने की कार्रवाई की गई है।
सीईओ श्री मिश्र ने बताया कि उक्त सभी प्रकरणों में तहसीलदार बैतूल के न्यायालय में वसूली के प्रकरण दर्ज किये गये हैं।