3 साल से एक ही जिले में जमे हुए पुलिस अफ़सरों का होगा ट्रांसफर


भोपाल। मध्यप्रदेश में होने वाले त्रिस्तरीय पंचायत चुनावों के मद्देनजर राज्य निर्वाचन आयोग ने एक ही जिले में और गृह जिले में जमे हुए पुलिस वालों के लिए निर्देश जारी किए हैं। निर्देश के अनुसार 4 साल की अवधि में लगातार तीन साल तक एक ही जगह पर पदस्थ पुलिस अधिकारियों की जानकारी मांगी है।

मध्यप्रदेश में होने वाले त्रिस्तरीय पंचायत चुनावों के मद्देनजर राज्य निर्वाचन आयोग ने एक ही जिले में और गृह जिले में जमे हुए पुलिस वालों के लिए निर्देश जारी किए हैं। निर्देश के अनुसार 4 साल की अवधि में लगातार तीन साल तक एक ही जगह पर पदस्थ पुलिस अधिकारियों की जानकारी मांगी है। ऐसे में महकमें में चिंता का माहौल बन गया है। कयास लगाई जा रही है कि जल्द ही ट्रांसफर की प्रक्रिया शुरू हो सकती है।

जल्द हो सकता है ट्रांसफर
पंचायत चुनाव के मद्देनजर इन अधिकारियों को जल्द ही दूसरे जिलों में ट्रांसफर किया जाएगा। तबादले के दायरे में आने वाले पुलिस अफसरों में एसपी, एएसपी, सीएसपी, डीएसपी, एसडीओपी, टीआई स्तर के अधिकारी शामिल होंगे। आयोग के पत्र के बाद गृह विभाग ने सभी पुलिस अधीक्षकों से इसकी जानकारी तलब की है और इसका प्रमाण पत्र भी जारी करने के निर्देश दिए हैं।

MP पंचायत चुनाव की तैयारियां
मध्य प्रदेश त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव को लेकर तैयारियां जोरों पर हैं। ये चुनाव तीन चरणों में होगा। राज्य निर्वाचन आयुक्त बसंत प्रताप सिंह ने हाल ही में वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से तैयारियों की समीक्षा ली थी और कलेक्टरों को निर्देश देते हुए कहा था कि सभी जिला प्रशासन मतदान केंद्रों का भौतिक सत्यापन करे। उन्होंने कहा था कि संवेदनशील और अति संवेदनशील केंद्रों की सूची चुरंत दी जाए।

तीन चरणों में होंगे पंचायत चुनाव
पंचायत चुनाव तीन चरणों में होंगे। जिसमें पहले चरण में 7527, दूसरे चरण में 7571 और तीसरे चरण में 8814 ग्राम पंचायतों के चुनाव होंगे। पंचायत और ग्राम विकास विभाग जिला पंचायत के 52 पदों के लिए नवंबर में आरक्षण प्रक्रिया शुरू करेगा, जिसके बाद पंचायत चुनाव की तारीखों का ऐलान हो सकता है। ग्राम पंचायत और जनपद पंचायत के आरक्षण की प्रक्रिया पूरी हो चुकी है। जिला पंचायत और जनपद पंचायत सदस्यों का चुनाव ईवीएम और सरपंचों और पंचों का चुनाव बैलेट पेपर से होगा।