धूमधाम से निकलेगी माँ ताप्ती की चुनरी यात्रा, सैंकडों जगह होगा स्वागत


ताप्ती मैया के आशीर्वाद ने विधायक के संकल्प को निभाया, धूमधाम से निकलेगी चुनरी यात्रा, सैंकडों जगह स्वागत

बैतूल। सूर्यपुत्री मां ताप्ती के पूजन-अभिषेक का यदि किसी ने संकल्प लिया तो मां स्वयं आगे बढ़कर उसका संकल्प पूर्ण कराती है। कुछ ऐसा ही बैतूल विधायक निलय डागा के मामले में हुआ। एक ओर जब शासन-प्रशासन ने कार्तिक पूर्णिमा के मेले आदि तक पर प्रतिबंध लगा दिया था तब विधायक ने पत्रकार वार्ता में सीना ठोंककर कहा था कि वो हर हाल में मां ताप्ती को चुनरी चढ़ाने जाएंगे चाहे इसके लिए उन्हें जेल क्यों न जाना पड़े। लेकिन मां ताप्ती की कृपा विधायक पर कुछ ऐसी बरसी कि स्वयंमेव शासन ने सभी मेले-ठेले और धार्मिक कार्यक्रमों पर प्रतिबंध हटा दिए।
बुधवार की शाम ऐसे आदेश आते ही बैतूल जिले के धार्मिक संस्थानों और संस्थाओं ने खुशी जताई और मां ताप्ती का इसे चमत्कार ही माना कि ऐतिहासिक चुनरी यात्रा के ठीक पहले उसने शासन को दुरस्त कर दिया। आखिर सबकी नाराजगी इसी बात को लेकर थी कि एक ओर तो प्रधानमंत्री के कार्यक्रम के लिए लाखों लोग जुटाए जा रहे हैं वहीं धार्मिक मेलों आदि पर प्रतिबंध लगाया जा रहा है। बैतूल विधायक श्री निलय डागा और जिला कांग्रेस अध्यक्ष सुनील शर्मा गुड्डू ने तो बाकायदा पत्रकार वार्ता लेकर शासन-प्रशासन की इस दोमुंही नीति का विरोध किया था। विरोध का यह दांव वायरल हुआ और मां ताप्ती के आगे शासन को घुटने टेकने पड़े।


इस संबंध में जब विधायक श्री निलय डागा से बात की गई तो उन्होने कहा कि वे प्रतिवर्ष कार्तिक पूर्णिमा पर मां ताप्ती को चुनरी चढ़ाने जाते हैं। इस साल जब शासन-प्रशासन ने प्रतिबंध की बात की तो लोगों का आक्रोशित होना स्वाभाविक था। जहां तक मेरी बात है तो मां के सम्मान के लिए जेल जाना या कोई प्रताड़ना सहना बड़ी बात नहीं है। हम कभी नियम नहीं तोड़ते लेकिन बेवजह के अत्याचार को सहन करना भी अधर्म है।


आम लोगों के अलावा सभी धर्म व मंदिर संस्थान से जुड़े लोगों ने भी चुनरी यात्रा को अब और धूमधाम से मनाने का निश्चय किया है।

मां ताप्ती चुनरी यात्रा का जगह-जगह होगा स्वागत

विधायक श्री निलय डागा और उनकी धर्मपत्नी श्रीमती दीपाली डागा के नेतृत्व में करीब 24 किमी की यह माँ ताप्ती चुनरी पद यात्रा 19 नवंबर शुक्रवार को प्रातः 7 बजे लल्ली चौक स्थित मंदिर में पूजन के साथ आरंभ होगी। इसके बाद प्रातः 7 बजे लल्ली चौक, 7.15 बजे थाना चौक, 7.30 बजे अखाड़ा चौक टिकारी, 8.00 बजे कारगिल चौक सदर, 8.15 बजे गेंदा चौक, 8.30 बजे डान बास्को, 8.40 कर्बला घाट माचना, 8.45 फोरलेन चौराहा, 9.00 धनोरा,9.30 बजे परसोड़ा,9.45 बजे भडुस,10.30 महदगांव ,11.00 डहरगांव,11.30 खेड़ी,12.00 मौड़ी कनारा, 1.00 लोहा पुल,1.30 ताप्ती घाट पहुंचेगी। यहां चुनरी अर्पण के बाद केरपानी स्थित हनुमान मंदिर के दर्शन पूजन के लिए यात्री जाएंगे और इसके साथ ही यात्रा का समापन होगा।