सीडीएस प्रमुख सहित दिवंगतों को पूर्व सैनिकों ने दी श्रद्धाजंलि।


कुन्नूर तमिलनाडु में सेना के MI-17v5 हेलीकॉप्टर हादसे में शहीद सभी वीर जवानों कारगिल चौक बैतूल में सुबह 10:00 को पूर्व सैनिक बैतूल द्वारा भावपूर्ण श्रद्धांजलि दी गई।

बैतूल। कोयंबटूर के पास सुलूर में भारतीय वायु सेना के अड्डे से 8 दिसंबर को कुन्नूर के वेलिंगटन जा रहे सीडीएस विपिन रावत एमआई सीरीज के जिस हेलीकाप्टर से जा रहे थे वह हेलीकाप्टर बीच रास्ते में ही क्रेश हो गया। इस हादसे में जनरल विपिन रावत सहित उनकी पत्नी मधुलिका रावत एवं 11 अन्य सैन्य अधिकारी हताहत हो गए। हेलीकाप्टर क्रेश की खबर देखते ही देखते मीडिया एवं सोशल मीडिया के माध्यम से उनके निधन के समाचार देशवासियों तक पहुंचे पूरे देश में शोक की लहर दौड़ पड़ी। देश के लिए सेनाध्यक्ष का इस तरह अचानक जाना बड़ी क्षति है। आज बैतूल में विभिन्न सामाजिक संगठनों द्वारा दिवंगत सीडीएस विपिन रावत सहित अन्य सैन्य अधिकारियों को श्रद्धांजलि दी जा रही है।

सुबह 10 बजे पूर्व सैनिक संघ ने करगिल चौक पर दिवंगतों को श्रद्धाजंलि दी गई। जिला सैनिक अधिकारी लेफ्टिनेंट कर्नल प्रणव मिश्रा, पूर्व सैनिक संघ के पूर्व अध्यक्ष एवं पूर्व विधायक शिव प्रसाद राठौर सहित संघ के पदाधिकारियों एवं सदस्यों ने पुष्प चक्र अर्पित कर दो मिनट का मौन रखकर दिवंगत सैन्य अधिकारियों को श्रद्धाजंलि अर्पित की। शाम 6 बजे बैतूल सांस्कृतिक सेवा समिति राष्ट्र रक्षा मिशन द्वारा शहीद भवन में दिवंगतों को कैंडल जलाकर श्रद्धाजंलि अर्पित की जाएगी। देश अपूरणीय क्षति, जिसकी भरपाई संभव नहींसीडीएस विपिन रावत एवं उनकी पत्नी सहित अन्य सैन्य अधिकारियों के असमय निधन से पूरा देश शोक में डूब गया है।

कर्नल प्रणव मिश्रा ने श्री रावत के निधन को देश के लिए अपूरणीय क्षति बताया। उन्होनें कहा कि वे कुशल रणनीतिकार होने के साथ योद्धा थे। उनके निधन से देश को जो क्षति हुई है उसकी भरपाई संभव नहीं है। इस हादसे में रावत दम्पत्ति के अलावा हेलीकाप्टर क्रेश में बिग्रेडियर एलएस लिद्दर, लेफ्टिनेंट कर्नल हरजिंदर सिंह, विंग कमांडर पीएस चौहान, स्क्वॉडन लीडर के सिंह, नायक गुरसेवक सिंह, नायक जितेन्द्र कुमार, लांस नायक विवेक कुमार, लांस नायक बी साई तेजा, जूनियर वारंट ऑफिसर दास, जूनियर वारंट ऑफिसर ए प्रदीप और हवलदार सतपाल का दुखद निधन हो गया। करगिल चौक पर पूर्व सैनिक संघ के अध्यक्ष शिवकांत नरवरे, सचिव सुदामा सूर्यवंशी, सह संरक्षक एलआर पंवार, उपाध्यक्ष सुरेश यादव, सलाहकार पंडरी डांगे, केवलराम यादव, एएल पंवार, जगदीश पाल, विजय नरवरे, संजय नरवरे, शिवपाल, पन्नालाल पंवार,श्यामराव धोटे, श्यामसिंह चौहान, गंगाधर कवड़कर, जगदीश झोड़, लखन साहू, सुबेदार गुलाबराव डांगे, सुखदेव पांसे, कोषाध्यक्ष देवशंकर चौधरी, सुबेदार अजय वर्मा, अनिल नायक, हरिशंकर सावनेरे, मुलताई जयप्रकाश अग्रवाल, सतीश अमरुते जगदीश गढ़ेकर, कैलाश जैन, देवेन्द्र पांसे, किशोर मोहकर, किशोर पंवार, घोड़ाडोंगरी सारनी से मुन्नालाल कापसे, विनोद झा, रुपलाल उईके, दीपक कुमार, अनिल साकरे, संतोष उईके, दृष्टि एजुकेशन के संचालक कमलेश निरापुरे, राष्ट, रक्षा मिशन संचालक गौरी पदम, बैतूल सांस्कृतिक सेवा समिति सचिव भारत पदम, मीडिया कर्मी, स्कूल केविद्यार्थी मौजूद थे।

पूर्व सैनिक संघ की मुलताई, आमला, भैंसदेही सारणी, इकाईयों ने भी विकासखंड मुख्यालयों पर सुबह 10 बजे श्रद्धाजंलि दी गई।