क्षत्रिय पवार समाज के पूर्व सैनिक संघ का नववर्ष मिलन समारोह हुआ संपन्न।


क्षत्रिय पवार समाज के पूर्व सैनिक संघ का नववर्ष मिलन समारोह केसर बाग में हुआ संपन्न।

1965, 1971 और 1999 के ऑपरेशन विजय कारगिल में सम्मिलित पूर्व सैनिकों को किया गया सम्मानित।

बैतूल। सतपुड़ा की सुरम्य वादियों और मांँ ताप्ती की गोद में बसे बैतूल जिले में 65 से अधिक जल, थल और वायु सेना के सैनिक एवं उनके परिवार के सदस्यों द्वारा 9 जनवरी 2022 को केसरबाग बैतूल में नववर्ष मिलन समारोह का आयोजन किया गया।

जिसमें 1965 और 1971 की लड़ाई में शामिल थाना साईंखेड़ा के कैप्टन एल. आर. पवार, 1965 के युद्ध में शामिल सिपाही किशोर कुमार खवसे, 1971 में जूनियर वारंट ऑफिसर गणपति पवार, नायक शिवजी कोड़ले, 1999 ऑपरेशन विजय में सूबेदार भरत देशमुख,

नायब सूबेदार हरिराम पवार, हवलदार घुडन पवार सहित समाज के फिजियोथेरिपिस्ट डॉक्टर संदीप परिहार को जिला क्षत्रिय पवार समाज संगठन बैतूल के जिलाध्यक्ष बाबूलाल कालभोर, उपाध्यक्ष बाबूराव पवार, कोषाध्यक्ष मुन्नालाल डहारे एवं पवार समाज के पत्रकार रामकिशोर पवार, शंकर पवार, प्रदीप डिगरसे, जगदीश चंद्र पवार द्वारा सम्मानित किया गया।

साथ ही जिले के सभी पवार पत्रकारों नन्दकिशोर पवार, मनोज देशमुख, हेमंत पवार, अजय पवार, मोहित पवार, अमित गोलू पवार, रानू हजारे को भी सम्मानित किया गया।

कार्यक्रम पूर्व सैनिक संघ के अध्यक्ष हरिराम पवार की अध्यक्षता में जिला क्षत्रिय पवार समाज के पदाधिकारियों, पूर्व सैनिक संघ के पदाधिकारीयों और पत्रकार बंधुओं की उपस्थिति में आयोजित किया गया।

जिला क्षत्रिय पवार समाज के मिडिया प्रभारी प्रदीप डिगरसे ने बताया कि कार्यक्रम का आरंभ मांँ गढ़कालिका और चक्रवर्ती सम्राट राजा भोज का पूजन और आरती के साथ किया गया। इस अवसर पर छोटे बच्चों द्वारा विविध सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किए। प्रतिभागी बच्चों को पूर्व सैनिकों के द्वारा पुरस्कृत भी किया गया।

इस अवसर पर रामकिशोर पवार पत्रकार द्वारा वर्ष 2022 के ताप्ती हलचल कलैन्डर, हस्त लिखित पुस्तक “अजब गाँव की गजब दास्तां” और कहानियों का संग्रह “काला गुलाब” को सभी सैनिक बंधुओं को वितरित की गई। और अगले नववर्ष तक जिले के सभी सैनिकों के जीवन पर एक पुस्तक का प्रकाशन कर समर्पित करने की बात कही।

पत्रकार शंकर पवार, कैप्टन एल.आर. पवार, बाबूलाल कालभोर ने अपने उद्बोधन के माध्यम से अपने अनुभव को साझा किए। इस अवसर पर कोरोना के समय काल के गाल में समाये सभी मृत आत्माओं की शांति के लिए दो मिनट का मौन रखा गया।

कार्यक्रम के सफल समापन पर सभी सैनिक बंधुओं ने केशर बाग के संचालक अतीत पवार का आभार और धन्यवाद प्रेषित किया। संचालन श्रीमती रेखा पवार ने एवं आभार प्रदर्शन केप्टन एल. आर. पंवार द्वारा किया गया।

आयोजन को सफल बनाने में सैनिक हेमंत गोहिते, गजानन पवार, नारायणराव पवार, प्रवीण पवार, पूरण पवार, केवराम पवार, बन्नूलाल हिगवें, अशोक पवार सहित सभी सैनिकों का सराहनीय योगदान रहा।