अनुसया सेवा संगठन के सदस्य द्वारा छिंदवाड़ा में विवाह सम्हारो में वर वधू को लक्ष्मीतरु का पौधा भेट कर पालने का संकल्प


अनुसया सेवा संगठन के सदस्य द्वारा छिंदवाड़ा में विवाह सम्हारो में वर वधू को लक्ष्मीतरु का पौधा भेट कर पालने का संकल्प दिलाया

अनुसया सेवा संगठन द्वारा सतत पर्यावरण संरक्षण के लिए हर शुभ कार्य पर पौधे भेट कर रोपित किये जा रहे है जिसके तहत आज हर शुभ कार्य व धार्मिक आयोजन में सभी आम जन को संकल्प दिलाया जा रहा है कि वे स्वयं पौधा रोपित कर उसे पाल पोस कर बड़ा करे संगठन द्वारा छिंदवाड़ा में आशीष संग नेहा के विवाह सम्हारो में पहुच कर वर वधू को पौधा भेट किया व विवाह सम्हारो में सभी के समीप वर वधू ने संकल्प लिया की हर शुभ कार्य पर पौधा रोपित करेगे व अन्य लोगो को भी पौधा रोपण के प्रति प्रेरित करेंगे एवं अनुसया सेवा संगठन के अध्यक्ष कृष्णा साहू एवं सदस्यों द्वारा विवाह सम्हारो में आये घराती व बारातियो को पर्यावरण संरक्षण का महत्व बताते हुए पौधा पालने का संकल्प दिलाया गया इस अवसर पर अनुसया सेवा संगठन के सदस्य कृष्णा साहू, नागेन्द्र साहू, रामदास साहू,जुगल साहू, मुकेश साहू, योगेश दियावार ,दुर्गेश साहू,उपस्थित हुए

भाजपा मंडल प्रभात पट्टन में संपन्न हुई बूथ स्तरीय त्रिदेव कार्यशाला।


बैतूल की दीक्षा पवार ने पाया प्रदेश की प्रवीण्य सूची में 10 वां स्थान, एक्सीलेंस स्कूल की है छात्रा,


बैतूल जिले की एक और छात्रा ने आज घोषित एमपी बोर्ड के परीक्षा परिणामों में प्रदेश की प्रवीण्य सूची में स्थान हासिल कर जिले को गौरवान्वित किया है। यह होनहार छात्रा एक्सीलेंस स्कूल बैतूल की कक्षा 12 वीं की छात्रा कुमारी दीक्षा पिता रेवाराम पवार है। दीक्षा मुलताई क्षेत्र के ग्राम खापा बानूर की निवासी हैं।

छात्रा दीक्षा ने 500 में से कुल 482 अंक हासिल किए और प्रथम श्रेणी में परीक्षा उत्तीर्ण करते हुए सभी विषयों में विशेष योग्यता हासिल की है। दीक्षा ने हिंदी में 96, अंग्रेजी में 93, गणित में 98, फिजिक्स में 98 और केमेस्ट्री में 97 अंक हासिल किए हैं। दीक्षा के पिता रेवाराम पवार एलआईसी एजेंट हैं। उन्होंने बताया कि दीक्षा फिलहाल जेईई की तैयारी कर रही है। मेधावी छात्रा की इस उपलब्धि पर शिक्षकों, परिजनों, ईष्ट मित्रों, शुभचिंतकों ने बधाई दी है।

कक्षा 12 वीं की जिले की मैरिज लिस्ट
माध्यमिक शिक्षा मंडल द्वारा कक्षा 12 वीं के घोषित किए गए परीक्षा परिणाम में जिले की मैरिज लिस्ट में हयुमनिटिज ग्रुप में अश्वनी धनराज शासकीय स्कूल छावल, आयुषी पिता संतोष लोनारे शासकीय स्कूल बैतूलबाजार। साइंस ( मैथ्स एवं बायो ग्रुप में) देवयानी पिता परसराम कोड़ले कोरोला पब्लिक स्कूल मुलताई, सनोज पिता बकससिंग सलामे शासकीय स्कूल भीमपुर, मनेश्वरी पिता भुवनेश्वर पंवार शासकीय बालक स्कूल मुलताई। कामर्स ग्रुप में दुर्गेश पिता सुरेश मालवीय एलएफएस पाथाखेड़ा, तियादास पिता जीवन शासकीय स्कूल चोपना। एग्रीकल्चर ग्रुप में तुषार पिता शेखर मंडल भारत भारती विद्यालय बैतूल, शिवम पिता ओझाराम सिरसाम भारत भारती विद्यालय बैतूल। फाइन आर्ट ग्रुप में रूबीना पिता देवराव टेकाम शासकीय स्कूल बैतूल शामिल है।

कक्षा 10 वीं की जिले की मैरिज लिस्ट
माध्यमिक शिक्षा मंडल द्वारा कक्षा 10 वीं के घोषित किए गए परीक्षा परिणाम में जिले की मैरिज लिस्ट में गामनी पिता शिवपाल रावत लाइफ केयर हासे. भीमनगर आमला प्रथम, अंकित पिता प्रवीण कुंभारे उत्कृष्ट स्कूल बैतूल द्वितीय एवं प्रीति पिता रामकिशोर सरले शासकीय हायर सेकेंडरी स्कूल बडोरा ने तृतीय स्थान प्राप्त किया है।

10वी – 12वी के रिजल्ट की तारीख़ हुई घोषित


मध्यप्रदेश बोर्ड का 10वीं और 12वीं का रिजल्ट 29 अप्रैल को जारी किया जाएगा। माध्यमिक शिक्षा मंडल ने यह जानकारी दी है। रिजल्ट दोपहर 1 बजे घोषित किया जाएगा।

इसके साथ हायर सेकंडरी (व्यावसायिक), विद्यालय पूर्व शिक्षा में डिप्लोमा (डीपीएसई), शारीरिक शिक्षा प्रशिक्षण पत्रोपाधि मुख्य परीक्षा 2022 के परीक्षा परिणाम भी घोषित किए जाएंगे।

विद्यार्थी एमपी बोर्ड की वेबसाइट http://www.mpbse.nic.in और मोबाइल एप डाउनलोड करके भी परिणाम देख सकेंगे। गौरतलब है कि 10वीं में 10.5 लाख स्टूडेंट्स और 12वीं में 9. 5 लाख स्टूडेंट्स परीक्षा में शामिल हुए थे।

नल का बिल वसूलने गई स्वसहायता समूह की सदस्य के साथ दंपती ने की मारपीट, वॉल्व भी तोड़ा, एफआईआर दर्ज



बैतूल। जिले के मुलताई ब्लॉक की ग्राम पंचायत डिवटिया में नल जल योजना से आवासीय क्षेत्र में जलापूर्ति की जा रही है। ग्राम पंचायत ने नलों से जल प्रदाय किए जाने के एवज में प्रतिमाह बिल वसूली की जिम्मेदारी ग्राम के गौरी स्वसहायता समूह की सौंपी है। समूह की महिला सदस्य घर-घर पहुंच कर ग्रामीणों से नलजल बिल की वसूली करती है।

इसी तारतम्य में बीते 22 अप्रैल को गौरी स्व सहायता समूह की सदस्य आशा पति दिनेश खडसे सुबह 10 बजे ग्रामीण मुकेश पिता सेवाराम पवार के घर पर बिल वसूलने गई थी। मुकेश पर बीते जनवरी माह से बिल बकाया था। आशा खडसे ने बकाया बिल जमा करने के लिए कहा तो मुकेश की पत्नी कंचू पवार ने अपशब्दों का प्रयोग करते हुए विवाद किया।

उसी दौरान मुकेश भी आ गया और उसने भी अपशब्दों का प्रयोग करते हुए नल जल योजना का वाल्व तोड़ दिया। आशा खडसे ने पुलिस थाने में रिपोर्ट दर्ज कराते हुए बताया कि कंचू पवार ने उसके साथ मारपीट की। जिससे उसके हाथ में चोट आई। पुलिस ने आशा खडसे की रिपोर्ट पर आरोपी मुकेश पिता सेवाराम पवार और उसकी पत्नी कंचू पवार के खिलाफ धारा 294, 323, 506 और 34 के तहत केस दर्ज किया है।

सच्ची मित्रता की निशानी — पांच रुपये में ली मित्र की लाठी को 45 साल से रखा संभाल कर


बैतूल। उनकी मित्रता न तो सुदामा कृष्ण की तरह है न ही वे दुर्योधन कर्ण की तरह वचनबद्ध मित्रता के प्रमाण रहे। बैतूल जिला मुख्यालय ये 9 किमी की दूरी पर बसे पंवार जाति बाहुल्य ग्राम रोंढा जिले की सबसे प्राचीन ग्राम में से एक है। चारो-ओर हरे भरे खेतों से घिरे इस गांव में मनोहरी डिगरसे और मंहग्या भोभाट नामक दो व्यक्ति रहा करते थे। मंहग्या भोभाट ने 30 सालो तक रोंढा सहित आसपास के दो दर्जन से अधिक गांवों में हाथ से कुआ की खुदाई का काम करते थे। गांव में दो एकड जमीन के मालिक स्वर्गीय मंहग्या जी भोभाट के परदादा स्वर्गीय भिख्या जी महाजन 40 बीघा जमीन के मालगुजार थे। समयकाल के परिवर्तन के कारण ठेका पर कुआ खोदने वाले मंहग्या भोभाट ने अपने एक मित्र को आज से 45 साल पहले मात्र 5 रूपये में एक बांस की लाठी जिसके मत्था पर पीतल का कवर चढा हुआ है वह बेच दी थी। महंग्या जी भोभाट के निधन के बाद 45 साल से मनोहरी डिगरसे अपने मित्र की दी नाम की निशानी बांस की वह लाठी लेकर संग संग चलते है।

कैसे बनती थी बांस की लाठी — वर्ष 60 से 70 के दशक में बांस की लाठी के सीधा करने के लिए लोहे की जाली में लाठी को रख कर उसके सीधा होने के बाद इस पर डिजाइन तैयार की जाती हैं। इस डिजाइन को तैयार करने के लिए एक विशेष प्रकार की कलाकारी करनी पड़ती। लाठी पर पीतल का कवर चढाने के बाद उस नाम लिखा जाता था। सही बांस का चयन कर उसे जंगल से काटकर लाने के बाद धुप में सूखने के लिए छोड़ दिया जाता हैं। कड़ी धूप मे चार से पांच दिन में सूख जाता हैं। बांस के सूखने के बाद इसकी घिसाई एवं सफाई की जाती हैं। ताकि बाद में पकड़ते समय हाथों में बाँस की फांस ना लग जाए।

रामू के विवाह में पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ पहुँचे बैतूल


बैतूल मप्र । मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ बैतूल हरदा हरसूद के पूर्व लोकसभा प्रत्याशी रहे रामू टेकाम के विवाह समारोह में शामिल होने बैतूल पहुंचे। कमलनाथ के साथ बैतूल विधायक निलय डागा भी हेलीकॉप्टर से बैतूल पहुँचे थे। हेलीपेड से कमलनाथ सीधे विवाह स्थल पहुंचे जहां मंच पर जाकर उन्होंने वर वधु को आशीर्वाद दिया और उनके परिजनों से मिले और इसके बाद वापस हेलीपेड के लिए रवाना हो गए। पहले कमलनाथ का कार्यक्रम 40 मिनट का बताया गया था लेकिन बेकाबू हुए कांग्रेस कार्यकर्ताओं के चलते विवाह स्थल पर कमलनाथ महज 10 मिनट ही रुक सके और रवाना हो गए। हेलिपैड से लेकर विवाह स्थल तक कई जगह कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने कमलनाथ का स्वागत किया।

पूर्व सीएम कमलनाथ के अलावा कई जिलों के कांग्रेस विधायक और सांसद भी इस विवाह समारोह में शामिल हुए। पुलिस पर बने हेलीपैड से विवाह स्थल तक कमलनाथ को विधायक निलय डागा ने स्वयं गाड़ी चलाकर लेकर गए इतना ही नही विवाह समारोह में शामिल होने के बाद वापस हेलीपेड तक ड्राइविंग कर निलय डागा ने कमलनाथ को छोड़ा। विधायक को ड्राइविंग सीट पर देख लोग हैरान थे की कमलनाथ का वाहन विधायक स्वयं चला रहे थे इस दौरान विधायक आकर्षण का केंद्र बने रहे।

बैतूल विवाह समारोह में पंहुचे पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने शिवराज सिंह पर तंज कसते हुए कहा कि आज प्रदेश में हर वर्ग परेशान है। हमारा भटकता नौजवान, पीडित किसान सहित छोटा व्यापारी सभी मुख्यमंत्री शिवराज सिंह के झूठे अस्वासन और घोषणाओं से परेशान है ऐसी घोषणाओं से जनता का ध्यान खींच रहे है शिवराज सोचते है कि ऐसा करके जनता को फिर से मूर्ख बनाएंगे।

पवार समाज की चुनावी वोटर लिस्ट का प्रकाशन सम्पन्न


बैतूल। जिला क्षत्रिय पवार समाज संगठन बैतूल के चुनाव अधिकारी श्री पंजाबराव चिकाने से प्राप्त जानकारी के अनुसार आज 24 अप्रैल 2022 को शाम 4 बजे वोटर लिस्ट का प्रकाशन कर दिया गया है । जिसमें आजीवन सदस्यों और वार्षिक सदस्यों के नाम अंकित किए गए हैं जिसमें संगठन की सदस्यता प्राप्त सदस्य ही चुनाव प्रक्रिया में भाग ले सकेगें। जिन सदस्यों को अपना नाम, स्थान या अन्य सुधार करना हो वे अंतिम प्रकाशन के पूर्व कर सकते हैं।  अब वोटर लिस्ट का अंतिम प्रकाशन 28 अप्रैल 2022 को शाम 4 बजे तक किया जाएगा।

क्षत्रिय पवार समाज संगठन के सचिव लक्ष्मीनारायण (भंगू) खपरिये से प्राप्त जानकारी के अनुसार क्षत्रिय पवार समाज संगठन जिला बैतूल की बैठक में आमसभा एवं चुनाव सूचना दिनाँक 01 मई 2022 को संगठन की आमसभा एवं चुनाव कार्यक्रम आयोजित करने का निर्णय लिया गया है। आमसभा में चुनाव की प्रक्रिया की जावेंगी।

आम सभा में निम्न विषयों पर विचार विमर्श कर निर्णय लिया जाना प्रस्तावित है — आय-व्यय का वार्षिक प्रतिवेदन वाचन, वर्ष 22-23 के लिए अनुमानित बजट पर चर्चा, संगठन के पदाधिकारियों चुनाव पर चर्चा

01 मई 2022 को प्रातः 10 बजे से आमसभा एवं चुनाव कार्यक्रम जिला मुख्यालय पर स्थित पवार भवन, विवेकानंद वार्ड कालापाठा बैतूल में आयोजित किया जा रहा है। क्षत्रिय पवार समाज संगठन के जिलाध्यक्ष श्री बाबूलाल कालभोर ने आमसभा में अधिक से अधिक सामाजिक बंधुओं को उपस्थिति होने का आग्रह किया है।

क्षत्रिय पवार समाज संगठन बैतूल की वोटर लिस्ट का प्रकाशन आज, 1 मई को आमसभा।


बैतूल। जिला क्षत्रिय पवार समाज संगठन बैतूल के चुनाव अधिकारी श्री पंजाबराव चिकाने से प्राप्त जानकारी के अनुसार आज 24 अप्रैल 2022 को शाम 4 बजे वोटर लिस्ट का प्रकाशन किया जाएगा। जिसमें आजीवन सदस्यों और वार्षिक सदस्यों के नाम अंकित किए जाएंगे। संगठन की सदस्यता प्राप्त सदस्य ही चुनाव प्रक्रिया में भाग ले सकेगें। जिन भी सदस्यों को वोटर लिस्ट देखना है वे पवार मंगल भवन कालापाठा में आकर देख सकते है। जिसके बाद अंतिम प्रकाशन 28 अप्रैल 2022 को किया जाएगा।

क्षत्रिय पवार समाज संगठन के सचिव लक्ष्मीनारायण (भंगू) खपरिये से प्राप्त जानकारी के अनुसार क्षत्रिय पवार समाज संगठन जिला बैतूल की बैठक में आमसभा एवं चुनाव सूचना दिनाँक 01 मई 2022 को संगठन की आमसभा एवं चुनाव कार्यक्रम आयोजित करने का निर्णय लिया गया है। आमसभा में चुनाव की प्रक्रिया की जावेंगी।

आम सभा में निम्न विषयों पर विचार विमर्श कर निर्णय लिया जाना प्रस्तावित है — आय-व्यय का वार्षिक प्रतिवेदन वाचन, वर्ष 22-23 के लिए अनुमानित बजट पर चर्चा, संगठन के पदाधिकारियों चुनाव पर चर्चा

01 मई 2022 को प्रातः 10 बजे से आमसभा एवं चुनाव कार्यक्रम जिला मुख्यालय पर स्थित पवार भवन, विवेकानंद वार्ड कालापाठा बैतूल में आयोजित किया जा रहा है। क्षत्रिय पवार समाज संगठन के जिलाध्यक्ष श्री बाबूलाल कालभोर ने आमसभा में अधिक से अधिक सामाजिक बंधुओं को उपस्थिति होने का आग्रह किया है।

सोमवार को भगवान शिव की पूजा करते समय ध्यान रखें ये जरूरी बातें, भोलेनाथ हो सकते हैं रुष्ठ


मान्यता है कि भगवान शिव को खुश करने के लिए सोमवार को सुबह उठकर स्नान करके भगवान शिव की आराधना करनी चाहिए। इस दिन भगवान शंकर के साथ माता पार्वती और नंदी को गंगाजल चढ़ाना चाहिए। साथ ही इस दिन शिवजी पर खास तौर से चंदन, अक्षत, बिल्व पत्र, धतूरा या आंकड़े के फूल चढ़ाने चाहिए।

सोमवार का दिन भगवान शिव को समर्पित है। ऐसे में कहा जाता है कि अगर सोमवार को भगवान शिव की सच्चे मन से पूजा की जाए तो सारे कष्टों से मुक्ति मिलती है और सभी मनोकामना पूरी होती है। शिव सदा अपने भक्तों पर कृपा बरसाते हैं। मान्यता है कि भगवान शिव को खुश करने के लिए सोमवार को सुबह उठकर स्नान करके भगवान शिव की आराधना करनी चाहिए। इस दिन भगवान शंकर के साथ माता पार्वती और नंदी को गंगाजल चढ़ाना चाहिए। साथ ही इस दिन शिवजी पर खास तौर से चंदन, अक्षत, बिल्व पत्र, धतूरा या आंकड़े के फूल चढ़ाने चाहिए। ये सभी चीजें भगवान शिव की प्रिय हैं। इन्हें चढ़ाने पर भोलेनाथ खुश होकर अपनी कृपा बरसाते हैं। सोमवार के दिन भगवान शिव को घी, शक्कर और गेंहू के आटे से बने प्रसाद का भोग लगाना चाहिए।

इसके बाद धूप, दीप से आरती करनी चाहिए। इसके बाद प्रसाद को गुरुजनों, बुजुर्गों और परिवार, मित्र सहित ग्रहण करें। मान्यता है कि सोमवार के दिन महामृत्युंजय मंत्र का जाप 108 बार करने से भगवान शिव की विशेष कृपा प्राप्त होती है. सोमवार के दिन शिवलिंग पर गाय का कच्चा दूध चढ़ाने से भगवान शिव की कृपा हमेशा बनी रहती है. इसके अलावा भगवान के अन्य मंत्रों का भी स्मरण करने से भगवान की कृपा बरसती है।

भगवान शिव का मंत्र-
नम: शिवाय, ऊँ नम: शिवाय॥

शिव पूजा में इन बातों का रखें खास ख्याल
शिव पूजा में बहुत सी ऐसी चीजें अर्पित की जाती हैं जो अन्य किसी देवता को नहीं चढ़ाई जाती, जैसे- आक, बिल्वपत्र, भांग आदि. इसी तरह माना जाता है कि शिव पूजा में कई ऐसी चीजें होती हैं जो आपकी पूजा का फल देने की बजाय आपको नुकसान पहुंचा सकती हैं।

हल्दी
भगवान शिव की पूजा में हल्दी नहीं चढ़ाई जाती है. हल्दी का इस्तेमाल मुख्य रूप से सौंदर्य प्रसाधन में किया जाता है।शास्त्रों के अनुसार शिवलिंग पुरुषत्व का प्रतीक है, इसी वजह से महादेव को हल्दी नहीं चढ़ाई जाती है।

फूल
शिव को कनेर और कमल के अलावा लाल रंग के फूल प्रिय नहीं हैं, शिव को केतकी और केवड़े के फूल चढ़ाने का निषेध किया गया है।

कुमकुम या रोली
शास्त्रों के अनुसार शिव जी को कुमकुम और रोली नहीं लगाई जाती है।

शिव पूजा में वर्जित है शंख
शंख भगवान विष्णु को बहुत ही प्रिय हैं, लेकिन शिव जी ने शंखचूर नामक असुर का वध किया था इसलिए शंख भगवान शिव की पूजा में वर्जित माना गया है।

नारियल पानी
नारियल पानी से भगवान शिव का अभिषेक नहीं करना चाहिए। मान्यता के अनुसार नारियल को लक्ष्मी का स्वरूप माना जाता है, इसलिए सभी शुभ कार्य में नारियल को प्रसाद के तौर पर ग्रहण किया जाता है लेकिन कहा जाता है कि शिव पर अर्पित होने के बाद नारियल पानी ग्रहण योग्य नहीं रह जाता है।

तुलसी
तुलसी का पत्ता भी भगवान शिव को नहीं चढ़ाना चाहिए। इस संदर्भ में असुर राज जलंधर की कथा है जिसकी पत्नी वृंदा तुलसी का पौधा बन गई थी। भगवान शिव ने जलंधर का वध किया था इसलिए वृंदा ने भगवान शिव की पूजा में तुलसी के पत्तों का प्रयोग न करने की बात कही थी।