All posts by sachinzz

हमीदिया भोपाल में कोरोना संक्रमण से पिडित मरीजों की मौत की संख्या में कमी नहीं आ रही


HAMIDIYA BHOPAL COVID-19

https://www.covid19india.org/

हमीदिया अस्पताल भोपाल में कोरोना संक्रमण से पिडित मरीजों की मौत की संख्या में कमी नहीं आई शासन के प्रयास में कमी नजर आ रही है। अव्यवस्था का अम्बार नजर आ रहा है बिते 3 दीनो मे कोई सुखद समाचार नही प्राप्त हुए। ना कोई आला अधिकारियों को इस बात का पता है और ना ही किसी ने सुध लेने की जरूरत समझी पुछने पर बस इतना ही कहा जाता है कि हम प्रयास कर रहे हैं और मरीजों की संख्या में कमी आएगी किन्तु देखने में ऐसा नहीं है परिस्थिति विपरीत है जांच की रिपोर्ट आने में भी ज्यादा समय लग रहा है जिससे जो मरीज संग्धित है उन्हें भी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है एक ओर तो जहाँ हमारे प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान व्यवस्था को परिपूर्ण बनाने की बात कही है जबकि कुछ भी ऐसा नहीं हुआ है प्रदेश के लगभग सभी सरकारी अस्पतालों में इलाज के लिए ऐसे ही हालात का सामना करना पड़ रहा है यदि इस प्रकार चलता रहा तो 3 मई तक प्रदेश में लोकडाऊन की अवधि को समाप्त करने का प्रयास सफल हो पायेगा या नहीं यह विचारणीय है

Indore me Help k liye aap in numbers par call kr sakte h


*सभी आदरणीय निम्न नंबर्स आप अधिक से अधिक अपने पास भी रखें और संभव हो तो शेयर भी कर सकते हैं।

  1. ग्रीन अस्पतालों में इलाज से संबंधित यदि शिकायत हो तो चंद्रमौली शुक्ला जी 94068 01008 पर या 0731 25883838 एवम अपर कलेक्टर संतोष टैगोर 98263 81964
  2. कोरोना कॉल सेंटर07312567 3333
  3. Mp कॉल सेन्टर 104 एवम 181
  4. हेल्पलाइन नंबर 0731 253 7253 और भोपाल स्तर पर 0755 252 7177
  5. व्हाट्सएप पर सलाह और ब्लड बैंक एवं टेलीमेडिसिन 7489 244 895
  6. ब्लड बैंक नंबर 92002 50000 98276 66866 70245 12345 731 600 8099 731 400 2816
  7. पुलिस का कोरोना हेल्प लाइन नंबर 70491 24 444704 912 4445 डायल 100
  8. ई पास के लिए 0755 141 1180
  9. निगम की किराना सामग्री आपूर्ति प्रबंधन अपर आयुक्त श्रंगार श्रीवास्तव 94259 20720
  10. किराना या अन्य जरूरी सामग्री की होम डिलीवरी की मंजूरी के लिए एडीएम बीबीएस तोमर 94250 65613
  11. नगर निगम द्वारा गरीब बस्ती जरूरतमंद में सामग्री वितरण के लिए अपर आयुक्त संदीप सोनी 98260 23539
  12. नगर निगम से फ्री सामान के लिए 0731 475 8822 और खरीदने संबंधी समस्या को लेकर 0731 258 3839
  13. दुग्ध विक्रेता संघ से संबंधित समस्या के लिए भारत मथुरावाला 94253 17121
  14. कलेक्टोरेट का कंट्रोल रूम भोजन एवं इलाज को लेकर यदि समस्या हो तो आप 0731 236 3009 9425 06427 387 200 888888 पर फोन लगा सकते हैं
  15. बिजली समस्या हेल्पलाइन नंबर अधीक्षण यंत्री अशोक शर्मा 1989 983 837 एवं 19 12

लॉक डाउन के बीच घर तक दवा पहुंचा रहे हैं इंदौर के दो युवा, मकसद घर में रहें लोग


लॉक डाउन के बीच घर तक दवा पहुंचा रहे हैं इंदौर के दो युवा, मकसद घर में रहें लोग

लॉक डाउन के बीच घर तक दवा पहुंचा रहे हैं इंदौर के दो युवा, मकसद घर में रहें लोग
कई मामलों में तो वे ग्राहकों को दवा के दाम में ज्यादा से ज्यादा डिस्काउंट दिलाने की भी कोशिश करते हैं।

इंदौर। देश में कोरोना वायरस के मामलों को फैलने से रोकने के लिए 14 अप्रैल तक लॉक डाउन किया गया था, जिसे 30 अप्रैल तक बढ़ाया जा सकता है। लोगों को घरों में रहने की हिदायद दी जा रही है और पुलिस प्रशासन सरकार के इस आदेश का सख्ती से पालन कराने के लिए दिन रात एक कर रहा है। इस बीच सबसे ज्यादा समस्या उन लोगों को हो रही है, जिनकी दवाएं चल रही हैं। कई बार आस-पास के मेडिकल स्टोर में दवा नहीं मिलने और घर से बाहर निकलने पर पुलिस की पहरेदारी होने की वजह से लोग दवाओं के लिए परेशान हो रहे थे। इसे देखते हुए दो युवा नागेश पवार और उनके साथी तरुण माली लोगों को उनके घर तक दवाएं पहुंचा रहे हैं।

Korona ki viprit paristithiyo me kese kre padai


Super 100 के संस्थापक आनंद कुमार द्वारा विद्यार्थियों को lock down जैसी स्थिति में अपने घर में रहने की बात कही और साथ ही कहा कि ऐसी स्थिति में विद्यार्थियों को घर में रह कर पढ़ाई करना चाहिए और रिवाइज करते रहना है

आंनद कुमार ने कहा कि विपरित परिस्थितियों में ही योग्यता और शील की पारख होती है, इससे प्राप्त अनुभव ही जीवन में सफल होने मे भी सहायक होते हैं

Coronavirus in Indore : इंदौर में दो और लोगाें की मौत, 22 और काेरोना पॉजिटिव मिले


इंदौर ()। Coronavirus in Indore : गुरुवार सुबह कोरोना वायरस के संक्रमण से एक निजी चिकित्सक और साउथ तोड़ा निवासी 44 साल के व्यक्ति की कोरोना से मौत हो गई। शाम को जारी रिपोर्ट में 22 नए पॉजिटिव मिले हैं। इनमें से 18 पहले से अस्पताल में भर्ती हैं। शहर में अब 235 मरीज कोरोना पॉजिटिव हो चुके हैं। इनमें से 23 मरीजों की मौत हो चुकी है।

नए मरीजों में चार टाटपट्टी बाखल के गुरुवार को शहर में कोरोना के 22 नए मामले सामने आए, उनमें से 18 मरीज पहले से ही अलग-अलग अस्पतालों में भर्ती हैं। 4 पॉजिटिव मरीज टाटपट्टी बाखल से सामने आए हैं जिनके नमूने स्वास्थ्य विभाग ने अपने सर्वे के दौरान एकत्रित किए थे।

कोरोना का कहर : खेतों से घरों तक पहुंच गई फसलें, अब खर्च के लिए रुपए तक नहीं कि सानों के पास, कि सान बोले-मंडी खुलने से ही खत्म होगी


कोरोना का कहर : खेतों से घरों तक पहुंच गई फसलें, अब खर्च के लिए रुपए तक नहीं कि सानों के पास, कि सान बोले-मंडी खुलने से ही खत्म होगी परेशानी
अनाज से भरे कि सानों के घर, जेब में रुपए नहीं, बढ़ रही परेशानियां जिलेभर के कि सानों की एक सी ि
अनाज से भरे कि सानों के घर, जेब में रुपए नहीं, बढ़ रही परेशानियां
जिलेभर के कि सानों की एक सी स्थिति, कोरोना से बचाव के बीच परेशानी में गुजर रहे दिन, समर्थन मूल्य पर 15 अप्रैल से शुरू होगी खरीदी
9 एमडीएस-55
के प्शन- घरों में जगह नहीं होने के कारण कि सानों ने घरों के बाहर ही लगा रखे हैं उपज के ढेर। ।
9 एमडीएस-56
के प्शन- ग्राम कु चड़ौद में खेत-खलिहान में रखी लहसुन फसल, मंडी खुलने का इंतजार कर रहे कि सान। .।
। प्रतिनिधि
रबी सीजन की फसलों की कटाई के बाद उपज कि सानों के घरों में पहुंच गई है। लेकि न मंडियां बंद होने के कारण कि सानों की परेशानियां बढ़ती जा रही हैं। घर उपज से भरे हैं पर जेबों में रुपए नहीं हैं। फसल की बोवनी से अब तक कि सान ने खर्च ही कि ए हैं, अब फसल विक्रय के बाद ही सभी खर्च निकलेंगे। फसल नहीं बेच पाने के कारण कई कि सान अपने खेतों में काम करने वाले मजदूरों को रुपए भी नहीं दे पा रहे हैं। कि सानों का कहना है कि खर्च के लिए रुपए भी नहीं हैं। एक-एक दिन बहुत दिक्कतों के साथ निकल रहा है। खेतों से सीधे मंडी में उपज पहुंचाने वाले कि सानों को दोहरी परेशानियां हो रही हैं, घरों में उपज रखने की जगह भी नहीं और मंडी खुलने के आसार भी नहीं दिख रहे हैं। इसके कारण कई कि सानों ने घरों के बाहर ही उपज के ढेर लगा रखे हैं। गेहूं के कि सानों के लिए राहत की बात यह है कि समर्थन मूल्य पर गेहूं खरीदी 15 अप्रैल से शुरू हो रही है।

कोरोना का कहर : खेतों से घरों तक पहुंच गई फसलें, कब खुलेंंगी मंडी और कब से होंंगा गेंहू का उपार्जन ?


अब खर्च के लिए रुपए तक नहीं कि सानों के पास, कि सान बोले-मंडी खुलने से ही खत्म होगी परेशानी

अनाज से भरे कि सानों के घर, जेब में रुपए नहीं, बढ़ रही परेशानियां

जिलेभर के कि सानों की एक सी स्थिति, कोरोना से बचाव के बीच परेशानी में गुजर रहे दिन, समर्थन मूल्य पर 15 अप्रैल से शुरू होगी खरीदी

के प्शन- घरों में जगह नहीं होने के कारण कि सानों ने घरों के बाहर ही लगा रखे हैं उपज के ढेर। नईदुनिया।

केप्शन- ग्राम कु चड़ौद में खेत-खलिहान में रखी लहसुन फसल, मंडी खुलने का इंतजार कर रहे कि सान। .

मुलतापी समाचार

बैैैैैैैैतूल। रबी सीजन की फसलों की कटाई के बाद उपज कि सानों के घरों में पहुंच गई है। लेकि न मंडियां बंद होने के कारण कि सानों की परेशानियां बढ़ती जा रही हैं। घर उपज से भरे हैं पर जेबों में रुपए नहीं हैं। फसल की बोवनी से अब तक कि सान ने खर्च ही कि ए हैं, अब फसल विक्रय के बाद ही सभी खर्च निकलेंगे। फसल नहीं बेच पाने के कारण कई कि सान अपने खेतों में काम करने वाले मजदूरों को रुपए भी नहीं दे पा रहे हैं। कि सानों का कहना है कि खर्च के लिए रुपए भी नहीं हैं। एक-एक दिन बहुत दिक्कतों के साथ निकल रहा है। खेतों से सीधे मंडी में उपज पहुंचाने वाले कि सानों को दोहरी परेशानियां हो रही हैं, घरों में उपज रखने की जगह भी नहीं और मंडी खुलने के आसार भी नहीं दिख रहे हैं। इसके कारण कई कि सानों ने घरों के बाहर ही उपज के ढेर लगा रखे हैं। गेहूं के कि सानों के लिए राहत की बात यह है कि समर्थन मूल्य पर गेहूं खरीदी 15 अप्रैल से शुरू हो रही है।

कुओं में पर्याप्त पानी एवं मौसम भी अनुकूल बना रहने से इस साल रबी सीजन में गेहूं, मेथी, लहसुन सहित सभी फसलों का बंपर उत्पादन हुआ है। बोवनी से लेकर फसल कटाई और उपज को घर व खलिहानों तक पहुंचाने के लिए कि सानों ने अब तक खर्च ही कि या है। सभी खर्च उपज विक्रय से ही निकलता है। लेकि न कोरोना से बचाव के लिए लगाए गए लॉक डाउन के कारण मंडियां बंद हैं। इसके कारण कि सानों की परेशानियां दिन पर दिन बढ़ती जा रही हैं। कई कि सानों ने मजदूरों से फसल कटवाई है, अभी उनके पास मजदूरों को देने के लिए रुपए भी नहीं हैं। इसके अलावा खर्च तक के रुपए नहीं बचे हैं। सब कु छ फसल विक्रय पर ही निर्भर है। एक तरफ कि सानों के घर अनाज से भरे पड़े हैं लेकि न जेब खाली है, जिससे कारण दिक्कतें बढ़ती जा रही हैं। कि सानों का कहना है कि प्रशासन मंडी को चालू करे और जिले के बाहर से आने वाली उपज पर रोक लगाई जाए।