Category Archives: कृषि उपज मंडी बड़ोरा बैतूल

विरोध के बाद भी हल नहीं, मक्का के दामों में सुधार नहीं


✍️ राहुल सारोडे

बैतूल मुलताई (मूलतापी सामाचार)। सोयाबीन की जगह मक्का उत्पादन को फायदेमंद मान रहे किसान अब पछताने को मजबूर हैं। एक ओर जहां शासन द्वारा भावांतर या समर्थन मूल्य पर मक्का की खरीदी नहीं की जा रही है वहीं दूसरी ओर मंडी में इसके बेहद कम दाम मिल पा रहे हैं। सोमवार को विरोध जताने के बाद भी स्थिति में कोई सुधार नहीं हुआ। यही कारण है कि अब किसानों को उनका हक दिलाने भारतीय किसान संघ द्वारा मोर्चा संभाला जा रहा है। संघ की इसे लेकर बुधवार को महत्वपूर्ण बैठक रखी गई है।

बीते कई सालों से जिले के किसान सोयाबीन का उत्पादन कर रहे थे। इसके चलते जमीन की उर्वरा क्षमता खत्म होती जा रही थी और उत्पादन में भी कमी आ रही थी। इसे देखते हुए कृषि विज्ञानियों और कृषि विभाग ने किसानों को सोयाबीन की जगह मक्का का उत्पादन करने की सलाह दी थी। उनकी सलाह को सिर आंखों पर रखते हुए किसानों ने पिछले कुछ सालों में मक्का का रकबा काफी बढ़ा लिया है। यही कारण है कि सीजन आते ही मंडी में मक्का का अंबार लग जाता है। पहले शासन ने किसानों को उचित दाम दिलाने के लिए भावांतर भाव योजना के तहत मक्का की खरीदी की, लेकिन इस साल शासन की किसी योजना का अता-पता नहीं है। शासन ने मक्का का समर्थन मूल्य 1850 रुपये प्रति क्विंटल घोषित तो कर दिया पर समर्थन मूल्य किसानों को दिलवाने के लिए कोई प्रयास नहीं किए जा रहे हैं। यही कारण है कि किसानों को औने-पौने दामों पर मक्का बेचना पड़ रहा है। इसे लेकर सोमवार को किसानों ने जमकर विरोध जताया। हंगामे को देखते हुए एसडीएम सीएल चनाप को भी मंडी पहुंचना पड़ा। इसके बावजूद मंगलवार को स्थिति में कोई सुधार नहीं हुआ। आज भी मक्का के दाम में कोई इजाफा नहीं हो सका।

आज यह रहे मक्का के दाम

मंगलवार को कृषि उपज मंडी में 7166 मक्का की आवक हुई जबकि सभी तरह की जिंसों की 15344 बोरे आवक हुई। मक्का के आज न्यूनतम दाम 1000 रुपये और उच्चतम दाम 1409 रुपये रहे वहीं प्रचलित मूल्य 1320 रुपये रहा। इससे पहले सोमवार को 14011 बोरे मक्का और सभी तरह की जिंसों की 30463 बोरे आवक हुई थी। मक्का का न्यूनतम मूल्य 1002 रुपये और उच्चतम मूल्य 1401 रुपये रहा वहीं प्रचलित मूल्य 1350 रुपये रहा। जाहिर है कि आज भी दाम में कोई सुधार नहीं हुआ और किसानों को समर्थन मूल्य से काफी कम दामों पर अपनी मक्का बेचना पड़ रहा है।

अब किसान संघ उठाएगा किसानों की मांग

मंडी में भी उपज के वाजिब दाम नहीं मिल पाने का देखते हुए अब भारतीय किसान संघ द्वारा इस मुद्दे को उठाया जा रहा है। इस सिलसिले में संघ की महत्वपूर्ण बैठक 4 नवंबर को दोपहर 12.30 बजे से कृषि उपज मंडी बडोरा में रखी गई है। इसमें जिला एवं तहसील के सभी कार्यकर्ताओं को बुलाया गया है। संघ के जिला मंत्री मनोज नावंगे ने बताया कि मक्का के समर्थन मूल्य से कम दामों पर बिकने को लेकर पहले प्रशासन को ज्ञापन सौंपा जाएगा। इसके बावजूद यदि स्थिति नहीं सुधरती है तो फिर बैठक में जो भी निर्णय लिया जाएगा, उसके अनुसार कदम उठाए जाएंगे। यदि जरुरत पड़ी तो आंदोलन भी किया जाएगा।

वे बोले…

मक्का के कम दाम मिलने और किसानों के विरोध को देखते हुए इस संबंध में वरिष्ठ कार्यालय और जिला प्रशासन को पत्र लिखा गया है। व्यापारियों से भी चर्चा की गई है, लेकिन उनका कहना है कि अभी बाजार में मक्का के कम ही रेट चल रहे हैं। इसलिए वे अधिक दाम नहीं दे पा रहे हैं। इस संबंध में शासन स्तर से जो भी निर्देश प्राप्त होंगे, उसके अनुसार कार्यवाही की जाएगी।

एसके भालेकर, सचिव, कृषि उपज मंडी, बडोरा, बैतूल

MP सकल अनाज दलहन तिलहन व्या पारी महासंघ समिति का अनिश्चित काल तक मंडी बंद


मध्य प्रदेश अनाज एवम् तिलहन व्यापारी संघ द्वारा पूरे प्रदेश में सरकार के कृषि नीतियों के विरोध में मंडी बंद रखने का ऐलान किया है जिसके समर्थन में बैतूल अनाज व्यापारी संघ द्वारा मंडी को अनिश्चित काल तक बंद रखने का फैसला किया है।

प्रदेश सरकार मंडी बोर्ड के हठधरमी रवैये के खिलाफ एवं प्रदेश के किसानों की सुरक्षा देने वाली मंडियों को सुरक्षित करने के लिए 50 पैसे मंडी शुल्‍क के लिये 24 सितम्‍बर  गुरूवार से म.प्र. कि सम्‍स्‍त मंडियों में अनिश्चितकाल के लिये पूर्ण रूप से बंद रहेंगी।

इंदौर म.प्र. सकल अनाज दलहन तिलहन व्‍यापारी महासंघ समिति के अध्‍यक्ष गोपालदास अग्रवाल ने बताया कि प्रदेश सरकार से जून से लगातार पत्राचार व सम्‍पर्क का प्रयास किया गया प्रदेश के मुख्‍यमंत्री एवं कृषिमंत्री व्‍यापारी महासंघ को आश्‍वासन देते रहे। महासंघ सरकार व कृषि विभाग पर विश्‍वास  करता रहा अब सबर का बांध टूट चुका क्‍योंकि ऐसा लगने लगा कि प्रदेश सरकार कर्मचारियों खासकर मंडी बोर्ड के अधिकारियों के दबाव में कार्य करते हुए प्रदेश के किसानों के हितों का ध्‍यान न रखकर मंडियों को बर्बाद करना चाहती है। यदि मंडियों में व्‍यापार नहीं होगा तो मंडी शुल्‍क कहा से आयेगा। व्‍यापारियों में व्‍यापार व्‍यवसाय व मंडी किसान को सुरक्षित करे के लिए मंडी शुल्‍क 50 पैसे करने का प्रस्‍ताव सरकार को दिया है। उसी प्रकार निराश्रित शुल्‍कव अनुज्ञा पत्र की आवश्‍यकता को भी समाप्‍त करने कि बात रखी है। परन्‍तु म.प्र. कृषि उपज मंडी बोर्ड के कर्मचारियों की मांग के लिये तुरन्‍त बोर्ड मिटिंग कर निर्णय लिया परन्‍तु व्‍यापारियों कि मांग 50 पैसे मंडी शुल्‍क पर जो कि किसानों के हित सुरक्षा को ध्‍यान में रखकर की गई है उस पर निर्णय नहीं किया गया। इसलिये 24 सितम्‍बर  से प्रदेश कि मंडियॉ पूर्ण रूप से अनिश्चित काल के लिये बंद रहेगी। इसके लिये प्रदेश सरकार जवाब देह होगी।                           

बैतूल कृषि उपज मंडी भाव – 23/04/2020


मक्का की आवक 1609 बोरे जिसका न्यूनतम भाव 998 रुपये अधिकतम भाव 1256 रुपये और प्रचलित भाव 1140 रुपये रहा।

गेहूँ की आवक 2482 बोरे जिसका न्यूनतम भाव 1606 रुपये अधिकतम भाव 1830 रुपये और प्रचलित भाव 1710 रुपये रहा।

मुलतापी समाचार बैतूल

बैतूल कृषि उपज मंडी भाव – 22/04/2020


बैतूल मंडी भाव

चना की आवक 76 बोरे जिसका न्यूनतम भाव 3676 रुपये अधिकतम भाव 3781 रुपये और प्रचलित भाव 3750 रुपये रहा।

मक्का की आवक 1981 बोरे जिसका न्यूनतम भाव 1025 रुपये अधिकतम भाव 1240 रुपये और प्रचलित भाव 1160 रुपये रहा।

गेहूँ की आवक 1952 बोरे जिसका न्यूनतम भाव 1551 रुपये अधिकतम भाव 1740 रुपये और प्रचलित भाव 1680 रुपये रहा।

सरसों की आवक 03 बोरे जिसका न्यूनतम भाव, अधिकतम भाव और प्रचलित भाव 3200 रुपये ही रहा।

तुअर की आवक 15 बोरे जिसका न्यूनतम भाव, अधिकतम भाव और प्रचलित भाव एक ही 4000 रुपये रहा।

बैतूल मंडी – 21/04/2020 का भाव


मक्का की आवक 1176 बोरे जिसका न्यूनतम भाव 1090 रुपये अधिकतम भाव 1271 रुपये और प्रचलित भाव 1155 रुपये रहा।

गेहूँ की आवक 2304 बोरे जिसका न्यूनतम भाव 1581 रुपये अधिकतम भाव 1770 रुपये और प्रचलित भाव 1690 रुपये रहा।

मुलतापी समाचार बैतूल

कृषि उपज मंडी बड़ोरा बैतूल में शनिवार का भाव


बैतूल बड़ोरा — आज का मंडी भाव 18/04/2020 दिन शनिवार

गेहूँ की आवक 1026 बोरे जिसका न्यूनतम भाव 1626 रुपये अधिकतम भाव 1826 रुपये और प्रचलित भाव 1743 रुपये रहा।

मक्का की आवक 288 बोरे जिसका न्यूनतम भाव 1231 रुपये अधिकतम भाव 1301 रुपये और प्रचलित भाव 1250 रुपये रहा।

चना की आवक 16 बोरे जिसका न्यूनतम भाव,अधिकतम भाव और प्रचलित भाव एक ही 3876 रुपये रहा।

तुअर की आवक 17 बोरे जिसका न्यूनतम भाव, अधिकतम भाव और प्रचलित भाव एक ही रुपये 4401 रहा।

मुलतापी समाचार बैतूल