Category Archives: धोखाधड़ी

GRS ग्राम रोजगार सहायक द्वारा कपिल धारा योजना के कूप की 1 लाख रुपये से अधिक की राशि गमन किया, किसान हो रहा परेशान


घोड़ाडोंगरी। जनपद पंचायत घोड़ाडोंगरी के अंतर्गत आने वाली ग्राम पंचायत आमडोह में ग्राम रोजगार सहायक तपनदास मण्डल ने हितग्राही को बिना बताए मजदूरी की राशि फर्जी तरीके से आहरण कर ली है। ग्रामीणों द्वारा बनाये गये पंचनामे में उल्लेख है कि भाग्यधर मंडल के कपिल धारा कूप में एक लाख तेरह हजार पचास रुपये की राशि का गमन की , फर्जी मस्टरोल भरकर किया गया है जबकि मोके पर ग्राम पंचायत ने कुँए का काम प्रारंभ नही किया था।

मनरेगा योजना में ग्राम रोजगार सहायक द्वारा फर्जी तरीके से राशि आहरण करने का सिलसिला रुकने का नाम नहीं ले रहा है जहां मप्र शासन के आदेशानुसार हर पात्र हितग्राही को लाभ पहुंचाने के लिए तरह तरह के उपाय एवं नए-नए सॉफ्टवेयर बनाए जा रहे हैं। जिससे ग्राम पंचायत में कोई फर्जीवाड़ा न हो सके, लेकिन दबंग रोजगार सहायक तपन दास द्वारा मनरेगा अंतर्गत कपिल धारा कूप निर्माण में अपने चहेतों के खाते में राशि का आहरण नहीं रूक रहा है ।

ऐसा ही एक मामला जनपद पंचायत की ग्राम पंचायत आम डोह के ग्राम नारायणपुर का देखने को मिला। जहां पर भाग्यधर पिता अधीर मंडल का मनरेगा योजना से कपिल धारा कूप निर्माण स्वीकृत वर्ष 2018 किया गया था।

जो कि नियमानुसार एक वर्ष की अवधि में निर्माण कार्य को पूरा होना था, लेकिन 2 साल बीत जाने के बाद कपिल धारा का कूप निर्माण पंचायत द्वारा शुरू नही किया गया जिसके चलते पात्र हितग्राही द्वारा खुद जैसे तैसे रुपये जुगाड़ कर कच्चा कूप खुदवाया गया हितग्राही भाग्यधर मण्डल को बाद में पता चला की उसके कपिलधारा कूप निर्माण के नाम पर एक लाख तेरह हजार पचास रुपये निकल चुके हैं।

हितग्राही द्वारा जिसकी आरोप ग्राम पंचायत आमडोह के सह सचिव तपन दास पर लगाया, एवं हितग्राही ने बताया कि मजूदरों के नाम का फर्जी मस्टररोल से फर्जी तरीके से मेरे खेत के कपिल धारा कूप निर्माण कार्य का रकम निकल लिया गया है जिसका मास्टरमाइंड सह सचिव तपनदास मंडल है। जिम्मेदार अधिकारीयो द्वारा निष्पक्ष जांच की जाये कपिल धाराकूप निर्माण राशि मे गमन का मामला उजागर होगा।

रोजगार सहायक ने गांव की विधवा महिला के साथ धोखाधड़ी कर खाते से पैसे निकाले


विधवा महिला के साथ रोजगार सहायक ने की धोखाधड़ी कर खाते से पैसे निकाले

आठनेर रोजगार सहायक गांव की महिला ने अपने खाते से राशि हड़पने का लगाया आरोप

रोजगार सहायक ब्रह्मदेव बारस्कर पर 
गांव की 
विधवा महिला  ने अपने बैंक खाते से राशि हड़पने का आरोप लगाया है । धोखाधड़ी का पुलिस प्रकरण दर्ज कराने की मांग

जांच में प्रमाण सामने आये

आठनेर । ब्‍लाक के ग्राम पंचायत अंधेरबावड़ी के

ग्राम बोथिया रैयत की एक विधवा महिला ने रोजगार सहायक ब्रह्मदेव बारस्कर पर फर्जी हस्ताक्षर कर उसके बैंक खाते से 2 बार में 1 लाख रुपये की राशि निकाल लेने का आरोप लगाते हुए अधिकारियों से शिकायत की है। महिला के पति की मौत होने पर उसे संबल योजना के तहत 2 लाख रुपये की राशि मिली थी। जनपद पंचायत द्वारा कराई गई जांच में भी शिकायत सही पाई गई है। इस पर रोजगार सहायक को पद से पृथक किए जाने की अनुशंसा की गई है। 
ललिता पत्नी रामप्रसाद ने अपनी शिकायत में बताया है कि उसके पति की मृत्यु जून 2019 में हुई थी। इस पर संबल योजना के तहत 2 लाख रुपये की सहायता राशि उसके महाराष्ट्र बैंक खोमई के खाते में प्राप्त हुई थी। इसकी जानकारी मिलने पर वह बैंक पहुंची और पासबुक में एंट्री कराई तो यह बात सामने आई कि अंधेरबावड़ी के रोजगार सहायक ब्रह्मदेव ने फर्जी हस्ताक्षर कर उसके खाते से 50-50 हजार रुपए की नकद राशि 2 बार में निकाल ली है। यह राशि 25 अक्टूबर 2019 को निकाली गई है। शेष बची 1 लाख रुपये की राशि में से भी उसे 75 हजार रुपये ही दिए गए और 25 हजार रुपये और रोजगार सहायक ने रख लिए। इस बारे में जब रोजगार सहायक से जानकारी ली गई तो वह धमकाने लगा। धोखाधड़ी से राशि निकाले जाने की बात सामने आने पर महिला ने जनपद पंचायत के अधिकारियों से मामले की शिकायत की। पंचायत समन्वयक अधिकारी विजय प्रकाश नागले से मामले की जांच कराई गई। उन्होंने महिला के कथन लेकर मामले में सत्यता पाई है। जांच प्रतिवेदन जनपद कार्यालय में जमा कर दिया गया है। इस मामले में बैंक कर्मचारियों और अधिकारियों की मिलीभगत से भी इंकार नहीं किया जा सकता। महिला का आरोप है कि पति की मौत के बाद शासन से मिली 5 हजार रुपये की अंत्येष्टि सहायता राशि भी उसे आज तक नहीं मिली। इसके अलावा उसके साथ प्रधानमंत्री आवास योजना में भी उसके साथ धोखाधड़ी की गई है। इधर जांच के दौरान रोजगार सहायक पर आरोप सिद्ध पाए जाने पर पंचायत समन्वय अधिकारी ने रोजगार सहायक को पद से पृथक करने की अनुशंसा की है। 
अधिकारियों का यह कहना…
अनुग्रह राशि में धोखाधड़ी के मामले में जंनपद पंचायत के समन्वय अधिकारी विजय प्रकाश नागले द्वारा जांच की गई है। मामले में जांच प्रतिवेदन के आधार पर रोजगार सहायक के खिलाफ कठोर कार्रवाई की जाएगी। 
– केदारप्रसाद राजोरिया, सीईओ, जनपद पंचायत, आठनेर
रोजगार सहायक द्वारा महिला के बैंक खाते से फर्जी तरीके से रुपये निकालने की शिकायत सही पाई गई है। शिकायत की जांच करने के बाद प्रतिवेदन अधिकारियों के समक्ष प्रस्तुत कर दिया गया है। 
– विजयप्रकाश नागले, पंचायत समन्वयक अधिकारी, आठनेर