Category Archives: छत्तीसगढ़

छत्‍तीसगढ- जंगल में गुम हो गई थी बच्ची, पुलिस ने टार्च की रोशनी में खोज निकाला


जगदलपुर। Bastar News: 

मुलतापी समाचार

बस्तर के घनघोर जंगल किसी जटिल भूलभुलैया की तरह हैं। यहां रात के अंधेरे में यदि कोई गुम हो जाए तो बाहर निकल पाना बेहद मुश्किल होता है। यह जंगल इंसान को भ्रम में डाल देते हैं। जंगल के अंदर एक तो जानवरों का डर होता है, दूसरा यहां की पगडंडियों में नक्सलियों के बिछाए लैंड माइन्स भी मौजूद हैं, जिनपर पैर पड़ते ही विष्फोट हो सकता है। इसके अलावा कई तरह के खतरनाक ट्रैपर भी यहां नक्सली और शिकारी लगा कर रखते हैं।

एक मासूम बच्ची खेलते- खेलते शाम के वक्त जंगल के अंदर चली गई और फिर वहां गुम हो गई। जब पुलिस को इसकी सूचना मिली तो एक स्पेशल टीम बनाकर जंगल के अंदर बच्ची कीे खोज शुरू की गई। आखिरकार आधी रात टॉर्च की रौशनी के शहारे पुलिस ने जंगलों के बीच से बच्ची को सकुशल ढ़ूंढ निकाला।

कोतवाली थाना क्षेत्र के ग्राम आसना छेपरागुड़ा निवासी बैशाखू की सात वर्षीय बच्ची शनिवार शाम को गुम हो गई थी। इसकी सूचना मिलने पर एसपी दीपक झा ने टीआइ एमन साहू के नेतृत्व में टीम गठित कर रात में ही सर्च आपरेशन चलाने को कहा। पुलिस ने टार्च की रोशनी में आधे घंटे में बच्ची को आसना जंगल में झाड़ियों के बीच से खोज निकाला।

बताया गया है कि बैशाखू की मासूम बेटी गुड्डी अपने दोस्तों के साथ जंगल की ओर खेलने गई थी। सभी बच्चे शाम ढलने के बाद घर लौट आए पर गुड्डी का पता नहीं चला। परिजनों ने इसकी सूचना डायल 112 को दी। इसके बाद पुलिस हरकत में आई और बालिका को तलाशकर परिजनों के सुपुर्द किया।

अजीत जोगी के निधन से दमोह जिले में शोक की लहर, दमोह उनकी ससुराल थी


मुलतापी समाचार मनोज कुमार अग्रवाल

दमोह: छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी के निधन से दमोह जिले में शोक की लहर है। दमोह में अजीत जोगी की ससुराल है, और उनके साले स्वर्गीय श्री रत्नेश सालोमन दिग्विजय सरकार में मंत्री रहे हैं तो उनके भतीजे और भतीजी की आज भी इलाके में मजबूत पकड़ है। दमोह जिले के जबेरा से विधानसभा की प्रत्याशी रही तान्या सालोमन ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि परिवार ने अपना मुखिया खो दिया है वही उनके भतीजे आदित्य सालोमन ने कहा कि उनकी कमी को कभी पूरा नहीं किया जा सकता।वह सदा एक उदारवादी नेता थे और गरीबों के मसीहा थे।

मुलतापी समाचार

CG बीजापुर-दंतेवाड़ा सीमा पर मुठभेड़ में एक नक्सली ढेर, शव बरामद


Chhattisgarh News

Multapi Samachar

दंतेवाड़ा ।बीजापुर-दंतेवाड़ा सीमा से लगे हुर्रेपाल- बेचापाल के जंगलों में गुरुवार की दोपहर नक्सली और डीआरजी जवानों के बीच जमकर मुठभेड़ हुई। रुक- रुक कर करीब एक से डेढ़ घंटे तक दोनों ओर से गोलीबारी होती रही। फायरिंग थमने पर सर्चिंग के दौरान जवानों ने एक पुरुष नक्सली का शव बरामद किया। इसकी पुष्टि एसपी डॉ अभिषेक पल्लव ने की है।

बताया जा रहा है कि जंगल के इंद्रावती नेशनल पार्क दलम और भैरमगढ़ एरिया कमेटी बड़े नक्सलियों का डेरा था। नक्सली कैम्प से बड़ी मात्रा में दैनिक उपयोग की सामग्रियों के साथ पिट्ठू, दवा और अन्य नक्सल सामग्री बरामद किया गया है।

फोर्स अभी भी जंगल में है। थाना भांसी और फरसपाल से सपोर्टिंग पार्टी रवाना कर दी गई है। बताया जा रहा है की नक्सलियों की इस कैंप में जुड़े डीवीसी मेंबरों की मौजूद थी। इनमे आठ आठ लाख रुपए के इनामी नक्सली चन्दना, कमलू और हूंगा के नाम बताएं जा रहे हैं।

नक्सलियों के एंबुश में फंसकर शहीद हो गए 17 जवान, मुठभेड़ में हो गए थे लापता


Naxal Encounter in Sukma : मुलतापी समाचार

सुकमा। धुर नक्सल प्रभावित सुकमा जिले के चिंतागुफा थाना क्षेत्र के मिनपा-कसालपाड़ इलाके में शनिवार को हुई मुठभेड़ में लापता 17 जवानों के शव रविवार को बरामद किए गए। रविवार को इनकी तलाश के लिए 500 जवानों की टीम को भेजा गया था। मौके से जवानों के शव बरामद हुए। सभी जवानों के पार्थिव देह को जंगल से बाहर निकाल लिया गया है। समाचार लिखे जाने तक जवानों के शव बुरकापाल कैंप में ही रखे हुए हैं। उन्हें जिला मुख्यालय नहीं लाया जा सका है।

मिनपा इलाके में नक्सलियों के बड़े जमावड़े की सूचना पर शुक्रवार शाम को अलग-अलग कैंपों से करीब 550 जवान जंगल में गए थे। वापसी के दौरान नक्सलियों ने कसालपाड़ व मिनपा के बीच कोटपाड़राज रेंगापारा के पास एंबुश लगाया। फोर्स अलग-अलग चल रही थी। हर टीम में सौ से डेढ़ सौ जवान थे। इन्हीं में से एक टीम नक्सली एंबुश में फंसी। मौके पर चार तालाब हैं। इन तालाबों की मेड़ के पीछे नक्सलियों ने एंबुश लगा रखा था जबकि जवान खुले में फंस गए। शनिवार दोपहर करीब 12.30 बजे फायरिंग शुरू हुई जो चार घंटे तक जारी रही।

नक्सली चारों ओर थे। चौतरफा भारी फायरिंग से जवान बिखर गए। मौके पर करीब तीन सौ नक्सली थे। जवानों ने बताया कि नक्सली गैर छत्तीसगढ़ी लग रहे थे। घटनास्थल चिंतागुफा कैंप से करीब सात किमी दूर दक्षिण में है। चिंंतागुफा के ग्रामीणों ने बताया कि उनके गांव तक हर दस मिनट में विस्फोट की आवाज आती रही।

नक्सली गोले दाग रहे थे। उन्होंने देसी बम का भी इस्तेमाल किया। मौके पर पेड़ों में गोलियां धंसी हुई हैं। एंबुश में जो टीम फंसी थी उसमें एसटीएफ और डीआरजी के जवान ही थे। लगातार फायरिंग के चलते जवानों की गोलियां खत्म हो गईं। रात नौ बजे बुरकापाल से कोबरा बटालियन की टीम गई और एलओपी (लाइन ऑफ पाइंट) लगाया तब जाकर घायलों को निकाला जा सका। मौके पर जगह जगह जवानों के जूते, टोपी और अन्य सामान बिखरे हैं।

24 घंटे लग गए शव निकालने में

शहीदों के शव रातभर वहीं पड़े रहे। सुबह नौ बजे बुरकापाल और चिंतागुफा से रेस्क्यू टीम रवाना की गई। पहले ड्रोन उड़ा फिर जवान रवाना हुए। जगह-जगह शव पड़े मिले। जवान अपने साथियों का शव सात किमी कंधे पर लादकर बाहर लाए। कोबरा बटालियन के डीआइजी बुरकापाल तक गए थे। बस्तर आइजी सुंदरराज पी ने बताया कि शहीदों में 12 जवान डीआरजी (डिस्ट्रिक रिजर्व गार्ड) के हैं व पांच एसटीएफ के। बुरकापाल में पदस्थ डीआरजी के पांच व चिंतागुफा के तीन जवान शहीद हुए हैं। अन्य डीआरजी जवान दूसरी जगहों के हैं।

15 हथियार लूटे, एक यूबीजीएल भी

नक्सली, जवानों के 15 हथियार लूटकर ले गए हैं। इनमें 12 एके 47 रायफल व एक अंडर बैरल ग्रेनेड लांचर(यूबीजीएल) शामिल है। डीआरजी के सबसे ज्यादा हथियार लूटे गए हैं। जो यूजीबीएल लूटा गया है वह बुरकापाल डीआरजी का था।

शहीद जवानों के नाम

एसटीएफ

1. पीसी गीतराम राठिया पुत्र परमानंद राठिया, ग्राम सिंघनपुर, थाना भूपदेवपुर, जिला रायगढ़

2. एपीसी नारद निषाद पुत्र फगुआ राम निषाद, ग्राम सिवनी, थाना बालोद, जिला बालोद

3. आरक्षक 3541 हेमंत पोया, पुत्र गुलाब राम पोया, ग्राम डबराखार, पोस्ट सरोना, थाना नरहरपुर, जिला कांकेर

4. आरक्षक 1639 अमरजीत खलको, पुत्र अमृत खलको, ग्राम औराजोर, पोस्ट हर्राडांड, थाना कुनकुरी, जिला जशपुर

5. सहायक आरक्षक 234 मड़कम बुच्चा, पुत्र मड़कम देवा, ग्राम टटरई, पोस्ट आरगट्टा, थाना एर्राबोर, जिला सुकमा

डीआरजी

6. आरक्षक 1193 हेमंत दास मानिकपुरी, पुत्र सुखदास मानिकपुरी, ग्राम छिंदगढ़, जिला सुकमा

7. सहायक आरक्षक 194 गंधम रमेश, पुत्र गंधम मदना, ग्राम जगरगुंडा, जिला सुकमा

8. आरक्षक 594 लिबरूराम बघेल, पुत्र सुकालू राम, ग्राम लेदा, थाना तोंगपाल, जिला सुकमा

9. आरक्षक 418 सोयम रमेश, पुत्र सोयम लच्छा, ग्राम एर्राबोर, जिला सुकमा

10. सहायक आरक्षक 368 उइका कमलेश, पुत्र उइका भीमा, ग्राम जगरगुंडा, जिला सुकमा

11. सहायक आरक्षक 804 पोड़ियम मुत्ता, पुत्र पोड़ियम सुब्बा, ग्राम मुरलीगुड़ा, जिला सुकमा

12. सहायक आरक्षक उइका धुरवा, पुत्र उइका सुकलू, ग्राम जगरगुंडा, जिला सुकमा

13. आरक्षक 1202 वंजाम नागेश, पुत्र बंजाम बुच्चा, ग्राम सुन्न्मगुड़ा, जिला सुकमा

14. प्रधान आरक्षक 463 मड़कम मासा, पुत्र मड़कम माड़ा, ग्राम चिचोरगुड़ा, जिला सुकमा

15. आरक्षक 1268 पोड़ियम लखमा, पुत्र पोड़ियम हिड़मा, ग्राम जिडपल्ली, जिला बीजापुर

16. आरक्षक 1244 मड़कम हिड़मा, पुत्र मड़कम दुला, ग्राम करीगुंडम, जिला सुकमा

17. गोपनीय सैनिक नितेंद्र बंजामी, पुत्र देवा, ग्राम कन्हाईपाड़, जिला सुकमा

इनका कहना है

यह वक्त बहुत ही नाजुक है, हम पर हमले-दर-हमले हैं। दुश्मन का दर्द यही तो है, हम हर हमले पर संभले हैं। वीर जवानों की शहादत को नमन।

– भूपेश बघेल, मुख्यमंत्री।

शहीद जवानों को अश्रुपूर्ण श्रद्धांजलि, परिजनों के प्रति गहरी संवेदना। ईश्वर से प्रार्थना है कि उनकी आत्मा को मोक्ष/शांति प्रदान करें। परिजनों को दुखद घड़ी को सहन करने की क्षमता प्रदान करें। घायल जवानों को ईश्वर शीघ्र स्वास्थ्य लाभ प्रदान करें।

– अनुसुइया उईके राज्यपाल।

माँ बम्लेश्वरी मंदिर परिसर डोंगरगढ़ में 3498 वर्गफीट भूखंड पर राजा भोज पवार क्षत्रिय धर्मशाला निर्माण कार्य गति पर


मुलतापी समाचार

वर्ष 2012-2017 के दौरान महासभा के अध्यक्ष डाॅ बी.एम.शरणागत एवं सदस्यों द्वारा की गई पहल

बेसमेंट एवं भूतल पर ढ़ांचा निर्मित, प्रथम एवं द्वितीय तल पर भव्य हाल एवं कमरें प्रस्तावित

समाज सदस्यों द्वारा निर्माण कार्य हेतु सहयोग अपेक्षित
डोंगरगढ़। माँ बम्लेश्वरी मंदिर परिसर डोंगरगढ़ में 3498 वर्गफीट भूखंड पर राजा भोज पवार क्षत्रिय धर्मशाला निर्माण कार्य प्रगति पर है।बेसमेंट एवं भूतल पर ढ़ांचा निर्मित हो गया है।प्रथम एवं द्वितीय तल पर भव्य हाल एवं कमरें प्रस्तावित हैं।

उल्लेखनीय है वर्ष 2012-2017 के दौरान मां बम्लेश्वरी मंदिर परिसर डोंगरगढ़ में राजा भोज पवार क्षत्रिय धर्मशाला निर्माण का संकल्प महासभा के अध्यक्ष डाॅ बी.एम.शरणागत एवं सदस्यों द्वारा लिया गया था।

धर्मशाला की अनुमानित लागत रूपये एक करोड़ है। निर्माण कार्य राजनांदगांव समिति द्वारा गठित निर्माण समिति की देख-रेख में किया जा रहा है। कक्ष निर्माण की राशि रूपये 3.50 लाख किसी दानदाता द्वारा दान देने पर संबंधित का नाम शिलालेख पर अंकित किए जाने का निर्णय लिया गया है।

धर्मशाला निर्माण हेतु समाज सदस्य द्वारा आर्थिक सहयोग अपेक्षित है। इच्छुक समाज सदस्य श्री लक्ष्मण सिंह हरिणखेड़े के मोबाइल नंबर 9329101311 पर संपर्क कर सकते हैं।

सहयोग राशि निम्नलिखित खाते में सीधी हस्तांतरित की जा सकती है-
पवार क्षत्रिय समिति राजनांदगांव
बैंक का नाम- बैंक ऑफ महाराष्ट्र
खाता क्र-60209579888
IFSC-MAHB0000063
स्रोत-श्री डी एन रहांगडाले जी
आपका “मुलतापी समाचार” ई-दैनिक और मासिक भारत, लाईक, शेयर करें और सुझाव जरूर करें,

PAT, PET, PPT, बीएड, डीएड, बीएससी नर्सिंग, PPHT ऑनलाइन फार्म भरने की तिथि


मुलतापी समाचार स्टूडेंट्स के लाभ हेतू जानकारी

MP, CH/ समस्त छात्र-छात्राओं को सूचित किया जाता है कि, छ.ग. व्यावसायिक परीक्षा मंडल ने विभिन्न (PAT, PET, PPT, बीएड, डीएड, बीएससी नर्सिंग, PPHT) ऑनलाइन तिथिव्यावसायिक पाठ्यक्रमों में प्रवेश हेतु ऑनलाइन आवेदन व संभावित परीक्षा तिथि जारी कर दी है।

विवरण निम्नानुसार है :-

  1. PET
    ऑनलाइन आवेदन प्रारंभ तिथि :- 17 मार्च 2020
    ऑनलाइन आवेदन अंतिम तिथि :- 12 अप्रेल 2020
    संभावित परीक्षा तिथि :- 08 मई 2020
  2. PPHT
    ऑनलाइन आवेदन प्रारंभ तिथि :- 17 मार्च 2020
    ऑनलाइन आवेदन अंतिम तिथि :- 12 अप्रेल 2020
    संभावित परीक्षा तिथि :- 08 मई 2020
  3. PPT
    ऑनलाइन आवेदन प्रारंभ तिथि :- 17 मार्च 2020
    ऑनलाइन आवेदन अंतिम तिथि :- 12 अप्रेल 2020
    संभावित परीक्षा तिथि :- 21 मई 2020
  4. PAT
    ऑनलाइन आवेदन प्रारंभ तिथि :- 24 मार्च 2020
    ऑनलाइन आवेदन अंतिम तिथि :- 19 अप्रेल 2020
    संभावित परीक्षा तिथि :- 28 मई 2020
  5. BED बीएड
    ऑनलाइन आवेदन प्रारंभ तिथि :- 07 अप्रेल 2020
    ऑनलाइन आवेदन अंतिम तिथि :- 03 मई 2020
    संभावित परीक्षा तिथि :- 11 जून 2020
  6. DED डीएड
    ऑनलाइन आवेदन प्रारंभ तिथि :- 07 अप्रेल 2020
    ऑनलाइन आवेदन अंतिम तिथि :- 03 मई 2020
    संभावित परीक्षा तिथि :- 11 जून 2020
  7. बीएससी नर्सिंग
    ऑनलाइन आवेदन प्रारंभ तिथि :- 17 अप्रेल 2020
    ऑनलाइन आवेदन अंतिम तिथि :- 10 मई 2020
    संभावित परीक्षा तिथि :- 21 जून 2020
  8. BA BED बीए बीएड
    ऑनलाइन आवेदन प्रारंभ तिथि :- 17 अप्रेल 2020
    ऑनलाइन आवेदन अंतिम तिथि :- 10 मई 2020
    संभावित परीक्षा तिथि :- 21 जून 2020
  9. Bsc BED बीएससी बीएड
    ऑनलाइन आवेदन प्रारंभ तिथि :- 17 अप्रेल 2020
    ऑनलाइन आवेदन अंतिम तिथि :- 10 मई 2020
    संभावित परीक्षा तिथि :- 21 जून 2020
  10. एमएससी नर्सिंग
    ऑनलाइन आवेदन प्रारंभ तिथि :- 21 अप्रेल 2020
    ऑनलाइन आवेदन अंतिम तिथि :- 17 मई 2020
    संभावित परीक्षा तिथि :- 28 जून 2020

अभिषेक पारधी की JEE Mains में देश में 67वीं रैंक , छत्तीसगढ़ में प्रथम


IISC बंगलोर द्वारा आयोजित किशोर वैज्ञानिक प्रोत्साहन योजना परीक्षा 2019 उत्तीर्ण

होमी जहागीर भाभा संस्थान मुम्बई द्वारा आयोजित ओलंपियाड परीक्षा 2019 उत्तीर्ण, IIT genius में all india में 7 वी रैंक

मुलतापी समाचार न्यूज़ नेटवर्क


दुर्ग। अभिषेक पारधी की उपलब्धियों को देखकर कोई भी दांतों तले उंगली दबाए बिना नहीं रह सकता।

पिता जयसिंह पारधी एवं माता विमलेश पारधी के सुपुत्र अभिषेक पारधी मूलतः वारासिवनी जिला बालाघाट म प्र निवासी हैं। वर्तमान में आप न्यू आदर्श नगर दुर्ग में निवासरत हैं।

अभिषेक पारधी ने NTA द्वारा आयोजित JEE Mains 2020 में 99.9923468 परसेंटाइल के साथ all india में 67 रैंक वीं के साथ छत्तीसगढ़ में प्रथम स्थान प्राप्त किया है।

अभिषेक पारधी कक्षा 12 वीं में अध्ययनरत है और IISC बंगलोर द्वारा आयोजित किशोर वैज्ञानिक प्रोत्साहन योजना परीक्षा 2019 उत्तीर्ण किया है। साथ ही होमी जहागीर भाभा संस्थान मुम्बई द्वारा आयोजित रसायन शास्त्र एवं भौतिकी शास्त्र की ओलंपियाड परीक्षा 2019 भी उत्तीर्ण कर लिया है।

अपनी इसी प्रतिभा के कारण अभिषेक पारधी को कोटा की एक ख्यातनाम कोचिंग द्वारा निशुल्क कोचिंग प्रदान की जा रही है।

आपने प्राइवेट कोचिंग संस्थान से भिलाई में अध्ययनरत रहते हुए IIT genius में all india में 7 वी रैंक हासिल की है।आप कक्षा 10 वी में MGM स्कूल से मेरिट में उत्तीर्ण हुये थे। आपके पिता जयसिंह पारधी डाक विभाग में सहायक अधिक्षक के पद पर कार्यरत है।