Category Archives: छत्तीसगढ़

पवार समाज की प्रतिभाएँ हुई सम्मानित, सफल हुआ आयोजन


बैतूल। राष्ट्रीय भर्तृहरि विक्रम भोज पुरस्कार समिति भारत का पहला आयोजन 7 जुलाई 2019 को पांढुर्ना में, दूसरा आयोजन 2 फरवरी 2020 को छिंदवाड़ा में और तीसरा सफल आयोजन 17 अप्रैल 2022 को मुलताई तहसील के ग्राम डहुआ में आयोजित हुआ।

कार्यक्रम तीन सत्रों में आयोजित किया गया पहले सत्र के अध्यक्ष श्री गुलाबराव जी कालभोर, अतिथि कैप्टन एलआर पवार, श्रीमती लक्ष्मी बारंगे, श्रीमती सविता बारंगे, श्री भागचंद देशमुख, श्री सुरेश देशमुख नागपुर, श्रीमती निधि बारंगे छिंदवाडा़, श्रीमती हेमलता डहारे भोपाल, राष्ट्रीय क्षत्रिय महासभा कार्यकारिणी सदस्य श्रीमती पुष्पलता बारंगे, विशेष अतिथि श्री पीएल बारंगे रहे।

द्वितीय सत्र के अध्यक्ष श्री डॉ. एनडी राऊत नागपुर, मुख्य अतिथि डॉ विजय पराड़कर छिंदवाडा, अतिथि डॉक्टर दमयंती कटरे प्राध्यापक छिंदवाडा़, डॉ. जयश्री चौधरी बारंगे नागपुर रहे।

तृतीय सत्र के अध्यक्ष डॉक्टर मानसिंह परमार पूर्व कुलपति पत्रकारिता इंदौर, मुख्य अतिथि कर्नल श्री अरुण पठाडे नागपुर, विशिष्ट अतिथि आर के पी रहांगडाले DGM, BSP छत्तीसगढ़, श्री शक्ति सिंह परमार संपादक स्वदेश, सुश्री मेघा परमार पर्वतारोही, कामनवेल्थ जूडो में गोल्ड मेडल विजेता कपिल परमार, विशेष आमंत्रित अतिथि श्री प्रदीप कालभोर आईएएस रहे।

बैतूल जिले की मुलताई तहसील मुख्यालय के समीपस्थ ग्राम डहुआ में मां कामख्या देवी मंदिर परिसर में सैकडो की संख्या में राष्ट्रीय भर्तृहरि विक्रम भोज पुरस्कार समिति भारत के तृतीय प्रतिभा सम्मान समारोह में भाग लेने आए पंवार समाज के विभिन्न क्षेत्रों में कार्यरत दो दर्जन से अधिक प्रतिभाओ एवं मंचासिन लोगो को समिति की ओर से पुरूस्कृत कर सम्मानित किया गया ।

कार्यक्रम में मुख्य अतिथि जवाहर नेहरु कृषि विश्वविद्यालय जबलपुर के कुलपति डॉ. पीके बिसेन, पूर्व कैबिनेट मंत्री और मुलताई विधायक सुखदेव पांसे, बैतूल विधायक निलय डागा, जिला क्षत्रिय पवार समाज संगठन के जिलाध्यक्ष श्री बाबूलाल कालभोर एवं समाज के सैकडों पदाधिकारियों की मौजूदगी में पवार – परमार वंश के देश-प्रदेश के विभिन्न क्षेत्रों में कार्यरत लोगों को बतौर मुख्य एवं अतिथी के रूप में बुलवाया गया था। सेना, पत्रकारिता, लेखन, कुश्ती, पर्वतारोहण, खेलकूद, कला, संस्कृति, सरकारी सेवाओ, स्कूलों के टॉपर छात्र-छात्राओं को सम्मान राशि के संग सम्मान दिया गया ।

कार्यक्रम में बैतूल, रोंढा, बैतूलबाजार, भारतभारती, आमला, सारणी, पाथाखेड़ा, मुलताई तहसील के गांव से, साथ जिले के बाहर  होशंगाबाद, इटारसी, भोपाल, इंदौर, पीतमपुर, ग्वालियर, हरदा, सिवनी, बालाघाट, छिंदवाडा़, मोहखेड़, पांडुर्णा, सौसर, बिछुआ, परासिया, अमरवाड़ा और प्रदेश के बाहर पुणे, रायपुर, मुंबई, नागपुर, वर्धा, चंद्रपुर, गोंदिया, गाडरवारा आदि स्थानों से समाज सदस्य और समाज की प्रतिभाएँ उपस्थित रही।

कार्यक्रम का शुभारंभ समाज के पूर्वज पुरुषों, मां कामाख्या, मां गढ़कालिका और चक्रवर्ती सम्राट राजा भोज की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर प्रारंभ किया गया। सभी अतिथियों का स्वागत कन्याओं द्वारा तिलक लगाकर और श्रीफल भेंट कर किया गया। सर्वप्रथम तबला वादन गौरव पवार चौधरी सारनी ने अपनी प्रस्तुति दी, इसके बाद श्रीमती निशा हजारे द्वारा स्वागत गीत, श्री बलवंत कड़वेकर द्वारा प्रस्तावना भाषण और पुरस्कार समिति की विकास यात्रा बताई गई। कुमारी आकांक्षा पवार भिलाई दुर्ग के द्वारा गणपति वंदना नृत्य प्रस्तुत किया गया। गौरव ओंकार पाथाखेड़ा सारणी द्वारा शिव तांडव नृत्य, कुमारी आकांक्षा पवार भिलाई दुर्ग द्वारा नृत्य, ओशिन धारे भोपाल द्वारा प्रभु जी मेरे अवगुण चित ना धरो भजन, कुमारी कनक भोपाल नृत्य, कुमारी रौनक भोपाल द्वारा देशभक्ति नृत्य की प्रस्तुति दी गई।

ये हस्तियाँ हुई सम्मानित —– सेना में सम्मानजनक पद पर रहने वाले और 11 मेडल प्राप्त करने वाले श्री कर्नल अरुण पठाडे, कैप्टन संतोष कौशिक, फाइटर प्लेन विशेषज्ञ श्री भगवत बुआड़े, स्वदेश के संपादक और राष्ट्रवादी पत्रिका के प्रतीक श्री शक्ति सिंह परमार, चिकित्सा के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य करने वाले डॉ अशोक बारंगा, डॉक्टर जीवन किंकर, डॉ अमित राहंगडाले, सामाजिक उत्थान के लिए श्री मनीराम बारंगे, श्री दिनकर राव बुवाड़े, श्री बृजलाल गोहिते, श्री दयाराम महाजन, श्री बालकृष्ण पटेल, श्री कन्हैयालाल बुआड़े, खैरीपेका में कई सालों से सामूहिक विवाह का आयोजन सफलतापूर्वक आयोजित कराने वाले श्री कृष्ण कुमार ढोबले और श्रीमती निवेदिता ढोबले, श्री प्रदीप कालभोर आईएएस, श्री नामदेव रबड़े आईईएस, मुलताई क्षेत्र से पहले यूपीएससी क्लियर कर आबकारी अधिकारी बने वाले श्री निलेश पवार, सुश्री मेघा परमार पर्वतारोही और बेटी बचाओ अभियान की ब्रांड एम्बेसेडर, श्री शंकर पवार पत्रकार, श्री विजय बारंगे जोनल मैनेजर एयरटेल, शासकीय सेवा में उत्कृष्ट कार्य करने वाले डॉक्टर एम एस परमार कुलपति, श्री प्रकाश बारंगे, प्रधानमंत्री श्रम श्री अवार्ड से सम्मानित श्री पंचम कालभोर मुलताई और श्री फगनलाल पवार सेरके, श्री संतोष पवार बुआड़े एनटीपीसी में सेवारत, स्वर्गीय डॉक्टर अशोक पराड़कर और अशासकीय सेवाओं के लिए श्री राजेश बारंगे खरपतवार निवारण में शोध और नियंत्रण में पेटेंट पुरस्कृत, स्व. गोपीनाथ कालभोर ग्रामीण पत्रकारिता पुरस्कार से सम्मानित श्री राम किशोर पवार रोंढा, श्री संजय पठाडे, श्री सुंदरलाल देशमुख शिक्षा पुरस्कार के लिए श्रीमती प्रभावती पवार उन्होंने 2005 से 2022 तक बेस्ट टीचर अवार्ड से नवाजा गया है। सुखवाड़ा द्वारा ₹31000 का पुरस्कार कुमारी शिवानी पवार डोंगरे राखीढाना छिंदवाड़ा, स्वर्गीय मोहनलाल पवार स्मृति छात्रवृत्ति राशि ₹15000, 5 छात्रों में बांटी गई जिसमें कुमारी शिवानी पवार विजयवाड़ा, कुमारी विजेता पवार रिधोरा, प्रतीक सेरके उमरानाला, प्रियांशु गोहिते, कुमारी आरती बिसेन तिरोड़ा सभी हायर सेकेंडरी स्टेट टॉपरों को ₹3000 की राशि, प्रशस्ति पत्र, श्रीफल से पुरस्कृत किया गया। स्वर्गीय काशीबाई कृष्णराव पराड़कर की स्मृति में ₹5000 की राशि 5 बच्चों में समान रूप से बांटी गई जिसमें कुमारी लवीना जगदीश कोड़ले बैतूल बाजार, कुमारी शिवानी देवा से वर्धा, कुमारी प्रतिक्षा पवार फरकाड़े, कुमारी कृतिका धारे उमरानाला, कुमारी रानी गाडरे को 1000 रुपये, प्रशस्ति पत्र और श्रीफल देकर सम्मानित किया गया। दीक्षा श्रिया बुआड़े छात्रवृत्ति राशि 5000 रुपये के लिए कुमारी अदिति पवार छिंदवाड़ा को सम्मानित किया गया

समाज की त्रिदेवियां जिन्होंने वैवाहिक जीवन में विपरीत परिस्थितियों के बावजूद अपनी स्वयं की पहचान स्थापित करके सम्मानजनक मुकाम हासिल किया है जिसमें श्रीमती आदित्या पवार डोंगरे मैनेजर ग्रामीण बैंक, श्रीमती नीतू बारंगे मैनेजर एसबीआई बैंक, श्रीमती निधि बारंगे उपभोक्ता फोरम सदस्य जज एवं शोधार्थी पीएचडी शामिल है को प्रशस्ति पत्र, पवारी साहित्य और श्रीफल देकर सम्मानित किया गया।

पवार परिणय, पवार मेट्रोमोनियल, सुखवाड़ा, सुखवाड़ा जीवनसाथी एप एडमिन श्रीमती अनीता दिनेश बुआडे़, श्री बलवंत कड़वेकर, श्री विजय बारंगे, श्री नामदेव बारंगे, श्री महेंद्र डिगरसे, श्री अजय डहारे, श्री संतोष कौशिक, श्री हरीश घागरे, श्री मिथिलेश गाकरे, श्री चंदन पवार, श्री श्याम पवार, श्री दिनेश कुमार पवार सभी को समाज के विवाह योग्य सदस्यों की जानकारी संकलित कर समाज में सजा करने के लिए प्रशस्ति पत्र, श्रीफल देकर सम्मानित किया गया।

अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पहुंचकर समाज और देश का नाम गौरवान्वित करने वाली महिला कुश्ती में रजत पदक विजेता कुमारी शिवानी पवार डोंगरे के पिता श्री नंदलाल पंवार डोंगरे राखीढाना छिंदवाड़ा, शिक्षा नवाचार के लिए श्री उदल पवार श्रीमति गीता पवार, श्रीमती निशा हजारे, श्रीमती प्रभावती पवार, श्री संजीव बारंगे, श्री हितेश पठाडे को प्रशस्ति पत्र, पवार साहित्य और श्रीफल देकर सम्मानित किया गया।

रक्तदान के लिए श्री शंकर पवार पत्रकार, श्री बीआर पवार शिक्षक, विधवा महिला सम्मान नानी बाई डिवटया, निरक्षर महिला सम्मान श्रीमती जेएल परिहार भोपाल, श्री गोवर्धन पवार छिंदवाड़ा, कुमारी प्रियंका चोपडे़ कराटे, आशीष चोपडे़ कराटे, कुमारी अविशा बारंगे मुलताई भोपाल कराटे, कुमारी नीतू कालभोर एनसीसी मार्गदर्शक, सारांश पवार और मनीषा पवार बुआडे़ गाडरवारा शिक्षा नेग, इंजीनियर अंशु पवार पिंजारे टेमझिरा भारतीय रेल्वे में 11 वी रैंक, डॉक्टर राजू एस पवार चिकाने की धर्मपत्नी श्रीमती ममता पवार, कुमारी पल्लवी परिहार पोहर राष्ट्रीय बाल विज्ञान, कुमारी काजल पवार पाठेकर पोहर टेनिश बाल क्रिकेट, कुमारी मुस्कान पवार शतरंज, कुमारी भूमि ओमकार कैरम, कुमारी हर्षिता बारंगे आईसस्टॉक, कुमारी सोनिया बारंगे सॉफ्टबॉल, कुमारी गुंजन कड़वे सॉफ्टबॉल, कुमारी कशिश बोबडे सॉफ्टबॉल, कुमारी कुमकुम डहारे सॉफ्टबॉल, युवराज चौधरी सॉफ्टबॉल, लीना कालभोर बाल विज्ञान, कुमारी रुहानी परिहार विज्ञान प्रदर्शनी, कुमारी रितु धारे उमरानाला, भविष्य डोगरदिए, कु. दिव्या कोड़ले जिला टॉपर सभी जूनियर राज्य और राष्ट्र प्रतिभागियों को प्रशस्ति पत्र और श्रीफल देकर सम्मानित किया गया।

राष्ट्रीय भर्तृहरि विक्रम भोज पुरस्कार समिति भारत में सबसे अधिक बच्चों का मनोरंजन करने वाले राहुल चोपड़े बिछुआ ने क्यूबिक की सहायता से जिन्होंने लता मंगेशकर गणेश जी शिवाजी महात्मा गांधी जैसे महान हस्तियों की प्रतिमा बनाकर पूरे देश में ख्याति अर्जित की है आकर्षण का केन्द्र रहे। कुमारी जिज्ञासा देशमुख बैतूल, श्री रामकिशोर पवार रोंढा स्वतंत्र पत्रकारिता के साथ तीन किताबें लिख कर समाज में लेखन में प्रसिद्धि पाने वाले पत्रकार, श्रीमती शकुंतला बारंगे कैंसर पीड़ितों को बाल दान, श्री नामदेव बारंगे और श्रीमती शकुंतला पवार सेरके, श्री बलराम डहारे मंडीदीप और टीम, श्री तान्बाजी बारंगे पांढुर्ना, श्री योगेश पवार बैतूल, डॉक्टर संदीप परिहार बैतूल, डॉ गेन्दलाल फरकाड़े, श्री हरिशंकर पठाडे मुलताई को प्रशस्ति पत्र और श्रीफल देकर सम्मानित किया गया।

अंत में आयोजन समिति, मां कामाख्या देवी मंदिर समिति डहुआ, ग्राम पंचायत डहुआ, बलराम बारंगे और उनकी टीम को प्रशस्ति पत्र और श्रीफल देकर सम्मानित किया गया। साथ ही भोजन व्यवस्था टीम, मंच पंडाल और बैठक व्यवस्था, प्रचार प्रसार की टीम, कैमरा मैन सहित सभी को प्रशस्ति पत्र और श्रीफल देकर सम्मानित किया गया।

तृतीय राष्ट्रीय भर्तृहरि विक्रम भोज पुरस्कार डहुआ में श्री प्रकाश नारायण बारंगे अध्यक्ष सतपुड़ा पवार समाज समिति सारनी और श्रीमती पुष्पलता प्रकाश नारायण बारंगे सदस्या राष्ट्रीय क्षत्रिय पवार महासभा द्वारा राजभोज की 40 प्रतिमाएँ सभी सेवा निवृत्त सैनिक भाइयों और वरिष्ठजनों को भेट की गई।

इस भव्य आयोजन में कार्यक्रम में राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य श्री जगदीशचन्द्र पवार, लक्ष्मण धोटे, श्रीमती निशा हजारे, श्रीमती अर्चना जगदीश पवार, श्री गोविंदा हजारे, श्री रमेश सरोदे, श्री अमित बुआड़े, श्री बीआर कालभोर, श्री रणवीर प्रताप सिंह, श्रीमती कृष्णा हजारे, श्री बलराम बारंगे, दिनेश कुमार गाकरे, धुरेन्द्र बारंगे, सुभाष बारंगे, कमलेश करदाते, अनिल मदन बारंगे, राजेश बारंगे, इमरत बारंगे, कक्कु कड़वे, सुधीर परिहार, सरिता बलराम बारंगे, सुशीला युवराज बारंगे, प्रतिभा दिनेश गाकरे, सरोज बाई पटेल, लता करदाते, सीता बारंगे, जया कड़वे, संगीता हजारे,श्री जगन्नाथ पाठेकर, प्रदीप डिगरसे रोंढा, लक्ष्मीनारायण पंवार, अविनाश देशमुख, कमल पंवार, सुधाकर पंवार, झनक कडवे, अजय पंवार, अखिलेश परिहार का विशेष सहयोग रहा।

श्री इंदल चिकाने, मोहन बुआड़े, अशोक ओंकार, बंशीलाल बारंगे, अशोक बारंगे, अनिल कौशिक, राधेश्याम नागर, राधेश्याम डहारे, प्रकाश चौधरी, शंकर पठाडे, श्री राजा पवार, श्री राजू पवार, श्री जगदीश पवार, तरुण कालभोर, मोहित पवार पत्रकार, निलेश कोड़ले, जगदीश पंवार पत्रकार छिन्दवाडा, कृष्ण कुमार बारंगे, मुन्नालाल कसारे, गजानन पवार, सेवानिवृत सैनिक अशोक पंवार, अजय पवार पत्रकार, मनमोहन पवार, श्री पलाश कड़वे, अंकित कड़वे, मोनू पवार, मनोज बारंगे, जबलपुर से श्री अमर फरकाड़े, श्री धर्मदास बोबडे, श्री दुर्गेश पाठेकर, श्री तेजी लाल पिंजारे, श्री नंदलाल बारंगे, श्यामराव देशमुख, प्रदीप माटे, दिनेश डिगरसे, एम आर देशमुख, मदन महाजन, रोशन चौधरी, श्रीमती बिल्लो पवार, श्रीमती ज्योति देशमुख, श्रीमती रेखा पवार, श्रीमती सरोज पवार, श्रीमती कविता डिगरसे, कुमारी सविता फरकाड़े, श्रीमती हेमलता बारंगे, श्रीमती आशा पवार, श्रीमती मंगलेश्वरी पवार, श्रीमती संगीता पवार सहित सैकड़ों की संख्या में पवार समाज के जनमानस उपस्थित रहे।

छत्‍तीसगढ- जंगल में गुम हो गई थी बच्ची, पुलिस ने टार्च की रोशनी में खोज निकाला


जगदलपुर। Bastar News: 

मुलतापी समाचार

बस्तर के घनघोर जंगल किसी जटिल भूलभुलैया की तरह हैं। यहां रात के अंधेरे में यदि कोई गुम हो जाए तो बाहर निकल पाना बेहद मुश्किल होता है। यह जंगल इंसान को भ्रम में डाल देते हैं। जंगल के अंदर एक तो जानवरों का डर होता है, दूसरा यहां की पगडंडियों में नक्सलियों के बिछाए लैंड माइन्स भी मौजूद हैं, जिनपर पैर पड़ते ही विष्फोट हो सकता है। इसके अलावा कई तरह के खतरनाक ट्रैपर भी यहां नक्सली और शिकारी लगा कर रखते हैं।

एक मासूम बच्ची खेलते- खेलते शाम के वक्त जंगल के अंदर चली गई और फिर वहां गुम हो गई। जब पुलिस को इसकी सूचना मिली तो एक स्पेशल टीम बनाकर जंगल के अंदर बच्ची कीे खोज शुरू की गई। आखिरकार आधी रात टॉर्च की रौशनी के शहारे पुलिस ने जंगलों के बीच से बच्ची को सकुशल ढ़ूंढ निकाला।

कोतवाली थाना क्षेत्र के ग्राम आसना छेपरागुड़ा निवासी बैशाखू की सात वर्षीय बच्ची शनिवार शाम को गुम हो गई थी। इसकी सूचना मिलने पर एसपी दीपक झा ने टीआइ एमन साहू के नेतृत्व में टीम गठित कर रात में ही सर्च आपरेशन चलाने को कहा। पुलिस ने टार्च की रोशनी में आधे घंटे में बच्ची को आसना जंगल में झाड़ियों के बीच से खोज निकाला।

बताया गया है कि बैशाखू की मासूम बेटी गुड्डी अपने दोस्तों के साथ जंगल की ओर खेलने गई थी। सभी बच्चे शाम ढलने के बाद घर लौट आए पर गुड्डी का पता नहीं चला। परिजनों ने इसकी सूचना डायल 112 को दी। इसके बाद पुलिस हरकत में आई और बालिका को तलाशकर परिजनों के सुपुर्द किया।

अजीत जोगी के निधन से दमोह जिले में शोक की लहर, दमोह उनकी ससुराल थी


मुलतापी समाचार मनोज कुमार अग्रवाल

दमोह: छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी के निधन से दमोह जिले में शोक की लहर है। दमोह में अजीत जोगी की ससुराल है, और उनके साले स्वर्गीय श्री रत्नेश सालोमन दिग्विजय सरकार में मंत्री रहे हैं तो उनके भतीजे और भतीजी की आज भी इलाके में मजबूत पकड़ है। दमोह जिले के जबेरा से विधानसभा की प्रत्याशी रही तान्या सालोमन ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि परिवार ने अपना मुखिया खो दिया है वही उनके भतीजे आदित्य सालोमन ने कहा कि उनकी कमी को कभी पूरा नहीं किया जा सकता।वह सदा एक उदारवादी नेता थे और गरीबों के मसीहा थे।

मुलतापी समाचार

CG बीजापुर-दंतेवाड़ा सीमा पर मुठभेड़ में एक नक्सली ढेर, शव बरामद


Chhattisgarh News

Multapi Samachar

दंतेवाड़ा ।बीजापुर-दंतेवाड़ा सीमा से लगे हुर्रेपाल- बेचापाल के जंगलों में गुरुवार की दोपहर नक्सली और डीआरजी जवानों के बीच जमकर मुठभेड़ हुई। रुक- रुक कर करीब एक से डेढ़ घंटे तक दोनों ओर से गोलीबारी होती रही। फायरिंग थमने पर सर्चिंग के दौरान जवानों ने एक पुरुष नक्सली का शव बरामद किया। इसकी पुष्टि एसपी डॉ अभिषेक पल्लव ने की है।

बताया जा रहा है कि जंगल के इंद्रावती नेशनल पार्क दलम और भैरमगढ़ एरिया कमेटी बड़े नक्सलियों का डेरा था। नक्सली कैम्प से बड़ी मात्रा में दैनिक उपयोग की सामग्रियों के साथ पिट्ठू, दवा और अन्य नक्सल सामग्री बरामद किया गया है।

फोर्स अभी भी जंगल में है। थाना भांसी और फरसपाल से सपोर्टिंग पार्टी रवाना कर दी गई है। बताया जा रहा है की नक्सलियों की इस कैंप में जुड़े डीवीसी मेंबरों की मौजूद थी। इनमे आठ आठ लाख रुपए के इनामी नक्सली चन्दना, कमलू और हूंगा के नाम बताएं जा रहे हैं।

नक्सलियों के एंबुश में फंसकर शहीद हो गए 17 जवान, मुठभेड़ में हो गए थे लापता


Naxal Encounter in Sukma : मुलतापी समाचार

सुकमा। धुर नक्सल प्रभावित सुकमा जिले के चिंतागुफा थाना क्षेत्र के मिनपा-कसालपाड़ इलाके में शनिवार को हुई मुठभेड़ में लापता 17 जवानों के शव रविवार को बरामद किए गए। रविवार को इनकी तलाश के लिए 500 जवानों की टीम को भेजा गया था। मौके से जवानों के शव बरामद हुए। सभी जवानों के पार्थिव देह को जंगल से बाहर निकाल लिया गया है। समाचार लिखे जाने तक जवानों के शव बुरकापाल कैंप में ही रखे हुए हैं। उन्हें जिला मुख्यालय नहीं लाया जा सका है।

मिनपा इलाके में नक्सलियों के बड़े जमावड़े की सूचना पर शुक्रवार शाम को अलग-अलग कैंपों से करीब 550 जवान जंगल में गए थे। वापसी के दौरान नक्सलियों ने कसालपाड़ व मिनपा के बीच कोटपाड़राज रेंगापारा के पास एंबुश लगाया। फोर्स अलग-अलग चल रही थी। हर टीम में सौ से डेढ़ सौ जवान थे। इन्हीं में से एक टीम नक्सली एंबुश में फंसी। मौके पर चार तालाब हैं। इन तालाबों की मेड़ के पीछे नक्सलियों ने एंबुश लगा रखा था जबकि जवान खुले में फंस गए। शनिवार दोपहर करीब 12.30 बजे फायरिंग शुरू हुई जो चार घंटे तक जारी रही।

नक्सली चारों ओर थे। चौतरफा भारी फायरिंग से जवान बिखर गए। मौके पर करीब तीन सौ नक्सली थे। जवानों ने बताया कि नक्सली गैर छत्तीसगढ़ी लग रहे थे। घटनास्थल चिंतागुफा कैंप से करीब सात किमी दूर दक्षिण में है। चिंंतागुफा के ग्रामीणों ने बताया कि उनके गांव तक हर दस मिनट में विस्फोट की आवाज आती रही।

नक्सली गोले दाग रहे थे। उन्होंने देसी बम का भी इस्तेमाल किया। मौके पर पेड़ों में गोलियां धंसी हुई हैं। एंबुश में जो टीम फंसी थी उसमें एसटीएफ और डीआरजी के जवान ही थे। लगातार फायरिंग के चलते जवानों की गोलियां खत्म हो गईं। रात नौ बजे बुरकापाल से कोबरा बटालियन की टीम गई और एलओपी (लाइन ऑफ पाइंट) लगाया तब जाकर घायलों को निकाला जा सका। मौके पर जगह जगह जवानों के जूते, टोपी और अन्य सामान बिखरे हैं।

24 घंटे लग गए शव निकालने में

शहीदों के शव रातभर वहीं पड़े रहे। सुबह नौ बजे बुरकापाल और चिंतागुफा से रेस्क्यू टीम रवाना की गई। पहले ड्रोन उड़ा फिर जवान रवाना हुए। जगह-जगह शव पड़े मिले। जवान अपने साथियों का शव सात किमी कंधे पर लादकर बाहर लाए। कोबरा बटालियन के डीआइजी बुरकापाल तक गए थे। बस्तर आइजी सुंदरराज पी ने बताया कि शहीदों में 12 जवान डीआरजी (डिस्ट्रिक रिजर्व गार्ड) के हैं व पांच एसटीएफ के। बुरकापाल में पदस्थ डीआरजी के पांच व चिंतागुफा के तीन जवान शहीद हुए हैं। अन्य डीआरजी जवान दूसरी जगहों के हैं।

15 हथियार लूटे, एक यूबीजीएल भी

नक्सली, जवानों के 15 हथियार लूटकर ले गए हैं। इनमें 12 एके 47 रायफल व एक अंडर बैरल ग्रेनेड लांचर(यूबीजीएल) शामिल है। डीआरजी के सबसे ज्यादा हथियार लूटे गए हैं। जो यूजीबीएल लूटा गया है वह बुरकापाल डीआरजी का था।

शहीद जवानों के नाम

एसटीएफ

1. पीसी गीतराम राठिया पुत्र परमानंद राठिया, ग्राम सिंघनपुर, थाना भूपदेवपुर, जिला रायगढ़

2. एपीसी नारद निषाद पुत्र फगुआ राम निषाद, ग्राम सिवनी, थाना बालोद, जिला बालोद

3. आरक्षक 3541 हेमंत पोया, पुत्र गुलाब राम पोया, ग्राम डबराखार, पोस्ट सरोना, थाना नरहरपुर, जिला कांकेर

4. आरक्षक 1639 अमरजीत खलको, पुत्र अमृत खलको, ग्राम औराजोर, पोस्ट हर्राडांड, थाना कुनकुरी, जिला जशपुर

5. सहायक आरक्षक 234 मड़कम बुच्चा, पुत्र मड़कम देवा, ग्राम टटरई, पोस्ट आरगट्टा, थाना एर्राबोर, जिला सुकमा

डीआरजी

6. आरक्षक 1193 हेमंत दास मानिकपुरी, पुत्र सुखदास मानिकपुरी, ग्राम छिंदगढ़, जिला सुकमा

7. सहायक आरक्षक 194 गंधम रमेश, पुत्र गंधम मदना, ग्राम जगरगुंडा, जिला सुकमा

8. आरक्षक 594 लिबरूराम बघेल, पुत्र सुकालू राम, ग्राम लेदा, थाना तोंगपाल, जिला सुकमा

9. आरक्षक 418 सोयम रमेश, पुत्र सोयम लच्छा, ग्राम एर्राबोर, जिला सुकमा

10. सहायक आरक्षक 368 उइका कमलेश, पुत्र उइका भीमा, ग्राम जगरगुंडा, जिला सुकमा

11. सहायक आरक्षक 804 पोड़ियम मुत्ता, पुत्र पोड़ियम सुब्बा, ग्राम मुरलीगुड़ा, जिला सुकमा

12. सहायक आरक्षक उइका धुरवा, पुत्र उइका सुकलू, ग्राम जगरगुंडा, जिला सुकमा

13. आरक्षक 1202 वंजाम नागेश, पुत्र बंजाम बुच्चा, ग्राम सुन्न्मगुड़ा, जिला सुकमा

14. प्रधान आरक्षक 463 मड़कम मासा, पुत्र मड़कम माड़ा, ग्राम चिचोरगुड़ा, जिला सुकमा

15. आरक्षक 1268 पोड़ियम लखमा, पुत्र पोड़ियम हिड़मा, ग्राम जिडपल्ली, जिला बीजापुर

16. आरक्षक 1244 मड़कम हिड़मा, पुत्र मड़कम दुला, ग्राम करीगुंडम, जिला सुकमा

17. गोपनीय सैनिक नितेंद्र बंजामी, पुत्र देवा, ग्राम कन्हाईपाड़, जिला सुकमा

इनका कहना है

यह वक्त बहुत ही नाजुक है, हम पर हमले-दर-हमले हैं। दुश्मन का दर्द यही तो है, हम हर हमले पर संभले हैं। वीर जवानों की शहादत को नमन।

– भूपेश बघेल, मुख्यमंत्री।

शहीद जवानों को अश्रुपूर्ण श्रद्धांजलि, परिजनों के प्रति गहरी संवेदना। ईश्वर से प्रार्थना है कि उनकी आत्मा को मोक्ष/शांति प्रदान करें। परिजनों को दुखद घड़ी को सहन करने की क्षमता प्रदान करें। घायल जवानों को ईश्वर शीघ्र स्वास्थ्य लाभ प्रदान करें।

– अनुसुइया उईके राज्यपाल।

माँ बम्लेश्वरी मंदिर परिसर डोंगरगढ़ में 3498 वर्गफीट भूखंड पर राजा भोज पवार क्षत्रिय धर्मशाला निर्माण कार्य गति पर


मुलतापी समाचार

वर्ष 2012-2017 के दौरान महासभा के अध्यक्ष डाॅ बी.एम.शरणागत एवं सदस्यों द्वारा की गई पहल

बेसमेंट एवं भूतल पर ढ़ांचा निर्मित, प्रथम एवं द्वितीय तल पर भव्य हाल एवं कमरें प्रस्तावित

समाज सदस्यों द्वारा निर्माण कार्य हेतु सहयोग अपेक्षित
डोंगरगढ़। माँ बम्लेश्वरी मंदिर परिसर डोंगरगढ़ में 3498 वर्गफीट भूखंड पर राजा भोज पवार क्षत्रिय धर्मशाला निर्माण कार्य प्रगति पर है।बेसमेंट एवं भूतल पर ढ़ांचा निर्मित हो गया है।प्रथम एवं द्वितीय तल पर भव्य हाल एवं कमरें प्रस्तावित हैं।

उल्लेखनीय है वर्ष 2012-2017 के दौरान मां बम्लेश्वरी मंदिर परिसर डोंगरगढ़ में राजा भोज पवार क्षत्रिय धर्मशाला निर्माण का संकल्प महासभा के अध्यक्ष डाॅ बी.एम.शरणागत एवं सदस्यों द्वारा लिया गया था।

धर्मशाला की अनुमानित लागत रूपये एक करोड़ है। निर्माण कार्य राजनांदगांव समिति द्वारा गठित निर्माण समिति की देख-रेख में किया जा रहा है। कक्ष निर्माण की राशि रूपये 3.50 लाख किसी दानदाता द्वारा दान देने पर संबंधित का नाम शिलालेख पर अंकित किए जाने का निर्णय लिया गया है।

धर्मशाला निर्माण हेतु समाज सदस्य द्वारा आर्थिक सहयोग अपेक्षित है। इच्छुक समाज सदस्य श्री लक्ष्मण सिंह हरिणखेड़े के मोबाइल नंबर 9329101311 पर संपर्क कर सकते हैं।

सहयोग राशि निम्नलिखित खाते में सीधी हस्तांतरित की जा सकती है-
पवार क्षत्रिय समिति राजनांदगांव
बैंक का नाम- बैंक ऑफ महाराष्ट्र
खाता क्र-60209579888
IFSC-MAHB0000063
स्रोत-श्री डी एन रहांगडाले जी
आपका “मुलतापी समाचार” ई-दैनिक और मासिक भारत, लाईक, शेयर करें और सुझाव जरूर करें,

PAT, PET, PPT, बीएड, डीएड, बीएससी नर्सिंग, PPHT ऑनलाइन फार्म भरने की तिथि


मुलतापी समाचार स्टूडेंट्स के लाभ हेतू जानकारी

MP, CH/ समस्त छात्र-छात्राओं को सूचित किया जाता है कि, छ.ग. व्यावसायिक परीक्षा मंडल ने विभिन्न (PAT, PET, PPT, बीएड, डीएड, बीएससी नर्सिंग, PPHT) ऑनलाइन तिथिव्यावसायिक पाठ्यक्रमों में प्रवेश हेतु ऑनलाइन आवेदन व संभावित परीक्षा तिथि जारी कर दी है।

विवरण निम्नानुसार है :-

  1. PET
    ऑनलाइन आवेदन प्रारंभ तिथि :- 17 मार्च 2020
    ऑनलाइन आवेदन अंतिम तिथि :- 12 अप्रेल 2020
    संभावित परीक्षा तिथि :- 08 मई 2020
  2. PPHT
    ऑनलाइन आवेदन प्रारंभ तिथि :- 17 मार्च 2020
    ऑनलाइन आवेदन अंतिम तिथि :- 12 अप्रेल 2020
    संभावित परीक्षा तिथि :- 08 मई 2020
  3. PPT
    ऑनलाइन आवेदन प्रारंभ तिथि :- 17 मार्च 2020
    ऑनलाइन आवेदन अंतिम तिथि :- 12 अप्रेल 2020
    संभावित परीक्षा तिथि :- 21 मई 2020
  4. PAT
    ऑनलाइन आवेदन प्रारंभ तिथि :- 24 मार्च 2020
    ऑनलाइन आवेदन अंतिम तिथि :- 19 अप्रेल 2020
    संभावित परीक्षा तिथि :- 28 मई 2020
  5. BED बीएड
    ऑनलाइन आवेदन प्रारंभ तिथि :- 07 अप्रेल 2020
    ऑनलाइन आवेदन अंतिम तिथि :- 03 मई 2020
    संभावित परीक्षा तिथि :- 11 जून 2020
  6. DED डीएड
    ऑनलाइन आवेदन प्रारंभ तिथि :- 07 अप्रेल 2020
    ऑनलाइन आवेदन अंतिम तिथि :- 03 मई 2020
    संभावित परीक्षा तिथि :- 11 जून 2020
  7. बीएससी नर्सिंग
    ऑनलाइन आवेदन प्रारंभ तिथि :- 17 अप्रेल 2020
    ऑनलाइन आवेदन अंतिम तिथि :- 10 मई 2020
    संभावित परीक्षा तिथि :- 21 जून 2020
  8. BA BED बीए बीएड
    ऑनलाइन आवेदन प्रारंभ तिथि :- 17 अप्रेल 2020
    ऑनलाइन आवेदन अंतिम तिथि :- 10 मई 2020
    संभावित परीक्षा तिथि :- 21 जून 2020
  9. Bsc BED बीएससी बीएड
    ऑनलाइन आवेदन प्रारंभ तिथि :- 17 अप्रेल 2020
    ऑनलाइन आवेदन अंतिम तिथि :- 10 मई 2020
    संभावित परीक्षा तिथि :- 21 जून 2020
  10. एमएससी नर्सिंग
    ऑनलाइन आवेदन प्रारंभ तिथि :- 21 अप्रेल 2020
    ऑनलाइन आवेदन अंतिम तिथि :- 17 मई 2020
    संभावित परीक्षा तिथि :- 28 जून 2020

अभिषेक पारधी की JEE Mains में देश में 67वीं रैंक , छत्तीसगढ़ में प्रथम


IISC बंगलोर द्वारा आयोजित किशोर वैज्ञानिक प्रोत्साहन योजना परीक्षा 2019 उत्तीर्ण

होमी जहागीर भाभा संस्थान मुम्बई द्वारा आयोजित ओलंपियाड परीक्षा 2019 उत्तीर्ण, IIT genius में all india में 7 वी रैंक

मुलतापी समाचार न्यूज़ नेटवर्क


दुर्ग। अभिषेक पारधी की उपलब्धियों को देखकर कोई भी दांतों तले उंगली दबाए बिना नहीं रह सकता।

पिता जयसिंह पारधी एवं माता विमलेश पारधी के सुपुत्र अभिषेक पारधी मूलतः वारासिवनी जिला बालाघाट म प्र निवासी हैं। वर्तमान में आप न्यू आदर्श नगर दुर्ग में निवासरत हैं।

अभिषेक पारधी ने NTA द्वारा आयोजित JEE Mains 2020 में 99.9923468 परसेंटाइल के साथ all india में 67 रैंक वीं के साथ छत्तीसगढ़ में प्रथम स्थान प्राप्त किया है।

अभिषेक पारधी कक्षा 12 वीं में अध्ययनरत है और IISC बंगलोर द्वारा आयोजित किशोर वैज्ञानिक प्रोत्साहन योजना परीक्षा 2019 उत्तीर्ण किया है। साथ ही होमी जहागीर भाभा संस्थान मुम्बई द्वारा आयोजित रसायन शास्त्र एवं भौतिकी शास्त्र की ओलंपियाड परीक्षा 2019 भी उत्तीर्ण कर लिया है।

अपनी इसी प्रतिभा के कारण अभिषेक पारधी को कोटा की एक ख्यातनाम कोचिंग द्वारा निशुल्क कोचिंग प्रदान की जा रही है।

आपने प्राइवेट कोचिंग संस्थान से भिलाई में अध्ययनरत रहते हुए IIT genius में all india में 7 वी रैंक हासिल की है।आप कक्षा 10 वी में MGM स्कूल से मेरिट में उत्तीर्ण हुये थे। आपके पिता जयसिंह पारधी डाक विभाग में सहायक अधिक्षक के पद पर कार्यरत है।