Category Archives: गोटमार मेला पांढुर्ना, छिंदवाड़ा

Gotmar Mela 2020 : विश्व प्रसिद्ध गोटमार मेला पुलिस भी नहीं रोक पायी पत्थरबाजी, गोटमार मेले में 110 लोग घायल- पांढुर्णा VIDEO


PANDHURNA GOTMAR MELA 2020 VIDEO CHHINDVARA

छिंदवाड़ा: छिंदवाड़ा के पांढुर्ना में विश्व प्रसिद्ध गोटमार मेला आज से शुरू हो चुका है. हालांकि कोरोना महामारी के चलते शांति समिति की बैठक में गोटमार नहीं मनाने का निर्णय लिया गया था, जो पूरी तरह विफल हो चुका है. सावरगांव पक्ष ने झंडा बांधकर कर पूजा की पूरी तैयारियां कर ली हैं. लोग बड़ी तादाद में जाम नदी पर पहुंच चुके हैं.

आपको बता दें कि विश्व प्रसिद्ध गोटमार मेले में इस साल पत्थरबाजी के खेल पर प्रतिंबध लगाया गया है. इस साल केवल जाम नदी के किनारे स्थित देवी मंदिर में झंडे की पूजा की जाएगी. 

मप्र के छिंदवाड़ा जिले के पांढुर्णा में कोरोना के भय और प्रशासन की बंदिश के बावजूद बुधवार को गोटमार मेले का आयोजन हुआ। परंपरागत रूप से दो पांढुर्णा व सावरगांव के लोगों ने एक-दूसरे पर खूब पत्थर बरसाए, जिसमें 110 लोग घायल हो गए। मेला स्थल पर 500 से ज्यादा पुलिसकर्मी और कई अधिकारी मौजूद थे, लेकिन वह भी मूकदर्शक बने रहे।

धरी रह गई रोकने की तैयारी

बताया जा रहा है कि कलेक्टर ने एक दिन पहले मेले की जगह का निरीक्षण किया. जहां मेले का आयोजन हो रहा है उस जगह से सारे पत्थर हटवा लिए गए हैं. सुरक्षा को देखते हुए एसडीओपी, एएसपी, टीआई, एसआई, एएसआई, एसएफ, होमगार्ड फारेस्ट समेत जिला बल के जवानों की तैनाती की गई है. 

आपको बता दें कि गोटमार मेले की परंपरा सदियों से चली आ रही है. इस मेले का आयोजन पांढुर्णा और सावरगांव के बीच बहने वाली जाम नदी पर किया जाता है. देवी का झंडा गाड़ने के बाद दोनों गांव के लोग एक दूसर पर पत्थर फेंकते हैं. जिसमें कई लोग घायल हो जाते हैं. मेला देखने हर साल जिले के बाहर से भी बड़ी संख्या में लोग पहुंचते हैं, लेकिन इस बार सिर्फ औपचारिकता निभाई जाएगी.

इस बार कोराना के संक्रमण को देखते हुए गोटमार मेले पर छिंदवाड़ा जिला प्रशासन ने प्रतिबंध लगाया था। मंगलवार को कलेक्टर और पुलिस अधीक्षक सहित स्थानीय प्रशासन के आला अधिकारियों ने बैठक ली थी, जिसमें बुधवार को होने वाले मेले को रोकने को लेकर तैयारी की गई थी।

इसके लिए दो अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक, सात एसडीओपी, दस थाना प्रभारी, 30 एसआइ, 50 एएसआइ और लगभग 500 एसएफ, होमगार्ड, वन विभाग और जिला पुलिस बल तैनात किए गए थे।

पुलिस निगरानी करती रह गई और पांढुर्णा और सावरगांव के लोग जाम नदी के किनारे एकजुट होकर पत्थर बरसाते चले गए। हालांकि बंदिश के कारण हर साल की तरह इस साल घायलों के इलाज के लिए शिविर नहीं लगाए थे, जबकि पिछले साल 10 से 12 शिविर लगाए गए थे।

पत्थर हटवाए थे, फिर ले आए

छिंदवाड़ा के एसपी विवेक अग्रवाल के अनुसार उपचार के लिए शिविर नहीं लगने के कारण घायलों की संख्या का अंदाजा नहीं लगाया जा सकता, लेकिन बताया जा रहा है कि 110 से ज्यादा लोग घायल हो गए हैं। मंगलवार रात को क्षेत्र से पत्थर हटवा दिए गए थे। इसके बाद भी लोगों ने पत्थर जमा कर लिए थे। पुलिस जवानों ने लोगों को रोकने की कोशिश की तो वे भी पत्थरबाजी की चपेट में आए।

वर्षों पुरानी है मेले की परंपरा

बताया जाता है कि गोटमार मेले की शुरूआत 17 वीं इसवीं में हुई थी। मान्यता है कि सावरगांव की एक आदिवासी कन्या का पांढुर्णा के किसी लड़के ने सावरगांव की लड़की से चोरी-छिपे प्रेम विवाह कर लिया था। जब वह लड़की को लेकर जाम नदी पार कर रहा था तब सावरगांव के लोगों को पता चला और उन्होंने उन पर पत्थरों से हमला कर दिया था।

सूचना मिलने पर पांढुर्णा पक्ष के लोगों ने भी जवाब में पथराव शुरू कर दिया। दोनों गांवों के लोगों द्वारा किए गए पथराव से प्रेमी जोड़े की मौत हो गई थी। इसके बाद दोनों पक्षों के लोगों को अपनी शर्मिंदगी का अहसास हुआ और दोनों प्रेमियों के शवों को उठाकर क्षेत्र में स्थित किले पर मां चंडिका के दरबार में ले जाकर रखा और पूजा-अर्चना करने के बाद दोनों का अंतिम संस्कार कर दिया। इसी घटना की याद में मां चंडिका की पूजा-अर्चना कर गोटमार मेले का हर साल आयोजन होता है।