Category Archives: टोटल लॉकडाउन

स्वास्थ्य विभाग की एक बड़ी लापरवाही तब सामने आ रही, जीवित मरीज को मरा बताया, किसी की बॉडी किसी परिवार को दी, मरीजो की संख्या बढ़ी


स्वास्थ्य विभाग की एक बड़ी लापरवाही तब सामने आई, जब एक मरीज को 2 बार मृत घोषित कर दिया गया। साथ ही किसी अन्य मरीज का शव परिजनों को बताने की कोशिश की गई। परिजनों ने जब शव को देखा तो वह हैरान रह गए, क्योंकि यह शव किसी और व्यक्ति का था । मामला सुल्तानिया के रहने वाले कोरोना पॉजिटिव गौरेलाल कौरी का है ।

अटल बिहारी वाजपेयी मेडिकल कॉलेजकोरोना पॉजिटिव को दो बार मृत बताया।

दरअसल, गौरेलाल की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी, जिसके बाद इलाज के लिए उन्हें अटल बिहारी वाजपेयी मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया था। इलाज के दौरान एक दिन पहले जहां रात के समय रोगी की स्थिति गंभीर बताई। फिर इसके बाद 13 अप्रैल की देर रात गौरेलाल को मरा हुआ बताया गया। गौरेलाल की मौत की खबर लगते ही हड़बड़ाहट में जब परिजन अस्पताल पहुंचे तो बताया गया कि उनके मरीज की सांसे चल रही हैं। परिजनों ने डाक्टरों से मरीज के अच्छे इलाज की मांग की, लेकिन 14 अप्रैल बुधवार की सुबह साढ़े 8 बजे डाक्टर का एक बार फिर फोन आया। इस बार भी डाक्टर ने मरीज की मौत की खबर परिजनों को सुनाई।

शव देखा तो नहीं और कोई निकला

मरीज के बेटे ने जब शव देखने की जिद की तो पता चला कि यह किसी और का शव था। जांच पड़ताल की गई तो उनके मरीज की हालत गंभीर थी और वह आइसोलेशन वार्ड में भर्ती थे, जबकि मंगलवार की रात में ही स्वास्थ्य मंत्री ने मरीजों के अच्छे इलाज के लिए स्वास्थ्य विभाग को

चेस्ट किया था। इस मसले पर अब कई सारे सवाल खड़े हो

गौरेलाल के बेटे कैलाश ने बताया कि स्वास्थ्य विभाग ने हमें काफी देर तक गफलत में डाल दिया, जब डेड बॉडी को देखा तब जाकर सच सामने आया। अभी उनके पिता की हालत गंभीर है, और वह संक्षेपण वार्ड में भर्ती हैं। कैलाश ने बताया कि इस मामले की शिकायत भी की गई लेकिन कार्रवाई के नाम पर कुछ नहीं हो सका। कैलाश ने बताया कि उनके पिता गौरेलाल भोपाल में रेलवे डाक विभाग में पोस्टमैन हैं।

मेडिकल कॉलेज के डॉ। । गंभीर आरोप लगे

मरीज के बेटे ने बताया कि दो दिन पहले उनका तबीयत बहुत बुरा बता रहा था। इसके बाद हमें बताया गया कि हमारे पिता की मृत्यु हो गई है, और नर्स ने 10 मिनट बाद कहा कि रोगी की सांस चल रही है। मैंने कहा कि डॉ से आप अच्छे से इलाज करते हैं, लेकिन डॉक्टरों की यही लापरवाही चल रही है और फिर शाम को बताया जा रहा है। कि मरीज के गले का ऑपरेशन किया जाएगा। फिर बाद में शाम 6 बजे ऑपरेशन के दौरान अपडेट आता है कि उनका ऑपरेशन करते-करते मौत हो गई है। जब हमने आकर देखा की मृत्यु प्रमाण पत्र घोषित कर दिया गया है। हमारे परिजन मरीज को देखने गए तो मरीज वेंटिलेटर पर भर्ती था। हमें डेड बॉडी भी दी जाने लगी । जब हमने कहा कि डेड बॉडी का चेहरा देख लें। चेहरा देखने के लिए गए, तो हमारे मरीज का नहीं था, जबकि हमारा मरीज जीवित है।

लड़खड़ाते बोले डीन

सुनील नंदेश्वर मेडिकल कॉलेज के डीन का कहना है कि कोरोना के चलते आपाधापी बढ़ गई है। कहीं रोगी वेंटिलेटर पर हैं, तो दूसरे की सांस फूल रही है, तीसरे का यह हो रहा है, तो थोड़ा सा हो जाता है। डीन ने कहा कि मरीज वेंटिलेटर पर ही थे। उनके हृदय की गति रुक गई थी, तो इस बार किसी नर्स ने बताया कि उनकी मृत्यु हो गई है, लेकिन हृदय की गति रूकती है तो उसके बाद में डॉ। हृदय को दोनों हाथों से दबाकर हृदय को पुनः चालू करने की कोशिश करता है। जिसमें एक से दो घंटे लगभग लग जाते हैं।

डीन ने कहा,

हमारे यहां के डॉक्टरों ने उन्हें रिवाइज किया और फिर रिवाइज करने के बाद ब्लने वापस आई। और उन्हें फिर हमने वेंटिलेटर पर रखा था। इस कारण से यह थोड़ा सा कन्फ्यूजन हो गया। हमने उनके परिजनों को बता दिया है कि मरीज वेंटिलेटर पर है ।

इंदौर भोपाल एवं जबलपुर में रविवार को रहेगा लॉकडाउन


31 तक स्कूल कालेज भी बंद रहेंगे

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कोरोना की स्थिति एवं व्यवस्थाओं की समीक्षा की

Mp मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश में कोरोना के प्रकरण बढ़ रहे हैं। फिर से गंभीर स्थिति न हो, इससे बचने के लिए मेरा प्रदेश की जनता से अनुरोध है कि सभी अनिवार्य रूप से मास्क लगाएं, सोशल डिस्टेंसिंग रखें, कहीं भीड़ न करें तथा कोरोना संक्रमण को रोकने में अपना योगदान दें।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा है कि जो लोग मास्क नहीं लगा रहे हैं वे न केवल अपनी, अपनों की बल्कि समाज में सभी की जिंदगी खतरे में डाल रहे हैं। सरकार सभी आवश्यक इंतजाम कर रही है, परंतु संक्रमण रोकने के लिए आप सभी का पूरा सहयोग बहुत जरूरी है।

कोरोना के बढ़ते प्रकरणों को देखते हुए प्रदेश के इंदौर भोपाल एवं जबलपुर शहरों में शनिवार रात्रि 10:00 बजे से सोमवार को प्रातः 6:00 बजे तक लॉकडाउन रहेगा। लॉकडाउन के दौरान आवश्यक सेवाएं तथा उद्योग चालू रहेंगे।

मुख्यमंत्री श्री चौहान आज मंत्रालय में कोरोना की स्थिति एवं व्यवस्थाओं की समीक्षा कर रहे थे। बैठक में मुख्य सचिव श्री इकबाल सिंह बैंस, डी जी पी श्री विवेक जौहरी, अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य श्री मोहम्मद सुलेमान, अपर मुख्य सचिव श्री राजेश राजौरा, प्रमुख सचिव श्री शिव शेखर शुक्ला आदि उपस्थित थे।

सामाजिक समारोह की अनुमति लेनी होगी
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि इंदौर भोपाल एवं जबलपुर में रविवार को लॉकडाउन के दौरान सामाजिक समारोह आयोजित करने के लिए प्रशासन से अनुमति लेनी होगी।

31 मार्च तक स्कूल कॉलेज बंद
प्रदेश के भोपाल इंदौर एवं जबलपुर नगरों में आगामी 31 मार्च तक स्कूल, कॉलेज बंद रहेंगे।

5.5% पॉजिटिविटी रेट
अपर मुख्य सचिव श्री मोहम्मद सुलेमान ने बताया कि गत दिवस प्रदेश में 21 हज़ार कोरोना टेस्ट किए गए। प्रदेश की पॉजिटिविटी रेट 5.5 प्रतिशत आई है, जो अधिक है।

किसान चिंता न करें, सभी को मिलेगा मुआवजा


मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश के जिन हिस्सों में ओलावृष्टि एवं बारिश से फसलों को नुकसान हुआ है, वहां के किसान चिंता न करें। सर्वे के निर्देश दे दिए गए हैं, शीघ्र ही सर्वे प्रारंभ हो जाएगा तथा किसानों को फसलों के नुकसान का समुचित मुआवजा दिया जाएगा।

Corona को LOCK DOWN से नहीं, प्रबंधन से नियंत्रित किया जाएगा- कलेक्टर राकेश सिंह


BETUL / MULTAPI SAMACHAR

कलेक्टर श्री राकेश सिंह ने बताया कि जिले में कोरोना संक्रमण अब लॉकडाउन की बजाय बेहतर प्रबंधन से नियंत्रित किया जाएगा, जिसके लिए समूचे जिले में निगरानी व्यवस्था को मजबूत किया गया है। जिले में प्रवेश करने वाली समस्त सीमाओं पर चेकपोस्ट बनाए गए हैं, जहां बाहर से आने वाले लोगों की जानकारी संकलित की जा रही है। ऐसे लोगों के नाम एवं पते संबंधित नगरीय निकाय / ग्राम पंचायत को प्रदाय किए जाते हैं। नगरीय निकाय/ग्राम पंचायत बाहर से आने वाले लोगों को 14 दिनों के लिए होम क्वारेंटाइन करते हैं। होम क्वारेंटाइन व्यवस्था पर निगरानी के लिए समूचे जिले में बड़ी संख्या में अधिकारियों-कर्मचारियों की तैनाती की गई है। ये अधिकारी सतत् भ्रमण कर लोगों का होम क्वारेंटाइन सुनिश्चित करवा रहे हैं।

मुलतापी समाचार

बैतूल जिले में 4 नहीं अब सिर्फ 3 अगस्त तक ही रहेगा लाॅक डाउन


तीन अगस्त तक ही रहेगा लाॅक डाउन ————-

जिला क्राइसिस मैनेजमेंट समूह ने देर रात लिया निर्णय 

Multapi Samachar

बैतूल ।कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी श्री राकेश सिंह ने बताया कि  31 जुलाई को देर रात आयोजित जिला क्राइसिस मैनेजमेंट समूह की बैठक में जिले में तीन अगस्त तक ही  लाकॅडाउन प्रभावशील किये जाने का निर्णय लिया गया है . क्राइसिस मैनेजमेंट  समूह द्वारा लिए गए निर्णय के फलस्वरूप अब तीन अगस्त की रात्रि तक ही जिले में लाकॅडाउन प्रभावी रहेगा .तद्नुसार चार अगस्त की सुबह से  आगामी आदेश तक जिला  लाकॅडाउन से मुक्त रहेगा .

मुलतापी समाचार

lock down RETAIN : 1 से 4 अगस्त तक बैतूल में पूर्ण लॉकडाउन, त्योहार घर पर ही मनेंगे


पुन: संपुर्ण कडाके वाला लॉकडाउन लगा जिलेे से लेगे छिन्‍दवाडा, सिंवनी एवं सतना में भी लॉकडाउन के आदेश जारी

कोरोना महामारी के चलते इस बार घर पर ही मनेगी ईद और रक्षाबंधन

  • लॉकडाउन के दौरान नगरीय एवं ग्रामीण क्षेत्रों में सभी तरह की दुकानें (मेडीकल स्टोर को छोड़कर) पूरी तरह से बंद रहेंगी।
  • आपातकालीन चिकित्सा कारणों को छोड़कर सभी व्यक्तियों का अपने घरों से निकलना पूर्णत: प्रतिबंधित रहेगा।
  • जिले की सीमा के अंदर सभी नगरीय एवं ग्रामीण क्षेत्रों में माल वाहनों को छोड़कर आवागमन पूरी तरह से प्रतिबंधित रहेगा।

ईद और रक्षाबंधन इस बार घर पर ही मनेगा। जिले में 31 जुलाई रात 8 बजे से 5 अगस्त सुबह 5 बजे तक जिले के ग्रामीण और नगरीय क्षेत्रों में पूर्ण लॉकडाउन रहेगा। आगामी त्योहारों के कारण बाजारों में होने वाली भीड़ और लोगों की व्यापक आवाजाही रोकने के लिए कलेक्टर राकेश सिंह ने लॉकडाउन घोषित किया है। कलेक्टर ने जारी आदेश में लोगों से लॉकडाउन के दौरान अपने घरों से पैदल अथवा वाहनों से नहीं निकलने का आग्रह किया है। लॉकडाउन के दौरान इंसिडेंट कमांडर सहित पुलिस एवं प्रशासन के अधिकारी समूचे जिले में सतत गश्त करेंगे। आपातकालीन चिकित्सा कारणों को छोड़कर सभी व्यक्तियों को अपने घरों से निकलना पूरी तरह प्रतिबंधित रहेगा। बेवजह घर से बाहर निकलने वालों पर सख्त कार्रवाई की जाएगी।

यह कर सकेंगे

  • सुबह 6 से प्रात: 8 बजे तक समाचार पत्रों एवं दूध की मात्र डोर-टू-डोर डिलीवरी की अनुमति रहेगी।
  • लोडिंग-अनलोडिंग में कार्यरत मजदूर-हम्मालों की आवाजाही संबंधित प्रतिष्ठान के स्वामी, संचालक से प्राप्त परिचय पत्र दिखाकर कर सकेंगे।
  • {रेल से यात्रा कर जिले में आने वाले यात्रियों को रेल्वे स्टेशन से जिले की सीमा में अन्य शहर या ग्राम में यात्रा करने के लिए मेडिकल टीम से अनुमति प्राप्त करना अनिवार्य होगा।

इनको रहेगी छूट

  • अत्यावश्यक सेवाओं में कार्यरत कर्मी जैसे मेडिकल प्रोफेशनल्स, नर्सों तथा पैरा-मेडिकल स्टाफ, सेनिटेशन कर्मचारी, एंबुलेंस, दूरसंचार सेवाएं, विद्युत प्रदाय के कार्य, शासकीय कार्यालय एवं नगरपालिका के कार्य एवं उसमें लगे सभी कर्मी, अधिकारी व कर्मचारी लॉकडाउन अवधि में अपना परिचय पत्र दिखाकर आवागमन कर सकेंगे।

नगर के पेट्रोल पंप रहेंगे बंद, हाईवे पर शुरू
लॉकडाउन अवधि में जिले के नगरीय एवं ग्रामीण क्षेत्रों में स्थित समस्त पेट्रोल, डीजल पंप बंद रखे जाएंगे। नागपुर-भोपाल हाईवे, बैतूल-इंदौर हाईवे, मुलताई-छिंदवाड़ा, मुलताई-वरूड़, खेड़ीसांवलीगढ़ से अमरावती, बैतूल-खंडवा, घोड़ाडोंगरी-परासिया के मुख्य मार्गों पर स्थित पेट्रोल पंप जो नगरीय क्षेत्र की सीमा से बाहर हैं, खुले रहेंगे।

शनिवार रात्रि से सोमवार सुबह तक टोटल लॉन्कडाउन रहेगा – कलेक्टर आदेसानुर


बैतूल कलेक्टर का आदेश पत्रक

बैतूल कोरोना अपडेट HEALTH BULLETIN

MULTAPI SAMACHAR

बैतूल

अब कुल मरीज केस–157

अबतक ठीक हुए मरीज–92

अबतक कुल एक्टिव केस–64

आज तक कोरोना से मौत–01

आज बढ़े केस की संख्या–04

33 वर्षीय महिला मुलताई
33 वर्षीय पुरुष गौनापुर प्रभातपट्टन
25 वर्षीय पुरुष मुलताई
12 वर्षीय बालिका चिचोली

नागपुर, महाराष्ट्र से आने पर रहना पडेगा 14 दिन होम क्वारेंटाइन


बाहर से आने वाले व्यक्तियों की पहचान, क्वारेंटाइन एवं सेम्पल लिए जाने पर रहेगा विशेष ध्यान

निजी चिकित्सालयों में आने वाले खांसी-जुकाम, बुखार के मरीजों की जानकारी सार्थक लाइट एप पर संधारित करने के निर्देश

मुलतापी समाचर

बैतूल । कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी श्री राकेश सिंह ने जिले में बाहर से खासतौर पर पड़ोसी महाराष्ट्र राज्य से आने वाले व्यक्तियों पर विशेष निगरानी के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा है कि ऐसे व्यक्तियों की पहचान की जाए। साथ ही उन्हें 14 दिनों के लिए क्वारेंटाइन किया जाए तथा उनके सेम्पल लेकर कोरोना संक्रमण की जांच की जाए। उन्होंने जिले के निजी चिकित्सालयों एवं मेडीकल स्टोर संचालकों को भी निर्देशित किया है कि वे सार्थक लाइट एप डाउनलोड करें एवं उनके यहां आने वाले खांसी-जुकाम, बुखार के मरीजों अथवा इस बीमारी से संबंधित दवाइयां लेने वालों की जानकारी एप में दर्ज करें।

शनिवार को निजी चिकित्सालयों के चिकित्सकों एवं मेडीकल स्टोर संचालकों की बैठक में कलेक्टर ने निर्देश दिए कि उनके यहां खांसी-जुकाम, बुखार अथवा कोरोना संक्रमण के लक्षण दिखने वाले मरीजों पर विशेष ध्यान दिया जाए। साथ ही सार्थक लाइट एप डाउनलोड कर उसमें ऐसे मरीजों के संबंध में जानकारी दर्ज की जाए। मेडीकल स्टोर्स संचालक भी यह एप डाउनलोड कर खांसी-जुकाम, बुखार बीमारियों की दवा लेने आने वालों की जानकारी दर्ज करें। उन्होंने इस बात पर भी जोर दिया कि पड़ोसी महाराष्ट्र राज्य से आने वाले व्यक्तियों की मेडीकल जांच आवश्यक रूप से की जाए। ऐसे व्यक्तियों के आने की सूचना भी स्वास्थ्य विभाग को दी जाना अति आवश्यक है। यह भी जरूरी है कि इन व्यक्तियों को 14 दिनों के लिए क्वारेंटाइन किया जाए।

उन्होंने यह भी स्पष्ट किया कि महाराष्ट्र राज्य में नागपुर जैसे स्थानों पर इलाज कराने जाने वाले व्यक्तियों एवं उनके सहयोगियों को वापस आने पर 14 दिन क्वारेंटाइन होना आवश्यक है। कलेक्टर ने निजी चिकित्सकों एवं मेडीकल स्टोर संचालकों से यह भी कहा है कि वे उनके यहां आने वाले मरीजों अथवा व्यक्तियों को अनिवार्य रूप से मास्क लगाने के लिए प्रेरित करें। साथ ही सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने के लिए भी सजग करें। इसके अलावा कोरोना से बचाव के उपायों की जानकारी देने वाले आवश्यक फ्लेक्स, पोस्टर इत्यादि भी अपने संस्थानों के समक्ष लगाएं।

देश के सबसे अमीर मंदिर ने निकाले 1300 कर्मचारी


मुलतापी समाचार मनोज कुमार अग्रवाल

नई दिल्ली: कोरोना वायरस से बचाव के लिए देशव्यापी lockdown जारी है! इस बीच खबर आई है कि lockdown का असर देश के सबसे अमीर मंदिर पर भी पड़ा है! जी हां आंध्र प्रदेश के तिरुपति बालाजी मंदिर ने 1300 संविदा कर्मियों को नौकरी से निकाल दिया है! निकले गए सभी कर्मचारी को कांट्रैक्ट 30 अप्रैल को खत्म हो गया और मंदिर प्रशासन ने 1 मई से कांट्रैक्ट रिन्यू करने से इंकार कर दिया है! मंदिर प्रशासन ने कहा है कि lockdown की वजह से काम बंद है, इसलिए अब इन 1300 कर्मचारियों के अनुबंध 30 अप्रैल से आगे नहीं बढ़ा पाएंगे!

तिरुमाला तिरुपति देवस्थानम ट्रस्ट की तरफ से तीन गेस्ट हाउस चलाए जाते हैं! जिनके नाम विष्णु निवासम, श्रीनिवासम और माधवम है! निकाले गए सभी 1300 कर्मचारी इन्हीं गेस्ट हाउसों में कई सालों से काम करते थे! तिरुपति बालाजी मंदिर के अध्यक्ष वाई वी सुब्बा रेड्डी ने कहा कि lockdown के कारण सभी गेस्ट हाउस बंद है! जिस कारण से इन कर्मचारियों का अनुबंध नहीं बढ़ाया गया! उन्होंने कहा कि नियमित कर्मचारियों को भी इस दौरान कोई काम नहीं सौंपा है!

मुलतापी समाचार

देश में 17 मई तक लॉकडाउन, तीसरे चरण में इन गतिविधियों की होगी इजाजत, इनपर जारी रहेगी पाबंदी


मुलतापी समाचार

देश में लागू लॉकडाउन के दूसरे चरण के समाप्त होने से पहले सरकार ने 2 हफ्ते के लिए एक बार फिर से इसे बढ़ा दिया है.

नई दिल्ली: देश में लागू लॉकडाउन के दूसरे चरण के समाप्त होने से पहले सरकार ने 2 हफ्ते के लिए एक बार फिर से लॉकडाउन को बढ़ा दिया है. लेकिन केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने देशभर में 130 जिलों को रेड जोन, 284 को ऑरेंज जोन और 319 को ग्रीन जोन घोषित किया है. इन इलाकों में कोविड-19 मामलों की संख्या, मामलों के दोगुना होने की दर, जांच की क्षमता और निगरानी एजेंसियों से मिली जानकारी के आधार पर इन्हें श्रेणीबद्ध किया गया है. हालांकि लॉकडाउन के अगले चरण में सरकार का कहना है ग्रीन और ऑरेंज जोन में आने वाले जिलों को कई तरह की रियायतें भी मिलेंगी.

ग्रीन जोन सरकार की तरफ से ऐसे क्षेत्र को बनाया गया है जिसमे में पिछले 21 दिनों में एक भी कोरोना के केस नहीं आए हैं जबकि ऑरेंज जोन ऐसे इलाके को कहा गया है जिसमें पिछले 14 दिनों में एक भी केस नहीं आए हैं. 

लॉकडाउन के तीसरे चरण में इन पर नहीं होगी पाबंदी

जरूरी और गैर जरूरी के किसी भी भेद के बिना, शहरी परिसरों में सभी स्टैंड और दुकानें, पड़ोस की दुकानें और आवासीय परिसरों की दुकानों को खुले रहने की अनुमति है.

– निजी कार्यालय आवश्यकता के अनुसार 33 प्रतिशत तक की क्षमता के साथ काम कर सकते हैं, बाकी लोग घर से काम करते रहेंगे.

– सभी सरकारी कार्यालय उप सचिव के स्तर के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ और पूरी शक्ति से कार्य करेंगे, और शेष कर्मचारी आवश्यकता के अनुसार 33 प्रतिशत तक दफ्तर आएंगे.

– रेड ज़ोन में जिन गतिविधियों की अनुमति है, ऑरेंज जोन में उनके अलावा टैक्सी और कैब एग्रीगेटर्स को केवल 1 ड्राइवर और 1 यात्री के साथ अनुमति दी जाएगी.

– व्यक्तियों और वाहनों के एक जिले से दूसरे जिले में केवल सरकार द्वारा तय कामों के लिए आने-जाने की इजाजत होगी. चार पहिया वाहन में ड्राइवर के अलावा अधिकतम दो यात्री होंगे, इसके अलावा दोपहिया वाहनों पर अब दो लोगों को यात्रा करने की अनुमति होगी.

ग्रीन जोन में हर तरह की गतिविध‍ियों की इजाजत होगी लेकिन उन गतिविधियों को छोड़कर जिनपर देशभर में पाबंदी है. बसें आधी क्षमता के साथ चलाई जा सकेंगी और बस डीपो भी आधी क्षमता के साथ काम कर सकेंगे.

इन चीजों पर जारी रहेगी पाबंदी

– रेड जोन में गैर जरूरी सामानों की ई-कॉमर्स कंपनियों द्वारा आपूर्ति पर पाबंदी जारी रहेगी.

– शहरी क्षेत्रों में दुकानें, गैर-जरूरी सामानों के लिए, मॉल, बाजार और बाजार परिसरों में अनुमति नहीं होगी. 

– विमान, रेल, मेट्रो से यात्रा और सड़क मार्ग से अंतर-राज्यीय आवागमन तथा स्कूल, कॉलेज बंद रहेंगे. होटल, सिनेमा हॉल, मॉल, जिम, खेल परिसर, सामाजिक-राजनीतिक, सांस्कृतिक व अन्य प्रकार के समारोहों की मनाही होगी. 

– सभी गैर-जरूरी गतिविधियों के लिए लोगों की आवाजाही शाम 7 से सुबह 7 बजे के बीच सख्ती से प्रतिबंधित रहेगी.

pm बड़ा ऐलान, देश में लॉकडाउन की अवधि दो सप्‍ताह और बढ़ी, 4 से 17 मई तक रहेगा


सरकार का बड़ा ऐलान, देश में लॉकडाउन की अवधि दो सप्‍ताह और बढ़ी, 4 से 17 मई तक रहेगा जारी

लॉकडाउन को लेकर बड़ी खबर है। देश में जारी लॉकडाउन की अवधि को दो सप्‍ताह के लिए और बढ़ा दिया गया है।अब यह 4 मई से 17 मई तक जारी रहेगा। 3 मई को लॉकडाउन की अवधि समाप्‍त होने जा रही थी। आज सरकार ने इस संबंध में आदेश जारी कर दिए हैं।

गृह मंत्रालय ने आपदा प्रबंधन अधिनियम, 2005 के तहत 4 मई से आगे दो सप्ताह की लॉकडाउन अवधि को आगे बढ़ाने के लिए आदेश जारी किया। अब 18 मई तक लॉकडाउन प्रभावी रहेगा। इस दौरान सार्वजनिक परिवहन जैसे रेलवे और विमान जैसी सेवाएं स्‍थगित रहेंगी। हालांकि, ग्रीन जोन में गृह मंत्रालय द्वारा दी गई छूट जारी रहेगी।

स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय के अनुसार, देश में रेड जोन के तहत 130 जिले, ऑरेंज जोन के तहत 284 जिले और ग्रीन जोन के तहत 319 जिलों को रखा गया है। हर सप्‍ताह इसका आकलन किया जाएगा और संक्रमित मामलों के अनुसार जोन में बदलाव होगा।

Lockdown के आगे की स्थिति को लेकर पीएम मोदी ने गृहमंत्री अमित शाह, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण, चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ विपिन रावत, रेलमंत्री पियूष गोयल सहित सेक्रेट्री लेवल के कई अन्य वरिष्ठ अधिकारियों के साथ हाई लेवल मीटिंग की थी। इससे पहले पीएम मोदी ने देश के मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक कर विभिन्न राज्यों में कोरोना की स्थिति, इलाज की व्यवस्था, राहत कार्यों का जायजा लिया था। तब अधिकांश राज्यों ने लॉक डाउन बढ़ाने की बात की थी।

गौरतलब है कि पिछले 24 घंटे में भारत में 1,993 पॉजिटिव मामले सामने आए हैं, जिससे कुल मामले 35,043 हो गई है, इसमें से 25,007 मामले सक्रिय हैं। 24 घंटे में लगभग 600 लोग ठीक भी हुए। देश में रिकवरी रेट 25 फीसद से अधिक होने के बाद भी कोराना वायरस के मरीजों की संख्‍या लगातार बढ़ रही है। यही कारण है कि देश में सावधानी बरती जा रही है।