Category Archives: मोदी

Live VIDEO pm modi सरकार एक देश एक मंडी किसान हित में एक पहल


PM Kisan Yojana: प्रधानमंत्री मोदी ने जारी की 17 हजार करोड़ रुपए की छठी किस्त

मोदी सरकार के ‘एक देश, एक मंडी’ के अध्यादेश का किसानों ने किया स्वागत

मुलतापी समाचार

किसान सम्‍मान निधी

PM Kisan Yojana: प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी (Narendra Modi) ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए ‘कृषि अवसंरचना कोष’ (Agricultural Infrastructure Fund) के तहत 1 लाख करोड़ रुपए की फाइनेंसिंग सुविधा की शुरुआत की। प्रधानमंत्री ने इसी अवसर पर PM Kisan Yojana के तहत 8.5 करोड़ किसानों को 17,000 करोड़ रुपए की छठी किस्त भी जारी की। केंद्रीय कृषि और किसान कल्याण मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर भी इस मौके पर मौजूद थे।

इस समारोह में देश भर के लाखों किसान, सहकारी समितियां और नागरिक शामिल हुए। केंद्रीय मंत्रिमंडल ने 1 लाख करोड़ रुपए के ‘कृषि अवसंरचना कोष’ के तहत फाइनेंस की सुविधा को मंजूरी दी है। इस फंड के जरिए कटाई के बाद फसल के बेहतर प्रबंधन के लिए Infrastructure और Community Agricultural Assets जैसे कि कोल्ड स्टोरेज, कलेक्शन सेंटर, प्रॉसेसिंग यूनिट बनाने में मदद की जाएगी।

इन सुविधाओं के शुरू होने से किसानों को अपनी फसल की अच्छी कीमत मिल सकेगी। किसान अपनी फसल को स्टोर कर सकेंगे और सही कीमत मिलने पर अपने माल को बेच सकेंगे, जिससे उनकी आय बढ़ेगी।

सरकार कई लोन देने वाली संस्थाओं के साथ एग्रीमेंट करके ये एक लाख करोड़ रुपए की फाइनेंस की स्कीम शुरू कर रही है। सार्वजनिक क्षेत्र के 12 बैंकों में से 11 बैंकों ने पहले ही कृषि सहयोग और किसान कल्याण विभाग के साथ एमओयू साइन कर लिया है। इस स्कीम का फायदा ज्यादा से ज्यादा किसानों को मिले और उनकी आय बढ़े इसके लिए सरकार ने इस स्कीम के लाभार्थियों को 3% ब्याज सब्सिडी और 2 करोड़ रुपए तक की लोन गारंटी देने की घोषणा की है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज किसान सम्मान निधि की छठी किस्त जारी की। इसके जरिए 8.5 करोड़ किसानों के खाते में 17 हजार करोड़ रुपए जमा हो गए। किसानों के खाते में दो हजार रुपए की किस्त जमा हुई। रबी सत्र शुरू होने से पहले किसानों के खाते में यह रकम जमा की गई है।

pm बड़ा ऐलान, देश में लॉकडाउन की अवधि दो सप्‍ताह और बढ़ी, 4 से 17 मई तक रहेगा


सरकार का बड़ा ऐलान, देश में लॉकडाउन की अवधि दो सप्‍ताह और बढ़ी, 4 से 17 मई तक रहेगा जारी

लॉकडाउन को लेकर बड़ी खबर है। देश में जारी लॉकडाउन की अवधि को दो सप्‍ताह के लिए और बढ़ा दिया गया है।अब यह 4 मई से 17 मई तक जारी रहेगा। 3 मई को लॉकडाउन की अवधि समाप्‍त होने जा रही थी। आज सरकार ने इस संबंध में आदेश जारी कर दिए हैं।

गृह मंत्रालय ने आपदा प्रबंधन अधिनियम, 2005 के तहत 4 मई से आगे दो सप्ताह की लॉकडाउन अवधि को आगे बढ़ाने के लिए आदेश जारी किया। अब 18 मई तक लॉकडाउन प्रभावी रहेगा। इस दौरान सार्वजनिक परिवहन जैसे रेलवे और विमान जैसी सेवाएं स्‍थगित रहेंगी। हालांकि, ग्रीन जोन में गृह मंत्रालय द्वारा दी गई छूट जारी रहेगी।

स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय के अनुसार, देश में रेड जोन के तहत 130 जिले, ऑरेंज जोन के तहत 284 जिले और ग्रीन जोन के तहत 319 जिलों को रखा गया है। हर सप्‍ताह इसका आकलन किया जाएगा और संक्रमित मामलों के अनुसार जोन में बदलाव होगा।

Lockdown के आगे की स्थिति को लेकर पीएम मोदी ने गृहमंत्री अमित शाह, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण, चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ विपिन रावत, रेलमंत्री पियूष गोयल सहित सेक्रेट्री लेवल के कई अन्य वरिष्ठ अधिकारियों के साथ हाई लेवल मीटिंग की थी। इससे पहले पीएम मोदी ने देश के मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक कर विभिन्न राज्यों में कोरोना की स्थिति, इलाज की व्यवस्था, राहत कार्यों का जायजा लिया था। तब अधिकांश राज्यों ने लॉक डाउन बढ़ाने की बात की थी।

गौरतलब है कि पिछले 24 घंटे में भारत में 1,993 पॉजिटिव मामले सामने आए हैं, जिससे कुल मामले 35,043 हो गई है, इसमें से 25,007 मामले सक्रिय हैं। 24 घंटे में लगभग 600 लोग ठीक भी हुए। देश में रिकवरी रेट 25 फीसद से अधिक होने के बाद भी कोराना वायरस के मरीजों की संख्‍या लगातार बढ़ रही है। यही कारण है कि देश में सावधानी बरती जा रही है।

केन्‍द्र:स्वास्थ्य कर्मचारियों के खिलाफ हुई हिंसा पर केंद्र सरकार लाई अध्यादेश, 6 महीने से 7 साल तक की सजा का प्रावधान


स्वास्थ्य कर्मचारियों के खिलाफ हिंसा को खत्म करने के लिए केंद्र सरकार ने अध्यादेश लाया है. अगर इस मामले में किसी को दोषी पाया गया तो 6 महीने से लेकर 7 साल तक की कैद की सजा हो सकती है.

नई दिल्ली: स्वास्थ्य कर्मचारियों के खिलाफ हिंसा को खत्म करने के लिए केंद्र सरकार ने अध्यादेश लाया है. अगर इस मामले में किसी को दोषी पाया गया तो 6 महीने से लेकर 7 साल तक की कैद की सजा हो सकती है.

प्रधान मंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी का सम्बोधन


आज प्रधानमंत्री जी का देश को सम्बोधन:

भारत में लॉकडाउन ३ मई तक बढ़ाया गया।
कई राज्यों ने पहले ही लॉकडाउन को बढ़ाने का एलान का फ़ैसला कर दिया गया है।
एक सप्ताह तक लॉकडॉन को लेकर अब और सख़्ती बरती जाएगी।
नए हॉट स्पॉट का बनना हमारे परिश्रम को और चुनोति देगा, संकट पैदा करेगा।
जो इलाक़े कोरोना के हॉट स्पॉट नहीं होंगे वहाँ २० अप्रैल से सशर्त छूट दी जा सकती है।

साथ ही मोदी जी ने इन ७ बातों का पालन करने के लिए कहा।

  • अपने घर के बुज़ुर्गों का विशेष ध्यान रखें।
  • लॉकडाउन का पूरी तरह पालन करे।
  • अपनी इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए आयुष मंत्रालय द्वारा निर्देशो का पालन करे।
  • आरोग्य सेतु मोबाइल एप डाउनलोड करे।
  • जितना हो सके ग़रीब परिवार की देखरेख करे।
  • व्यापारी वर्ग किसी कर्मचारी को नौकरी से ना निकाले और उनकी मदद करे।
  • देश के कोरोना योद्धाओं का सम्मान करें।

शिवा पवार मुलतापी समाचार बैतूल

Shiva pawar

5 अप्रैल को शाम 9 बजे, 9 मिनट लाइट बंद की खबर का विशलेेेेेेषण


भारत देश 5 अप्रैल को शाम 9 बजे, 9 मिनट लाइट बंद की खबर का विशलेेेेेेषण ि‍चित्र के माध्‍यम सेे समझाने का प्रयास

पूरे देश में 9 मिनट मोदी की अपील परजनता द्वारा लाइट बंद करने पर विश्लेषण

भारत देश के मध्‍यप्रदेश और महाराष्‍ट्र 5 अप्रैल को शाम 9 बजे, 9 मिनट लाइट बंद की खबर का विशलेेेेेेषण ि‍चित्र के माध्‍यम सेे समझाने का प्रयास

5 अप्रैल को शाम 9बजे , 9मिनट के लिए सभी घर के लाइट बंद करे साथ ही अन्य उपकरण चालू रखें , तकनीकी कारण पढ़े

मुलतापी समाचार

मध्‍यप्रदेश। महाराष्‍ट्र । मोदी जी के आपिल पर 5 अप्रैल को शाम 9 बजे, 9 मिनट के संदर्भ में प्रकाशित खबर का विश्लेषण किया गया है जिसका आज आप लोगो को उस जानकारी से रूबरू करााते है। ये फोटो है जिसमे माँग ग्राफ में दिखाया गया है कि 08:55 शाम को (डिमांंड) 114,455 MW है तथा 9:10 शाम को 85829 MW (डिमांंड) (लगभग 26800 MW (डिमांंड) का कम होने का अनुमान था ) और 28626 MW की (डिमांंड) कम हुई थी जिसके कारण परिस्थिति विकट होने की सम्भावना की गई थी परन्तु अनेक तरह के प्रयास से विधुत अभियन्ताओं की लगन और मेहनत और आम जन की जागरूकता से यह कठिन समय का सामना किया गया।

इसी तरह मध्यप्रदेश और महाराष्ट्र की माँग ग्राफ है जिसमे दिखाया गया है कि तरह से माँग की कमी आयी थी।

एक दीप जलाएं


एक दीपक देश के नाम हम सब एक है , हम सब एक साथ ही

उन रोगियों के आत्मविश्वास के लिए
तिमिर हटाने, प्रकाश के लिए
एक दीप जलाएं

सैनिकों के जीवन आस के लिए
सेवा कर्मियों के उत्साह के लिए
एक दीप जलाएं

देश की रक्षा के लिए
अपनों की सुरक्षा के लिए
एक दीप जलाएं

उस अंधेरे आकाश के लिए
इस महामारी विनाश के लिए
एक दीप जलाएं.. एक दीप जलाएं..

कवित्री सुश्री तृप्ति श्रीवास बैतूल

Multapi samachar की ओर से विनम्र निवेदनआज सभी दीपक जलाएं रात 9:00 बजे 9 मिनट के लिए

5 अप्रैल को शाम 9बजे , 9मिनट के लिए सभी घर के लाइट बंद करे साथ ही अन्य उपकरण चालू रखें , तकनीकी कारण पढ़े


मुलतापी समाचार

सभी भारतवासीयो से जो इस समय देश में कोविड -19 महामारी से लड़ रहा है, इस मुश्किल घड़ी में माननीय प्रधानमंत्री महोदय द्वारा 5अप्रैल को शाम 9बजे , 9मिनट के लिए सभी घर के लाइट बंद करने की अपील की गई और घर के दरवाजे पर रहकर मोमबती,दीपक, टार्च, मोबाइल फ़्लैश लाइट आदि के माध्यम से देश को इस अंधकार से लड़ने के लिए कहा गया है जैसा कि वेदों में भी कहा गया है

“असतो मा सदगमय ॥ तमसो मा ज्योतिर्गमय ॥ मृत्योर्मामृतम् गमय ॥

भावार्थ

असत्य से सत्य की ओर ले चलो । अंधकार से प्रकाश की ओर ले चलो ।। मृत्यु से अमरता की ओर ले चलो ॥

इस प्रकार देश की जनता को उत्साहित करना और सभी आपातकालीन सेवा में कार्यरत लोगो का उत्साह बढ़ाने में सहायक होता है, इस लिए इस अवाहन को पूरा करने में सहयोग करे परन्तु
इसमे विधुत को सुचारू बनाने के लिए एक बड़ी बाधा खड़ी हो सकती है
इस समस्या से लड़ने के लिए देश की 1लाख से भी अधिक विधुत अभियंता व कर्मचारियों कार्यरत है परन्तु ये आम जनता के सहयोग के बिना असम्भव है, इसलिए मुलतापी समाचार के माध्यम से आप लोग से अपील है कि केवल आप अपने घर के केवल लाइट ही बंद करे। अन्य उपकरण जैसे टीवी, फ्रिज, पंखा, कूलर, एसी आदि उपकरण का उपयोग हो रहा हो तो उसे बंद ना करे।

इसका एक तकनीकी कारण है।

पूरे देश मे लगभग 26.8करोड़ घर होंगे जिसमे जिसमे औसतन 10 लाइट होंगे और 10वॉट का एक लाइट भी मान ले तो 100 वॉट का एक घर से लोड रिलीफ मिलेगा जिसके चलते पूरे देश मे से अचानक 268000000×100=26800000000 वॉट का लोड (26800MW) का कम होने के कारण उच्च वोल्टेज हो जायेगा। जिसके कारण उपकरण क्षतिग्रस्त होने की संभावना हो सकती है। इसलिए सभी पाठकों से निवेदन है कि इस कठिन परिस्थितियों में सहयोग करे और केवल लाइट ही बंद करे और देश के माननीय प्रधानमंत्री जी और सभी आपातकालीन सेवा के में सहयोग करे और अपने घर पर रहे।

राजेश गोहिते, बिजली अभियंता

घर के बाहर निकल कर और एक जगह एकत्रित होकर हम मौत को ही न्यौता दे रहे हैं


इंसान की तरह मौत धोखा नहीं देती , लोग स्वयं बेमौत मरते हैं।

लॉकडाउन के समय घर से निकले लोगों की फाइल फोटो

मौत तो निर्धारित होती है, पर नासमझ लोग इसको अनिर्धारित कर देते हैं

एक फ़कीर शाम के वक़्त अपने दरवाज़े पर बैठा था, तभी उसने देखा कि एक छाया वहाँ से गुज़र रही है। फ़कीर ने उसे रोककर पूछा- कौन हो तुम ? छाया ने उत्तर दिया- मैं मौत हूँ और गाँव जा रही हूँ क्योंकि गाँव में महामारी आने वाली है। छाया के इस उत्तर से फ़कीर उदास हो गया और पूछा, कितने लोगों को मरना होगा इस महामारी में। मौत ने कहा बस हज़ार लोग। इतना कहकर मौत गाँव में प्रवेश कर गयी। महीने भर के भीतर उस गाँव में महामारी फैली और लगभग तीस हज़ार लोग मारे गए।

फ़कीर बहुत क्षुब्ध हुआ और क्रोधित भी कि पहले तो केवल इंसान धोखा देते थे, अब मौत भी धोखा देने लगी। फ़कीर मौत के वापस लौटने की राह देखने लगा ताकि वह उससे पूछ सके कि उसने उसे धोखा क्यूँ दिया। कुछ समय बाद मौत वापस जा रही थी तो फ़कीर ने उसे रोक लिया और कहा, अब तो तुम भी धोखा देने लगे हो। तुमने तो बस हज़ार के मरने की बात की थी लेकिन तुमने तीस हज़ार लोगों को मार दिया। इस पर मौत ने जो जवाब दिया वह गौरतलब है।
मौत बोली- मैंने तो बस हज़ार ही मारे हैं, बाकी के लोग (उनतीस हज़ार) तो नादानी और नासमझी से मारे गए। महामारी से बचाव जरुरी है,सुरक्षा जरुरी है। मौत के मुंह में खुद जाने वालों से मौत का कोई वास्ता नहीं। वे बेमौत मर कर उन्होंने भगवान की सृष्टि का अपमान ही किया। इसमें मेरा कोई दोष नहीं ,दोषी वे सब स्वयं है ।

दिल्ली की जनाजे की फाइल फ़ोटो

सही है, आज की संकट की इस घड़ी में देश के प्रधानमंत्री की बात न मानकर और घर के बाहर निकल कर,एक जगह एकत्रित होकर हम मौत को ही तो न्यौता दे रहे हैं।
मुलतापी समाचार

Modi Video Message : मोदी जी 5अप्रैल को रात 9 बजे मन का दीपक जलाये, काेेेेेेेेरोना खिलाफ दीवाली


देश का हाैैैसला बढायें

पीएम मोदी का वीडियो संदेश जारी, 5 अप्रैल को देशवासियों से ऐसा करने को कहा

मुलतापी समाचार

Modi Video Message Live Updates: मानव जाति के लिए चिंता का कारण बने कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई के तेज करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार सुबह 9 बजे देशवासियों के नाम एक वीडियो मैसेज जारी किया। (नीचे देखिए वीडियो) पीएम ने कहा, कोरोना वायरस ने हमारी आस्था, परंपरा, विश्वास, विचारधारा पर हमला बोला है। हमें इन्हें बचाने के लिए सबसे पहले कोरोना वायरस को परास्त करना है। आज आवश्यकता है कि सभी मत, पंथ, विचारधारा के लोग एकजुट होकर कोरोना महामारी को परजित करें। पीएम ने कहा कि 5 अप्रैल रविवार को रात नौ बजे घर की सभी लाइट्स बंद करके दीपक, मोम बत्ती या मोबाइल की फ्लैश लाइट जलाएं। 9 मिनट तक ऐसा करना है। यह प्रकाश उजागर करेगा कि कोरोना के खिलाफ हम सब मिलकर लड़ रहे हैं।

पीएम मोदी के संबोधन की बड़ी बातें

आपने जिस प्रकार 22 मार्च रविवार के दिन कोरोना के खिलाफ लड़ाई लड़ने वाले हर किसी का धन्यवाद किया वो भी आज सभी देशों के लिए एक मिसाल बन गया है। आज कई देश इसको दोहरा रहे हैं। ये लॉकडाउन का समय जरूर है, हम अपने अपने घरों में जरूर हैं, लेकिन हम में से कोई अकेला नहीं है। 130 करोड़ देशवासियों की सामूहिक शक्ति हर व्यक्ति के साथ है, हर व्यक्ति का।

हमारे यहां माना जाता है कि जनता जनार्दन, ईश्वर का ही रूप होती है। इसलिए जब देश इतनी बड़ी लड़ाई लड़ रहा हो, तो ऐसी लड़ाई में बार-बार जनता रूपी महाशक्ति का साक्षात्कार करते रहना चाहिए।

हमें निरंतर प्रकाश की ओर जाना है, जो इस कोरोना संकट से सबसे ज्यादा प्रभावित हैं, हमारे गरीब भाई-बहन उन्हें कोरोना संकट से पैदा हुई निराशा से आशा की तरफ ले जाना है।

इस कोरोना संकट से जो अंधकार और अनिश्चितता पैदा हुई है, उसे समाप्त करके हमें उजाले और निश्चितता की तरफ बढ़ना है। इस अंधकारमय कोरोना संकट को पराजित करने के लिए, हमें प्रकाश के तेज को चारो दिशाओं में फैलाना है।

इस रविवार 5 अप्रैल को, हम सबको मिलकर, कोरोना के संकट के अंधकार को चुनौती देनी है, उसे प्रकाश की ताकत का परिचय कराना है। इस 5 अप्रैल को हमें, 130 करोड़ देशवासियों की महाशक्ति का जागरण करना है।

घर की सभी लाइटें बंद करके, घर के दरवाजे पर या बालकनी में, खड़े रहकर, 9 मिनट के लिए मोमबत्ती, दीया, टॉर्च या मोबाइल की फ्लैशलाइट जलाएं: और उस समय यदि घर की सभी लाइटें बंद करेंगे। चारों तरफ जब हर व्यक्ति एक-एक दीया जलाएगा, तब प्रकाश की उस महाशक्ति का ऐहसास होगा, जिसमें एक ही मकसद से हम सब लड़ रहे हैं, ये उजागर होगा।

उस प्रकाश में, उस रोशनी में, उस उजाले में, हम अपने मन में ये संकल्प करें कि हम अकेले नहीं हैं, कोई भी अकेला नहीं है। 130 करोड़ देशवासी, एक ही संकल्प के साथ कृतसंकल्प हैं।

मेरी एक और प्रार्थना है कि इस आयोजन के समय किसी को भी, कहीं पर भी इकट्ठा नहीं होना है। रास्तों में, गलियों या मोहल्लों में नहीं जाना है, अपने घर के दरवाजे, बालकनी से ही इसे करना है।

Social Distancing की लक्ष्मण रेखा को कभी भी लांघना नहीं है। Social Distancing को किसी भी हालत में तोड़ना नहीं है। कोरोना की चेन तोड़ने का यही रामबाण इलाज है।

हमारे यहां कहा गया है-

उत्साहो बलवान् आर्य, न अस्ति उत्साह परम् बलम्।

स उत्साहस्य लोकेषु, न किंचित् अपि दुर्लभम्॥

यानि, हमारे उत्साह, हमारी स्प्रिट से बड़ी फोर्स दुनिया में कोई दूसरी नहीं है।

ऑनलाइन विडियों जरूर देखें