Category Archives: लॉक डाउन

जिलें में लॉकडाउन 4.0 की नई व्यवस्था कल से लागू होगी


बैतूल कलेक्टर श्री राकेश सिंह

एक-एक दिन खोली जाएंगीं बाएं एवं दाएं तरफ की दुकानें

दूध एवं फल-सब्जी की होम डिलेवरी/डोर-टू-डोर विक्रय की व्यवस्था पूर्वानुसार रहेगी

खाने-पीने की दुकानें एवं रेस्टोरेंट सिर्फ किचन खोलकर अनुमति उपरांत होम डिलेवरी कर सकेंगे

बैतूल – जिले में प्रभावशील लॉकडाउन के दौरान अब जिले के सभी नगरीय क्षेत्रों में मंगलवार 19 मई से एक दिन बाएं तरफ की एवं एक दिन दाएं हाथ तरफ की दुकानें खोली जाएगीं। बाएं एवं दाएं तरफ का चिन्हांकन सोमवार की रात्रि में ही संबंधित नगरीय निकाय द्वारा कर दिया जाएगा। दुकानें खोलने का यही क्रम आगामी आदेश तक जारी रहेगा।

कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी श्री राकेश सिंह ने सोमवार को जिला क्राइसिस मैनेजमेंट समूह की बैठक में विचार-विमर्श उपरांत बताया कि नगरीय क्षेत्रों में दुकानें खोलने का समय प्रात: 10 बजे से सायं 6 बजे तक रहेगा। दूध, फल एवं सब्जी की होम डिलेवरी/डोर-टू-डोर विक्रय की व्यवस्था पूर्वानुसार यथावत रखी गई है। यह बिक्री प्रात: 7 बजे से प्रात: 10 बजे तक की जा सकेगी। कलेक्टर ने बताया कि जिले में सभी खाने-पीने के रेस्टॉरेंट, दुकानें एवं चाय की दुकानें पूरी तरह बंद रखे जाएंगे। खाने-पीने की दुकानें/रेस्टोरेंट संबंधित तहसीलदार से नियमानुसार अनुमति प्राप्त कर मात्र किचन खोलकर खाद्य सामग्री की होम डिलेवरी कर सकेंगे।

ग्रामीण क्षेत्रों में दुकानें खोलने की व्यवस्था पूर्वानुसार ही रहेगी। लॉकडाउन के दौरान अन्य व्यवस्थाओं के संबंध में विस्तृत जानकारी पृथक से उपलब्ध कराई जाएगी।

प्रदीप डिगरसे मुलतापी समाचार बैतूल 9584390839

मध्‍यप्रदेश सेे छत्‍तीसगढ रवाना हुई स्‍पेशल ट्रेन वीडीयो देखे


मुलतापी समाचार

भोपाल। हबीबगंज, मध्य प्रदेश से रायपुर, छत्तीसगढ जा रहे श्रमिक स्पेशल ट्रेन के यात्री अपने घर जाने को लेकर खुश हैं और रेलवे की सुविधाओं को लेकर अपने विचार शेयर कर रहे हैं। उन्हें उनके घर भेजने के लिये रेलवे द्वारा उन्हें संक्रमण से सुरक्षा के सभी उपाय और सुविधायें भी दी गयी हैं।

बुधवार से जिलें के मुख्य मार्गों की सभी तरह की दुकानें एवं बाजार पूरी तरह बंद रहेगे।


बुधवार से जिलें के मुख्य मार्गों की सभी तरह की दुकानें एवं बाजार पूरी तरह बंद रहेगे।

नगरीय क्षेत्रों में किराना व्यवसायियों द्वारा प्रात: 7 बजे से प्रात: 11 बजे तक की जा सकेगी होम डिलेवरी

मोहल्ला एवं रहवासी बस्तियों की एकल दुकानें प्रात: 7 बजे से प्रात: 11 बजे तक ही खुल सकेंगी।

दो गज की दूरी के नियम का कड़ाई से पालन करना अनिवार्य होगा।

आदेश का उल्लंघन करने वालों पर भारतीय दंड संहिता की धारा 188 के तहत दण्डनीय कार्यवाही की जाएँगी।

बैतूल कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी श्री राकेश सिंह ने जिले में प्रभावशील लॉक-डाउन के दौरान व्यवस्थाओं में आवश्यक परिवर्तन किया है। मंगलवार को जारी आदेश के तहत नगरीय क्षेत्रों में सभी तरह के मुख्य सडक़ों की दुकानें एवं बाजार आगामी आदेश तक पूरी तरह से बंद रहेंगे।

कलेक्टर द्वारा जारी आदेशानुसार समस्त नगरीय क्षेत्रों से सब्जी/फलों का विक्रय मात्र डोर-टू-डोर होगा। यह विक्रय मात्र अनुमति प्राप्त वाहनों/ठेलों एवं दो पहिया वाहनों के किसानों द्वारा किया जाएगा। दो पहिया वाहनों के विक्रेता कृषकों को किसी अनुमति की आवश्यकता नहीं होगी।

सभी प्रकार के पोल्ट्री उत्पाद, अंडा, मछली विक्रय की दुकानें, नगरीय क्षेत्रों में किराना व्यावसायियों द्वारा माल/सामग्री वितरण की डोर-टू-डोर डिलेवरी, नगरीय क्षेत्रों में ट्रांसपोर्ट व्यवसायियों द्वारा माल की लोडिंग/अनलोडिंग प्रात: 7 बजे से 11 बजे तक की जा सकेगी।

नगरीय क्षेत्रों में दो पहिया वाहनों में आपातिक एवं मेडिकल इमरजेंसी के लिए ही निकला जा सकेगा एवं मात्र रोगी साथी को ले जाने के लिए दो सवारी की अनुमति होगी।

नगरीय क्षेत्रों में चार पहिया वाहनों पर भी आवागमन अत्यावश्यक कारणों से ही अनुमत होगा, जिसमें मेडिकल इमरजेंसी प्रमुख है।
दवाई की दुकानें एवं सभी प्रकार के नर्सिंग होम, अस्पताल, क्लीनिक पूर्ववत् खुले रहेंगे।

समस्त प्रकार के शासकीय कार्य एवं उसमें लगे कर्मी, अधिकारी/कर्मचारी वाहन पूर्वानुसार आवागमन कर सकेंगे।

अत्यावश्यक सेवा होने से सायं 7 बजे से प्रात: 7 बजे का प्रतिबंध भी इससे संबंधित व्यक्तियों एवं वाहनों पर लागू नहीं होगा।

किसी भी प्रकार के होटल, रेस्टोरेंट, खाने-पीने की दुकानें, सेलून, पार्लर, पान-गुटखा किसी भी तरह रोड के किनारे लगाई जाने वाली दुकानें, सभी हाट बाजार बंद रहेंगे।

नगरीय क्षेत्रों में एमपी ऑनलाइन कियोस्क केन्द्र,
सभी प्रकार की मशीनरी, घरेलू उपकरण रिपेयर करने वाले मैकेनिक, प्लंबर, इलेक्ट्रीशियन, कारपेंटर, समस्त प्रकार की कृषि उपकरण यंत्र संबंधी दुकानें, खाद-बीज, कीटनाशक, कृषि के यंत्र व औजार, कृषि कार्य के ट्रैक्टर, मोटर पंप की छोटी रिपेयर दुकानें प्रात: 7 बजे से प्रात: 11 बजे तक खुल सकेंगी।

गेहूं उपार्जन एवं इसमें लगे समस्त प्रकार के कर्मी भी नगरीय क्षेत्रों में अपना पहचान पत्र दिखाते हुए आवागमन कर सकेंगे। अत्यावश्यक सेवा होने से सायं 7 बजे से प्रात: 7 बजे का प्रतिबंध भी इससे संबंधित व्यक्तियों एवं वाहनों पर लागू नहीं होगा।

यह आदेश 13 मई 2020 से आगामी आदेश पर्यन्त प्रभावशील रहेगा।

प्रदीप डिगरसे मुलतापी समाचार बैतूल

लॉकडाउन में फंसे प्रवासी मजदूरों और छात्रों को लाने के लिए चलाई ट्रेन, राज्यों से किराया वसूलेगी रेलवे, देखे वीडियों


मुलतापी समाचार

रेलवे (Railway) ने कहा कि ‘श्रमिक स्पेशल’ ट्रेन के किराए में नियमित स्लीपर क्लास के टिकटों की कीमत के अलावा 30 रुपये सुपरफास्ट चार्ज और खाने व पानी के लिए 20 रुपये का अतिरिक्त शुल्क लिया जाएगा.

नई दिल्ली. कोरोना वायरस महामारी (Coronavirus Pandemic) को रोकने के लिए लागू देशव्यापी लॉकडाउन में फंसे मजदूरों की घर वापसी के लिए सरकार ने बड़ा फैसला किया है. गृह मंत्रालय (Ministry of Home Affairs) ने रेलवे को प्रवासी मजदूरों और छात्रों को लाने के लिए स्पेशल ट्रेन (Train) चलाने की मंजूरी दे दी है. इसके बाद रेलवे ने स्पेशल ट्रेनों के टिकटों का किराया वसूलने का फैसला किया है. रेलवे एक अधिकारी ने कहा कि लॉकडाउन में फंसे प्रवासी कामगारों को लाने के लिए वह राज्यों से किराया वसूला जाएगा.

रेलवे ने कहा कि ‘श्रमिक स्पेशल’ ट्रेन के किराए में नियमित स्लीपर क्लास के टिकटों की कीमत के अलावा 30 रुपये सुपरफास्ट चार्ज और खाने व पानी के लिए 20 रुपये का अतिरिक्त शुल्क लिया जाएगा. इसमें लंबी दूरी की ट्रेनों में भोजन और पीने का पानी शामिल होगा.

विशेष ट्रेन चलाने की अनमित

बता दें कि लॉकडाउन के कारण देश के विभिन्न हिस्सों में फंसे हुए लाखों प्रवासी मजदूरों, पर्यटकों, छात्रों और अन्य लोगों को बुधवार को कुछ शर्तों के साथ उनके गंतव्यों तक जाने की अनुमति दी है. आपदा प्रबंधन अधिनियम के तहत प्रदत्त शक्तियों का उपयोग करते हुए केंद्रीय गृह सचिव अजय भल्ला ने कहा कि प्रवासी मजदूरों, तीर्थयात्रियों, छात्रों और विभिन्न स्थानों पर फंसे अन्य लोगों के आवागमन को रेल मंत्रालय द्वारा चलाई जाने वाली विशेष ट्रेनों के माध्यम से अनुमति है. उन्होंने कहा कि रेल मंत्रालय आवागमन को लेकर राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों के साथ समन्वय के लिए नोडल अधिकारी नामित करेगा.

तेलंगाना से झारखंड के लिए चली पहली ट्रेन
प्रवासी मजदूरों को उनके घर तक पहुंचाने के लिए तेलंगाना में लिंगमपल्ली (Lingampalli (Hyderabad) से झारखंड के हटिया तक (Hatia (Jharkhand) 1200 प्रवासियों को ले जाने वाली पहली ट्रेन शुक्रवार सुबह 4:50 बजे चली. 24 कोच की ट्रेन आज रात 11 बजे झारखंड के हटिया पहुंचेगी. दिशानिर्देशों के अनुसार क्वारंटीन आदि सहित सभी उचित प्रक्रिया का पालन किया जाएगा. लिंगमपल्ली (हैदराबाद) से हटिया (झारखंड) तक जो विशेष ट्रेन चलाई गई वो तेलंगाना सरकार के अनुरोध पर और रेल मंत्रालय के निर्देशानुसार चलाई गई है.

pm बड़ा ऐलान, देश में लॉकडाउन की अवधि दो सप्‍ताह और बढ़ी, 4 से 17 मई तक रहेगा


सरकार का बड़ा ऐलान, देश में लॉकडाउन की अवधि दो सप्‍ताह और बढ़ी, 4 से 17 मई तक रहेगा जारी

लॉकडाउन को लेकर बड़ी खबर है। देश में जारी लॉकडाउन की अवधि को दो सप्‍ताह के लिए और बढ़ा दिया गया है।अब यह 4 मई से 17 मई तक जारी रहेगा। 3 मई को लॉकडाउन की अवधि समाप्‍त होने जा रही थी। आज सरकार ने इस संबंध में आदेश जारी कर दिए हैं।

गृह मंत्रालय ने आपदा प्रबंधन अधिनियम, 2005 के तहत 4 मई से आगे दो सप्ताह की लॉकडाउन अवधि को आगे बढ़ाने के लिए आदेश जारी किया। अब 18 मई तक लॉकडाउन प्रभावी रहेगा। इस दौरान सार्वजनिक परिवहन जैसे रेलवे और विमान जैसी सेवाएं स्‍थगित रहेंगी। हालांकि, ग्रीन जोन में गृह मंत्रालय द्वारा दी गई छूट जारी रहेगी।

स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय के अनुसार, देश में रेड जोन के तहत 130 जिले, ऑरेंज जोन के तहत 284 जिले और ग्रीन जोन के तहत 319 जिलों को रखा गया है। हर सप्‍ताह इसका आकलन किया जाएगा और संक्रमित मामलों के अनुसार जोन में बदलाव होगा।

Lockdown के आगे की स्थिति को लेकर पीएम मोदी ने गृहमंत्री अमित शाह, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण, चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ विपिन रावत, रेलमंत्री पियूष गोयल सहित सेक्रेट्री लेवल के कई अन्य वरिष्ठ अधिकारियों के साथ हाई लेवल मीटिंग की थी। इससे पहले पीएम मोदी ने देश के मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक कर विभिन्न राज्यों में कोरोना की स्थिति, इलाज की व्यवस्था, राहत कार्यों का जायजा लिया था। तब अधिकांश राज्यों ने लॉक डाउन बढ़ाने की बात की थी।

गौरतलब है कि पिछले 24 घंटे में भारत में 1,993 पॉजिटिव मामले सामने आए हैं, जिससे कुल मामले 35,043 हो गई है, इसमें से 25,007 मामले सक्रिय हैं। 24 घंटे में लगभग 600 लोग ठीक भी हुए। देश में रिकवरी रेट 25 फीसद से अधिक होने के बाद भी कोराना वायरस के मरीजों की संख्‍या लगातार बढ़ रही है। यही कारण है कि देश में सावधानी बरती जा रही है।

फल, सब्जी, मोहल्लों की किराना एवं अन्य दुकानों के खुलने की व्यवस्थाओं में परिवर्तन


दुकान खोलने एवं डोर-टू-डोर डिलेवरी के समय में प्रात: 6 बजे से प्रात: 11 बजे तक शिथिलता

Multapi Samachar

#MPFightsCorona

कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी श्री राकेश सिंह ने लॉक-डाउन के दौरान जिले में सब्जी, फल, मोहल्लों की किराना व अन्य दुकानें खुलने के पूर्व निर्धारित समय एवं आवश्यक सामग्रियों की डोर-टू-डोर सप्लाई के समय में परिवर्तन किया है। कलेक्टर ने बताया कि अब नगरीय क्षेत्रों में जो दुकानें प्रात: 7 बजे से प्रात: 10 बजे तक खुल रही थीं, वे प्रात: 6 बजे से प्रात: 11 बजे तक खोली जा सकेंगी।

नगरीय क्षेत्रों में आवश्यक सामग्रियों की डोर-टू-डोर डिलेवरी का समय पूर्व में प्रात: 7 बजे से प्रात: 10 बजे तक था, अब वह प्रात: 6 बजे से प्रात: 11 बजे तक रहेगा।

बैतूल नगर एवं अन्य नगरीय क्षेत्रों में थोक सब्जी मण्डी खोले जाने का समय सायं 5 बजे से रात्रि 11 बजे तक रहेगा। बैतूल नगरीय क्षेत्र की सब्जी मण्डी कृषि उपज मण्डी बडोरा में संचालित होगी।

अन्य नगरीय क्षेत्रों में सब्जी मण्डी के लिए स्थान संबंधित एसडीएम अथवा कार्यपालिक दण्डाधिकारी द्वारा तय किया जाएगा।इस समय में ही सब्जी एवं जिले में उत्पादित फलों के विक्रेता किसान आदि थोक विक्रेताओं को विक्रय कर सकेंगे एवं इसी समय में थोक विक्रेताओं से फुटकर विक्रेता माल प्राप्त कर सकेंगे।फल एवं सब्जी के फुटकर विक्रेता प्रात: 6 बजे से प्रात: 11 बजे तक चलित साधनों जैसे-हाथ ठेला, चार पहिया छोटा लोडिंग वाहन से नगर पालिका से वार्डवार अनुमति लेकर उन्हीं वार्डों में बिक्री कर सकेंगे।

यह बात ध्यान देने योग्य है कि पूर्व व्यवस्था अनुसार ग्रामीण क्षेत्रों के फल एवं सब्जी उत्पादक किसान जो दोपहिया वाहन से अपनी सब्जी/फल लाकर बेचते हैं, उन्हें किसी अनुमति की व्यवस्था नहीं होगी। वे अपना विक्रय कार्य प्रात: 6 बजे से प्रात: 11 बजे के बीच कर सकेंगे।जिले के नगरीय क्षेत्रों में छोटे चार पहिया वाहनों से पूर्व से प्रचलित सब्जी, फल विक्रय की अन्य जो भी व्यवस्था है, उसके संबंध में संबंधित नगर पालिका से अनुमति प्राप्त करना आवश्यक होगी।

संबंधित नगरपालिका के समक्ष ऐसे फुटकर विक्रेताओं के आवेदन को क्षेत्रवार इस प्रकार से अनुमति देगी, जिससे किसी विशेष क्षेत्र में अनावश्यक भीड़ न हो एवं सोशल डिस्टेंसिंग का पूर्णत: पालन हो।कलेक्टर ने बताया कि बैतूल नगर में जिले के बाहर से आने वाले फलों हेतु यह व्यवस्था की जाती है कि कंपनी बाग के पास स्थित थोक विक्रेता, फुटकर विक्रेताओं को सायं 5 बजे से रात्रि 11 बजे तक यह फल सामग्री प्रदाय कर सकेंगे। फुटकर विक्रेताओं को चलित साधनों जैसे-हाथ ठेला, छोटे चार पहिया लोडिंग वाहन से इनकी बिक्री की अनुमति संबंधित नगरपालिका को क्षेत्रवार देना होगी एवं इस प्रकार नियंत्रण रखना होगा कि किसी क्षेत्र में अनावश्यक भीड़ न हो।

नगरीय निकायों को फुटकर फल एवं सब्जी विक्रेताओं के लिए इस प्रकार की अनुमतियां देते हुए सामान्य परामर्श एवं निर्देश संबंधित एसडीएम अथवा कार्यपालन दण्डाधिकारी से प्राप्त करना होंगे। इस संबंध में संबंधित पुलिस अधिकारियों का भी अभिमत लिया जाएगा।फलों एवं सब्जियों की विक्रय व्यवस्था, थोक सप्लाई चैन आदि की नोडल एजेंसी संबंधित नगरीय निकाय रहेंगे।

एसडीएम/कार्यपालिक मजिस्ट्रेट के सामान्य नियंत्रण में समस्त कार्रवाई एवं निगरानी सम्पन्न होगी।समस्त थोक एवं फुटकर विक्रय के स्थानों पर पूरी तरह से सोशल डिस्टेंसिंग (6 फीट की दूरी), मास्क लगाना एवं सभी को व्यवस्था में सहयोग करना बंधनकारी होगा। उल्लंघन की दशा में दण्ड प्रक्रिया संहिता की धारा 188 के अंतर्गत कार्रवाई की जाएगी।

आमजन से अपील की गई है कि इस सुविधा के साथ लागू प्रतिबंधों का भी वे पालन करें, अन्यथा उल्लंघनकर्ताओं के विरूद्ध दण्डात्मक कार्रवाई की जा सकेगी।कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी ने उक्त आदेश दण्ड प्रक्रिया संहिता की धारा 144 के अंतर्गत जारी किया है। पूर्व में जारी समस्त आदेश उक्त आदेश से संशोधित रहेंगे, परन्तु शेष विषय वस्तु पूर्वानुसार लागू रहेगी। आदेश एकपक्षीय रूप से प्रभावशील किया गया है।

कटनी, शहडोल, सागर सहित अन्य जिलों के 58 मजदूरों को बसों से घर भेजा


लॉकडाउन में फंसे मजदूरों को मिला सहारा।

हरदा। बसों से घर की ओर रवाना होते मजदूर।

नासिक से आए प्रेमलाल केवट परिवार सहित कटनी के लिए हुए रवाना।

हरदा। मंगलवार सुबह घर जाने के लिए हंगामा करने वाले मजदूरों को जिला प्रशासन ने उनके घर पहुंचा दिया है। जिला प्रशासन द्वारा प्रदेश के अनेक जिलों के मजदूरों को उनके घरों तक पहुंचाने के लिए बसों की व्यवस्था की गई और विभिन्ना जिलों के 58 मजदूरों को दो बसों द्वारा रवाना किया गया। जिसमें कटनी के 26, मंडला के तीन,शहडोल के चार, उमरिया के तीन, सागर के पांच, सिवनी के चार, नरसिंहपुर के एक, दमोह के पांच एवं पन्नाा के सात व्यक्तियों को दो बसों द्वारा उनके गृह जिलों में भेजा गया है। इनमें से अधिकांश मजदूर महाराष्ट्र के विभिन्न शहरों से हरदा पहुंचे थे। जिला प्रशासन द्वारा शासकीय पॉलीटेक्निक महाविद्यालय में इनके ठहरने एवं भोजन की व्यवस्था की गई थी। लेकिन मंगलवार को घर जाने की जिद करते हुए इन्होंने आश्रय स्थल का गेट तोड़कर हंगामा कर दिया था।

तहसील कार्यालय मुलताई के समस्त कर्मचारियों द्वारा दीनदयाल रसोई को 36,501रु. की सहायता राशि दी


 मुलताई। वैश्विक महामारी कोरोना के चलते जरूरतमन्दों को भोजन कराने के लिए प्रशासन द्वारा दीनदयाल रसोई का संचालन किया जा रहा है , जिसमे नगर के सभी संघटनो द्वारा निरन्तर सहायता प्रदान की जा रही हैं , शुक्रवार को भी तहसील कार्यालय मुलताई के समस्त अधिकारी , पटवारी एवं कर्मचारियो द्वारा नगरपालिका CMO राहुल शर्मा को 36,501 की रुपये की सहायता राशि सौपी ।

CMO राहुल शर्मा व नपा द्वारा तहसील कार्यालय के समस्त कर्मचारियों को इस सहयोग के लिए धन्यवाद प्रेषित किया गया ।।

आंगनवाड़ी कार्यकर्ता घर घर पहुंचा रही पोषण आहार,माक्‍स वितरण एवं पक्षीयों के ली सुध


तपती गर्मी में आंगनवाडी केन्‍द्राेें पर पक्षियों के लिए की दाने पानी की व्यवस्था

आंगनवाड़ी कार्यकर्ता पौनी सोपई गौला डोंगरपुर जामगांव मोहरखेडा मास्क वितरण करतेे हुए

मुलताई। नोवल कोरोना वायरस के संक्रमण की रोकथाम के लिए किए गए टोटल लॉकडाउन के दौरान भी आंगनवाड़ी कार्यकर्ता अपने कर्त्तव्यों का निबार्ध्‍य रूप से पालन कर रही हैं। आंगनवाड़ी केंद्रों के बंद रहने की स्थिति में आंगनवाड़ी सेवा से संबद्ध 6 माह से 6 वर्ष तक के आयु वर्ग के बच्चों एवं गर्भवती व धात्री माताओं को टेक होम राशन और पोषण आहार प्रदाय किया जा रहा है। सेक्टर में आंगनवाड़ी केंद्रों में 3 से 6 वर्ष की आयु वर्ग के बच्चों को मिलने वाले नाश्ता और गर्म पका भोजन व्यवस्था प्रभावित होने के कारण रेडी टू ईट पूरक पोषण आहार की व्यवस्था सुनिश्चित की गई है। ये सामग्री आंगनवाड़ी कार्यकर्ता अपने घरों में तैयार कर रही हैं।

महिला बाल विकास विभाग परियोजना मुलताई की सुपरवाइजर सुश्री सकु गलफट ने बताया कि खेेेेेेेेडीकोट सेक्टर में आंगनवाड़ी कार्यकर्ता पौनी, सोपई, गौला, डोंगरपुर, जामगांव, मोहरखेडा, मास्क वितरण करतेे हुए समस्त आंगनवाड़ी केंंद्रों कार्यकर्ताओं द्वारा 3 से 6 वर्ष की आयु वर्गके बच्‍चों को मिलने वाले नाश्‍ता और गर्म पका भोजन व्‍यवस्‍था प्रभावित होने के कारण रेडी-टू-ईट का वितरण घर घर जाकर किया एवं कोविड 19 के बचाव के लिए स्वंय के द्वारा मास्क बनाकर वितरण करनेे की व्‍यवस्‍था की गई है और साथ ही इस तपती गर्मी में आंगनवाडी केन्‍द्राेें पर पक्षियों के लिए की दाने पानी की व्यवस्था की जा रही है।

तपती गर्मी में आंगनवाडी केन्‍द्राेें पर पक्षियों के लिए की दाने पानी की व्यवस्था

रेडी टू इट आंगनवाड़ी केन्द्र पोहर परियोजना मूलताई में 3 से 6 वर्ष की आयु वर्ग के बच्चों को मिलने वाले नाश्ता और गर्म पका भोजन व्यवस्था प्रभावित होने के कारण रेडी टू ईट पूरक पोषण आहार की व्यवस्था सुनिश्चित की गई है। ये सामग्री आंगनवाड़ी कार्यकर्ता अपने घरों में तैयार कर रही हैं।

मास्क वितरण सोपई गौला डोंगरपुर जामगांव मोहरखेडा लडडु वितरण रेडी-टू-ईट जामगांव सोपई मोहरखेडा

मुलतापी समाचार सभी महिला एवं बाल विकास अधिकारी पर्यवेक्षक और हमारी आंगनवाडी कार्यकताफ्रन्‍टलाईन वर्कर, कोरोना वारियर्स जो की कोरोना वैश्‍यविक महामारी में जन हित के लिए सजग और सुचारू रूप से जागरूकता, घर घर पोषण आहार वितरण, स्‍वयं माक्‍स बनाकर वितरण कार्य निरंतर करने हेतु धन्‍यवाद करता है

क्वारंटाइन सेंटर से भागे 16 लोग बैतूल


Raisain स्वास्थ्य विभाग की टीम को गांव में नहीं घुसने दिया

Coronavirus Betul News : Multapi Samachar

बैतूल, रायसेन ।मध्‍य प्रदेश के बैतूल जिले के शाहपुर में बनाए गए एकलव्य बालक छात्रावास के क्वारंटाइन सेंटर से दो दिनों के भीतर 16 लोग भाग गए। इस सेंटर में लॉकडाउन शुरू होने के बाद अन्य प्रदेशों से आए 132 लोगों को रखा गया है।

30 मार्च को क्वारंटाइन किया गया था

भागने वालों में गुना और ग्वालियर के लोग हैं। सभी को 30 मार्च को क्वारंटाइन किया गया था। एसडीएम हरसिमरन कौर ने बताया कि कुछ लोगों के भागने की जानकारी मिली है। सभी को यहां रुके हुए 14 दिनों से ज्यादा का समय बीत गया है, इसलिए खतरे जैसी कोई बात नहीं है।संबंधित क्षेत्रों में इसकी जानकारी दी जा रही है।

स्वास्थ्य विभाग की टीम को गांव में नहीं घुसने दिया

उधर, एक अन्य घटनाक्रम में स्वास्थ्य विभाग की टीम को मंगलवार दोपहर रायसेन जिले के ग्राम अल्ली के 200 ग्रामीणों ने गांव में नहीं घुसने दिया और घेर लिया। स्थिति बिगड़ती देख टीम को लौटना पड़ा। बता दें कि जिले में मिले 18 पॉजिटिव मरीज में से 10 ग्राम अल्ली के हैं। मरीजों के स्वजनों और गांव में घर-घर का सर्वे करने के लिए स्वास्थ्य विभाग की टीम गांव पहुंची थी।