Category Archives: लॉक डाउन

Betul जिले की समस्त स्वास्थ्य संस्थाओं में आगामी आदेश तक नि:शुल्‍क पंजीयन


ड्यूटी पर कार्यरत स्टाफ नर्सों को लाने-ले जाने हेतु परिवहन एवं आवासीय व्यवस्था के निर्देश

बैतूल। कोविड-19 कोरोना वायरस संक्रमण के संभावित जोखिम को दृष्टिगत रखते हुए जिले की समस्त शासकीय चिकित्सा संस्थाओं में आगामी आदेश तक किसी भी मरीज से कोई पंजीयन शुल्क या अन्य शुल्क नहीं लिया जाएगा। इस संदर्भ में वरिष्ठ कार्यालय से आदेश जारी कर निर्देशित किया गया है। डॉ. चौरसिया ने बताया कि 14 अप्रैल तक देशव्यापी लॉक डाउन किया गया है एवं शासन द्वारा विभिन्ना आदेशों के माध्यम से आम जनता को राहत प्रदान की जा रही है।

बैतूल। सीएमएचओ डॉ. जीसी चौरसिया ने बताया कि कोई भी कोरोना पॉजीटिव मरीज यदि जिला चिकित्सालय में भर्ती होता है तो ड्यूटी पर कार्यरत स्टॉफ को आवश्कतानुसार इमरजेंसी की स्थिति में लगातार ड्यूटी करनी पड़ सकती है। जिससे संक्रमण फैलने का अंदेशा रहता है, इस स्थिति में शासन द्वारा आवास, भोजन एवं परिवहन की व्यवस्था उपलब्ध कराई जाएगी। कोरोना वायरस कोविड-19 के उपचार हेतु जिला चिकित्सालय एवं सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में ड्यूटी पर कार्यरत स्टाफ नर्सों को ड्यूटी के लिये घर से लाने व घर वापस छोड़ने के निर्देश सम्पूर्ण जिले हेतु जारी किये गए हैं।

भैैंसदही संक्रमित युवक के 7 परिजनों के सैंपल लिए, कफ्यू जारी


जिले भर में लॉकडाउन को प्रभावी बनाने के लिए प्रशासन ने दिए निर्देश

मुलतापी समाचार

भैंसदेही। कलेक्टर राकेश सिंह एवं पुलिस अधीक्षक डीएस भदौरिया ने भैंसदेही पहुंचकर अधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश दिए।

Betul News

भैंसदेही, बैतूल। महाराष्ट्र के रास्ते बैतूल जिले में कोरोना की दस्तक दिलाने वाले भैंसदेही के संक्रमित युवक के 7 परिजनों के अलावा कुल 20 लोगों के स्वास्थ्य की जांच करने के बाद उन्हें क्वारंटाइन कर दिया गया है, जबकि 8 मरीज आइसोलेशन में भर्ती किए गए हैं। भैंसदेही के युवक को कारोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद देर रात भैंसदेही में कर्फ्यू लगाने के साथ 3 किमी के क्षेत्र को कंटेनमेंट एरिया घोषित कर दिया गया है।

कलेक्टर राकेश सिंह एवं पुलिस अधीक्षक डीएस भदौरिया मंगलवार को भैंसदेही पहुंचे और वहां कर्फ्यू की प्रभावशीलता की स्थिति देखी। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए कि यहां कर्फ्यू पूरा सख्ती के साथ लागू किया जाए। कलेक्टर ने बताया कि यहां पाए गए कोरोना पॉजिटिव मरीज के सम्पर्क में आए सात लोगों के सैंपल ले लिए गए हैं एवं उनको क्वारंटाइन में रखा गया है। संक्रमित युवक के संपर्क में आए अन्य लोगों के भी सैंपल लिए जा रहे हैं। प्रशासन संक्रमित युवक को नागपुर से भैंसदेही लाने भैंसदेही से बैतूल लाने और वापस ले जाने वाले वाहन के चालक के भी सैंपल लेकर प्रयोगशाला में जांच के लिए भेजने की तैयारी कर रहा है।

परिजनों को क्वारंटाइन सेंटर में रखाः भैंसदेही के कोरोना संक्रमित युवक के 7 परिजनों को बालक छात्रावास में बनाए गए क्वारंटाइन सेंटर में रखा गया है। सभी के स्वास्थ्य की जांच करने के बाद सैंपल लेकर प्रयोगशाला में जांच के लिए भेजे गए हैं। प्रशासन ने संक्रमित युवक के घर से सटे घरों के 45 लोगों को निगरानी में रखा है। संक्रमित युवक को भैंसदेही के स्वास्थ्य केंद्र में आइसोलेट किया है जहां डॉक्टरों की टीम और स्टॉफ द्वारा उसके स्वास्थ्य की सतत निगरानी की जा रही है। भैंसदेही बीएमओ एमएस सेवरिया ने बताया कि सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र को पूरी तरह से खाली कर दिया है। क्षेत्र के सामान्य मरीज उपचार के लिए आठनेर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र जाएंगे,जबकि प्रसूति के लिए भी महिलाओं को आठनेर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र भेजा जाएगा।

14 संदिग्धों के लिए सैंपल, 42 की रिपोर्ट आने का इंतजारः सीएमएचओ जीसी चौरसिया ने बताया कि 7 अप्रैल की शाम 7 बजे तक जिले में कुल 14 संदिग्धों के सैंपल लेकर प्रयोगशाला में जांच के लिए भेजे गए हैं। मंगलवार को एक भी जांच रिपोर्ट प्राप्त नही हुई है। अब तक लिए गए 48 सैंपलों में से 6 की ही रिपोर्ट प्राप्त हुई है जिसमें 5 निगेटिव पाए गए हैं और एक पॉजिटिव पाया गया है। जिले भर में 20 लोगों को क्वारंटाइन किया गया है, जबकि होम आइसोलेशन में 2025 लोगों को रखा है। जिले में अब तक स्वास्थ्य विभाग के द्वारा कुल 25268 लोगों की स्क्रीनिंग की जा चुकी है।

जिले में सभी प्रकार की दुकानें बंद रहेंगीः जिले के भैंसदेही में एक मरीज कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के फलस्वरूप कलेक्टर एवं जिला दंडाधिकारी राकेश सिंह ने उक्त मरीज की कान्टेक्ट ट्रेसिंग हिस्ट्री को देखते हुए समूचे जिले में आमजन को शारीरिक दूरी का सख्ती से पालन करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने नागरिकों से अपेक्षा है कि वे लॉक-डाउन का अच्छी तरह पालन करें तथा एक-दूसरे के संपर्क में न आएं। कलेक्टर ने कहा है कि कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव एवं रोकथाम के दृष्टिगत बुधवार से बैतूल नगर सहित समूचे जिले में सभी तरह की दुकानें बंद रखे जाने के आदेश दिए गए हैं। कर्फ्यू प्रभावित भैंसदेही को छोड़कर अन्य स्थानों पर प्रातः 7 बजे से प्रातः 10 बजे के बीच सिर्फ आवश्यक वस्तुओं की होम डिलेवरी की जा सकेगी। भैंसदेही छोड़कर अन्य स्थानों पर दवा दुकानें खुली रखी जा सकेंगी, परंतु इन दुकानों से शारीरिक दूरी मेंटेन करते हुए सिर्फ चिकित्सक के पर्चे पर ही दवाएं क्रय की जा सकेगी। किसी भी स्थान पर हाथठेलों पर सब्जी-फल इत्यादि के विक्रय की अनुमति नहीं होगी। उक्त व्यवस्था आगामी आदेश तक प्रभावशील रहेगी। उन्होंने कहा है कि भैंसदेही में कर्फ्यू पूरी सख्ती से प्रभावशील रहेगा।

ट्रेवल हिस्ट्री तलाश रहा प्रशासनः भैंसदेही के कोरोना संक्रमित युवक को नागपुर से भैंसदेही लाए जाने के लिए भैंसदेही थाना प्रभारी द्वारा अनुमति दी गई थी, लेकिन थाना प्रभारी तरन्नाुम खान ने कोई अनुमति पास जारी करने से ही इन्कार कर दिया है और इसकी स्वयं जांच करने का हवाला दिया है। नागपुर से संक्रमित युवक जिस चार पहिया वाहन में सवार होकर आया था उसे चलाने वाले ड्राइवर से पूरे रास्ते की जानकारी ली जा रही है। इसके अलावा 4 दिन तक युवक घर के बाहर किन लोगों के संपर्क में आया इसकी भी पड़ताल की जा रही है। संक्रमित युवक को जिला अस्पताल तक लाने और वापस ले जाने वाले वाहन चालक एवं स्वास्थ्यकर्मियों का भी पता लगाया जा रहा है।

LockDown in Bhopal : इंदौर के बाद भोपाल में पुलिसकर्मियों पर धार दार हथियार से हमला, हिस्‍ट्रीशीटर बदमाश और साथियों


LockDown in Bhopal

मुलतापी समाचार

भोपाल हमले में घायल पुलिसकर्मी

भोपाल । इंदौर के बाद अब भोपाल में सामने आया मामला लॉक डाउन का पालन कराने के लिए तलैया इलाके में स्थित इस्लामनगर पहुंची पुलिस पर बाहर घूम रहे कुछ बदमाशों ने धारदार हथियार से हमला कर दिया। सोमवार रात करीब साढ़े दस बजे एक बदमाश ने अपने दर्जनभर साथियों के साथ मिलकर छह पुलिस कर्मियों पर हमला किया है।

पुलिस ने इन लोगों को बाहर घूमने से रोका था। जिस पर तीन बदमाशों ने दो पुलिस कर्मियों पर दनादन छुरा चला दिया। एक पुलिसकर्मी के हाथ में तो दूसरे के कंधे में चोट लगी है। वारदात के बाद बदमाश मौके से फरार हो गए। घायलों को हमीदिया अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

तलैया थाना टीआई डीपी सिंह के अनुसार शाहिदिया स्कूल के पीछे रात में 15 से 20 लोग समूह में घूम रहे थे। इस दौरान आरक्षक लक्ष्मण यादव और सतीश सिंह ने उनको घर जाने के लिए बोला। जिस पर यह लोग पुलिस से विवाद करने लगे।

तभी शाहिद कबूतर, मजिद मामू और मोहसिन कचौड़ी ने मिलकर दोनों पुलिस कर्मियों पर हमला कर दिया। जब तक बाकी पुलिस कर्मी उनके पास मदद करने पहुंचते, आरोपित हमला कर भागने में कामयाब हो गए।

जहां पुलिस कर्मियों पर हमला किया गया है। वह इलाका कंटेनमेंट एरिया घोषित किया गया है। एक जमाती यहां कोरोना संक्रमित मिला था। तीनों आरोपित बदमाश हैं। उनका पुराना अपराधिक रिकॉर्ड भी है। उनके साथ घूम रहे 15 लोगों की तलाश की जा रही है।

Multapi Samachar

पवित्र नगरी मुलताई में अब से ड्रोन कैमरे के माध्यम से निगरानी की जाएगी वीड़ियो देखे


मुलतापी समाचार

अब एक पैनी नजर निगाह हम सब पर

यूट्यूब चैनल को देखें लाईक करें, शेयर करें, सब्सक्राइब जरूर करे ताकि हम ओर नयी खबरें आप तक पहुचा सकें

5 अप्रैल को शाम 9 बजे, 9 मिनट लाइट बंद की खबर का विशलेेेेेेषण


भारत देश 5 अप्रैल को शाम 9 बजे, 9 मिनट लाइट बंद की खबर का विशलेेेेेेषण ि‍चित्र के माध्‍यम सेे समझाने का प्रयास

पूरे देश में 9 मिनट मोदी की अपील परजनता द्वारा लाइट बंद करने पर विश्लेषण

भारत देश के मध्‍यप्रदेश और महाराष्‍ट्र 5 अप्रैल को शाम 9 बजे, 9 मिनट लाइट बंद की खबर का विशलेेेेेेषण ि‍चित्र के माध्‍यम सेे समझाने का प्रयास

5 अप्रैल को शाम 9बजे , 9मिनट के लिए सभी घर के लाइट बंद करे साथ ही अन्य उपकरण चालू रखें , तकनीकी कारण पढ़े

मुलतापी समाचार

मध्‍यप्रदेश। महाराष्‍ट्र । मोदी जी के आपिल पर 5 अप्रैल को शाम 9 बजे, 9 मिनट के संदर्भ में प्रकाशित खबर का विश्लेषण किया गया है जिसका आज आप लोगो को उस जानकारी से रूबरू करााते है। ये फोटो है जिसमे माँग ग्राफ में दिखाया गया है कि 08:55 शाम को (डिमांंड) 114,455 MW है तथा 9:10 शाम को 85829 MW (डिमांंड) (लगभग 26800 MW (डिमांंड) का कम होने का अनुमान था ) और 28626 MW की (डिमांंड) कम हुई थी जिसके कारण परिस्थिति विकट होने की सम्भावना की गई थी परन्तु अनेक तरह के प्रयास से विधुत अभियन्ताओं की लगन और मेहनत और आम जन की जागरूकता से यह कठिन समय का सामना किया गया।

इसी तरह मध्यप्रदेश और महाराष्ट्र की माँग ग्राफ है जिसमे दिखाया गया है कि तरह से माँग की कमी आयी थी।

Corona सैनिक : 6 माह की गर्भवती होने के बावजूद ऑन ड्यूटी, पति से कहा- फर्ज पहले छुट्टी बाद में


राजकोट. गुजरात के राजकोट में कोरोना वॉरियर्स से जुड़े अनेक किस्से सामने आ रहे हैं। यहां की एक महिला एएसआई का वीडियो भी सोशल साइट्स पर वायरस हो रहा है। नसरीन जुनैद बेलीम नामक एएसआई छह माह की गर्भवती है। उसके बावजूद वह ऑन ड्यूटी रहती है। उसका परिवार उसे लेकर चिंतित है, पर उसका हौंसला बरकरार है। शौहर ने उससे कहा कि, छुट्टी ले लो, तो नसरीन जुनैद बोलीं कि फर्ज पहले है, छुट्टी बाद में।

एएसआई नसरीन जुनैद बेलीम का फर्ज नसरीन जुनैद बेलीम ने शौहर से यह भी कहा कि इस वक्त देश को मेरी जरूरत है। बता दें कि, नसरीन जुनैद बेलीम छह माह की गर्भवती हैं। उन्होंने कहा कि, पूरा देश कोरोना की महामारी से लड़ रहा है। ऐसे में हम कैसे ड्यूटी से ब्रेक ले सकते हैं। कोरोना से हालात बिगड़ने के कारण मेरे परिजन भी चिंतित हैं।

‘स्टाफ भी मेरी भावनाओं की कद्र कर रहा’ ”मेरे परिजनों को डर है कि इन परिस्थितियों में कहीं मुझे कोरोना का संक्रमण न हो जाए। ऐसे में मेरी संतान का क्या होगा? उनका डर वाजिब है। लेकिन मेरा मानना है कि, इन हालात में मेरी ड्यूटी ज्यादा जरूरी है और इसी वजह से सबके कहने के बावजूद मैंने अवकाश नहीं लिया। हालांकि, पूरा स्टाफ भी मेरी भावनाओं की कद्र कर पूरा सहयोग दे रहा है।”

‘तुम चिंता मत करो, मुझे कुछ नहीं होगा’

अपने पति के बारे में बताते हुए नसरीन ने कहा कि, ‘इस समय मैं राजकोट में ही हूं। घर पर हम दोनों ही हैं। वे घर के काम में मेरी मदद करते हैं। थाने तक पहुंचाने और लाने में भी वह मेरी पूरी मदद करते हैं। हालांकि, उन्होंने मुझे बिना सैलरी अवकाश लेने के लिए कहा था। लेकिन मैंने कहा कि, डरने की कोई जरूरत नहीं है। हमारा डिपार्टमेंट हमारा पूरा ख्याल रखता है। तुम चिंता मत करो, मुझे कुछ नहीं होगा।’

मुलतापी समाचार

इस महामारी से जो लड रहें जो लोगों की सहायता कर रहें उनका नाम कोरोना सैनिक हो…
मै अपने पोस्‍ट में घोषित करता हूँ …..
कोरोना वायरस कोवीद 19 महामारी के संक्रमण से बचने के लिए हमारे देश में आंगनवाडी वर्क और आशा कार्यकर्ता देश में फेल रही वेश्‍यविक बिमारी से लडने के लिए महत्‍व पूर्ण भूमिकाा निभा रहें है मुलतापी समाचार हमारे देश वे सभी कर्मचारी एवं वे सभी पत्रकार साथीयो का जो इस महामारी आपदा से निपटने के लिए काम कर रहे प्रत्‍येक देश के कोरोना सैनिक को मुलतापी समाचार की पूरी टीम की ओर से मै मनमोहन पंवार सलाम करता हॅू धन्‍यवाद देता है….

रामनवमी एवं चैत्र नवरात्रि पर घरों में दीपक प्रज्वलित किये, देश मे  लॉकडाउन समय सेवाकर्मीयों का धन्यवाद किया


रामनवमी के पावन अवसर पर घर के बाहर दीपक से सजाया

बैतूल -रामनवमी पर्व पर लोगो ने लॉक डाउन का पालन कर अपने घरों के सामने दीप जला कर मनाई । जब भगवान श्रीराम चन्द्र जी का जन्म हुआ तब पूरी अयोध्या नगरी में घर-घर दीप प्रज्ज्वलित कर खुशियाँ मनाई गई थी और जब प्रभु श्रीराम 14 वर्ष का वनवास पूर्ण करके अयोध्या में लौटे थे तब भी घर-घर दीप प्रज्वलित कर उनका भव्य स्वागत किया गया था । आज श्रीराम नवमी के शुभ अवसर पर बैतूल जिले के गंज स्थित टैगोर वार्ड में भी घर-घर दीप प्रज्ज्वलित कर भारत को विश्वगुरु बनाने की मंगल कामना के साथ सभी के उत्तम स्वास्थ्य व आयु में वृद्धि  हेतु प्रभु श्रीराम जी से प्रार्थना की गई। युवा सेवा संघ बैतूल के जिलाध्यक्ष व समाजसेवी राजेश मदान ने बताया कि देश भर में सोशल मीडिया के माध्यम से सभी से श्रीराम नवमी की शाम को अपने अपने घर मे अपने परिजनों के ही साथ श्रीरामनवमी का पर्व हर्सोल्लास से मनाने व सभी की खुशहाली हेतु शाम को घर-घर दीप प्रज्ज्वलित करने की अपील की गई थी।

रामनवमी के पावन पर्व पर बच्चों ने दीपक जलाएं

संजय पवार ने बताया

सारनी। भगवान् राम जी और नवरात्रि नवमी के दिन दीपकों को प्रज्वलित कर महामारी का अंत और मानव जाति जीव जंतु पशु पक्षियों की वातावरण पर्यावरण संरक्षण व मानव संसाधन की रक्षा प्राकृतिक सौंदर्य के लिए प्रार्थना करते हुए वर्तमान कोरोना वाईरस कोविड19 जैसी घातक बीमारी से पीड़ित इंसानों के सुधार और आगे यह महामारी न फैले जगत जननी भुवनेश्वरी मां दुर्गा और भगवान् विष्णु के अवतार राम भगवान् से प्रार्थना करते हुए संसार के प्राणियों की रक्षा के लिए और हमारे भारत देश की रक्षा के लिए समर्पित होकर दीपों की ज्योत जलाकर प्रार्थना की ।

घर के बाहर निकल कर और एक जगह एकत्रित होकर हम मौत को ही न्यौता दे रहे हैं


इंसान की तरह मौत धोखा नहीं देती , लोग स्वयं बेमौत मरते हैं।

लॉकडाउन के समय घर से निकले लोगों की फाइल फोटो

मौत तो निर्धारित होती है, पर नासमझ लोग इसको अनिर्धारित कर देते हैं

एक फ़कीर शाम के वक़्त अपने दरवाज़े पर बैठा था, तभी उसने देखा कि एक छाया वहाँ से गुज़र रही है। फ़कीर ने उसे रोककर पूछा- कौन हो तुम ? छाया ने उत्तर दिया- मैं मौत हूँ और गाँव जा रही हूँ क्योंकि गाँव में महामारी आने वाली है। छाया के इस उत्तर से फ़कीर उदास हो गया और पूछा, कितने लोगों को मरना होगा इस महामारी में। मौत ने कहा बस हज़ार लोग। इतना कहकर मौत गाँव में प्रवेश कर गयी। महीने भर के भीतर उस गाँव में महामारी फैली और लगभग तीस हज़ार लोग मारे गए।

फ़कीर बहुत क्षुब्ध हुआ और क्रोधित भी कि पहले तो केवल इंसान धोखा देते थे, अब मौत भी धोखा देने लगी। फ़कीर मौत के वापस लौटने की राह देखने लगा ताकि वह उससे पूछ सके कि उसने उसे धोखा क्यूँ दिया। कुछ समय बाद मौत वापस जा रही थी तो फ़कीर ने उसे रोक लिया और कहा, अब तो तुम भी धोखा देने लगे हो। तुमने तो बस हज़ार के मरने की बात की थी लेकिन तुमने तीस हज़ार लोगों को मार दिया। इस पर मौत ने जो जवाब दिया वह गौरतलब है।
मौत बोली- मैंने तो बस हज़ार ही मारे हैं, बाकी के लोग (उनतीस हज़ार) तो नादानी और नासमझी से मारे गए। महामारी से बचाव जरुरी है,सुरक्षा जरुरी है। मौत के मुंह में खुद जाने वालों से मौत का कोई वास्ता नहीं। वे बेमौत मर कर उन्होंने भगवान की सृष्टि का अपमान ही किया। इसमें मेरा कोई दोष नहीं ,दोषी वे सब स्वयं है ।

दिल्ली की जनाजे की फाइल फ़ोटो

सही है, आज की संकट की इस घड़ी में देश के प्रधानमंत्री की बात न मानकर और घर के बाहर निकल कर,एक जगह एकत्रित होकर हम मौत को ही तो न्यौता दे रहे हैं।
मुलतापी समाचार

कोरोना वायरस से America में एक दिन में सबसे ज्यादा 884 मौतें, मृतकों की कुल संख्या 4,475 हुई


अमेरिकी कंपनियों द्वारा उत्पादन बढ़ाने और विदेशों में खरीद के माध्यम से देश में आपूर्ति की कमी को खत्म करने की कोशिश की जा रही।

Multapi Samachar

वॉशिंगटन। अमेरिका में कोरोना वायरस से बुधवार को एक दिन में सबसे ज्यादा 884 मौतें हुई हैं। इसके साथ ही मृतकों की कुल संख्या बढ़कर पांज हजार के आंकड़े को पार कर गई। गुरुवार सुबह 02:35 बजे तक मृतकों का आंकड़ा 5117 हो चुका था। इससे पहले सोमवार को 500 से अधिक लोगों की मौत हो गई। वायरस की वजह से एक दिन में होने वाली मौतों की संख्या दिनों दिन बढ़ती जा रही है। अमेरिका में कोरोना वायरस की वजह से होने वाली मौतों की संख्या अभी इटली और स्पेन से कम है, लेकिन चीन से अधिक हो गई है, जहां 3,316 मौते हुई थीं।हालांकि, राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अगले 30 दिनों में सामाजिक दिशा-निर्देशों का कड़ाई के साथ पालन करने का आह्वान किया है, ताकि देश पटरी पर वापस आ जाए। राष्ट्रपति ने रोगियों के परीक्षण और उपचार और स्वास्थ्य कर्मियों की सुरक्षा के लिए जरूरी चिकित्सा आपूर्ति की उपलब्धता के बारे में चिंताओं को दूर करने की भी मांग की। उन्होंने कहा कि अमेरिका “अच्छे आकार” में होगा जब मृत्यु दर दो सप्ताह में चरम पर पहुंचने की उम्मीद होगी, खासतौर पर वेंटिलेटर की उपलब्धता के संबंध में।

संयुक्त राज्य अमेरिका ने अमेरिकी कंपनियों द्वारा उत्पादन बढ़ाने और विदेशों में खरीद के माध्यम से देश में आपूर्ति की कमी को खत्म करने की कोशिश की जा रही है। विशेषकर न्यूयॉर्क राज्य और शहर, न्यूजर्सी, वाशिंगटन आदि जैसे स्थानों पर कमी की शिकायतें बनी हुई हैं।

11 सितंबर के आतंकी हमले में भी मरे थे 3,000

बताते चलें कि अमेरिका में 11 सितंबर 2001 को आतंकवादी हमलों में भी मारे गए लोगों की संख्या 3,000 से अधिक नहीं थी। अमेरिका में कोरोना वायरस के पुष्टि किए गए मामलों की कुल संख्या एक लाख 75 हजार 67 तक पहुंच गई है। सोमवार को लगभग 24,000 मरीजों की संख्या में वृद्धि हुई थी।अमेरिका में कोरोना के सबसे ज्यादा मामले हैं, जो पूरी दुनिया में मिले मामलों का पांचवां हिस्सा यानी 20 फीसद है। इसमें भी सबसे ज्यादा प्रभावित न्यूयॉर्क राज्य है , जहां 67,000 मामले मिले हैं और 1,342 मौतों हो चुकी हैं। वहीं, न्यूयॉर्क सिटी में 914 से ज्यादा मौते हो चुकी हैं। न्यूयॉर्क ने राज्य के हालात में मदद करने के लिए देश के अन्य हिस्सों से डॉक्टरों और हेल्थकेयर पेशेवरों को आमंत्रित किया है।

राष्ट्रपति ट्रंप ने अपनी दैनिक ब्रीफिंग में विशेषकर वेंटिलेटर की कमी के बारे में पूछे गए सवालों का जवाब देने की कोशिश की। उन्होंने कहा कि हां, मुझे ऐसा लगता है कि हम बहुत अच्छे आकार में होने जा रहे हैं। उधर, प्रशासन ने आपूर्ति में कमी की शिकायतों पर कार्रवाई करते हुए मास्क, गाउन और स्वास्थ्य सेवा प्रदाताओं के लिए सुरक्षात्मक गियर, और वेंटिलेटर आदि की आपूर्ति के लिए खरीदारी को बढ़ाया है।

देश भर में मरकज तब्लीगियों पर कसा शिकंजा, प्रारंभ हुआ सर्च ऑपरेशन


देश में फैला रहा कोराना मरकज तब्‍लीगियों द्वारा

Tablighi Markaz Nizamuddin:

मुलतापी समाचार

दिल्ली के निजामुद्दीन के Tablighi Markaz से लोगों को निकालने के बाद केंद्र सरकार ने यहां से विभिन्न राज्यों में गए उनके नुमाइंदों की तलाश तेज कर दी है। कैबिनेट सचिव राजीव गौबा ने सभी राज्यों के पुलिस प्रमुखों (डीजीपी) और मुख्य सचिवों को इसे जल्द से जल्द पूरा करने को कहा है। Tablighi Markaz के कारण पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस पीड़ित 376 नए मरीज सामने आए हैं। Tablighi Markaz में शामिल विदेशियों को वीजा नियमों के उल्लंघन का दोषी पाया जाता है तो उनके खिलाफ दंडात्मक कार्रवाई भी की जाएगी। विदेश मंत्रालय ने संबंधित देशों में अपने दूतावासों को इस बारे में जानकारी भी दे दी है।

वरना फिर सकता है पानी

बुधवार को सभी राज्यों के मुख्य सचिवों और पुलिस महानिदेशकों के साथ वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये बैठक में कैबिनेट सचिव ने विभिन्न राज्यों में फैले Tablighi Markaz के लोगों के खतरे से आगाह किया। राजीव गौबा ने राज्यों को कहा कि इन Tablighi Markaz के लोगों की युद्धस्तर पर खोजकर उन्हें अलग-थलग करना जरूरी है, वरना अभी तक की सारी कोशिशों पर पानी फिर सकता है।

Tablighi Markaz वालों ने बिगाड़े हालात

Tablighi Markaz के लोगों की आपराधिक लापरवाही के कारण कोरोना के केस की संख्या तेजी से बढ़ने का हवाला देते हुए स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने कहा कि उनके संपर्क में आने के कारण दिल्ली से 18, जम्मू-कश्मीर में 23, तेलंगाना में 20, आंध्र प्रदेश से 43, अंडमान-निकोबार से नौ, तमिलनाडु से 110 और पुडुचेरी से दो नए मामले सामने आए हैं। इसके अलावा कई अन्य जगहों पर अतिरिक्त सैंपल की टेस्टिंग की जा रही है। जहां भी ये मामले मिले हैं, वहां उनके संपर्क में आने वालों की पहचान के लिए सघन अभियान शुरू कर दिया गया है। ताकि जरूरत के मुताबिक उन्हें आइसोलेशन में रखने से लेकर अस्पताल में भर्ती तक किया जा सके।

उन्होंने कहा कि यदि Tablighi Markaz के कारण फैले कोरोना को छोड़ दें, तो पूरे देश में स्थिति नियंत्रण में है। उनके अनुसार कोरोना को फैलने से रोकने में लॉकडाउन का असर निश्चित रूप से सामने आएगा, सिर्फ लोगों का इसका कड़ाई से पालन करने की जरूरत है।