Category Archives: #पर्यावरण संरक्षण, #वृक्षारोपण, #मेरा_गाँव_रोंढा, #बैतूल न्यूज,

FPO के मार्गदर्शन में किया गया पौधारोपण का कार्य


बैतूल- कृषि विकास सहकारी समिति द्वारा किसान उत्पादक संगठन (FPO) ग्रो प्योर एग्रो कृषि प्रोड्यूसर कंपनी लिमिटेड बैतूल के मार्गदर्शन व संबंधित किसानों द्वारा ग्राम रोंढा, नएगांव, करजगाँव, सेलगांव, सुरगांव, महदगाँव में ग्राम वासियों और युवाओं को अधिक से अधिक पौधे लगाने के लिए प्रेरित किया गया।

और अभी चल रहे 10,000 किसान उत्पादक संगठन संवर्धन योजना के बारे में जानकारी दी। जिसमें किसान उत्पादक संगठन के मैनेजर कैलाश लोखंडे ने बताया कि किसान भाई FPO के माध्यम से समूह बनाकर जुड़ सकते है और अपने उत्पादकों के माध्यम से उद्योगों को संचालित कर सकते है।

किसान बंधु सुभाष कालभोर ने भी किसान उत्पादक संगठन ग्रो प्योर एग्रो कृषि प्रोड्यूसर कंपनी लिमिटेड के बारे में सहयोगी किसान बंधुओं को जानकारी दी।

इस अवसर पर ग्राम के किसान भाई बलवंत पवार, ललित बारंगे, मुंशी देशमुख, संतोष, सरजेराव मस्हकी, अशोक बारंगे, सिरपत डिगरसे, कृष्णकुमार डोगरदिए, चंद्रभान वराठे, बद्री प्रसाद, रिंकू डिगरसे, राजा पवार, लक्ष्मण सातपुते, प्रदीप डिगरसे, सुखराम ढोबारे, प्रवीण चौधरी, मोनू पवार, जितेन्द्र हजारे सहित सभी किसान बंधुओं ने उत्साह के साथ पौधारोपण का कार्य भी किया।

खुशीयों के पल वृक्षारोपण के संग


नवविवाहित दम्पति ने परिवार के साथ वृक्षारोपण कर की अपने जीवन की शुरुआत

बैतूल – बैतूल जिले के समीपस्थ ग्राम रोंढा में समाजसेवी और पर्यावरणप्रेमी प्रदीप डिगरसे रोंढा ने अपने परिवारजनों के साथ मिलकर अपने छोटे भाई राजेश डिगरसे के विवाह के उपरांत वृक्षारोपण करवा कर नवदम्पति को वैवाहिक जीवन में प्रवेश अवसर पर परिवारजनों ने आशीर्वाद दिया और नवदम्पति को वृक्षों की देखभाल का संकल्प दिलाया।

कोरोना महामारी के दौरान ऑक्सीजन की कमी को देखते हुए आने वाले समय के लिए अपने परिवार के साथ वृक्षारोपण किया गया। इस अवसर पर आम, जाम, लक्ष्मीतरु, बादाम सहित पांच वृक्षों का रोपण कर वैवाहिक जीवन में प्रवेश का आशीर्वाद दिया।

समाजसेवी और पर्यावरणप्रेमी प्रदीप डिगरसे का कहना है कि कोरोना के दौरान हम अॉक्सीजन का महत्व देख चुके है और सभी से निवेदन किया गया है कि आप सभी को अपने जन्मदिन, विवाह, सालगिरह सहित अन्य अवसरों पर अपने घर, खेत, गाँव में वृक्षारोपण कर उनको पालने का संकल्प ले और इन पौधों को सुरक्षित स्थानों पर वृक्षारोपण करने का निवेदन किया गया।