Category Archives: शासकीय खाद्यान्न वितरण, शासकीय राशन की दुकान

शासकीय राशन दुकान पर निशुल्क राशन लेने उमड़ी भीड़, कोविड गाइड लाइनों की उड़ी धज्जियाँ, देखें पूरा वीडियो


बैतूल जिले के आमला विकासखंड के आमला जनपद पंचायत के अधीन, ग्राम तरोडा बुजुर्ग में सामुदायिक भवन में शासकीय राशन वितरण का कार्य संचालित किया जा रहा है। जिसमे सेल्समैन द्वारा हितग्राहियों के प्रति दुर्व्यवहार किया जा रहा है, ना ही कोई उचित दूरी का पालन किया जा रहा है और ना ही हितग्राहियों के द्वारा मास्क का प्रयोग किया जा रहा है। बुजुर्ग पुरुष और महिला हितग्राहियों को राशन के लिए सुबह से आकर धूप में खड़े रहना पड़ता है उसके बाद भी राशन ना मिलने का वाक्या सामने आ रहा है, ऐसी स्थिति में राशन हितग्राही सोसायटी के चक्कर काटने को मजबूर हैं।

एक तरफ प्रशासन उचित मूल्य की दुकानों पर कोरोना प्रोटोकॉल पालने करने की बातें कर रहा है वहीं दूसरी तरफ इन दुकानों पर कोरोना प्रोटोकॉल की धज्जियां उड़ाई जा रही हैं। न तो सोशल डिस्टेंसिंग का पालन किया जा रहा और न ही लोग मास्क लगा रहे हैं। इन दुकानों पर भारी भीड़ लगी हुई है। मप्र शासन द्वारा जिले के सभी गरीबों को अप्रैल, मई व जून का राशन नि:शुल्क देने का निर्णय लिया है। माह अप्रैल का राशन वितरण हो चुका है। मई एवं जून का राशन दिया जाना है।

यदि जिला प्रशासन की टीम ने इन दुकानों पर जाकर वास्तविक स्थिति जानने का प्रयास करे तो सच्चाई जमीन पर गोते खाते हुए नज़र आएगी। ग्राम तरोडा बुजुर्ग में स्थित शासकीय उचित मूल्य दुकान पर भारी भीड़ दिखाई दी। यहाँ कोरोना नियमों का बिलकुल पालन नहीं हो रहा है। सोशल डिस्टेंसिंग बनाने के लिए किसी भी प्रकार के संकेतों का प्रयोग भी नही किया जा रहा है। और बड़ी संख्या में लोग वहां राशन लेने पहुंचे है। सेल्समेन दुकान के अंदर बैठकर राशन का वितरण कर रहे है । उनके टेबल के आगे लोग भीड़ लगाकर खड़े है जिनमें कई लोगों ने तो मास्क तक नहीं लगाया है। साथ ही सेल्समैन का हितग्राहियों से दुर्व्यवहार किया जा रहा है , बुजुर्ग हितग्राही सुबह से आकर धूप में खड़े रहते, कई दिन सोसायटी के चक्कर काटने पड़ते हैं।

दूसरी तरफ व्यवस्थाओं को लेकर आयोजित बैठक में कलेक्टर ने सर्वप्रथम जिला खाद्य अधिकारी से दुकानों के खुलने के संबंध में जानकारी ली। उन्होंने बताया कि कुछ दुकानें खुल चुकी है, कुछ खुलना शेष हैं। जिस पर कलेक्टर द्वारा कड़ा असंतोष प्रकट करते हुए खाद्य अधिकारी, सहायक खाद्य अधिकारियों, एसडीएम व सीईओ जनपद को निर्देश दिए कि फील्ड में जाकर सभी उचित मूल्य दुकानें खुलवाएं और खाद्यान्न का वितरण सुनिश्चित करें। उन्होंने निर्देश दिए कि इस कार्य को प्राथमिकता दें और यह सुनिश्चित करें कि 15 मई के पूर्व सभी हितग्राहियों को खाद्यान्न मिल जाए।

कलेक्टर ने कोविड-19 तथा गरीबों को तीन माह का एकमुश्त राशन वितरण संबंधी समीक्षा बैठक में जिले की सभी राशन दुकानें न खुलने के संबंध में गंभीर नाराजगी व्यक्त की। उन्होंने निर्देश दिए कि सभी अधिकारी गरीबों को समय पर खाद्यान्न वितरण करना सुनिश्चित करें, अन्यथा कार्यवाही भुगतने के लिए तैयार रहे।