Category Archives: #शिक्षा

ग्रामों में चलाया गया प्लास्टिक कचरा मुक्त अभियान


बैतूल। स्वच्छ भारत मिशन ग्रामीण अंतर्गत जिले की 554 ग्राम पंचायतों से 1319 ग्रामों में 60 दिवसीय अभियान के तहत शुक्रवार को प्रत्येक ग्राम में प्लास्टिक कचरा मुक्त अभियान चलाया गया। इस अभियान में ग्रामीण स्तर पर स्थानीय लोगों के श्रमदान से ग्राम में प्लास्टिक कचरा एकत्रित किया गया। अभियान के तहत जिला एवं जनपद प पंचायत स्तर पर कंट्रोल रूम स्थापित कर प्रति घंटा एकत्रित की जाने वाली प्लास्टिक की मात्रा को संकलित किया गया। जिले की दस जनपद पंचायतों में 39 हजार 338 प्रतिभागियों द्वारा इस कार्यक्रम में सम्मिलित होकर दिन भर में कुल 9 हजार 338.09 किग्रा प्लास्टिक कचरा एकत्रित किया गया। यह प्लास्टिक कचरा जनपद एवं ग्राम पंचायत स्तर पर निर्मित सेग्रिगेशन शेड्स एवं प्लास्टिक कचरा संग्रहण केन्द्रों में रखा गया है। सीईओ जिला पंचायत अभिलाष मिश्रा से प्राप्त जानकारी के अनुसार जनपद पंचायत भैंसदेही के ग्राम झल्लार में 204 किग्रा एवं खामला में 142 किग्रा, आमला के के ग्राम छावल में 99.90 किग्रा, आठनेर के ग्राम गारगुड़ में 94.50 किग्रा, घोड़ाडोंगरी के ग्राम भुड़की में 91.40 किग्रा, भीमपुर में 86.10 किग्रा, आठनेर के ग्राम कावला में 80 किग्रा, बैतुल के ग्राम बडोरा 60 किग्रा, बघोली में 56 किग्रा तथा खेड़ी में 50 किग्रा प्लास्टिक कचरा एकत्रित किया गया।

इसी कड़ी में ग्राम पंचायत रोंढा में स्वच्छ भारत मिशन के अंतर्गत शुक्रवार को 17.500 किलोग्राम प्लास्टिक का संग्रह किया गया। इस अवसर पर ग्राम पंचायत प्रधान विमला बाई धुर्वे, रोजगार सहायक ऊषा मालवी, प्राथमिक शाला के राजेश बाजपेयी, समाजसेवी और पर्यावरणप्रेमी प्रदीप डिगरसे, पंचायत कर्मचारी अलकेश हजारे, स्वसहायता समूह की अध्यक्ष सोमती बाई, आँगनबाड़ी कार्यकर्ता आशा पवार, सुनिता पवार, ग्राम कोटवार पुष्पकुमार डोगरें, ग्रामवासी संजू धुर्वे, सहित कक्षा नवमी और दसवी के बच्चों की भी अहम भूमिका रही।

ग्राम रोंढा ने मनाया अपना पहला गौरव दिवस


बैतूल। जिला मुख्यालय के समीपस्थ ग्राम रोंढा में मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान जी की मंशा अनुसार ग्राम गौरव दिवस का आयोजन किया गया। इस अवसर पर मुख्य अतिथि के रूप में ग्राम प्रधान श्रीमती विमला बाई धुर्वे, पूर्व सरपंच श्रीमती मीना बाई बारंगे, क्षत्रिय पवार समाज संगठन के जिलाध्यक्ष श्री बाबूलाल कालभोर, वरिष्ठ पत्रकार और लेखक रामकिशोर पवार, श्री दिलीप ओमकार और श्री अशोक जग्गू बारंगे के मुख्य आतिथ्य में संपन्न हुआ।

कार्यक्रम का शुभारंभ मुख्य अतिथियों के द्वारा ग्राम में विराजमान भगवान भोलेनाथ के चरणों में नमन करते हुए पूजा अर्चना और दीप प्रज्वलित कर किया गया। ग्राम की बालिकाओं कुमारी पलक, कुमारी निधि और कुमारी अमृता के द्वारा सरस्वती वंदना, स्वागत गीत कुमारी अंशिका पवार, कुमारी निकिता पवार कुमारी विभा पवार के द्वारा प्रस्तुत किया गया।

ग्राम के प्रथम गौरव दिवस पर ग्राम रोंढा की पावन धरा पर जन्मे और गांव का गौरव बढ़ाने वाले शिक्षकों, पटवारियों, भूतपूर्व सैनिकों, प्रतिभावान छात्र-छात्राओं, भूतपूर्व सरपंचों, ग्राम के हित में सेवा कार्य करने वाले नागरिकों को साल और श्रीफल देकर सम्मानित किया गया और आगे आने वाले वर्षों में भी खेल, शिक्षा, सांस्कृतिक कार्यक्रम, उन्नत कृषि, लघु उद्योग, शासकीय सेवा, अशासकीय सेवा, पत्रकारिता, लेखन में जिला संभाग राज्य और अंतरराष्ट्रीय स्तर की सभी प्रतिभाओं को सम्मानित करने का लक्ष्य रखा गया है।

ग्राम गौरव दिवस के अवसर पर ग्राम रोंढा के गौरव और पहले कलेक्टर बने माननीय श्री प्रदीप कालभोर जी अप्रत्यक्ष रूप से उपस्थित रहकर ग्राम गौरव दिवस के उपलक्ष्य में शुभकामना संदेश प्रेषित किया जिसका वाचन ग्राम के युवा प्रदीप डिगरसे के द्वारा किया गया श्री कालभोर के शुभकामना संदेश के अनुसार 23 मई 2020 दिन सोमवार को ग्राम रोंढा में आयोजित भव्य ग्राम गौरव दिवस कार्यक्रम के अवसर पर सभी ग्रामवासियों, सभी सम्मानित अधिकारी, कर्मचारी, प्राविव्य प्राप्त छात्र-छात्राएं एवं सम्मानित शिक्षकों के लिए शुभकामना एवं धन्यवाद देना चाहता हूं। इस तरह के बड़े समारोह का आयोजन करने और हमें आमंत्रित करने के लिए ग्राम पंचायत, सचिव, प्रबंधन समिति का भी धन्यवाद देना चाहूंगा। उक्त आयोजित कार्यक्रम के अवसर पर मैं सभी ग्रामवासी एवं पूर्वजों का नमन करते हुए धन्यवाद करना चाहता हूँ, जिन्होंने मुझे एवं अन्य अनेकों महान और प्रतिभाशाली अधिकारीगण निर्मित कर उपलब्ध कराए। इस कार्यक्रम को एक यादगार दिवस बनाने के लिए विशेष धन्यवाद।
आईएएस प्रदीप कुमार कालभोर पूर्व कलेक्टर एवं सचिव महाराष्ट्र शासन

पहले ग्राम गौरव दिवस पर इनका हुआ सम्मान….ग्राम गौरव दिवस के अवसर पर ग्राम के भूतपूर्व शिक्षकों श्री माधोराव जी ओमकार, श्री महेपराव जी ओमकार, श्री नारायण राव जी कोड़ले, श्री संपतराव जी चौधरी, श्री ओंकार प्रसाद जी माथुरकर, ग्राम के पटवारियों श्रीराम जी ओमकार, श्री चिन्धया जी पठाडे, वर्तमान शिक्षक श्री रितेश पठाडे, भूतपूर्व सैनिक श्री मिसरु देवासे, श्री अवनीश डोगरदिए, श्री चंदू बारंगे, भूतपूर्व नगर रक्षक श्री परसराम कालभोर, श्री सरजूप्रसाद फरकाड़े, गूगल के इंजीनियर श्री अंकित डिगरसे,

पंचायत ग्रामीण विकास के पहले जनपद अध्यक्ष रहे श्री शेषराव जी बारंगे, ग्राम पंचायत के भूतपूर्व सरपंचों डॉक्टर बकाराम जी कालभोर, श्री छोटेलाल जी कालभोर, श्री नत्थू ओंकार, श्री बाबूलाल जी देवासे, श्री संपतराव जी पाठा, श्री रमेश कुमार ओमकार, श्रीमती उर्मिला बाई कोड़ले, श्री मिश्रीलाल जी कोड़ले, श्रीमती मीना बाई बारंगे, श्रीमती नीलू बाई उईके, श्रीमती कुंदाबाई कोड़ले, श्रीमती मालती बाई कोकाडिया को प्रत्यक्ष या अनुपस्थित लोगों के परिजनों को सम्मानित किया गया।

ग्राम का गौरव बढ़ाने वाले छात्र-छात्राओं को भी सम्मानित किया गया जिसमें कुमारी अंशिका पवार (89%), कुमारी निकिता कालभोर (86%), कुमारी विभा पवार (85%), कुमारी पलक ढोबारे (96%), कुमारी निधि कोड़ले (91%), कुमारी भाग्यश्री ओमकार (85%), कुमारी अमृता कोड़ले (91%) को सम्मानित किया गया।

क्षत्रिय पवार समाज संगठन के जिलाध्यक्ष बाबूलाल कालभोर ने अपने संबोधन में ग्राम के गौरव को प्रति वर्ष मनाने और ग्राम की माटी से सभी जुड़े रहने का आवाहन किया।

समाज के वरिष्ठ पत्रकार रामकिशोर पवार ने भी अपने संबोधन में ग्राम की माटी को मरते दम तक याद करने और जुड़े रहने की बात कही और प्रतिवर्ष गौरव दिवस मनाते रहने और प्रतिभाओं का इसी प्रकार सम्मान किए जाने का आग्रह ग्राम पंचायत से किया।

ग्राम अवसर पर ग्राम पंचायत सचिव श्री रघुनाथ ठाकरे, ग्राम पटवारी श्री संदीप चौरागढे़, ग्राम रोजगार सहायक उषा मालवी, एएनएम आभा डिगरसे, आंगनवाड़ी कार्यकर्ता आशा पवार, सुनीता पवार, प्राथमिक शाला के शिक्षक श्री राजेश बाजपेयी, श्रीमती रेखा माथुरकर, श्रीमती अर्चना पवार, अलकेश हजारे सहित गांव के सैकड़ों वरिष्ठजन, युवा, महिलाएं और बच्चे उपस्थित रहे। मंच संचालन का कार्य ग्राम के युवा प्रदीप डिगरसे और आभार प्रदर्शन ग्राम रोजगार सहायक उषा मालवी द्वारा किया गया।

23 मई को ग्राम रोंढा का गौरव दिवस सासंद, विधायक कार्यक्रम में रहेगे मौजूद


बैतूल। 23 मई दिन सोमवार दोपहर 12 बजे ग्राम रोंढा में भव्य ग्राम गौरव दिवस का कार्यक्रम जिले के सासंद श्री डी डी उइके , श्री हेमंत खण्डेलवाल पूर्व सासंद, बैतूल विधायक श्री निलय डागा की गरीमामय उपस्थिति में होने जा रहा है। कार्यक्रम में जनपद अध्यक्ष श्रीमति पूर्णिमा सतीश पाठा, जनपद सदस्य लोकेश बारंगे सहित ग्राम पंचायत के पूर्व एवं वर्तमान सरपंच मौजूद रहेगें। जिला मुख्यालय से मात्र 9 किमी दूर बैतूल जनपद की ग्राम पंचायत रोंढा का प्रथम ग्राम स्थापना दिवस कार्यक्रम में गांव के सेवानिवृत शासकीय सेवकों, जनप्रतिनिधियो, गांव का नाम रोशन करने वाले स्कूली छात्र – छात्राओं को भी सम्मानित किया जाएगा। ग्राम पंचायत सचिव श्री रघुनाथ ठाकरे ने बताया कि बाजार चौक रोंढा के शिव मंदिर परिसर में उक्त कार्यक्रम को आयोजित किया गया है।


उल्लेखनीय है कि प्रदेश की शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व वाली भाजपा सरकार ने नगरीय क्षेत्रों की तरह गांवो का गौरव दिवस मनाने की घोषणा की थी जिसके अनुरूप उक्त कार्यक्रम आयोजित किया जा रहा है।

6 मई को ग्राम रोंढा का गौरव दिवस मनाया गया परन्तु ग्रामीण जनता को खबर नही।


बैतूल। जिले का पंचायती राज काज कैसे चल रहा है यह बताने के लिए ग्राम रोंढा का गौरव दिवस का उल्लेख करना जरूरी है। जिला मुख्यालय से मात्र 9 किमी दूर बेतूल जनपद की ग्राम पंचायत ने बीती 6 मई को ग्राम गौरव दिवस मना लिया। बैतूल जिले के आदिवासी सासंद एवं बैतूल विधायक को कार्यक्रम की भनक तक नहीं हुई और गांव ने गौरव दिवस मना लिया। गांव के लोगो से जब इस बारे मेें पुछा तो पता चला कि गांव में आयोजित कार्यक्रम की गांव में किसी को सूचना तक नहीं दी गई। ग्राम गौरव दिवस पर गांव के पूर्व सरपंच वर्तमान सरपंच और जनपद सदस्यों को तक बुलाया नहीं गया। पंचायत सचिव रघुनाथ ठाकरे जो कि महदगांव और रोंढा दोनो का प्रभार देख रहे है उसके द्वारा यह कहा गया कि अभी तारीख तय नहीं हुई और जब उनके पास कार्यक्रम भेजा गया तो जवाब आया कि गांव ने तो गौरव दिवस 6 मई को ही मना लिया गया। बैतूल जिले का सबसे अधिक साक्षर एवं सम्पन्न गांव के गौरव बने गांव के एक मात्र आई ए एस अधिकारी रहे श्री प्रदीप कालभोर सहित गांव के एक दर्जन लोगो का गांव के गौरव दिवस पर अभिनंदन करने का कार्यक्रम बनाने वाले ग्राम रोंढा में जन्मे पत्रकार – लेखक रामकिशोर दयाराम पवार ने बीते एक माह से ग्राम रोंढा के गौरव दिवस मनाने के लिए पूरे गांव को व्हाटसएप से जोड रखा है। 23 मई 2022 को अपने गांव में अपना जन्मदिन एवं ग्राम गौरव दिवस मनाने की तैयारी में लगे श्री पंवार ने जिले के सासंद एवं पूर्व सासंद से बकायदा कार्यक्रम ले रखा था लेकिन अचानक पंचायत सचिव ने किसके दबाव में आकर ग्राम रोंढा का गौरव दिवस मना लेने की जानकारी देकर लोगो की भावनाओ के साथ खिलवाड किया है। श्री पंवार ने जनपद पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी से मिले और उन्हे भी जानकारी दी लेकिन उस समय मुख्य कार्यपालन अधिकारी यह कहती रही कि मैने सचिव को आज बुला कर जानकारी दे दी है। उस समय सचिव ने उन्हे जानकारी क्यों नही दी कि ग्राम रोंढा का गौरव दिवस मना लिया गया। गौरव दिवस मना लेने की जानकारी 5 – 6 मई से अभी तक पूरे गांव से क्यों छुपा कर रखी गई।

क्या कहते है ग्रामीण
ग्राम पटवारी संदीप चौरगडे़ को खबर नहीं –
ग्राम रोंढा के पटवारी संदीप चौरगडे़ का कहना है कि मुझे कार्यक्रम की कोई जानकारी नहीं है। मै उस कार्यक्रम में मौजूद नहीं था।
ग्राम के वरिष्ठ समाजसेवी दिलीप ओमंकार –
मुझे नहीं पता कब गौरव दिवस मनाया….. हमें तो पता भी नहीं वल पाता है कि ग्राम पंचायत में क्या हो रहा है। ग्राम पंचायत के कर्मचारी शायद हमे इस लायक समझते नहीं है।
जनपद सदस्य ललित बारंगे-
बैतूल जनपद के सदस्य ललीत बारंगे ने बताया कि ग्राम पंचायत ने ग्राम रोंढा का गौरव दिवस मनाया इस बात की मुझे कोई जानकारी नहीं। मैं बैतूल जनपद पंचायत का सदस्य हूं , मुझे तो मेरे गृह ग्राम रोंढा का गौरव दिवस की जानकारी मिलनी चाहिए थी। प्रदेश में हमारी पार्टी की सरकार होने के बाद भी मुझे ग्राम पंचायत मेे बुलाया नहीं गया। गौरव दिवस की जानकारी आपके माध्यम से मिली है। मैं इस बारे में शिकायत करूंगा।
समाजसेवी, पर्यावरणप्रेमी, शिक्षक प्रदीप डिगरसे –
मेरी कोचिंग क्लास ग्राम पंचायत के बगल में चलती है। मुझे तक नहीं मालूम के गांव का गौरव दिवस कब मनाया गया इसकी जानकारी नहीं है।
समाजसेवी तरूण पाठा –
ग्राम रोंढा के पूर्व सरपंच रहे स्वर्गीय संपत पाठा के सुपुत्र तरूण पाठा ने बताया कि उनके पिताजी सरपंच रहे है लेकिन गांव गौरव दिवस के कार्यक्रम में उनके परिवार के किसी सदस्य को न तो कोई सूचना दी और न हमें बुलाया गया।
समाजसेवी अशोक जग्गू बारंगे
बैतूल जनपद पंचायत के अध्यक्ष रहे स्वर्गीय शेषराव बारंगे के परिवार के सदस्य जग्गू बारंगे ने भी कहा कि गांव में गौरव दिवस मनाने की उन्हे कोई खबर नहीं है। अब गांव में या ग्राम पंचायत में कोई कार्यक्रम हो और हमारे परिवार को खबर तक नहीं ऐसा आज तक नहीं हुआ है।

उस सिस्टम को तो आग ही लगा देना चाहिए जो हाथ के बल घिसटकर चलने वाली विकलांग को न्याय नही दे पा रहा-बकलोल


बकलोल : हम लोग गन्दे है
उस सिस्टम को तो आग ही लगा देना चाहिए जो हाथ के बल घिसटकर चलने वाली विकलांग को न्याय नही दे पा रहा.

बैतूल। उस सिस्टम को तो आग ही लगा देना चाहिए जो मजलूम असहाय की मदद नही कर सकता, उनके साथ न्याय नही कर सकता। क्या जरूरत है मोटी तनख्वाह और सरकारी खर्चे पर सुख सुविधा लेने वाले अफसरों की जब एक विकलांग महिला दफ़्तर दफ्तर घिसट रही हो। उसके आवेदन आवक जावक रजिस्टर का महज एक तम्बर बनकर रह जाने के लिए नही है। क्या कलेक्टर की जनसुनवाई में इतना दम नही कि उसके हक के 15 हजार रुपए वापस दिलवा दे या एसपी की पुलिस में इतना जोर नही कि उसके पैसे हड़प कर जाने वाले उसके पैसे उगलवा दे। यदि प्रशासन जैसी कोई चीज है तो फिर पिछले एक माह से भटक रही विकलांग की अब तक सुनवाई क्यो नही हुई। जबकि पिछले मंगलवार भी वह जनसुनवाई में गई थी और इस मंगलवार को भी अपने हाथ मे व्हप्पल पहन कर घिसटते हुए पहुंची थी। एसपी आफिस में भी 9 मई को उसने आवेदन दिया था पर सिस्टम है कि रेंग रहा क्योकि इस गरीब महिला के पास किसी सफेदपोश की सिफारिश नहीं है या उसके पास किसी दलाल मुखबिर टाइप चापलूस का जुगाड़ नही है। यदि होता तो उसे इस तरह भरी गर्मी में घिसटते हुए नही भटकना पड़ता। यहा बात हो रही डॉन बास्को के पास सदर में रहने वाली विधवा विकलांग मीरा कांगले की जिसे चकोरा मुलताई निवासी दिलीप धुर्वे ने भरोसे में लेकर 15 हजार रुपए ले लिए और अब पैसे लौटने से मना कर रहा। उसे धमका रहा है। वह थाने गई तो उसे टरका दिया औऱ अब हमारे सिस्टम के साहेब लोगो के पास भी गुहार लगा चुकी पर नतीजा सिफर ही रहा। आश्चर्यजनक तो यह कि यह महिला 100 फीसदी विकलांग है फिर भी इसे अभी तक ट्राइसाइकिल ही नही मिली। एक जरूरत मंद अल्पशिक्षित और खुद्दार महिला जो विधवा है विकलांग है फिर भी भीख मांगने की जगह सब्जी भाजी बेचकर अपना औऱ अपने बेटे का पेट पाल रही , उसकी तकलीफ है। ऐसे लोगो से अन्याय और धोखे में भी मदद न हो तो फिर सिस्टम और उसके अफसरो का क्या अचार डालेंगे।
सिस्टम बैठे महानुभावों को भी कभी कभी तो ऐसे मामलों में ऑन द स्पॉट की नाजीर पेश करना चाहिए वरना देखने और दिखाने के लिए बहुत कुछ है जिस पर इतने सवाल खड़े हो सकते है कि सिस्टम पर से लोगो का भरोसा ही नही उठेगा बल्कि लोग खिलाफ खड़े हो जाएंगे। उन जनप्रतिनिधियों को भी ऐसे लोगो की खोजबीन कर मदद करना चाहिए जिनकी संवेदनशीलता सोशल मीडिया पर फैलाई जा रही फ़ोटो में दिखाई जाने वाली संवेदन तक ही है।
बाकी सब खैरियत है उस महिला का आवेदन और मामला यदि सच है यह हमारे समाज के लिए ही शर्मनाक है।

राष्ट्रीय राज्य कर्मचारी महासंघ, जीईएनसी एवं मध्यप्रदेश राज्य कर्मचारी संघ के प्रदेश व्यापी आव्हान पर पुरानी पेंशन की बहाली के लिये सौपा ज्ञापन


बैतूल। राष्ट्रीय राज्य कर्मचारी महासंघ, जीईएनसी एवं मध्यप्रदेश राज्य कर्मचारी संघ के प्रदेश व्यापी आव्हान पर पुरानी पेंशन को बहाली के लिये आंदोलन के द्वितीय चरण में दिनाँक 12 मई-2022 को जिला स्तरीय धरना प्रदर्शन कर माननीय प्रधानमंत्री जी एवं मुख्यमंत्री जी को संबंधित ज्ञापन संयुक्त कलेक्टर श्री एस.पी. मन्द्रा को सौंपा गया। इस अवसर पर उपस्थित श्री मनोज राय, जिला अध्यक्ष मध्यप्रदेश राज्य कर्मचारी संघ श्री के. के. बारंगे, सचिव श्री संजय जायसवाल को संभागीय कोषाध्यक्ष श्री पंजाबराव गायकवाड़, जिला अध्यक्ष भारतीय मजदूर संघ, श्री कान्ताप्रसाद कौशिक, श्री मुरलीधर पाल, श्री अशोक श्रीवास, श्री के. एन. शर्मा, श्री आलोक कुम्भारे, श्री राजेन्द्र कटारे, श्री मनोहर मालवीय सहित तहसील एवं विकासखण्ड के पदाधिकारी एवं अन्य कर्मचारीगण उपस्थित रहे।

10वी – 12वी के रिजल्ट की तारीख़ हुई घोषित


मध्यप्रदेश बोर्ड का 10वीं और 12वीं का रिजल्ट 29 अप्रैल को जारी किया जाएगा। माध्यमिक शिक्षा मंडल ने यह जानकारी दी है। रिजल्ट दोपहर 1 बजे घोषित किया जाएगा।

इसके साथ हायर सेकंडरी (व्यावसायिक), विद्यालय पूर्व शिक्षा में डिप्लोमा (डीपीएसई), शारीरिक शिक्षा प्रशिक्षण पत्रोपाधि मुख्य परीक्षा 2022 के परीक्षा परिणाम भी घोषित किए जाएंगे।

विद्यार्थी एमपी बोर्ड की वेबसाइट http://www.mpbse.nic.in और मोबाइल एप डाउनलोड करके भी परिणाम देख सकेंगे। गौरतलब है कि 10वीं में 10.5 लाख स्टूडेंट्स और 12वीं में 9. 5 लाख स्टूडेंट्स परीक्षा में शामिल हुए थे।

सच्ची मित्रता की निशानी — पांच रुपये में ली मित्र की लाठी को 45 साल से रखा संभाल कर


बैतूल। उनकी मित्रता न तो सुदामा कृष्ण की तरह है न ही वे दुर्योधन कर्ण की तरह वचनबद्ध मित्रता के प्रमाण रहे। बैतूल जिला मुख्यालय ये 9 किमी की दूरी पर बसे पंवार जाति बाहुल्य ग्राम रोंढा जिले की सबसे प्राचीन ग्राम में से एक है। चारो-ओर हरे भरे खेतों से घिरे इस गांव में मनोहरी डिगरसे और मंहग्या भोभाट नामक दो व्यक्ति रहा करते थे। मंहग्या भोभाट ने 30 सालो तक रोंढा सहित आसपास के दो दर्जन से अधिक गांवों में हाथ से कुआ की खुदाई का काम करते थे। गांव में दो एकड जमीन के मालिक स्वर्गीय मंहग्या जी भोभाट के परदादा स्वर्गीय भिख्या जी महाजन 40 बीघा जमीन के मालगुजार थे। समयकाल के परिवर्तन के कारण ठेका पर कुआ खोदने वाले मंहग्या भोभाट ने अपने एक मित्र को आज से 45 साल पहले मात्र 5 रूपये में एक बांस की लाठी जिसके मत्था पर पीतल का कवर चढा हुआ है वह बेच दी थी। महंग्या जी भोभाट के निधन के बाद 45 साल से मनोहरी डिगरसे अपने मित्र की दी नाम की निशानी बांस की वह लाठी लेकर संग संग चलते है।

कैसे बनती थी बांस की लाठी — वर्ष 60 से 70 के दशक में बांस की लाठी के सीधा करने के लिए लोहे की जाली में लाठी को रख कर उसके सीधा होने के बाद इस पर डिजाइन तैयार की जाती हैं। इस डिजाइन को तैयार करने के लिए एक विशेष प्रकार की कलाकारी करनी पड़ती। लाठी पर पीतल का कवर चढाने के बाद उस नाम लिखा जाता था। सही बांस का चयन कर उसे जंगल से काटकर लाने के बाद धुप में सूखने के लिए छोड़ दिया जाता हैं। कड़ी धूप मे चार से पांच दिन में सूख जाता हैं। बांस के सूखने के बाद इसकी घिसाई एवं सफाई की जाती हैं। ताकि बाद में पकड़ते समय हाथों में बाँस की फांस ना लग जाए।

पवार समाज की चुनावी वोटर लिस्ट का प्रकाशन सम्पन्न


बैतूल। जिला क्षत्रिय पवार समाज संगठन बैतूल के चुनाव अधिकारी श्री पंजाबराव चिकाने से प्राप्त जानकारी के अनुसार आज 24 अप्रैल 2022 को शाम 4 बजे वोटर लिस्ट का प्रकाशन कर दिया गया है । जिसमें आजीवन सदस्यों और वार्षिक सदस्यों के नाम अंकित किए गए हैं जिसमें संगठन की सदस्यता प्राप्त सदस्य ही चुनाव प्रक्रिया में भाग ले सकेगें। जिन सदस्यों को अपना नाम, स्थान या अन्य सुधार करना हो वे अंतिम प्रकाशन के पूर्व कर सकते हैं।  अब वोटर लिस्ट का अंतिम प्रकाशन 28 अप्रैल 2022 को शाम 4 बजे तक किया जाएगा।

क्षत्रिय पवार समाज संगठन के सचिव लक्ष्मीनारायण (भंगू) खपरिये से प्राप्त जानकारी के अनुसार क्षत्रिय पवार समाज संगठन जिला बैतूल की बैठक में आमसभा एवं चुनाव सूचना दिनाँक 01 मई 2022 को संगठन की आमसभा एवं चुनाव कार्यक्रम आयोजित करने का निर्णय लिया गया है। आमसभा में चुनाव की प्रक्रिया की जावेंगी।

आम सभा में निम्न विषयों पर विचार विमर्श कर निर्णय लिया जाना प्रस्तावित है — आय-व्यय का वार्षिक प्रतिवेदन वाचन, वर्ष 22-23 के लिए अनुमानित बजट पर चर्चा, संगठन के पदाधिकारियों चुनाव पर चर्चा

01 मई 2022 को प्रातः 10 बजे से आमसभा एवं चुनाव कार्यक्रम जिला मुख्यालय पर स्थित पवार भवन, विवेकानंद वार्ड कालापाठा बैतूल में आयोजित किया जा रहा है। क्षत्रिय पवार समाज संगठन के जिलाध्यक्ष श्री बाबूलाल कालभोर ने आमसभा में अधिक से अधिक सामाजिक बंधुओं को उपस्थिति होने का आग्रह किया है।

राज्य स्तरीय ऑनलाइन शैक्षिक संवाद में डाइट बैतूल की सफल प्रस्तुति


बैतूल। राज्य शिक्षा केन्द्र के निर्देशानुसार निष्ठा प्रशिक्षण अंतर्गत राज्य स्तरीय (केआरपी हेतु) ऑनलाइन शैक्षिक संवाद में जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान डाइट बैतूल द्वारा निष्ठा FLN-3.0 अंतर्गत डिजिटल प्रशिक्षण कोर्स श्रृंखला-FLN के तहत मॉड्यूल – बच्चों के सीखने की प्रकिया को समझना: बच्चें कैसे सीखते है?” तथा ” बुनियादी साक्षरता एवं संख्या ज्ञान में समुदाय और अभिभावकों की सहभागिता” पर आदरणीय डाइट प्राचार्य श्री केआर अड़लक जी, डाइट प्रशिक्षण प्रभारी श्रीमती सरिता आंडे एवं डीपीसी श्री शर्मा जी के मार्गदर्शन व राज्य शिक्षा केन्द्र से पीपल टीम के मार्गदर्शन में श्रीमती सरिता आंडे एवं केआरपी श्री रितेश कुमार पठाडे द्वारा संबंधित मॉड्यूल पर सारगर्भित बिंदुओं पर राज्य के 520 केआरपी के साथ संवाद किया गया । साथ ही जिले के शिक्षक श्री रमेश कुमार पवार, एवं श्रीमती शीला इवने द्वारा अपनी सहभागिता करते हुए उक्त दोनों कोर्स की महत्ता, उपयोगिता एवं सीख पर अपने विचारों को राज्य स्तर पर सांझा किया। डाइट प्राचार्य श्री अड़लक जी द्वारा बताता कि राज्य शिक्षा केन्द्र ने निष्ठा मॉड्यूल पर ऑनलाइन संवाद में प्रस्तुतीकरण हेतु जिले का दो बार चयन किया।