Category Archives: शिक्षा

पवार समाज की प्रतिभाएँ हुई सम्मानित, सफल हुआ आयोजन


बैतूल। राष्ट्रीय भर्तृहरि विक्रम भोज पुरस्कार समिति भारत का पहला आयोजन 7 जुलाई 2019 को पांढुर्ना में, दूसरा आयोजन 2 फरवरी 2020 को छिंदवाड़ा में और तीसरा सफल आयोजन 17 अप्रैल 2022 को मुलताई तहसील के ग्राम डहुआ में आयोजित हुआ।

कार्यक्रम तीन सत्रों में आयोजित किया गया पहले सत्र के अध्यक्ष श्री गुलाबराव जी कालभोर, अतिथि कैप्टन एलआर पवार, श्रीमती लक्ष्मी बारंगे, श्रीमती सविता बारंगे, श्री भागचंद देशमुख, श्री सुरेश देशमुख नागपुर, श्रीमती निधि बारंगे छिंदवाडा़, श्रीमती हेमलता डहारे भोपाल, राष्ट्रीय क्षत्रिय महासभा कार्यकारिणी सदस्य श्रीमती पुष्पलता बारंगे, विशेष अतिथि श्री पीएल बारंगे रहे।

द्वितीय सत्र के अध्यक्ष श्री डॉ. एनडी राऊत नागपुर, मुख्य अतिथि डॉ विजय पराड़कर छिंदवाडा, अतिथि डॉक्टर दमयंती कटरे प्राध्यापक छिंदवाडा़, डॉ. जयश्री चौधरी बारंगे नागपुर रहे।

तृतीय सत्र के अध्यक्ष डॉक्टर मानसिंह परमार पूर्व कुलपति पत्रकारिता इंदौर, मुख्य अतिथि कर्नल श्री अरुण पठाडे नागपुर, विशिष्ट अतिथि आर के पी रहांगडाले DGM, BSP छत्तीसगढ़, श्री शक्ति सिंह परमार संपादक स्वदेश, सुश्री मेघा परमार पर्वतारोही, कामनवेल्थ जूडो में गोल्ड मेडल विजेता कपिल परमार, विशेष आमंत्रित अतिथि श्री प्रदीप कालभोर आईएएस रहे।

बैतूल जिले की मुलताई तहसील मुख्यालय के समीपस्थ ग्राम डहुआ में मां कामख्या देवी मंदिर परिसर में सैकडो की संख्या में राष्ट्रीय भर्तृहरि विक्रम भोज पुरस्कार समिति भारत के तृतीय प्रतिभा सम्मान समारोह में भाग लेने आए पंवार समाज के विभिन्न क्षेत्रों में कार्यरत दो दर्जन से अधिक प्रतिभाओ एवं मंचासिन लोगो को समिति की ओर से पुरूस्कृत कर सम्मानित किया गया ।

कार्यक्रम में मुख्य अतिथि जवाहर नेहरु कृषि विश्वविद्यालय जबलपुर के कुलपति डॉ. पीके बिसेन, पूर्व कैबिनेट मंत्री और मुलताई विधायक सुखदेव पांसे, बैतूल विधायक निलय डागा, जिला क्षत्रिय पवार समाज संगठन के जिलाध्यक्ष श्री बाबूलाल कालभोर एवं समाज के सैकडों पदाधिकारियों की मौजूदगी में पवार – परमार वंश के देश-प्रदेश के विभिन्न क्षेत्रों में कार्यरत लोगों को बतौर मुख्य एवं अतिथी के रूप में बुलवाया गया था। सेना, पत्रकारिता, लेखन, कुश्ती, पर्वतारोहण, खेलकूद, कला, संस्कृति, सरकारी सेवाओ, स्कूलों के टॉपर छात्र-छात्राओं को सम्मान राशि के संग सम्मान दिया गया ।

कार्यक्रम में बैतूल, रोंढा, बैतूलबाजार, भारतभारती, आमला, सारणी, पाथाखेड़ा, मुलताई तहसील के गांव से, साथ जिले के बाहर  होशंगाबाद, इटारसी, भोपाल, इंदौर, पीतमपुर, ग्वालियर, हरदा, सिवनी, बालाघाट, छिंदवाडा़, मोहखेड़, पांडुर्णा, सौसर, बिछुआ, परासिया, अमरवाड़ा और प्रदेश के बाहर पुणे, रायपुर, मुंबई, नागपुर, वर्धा, चंद्रपुर, गोंदिया, गाडरवारा आदि स्थानों से समाज सदस्य और समाज की प्रतिभाएँ उपस्थित रही।

कार्यक्रम का शुभारंभ समाज के पूर्वज पुरुषों, मां कामाख्या, मां गढ़कालिका और चक्रवर्ती सम्राट राजा भोज की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर प्रारंभ किया गया। सभी अतिथियों का स्वागत कन्याओं द्वारा तिलक लगाकर और श्रीफल भेंट कर किया गया। सर्वप्रथम तबला वादन गौरव पवार चौधरी सारनी ने अपनी प्रस्तुति दी, इसके बाद श्रीमती निशा हजारे द्वारा स्वागत गीत, श्री बलवंत कड़वेकर द्वारा प्रस्तावना भाषण और पुरस्कार समिति की विकास यात्रा बताई गई। कुमारी आकांक्षा पवार भिलाई दुर्ग के द्वारा गणपति वंदना नृत्य प्रस्तुत किया गया। गौरव ओंकार पाथाखेड़ा सारणी द्वारा शिव तांडव नृत्य, कुमारी आकांक्षा पवार भिलाई दुर्ग द्वारा नृत्य, ओशिन धारे भोपाल द्वारा प्रभु जी मेरे अवगुण चित ना धरो भजन, कुमारी कनक भोपाल नृत्य, कुमारी रौनक भोपाल द्वारा देशभक्ति नृत्य की प्रस्तुति दी गई।

ये हस्तियाँ हुई सम्मानित —– सेना में सम्मानजनक पद पर रहने वाले और 11 मेडल प्राप्त करने वाले श्री कर्नल अरुण पठाडे, कैप्टन संतोष कौशिक, फाइटर प्लेन विशेषज्ञ श्री भगवत बुआड़े, स्वदेश के संपादक और राष्ट्रवादी पत्रिका के प्रतीक श्री शक्ति सिंह परमार, चिकित्सा के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य करने वाले डॉ अशोक बारंगा, डॉक्टर जीवन किंकर, डॉ अमित राहंगडाले, सामाजिक उत्थान के लिए श्री मनीराम बारंगे, श्री दिनकर राव बुवाड़े, श्री बृजलाल गोहिते, श्री दयाराम महाजन, श्री बालकृष्ण पटेल, श्री कन्हैयालाल बुआड़े, खैरीपेका में कई सालों से सामूहिक विवाह का आयोजन सफलतापूर्वक आयोजित कराने वाले श्री कृष्ण कुमार ढोबले और श्रीमती निवेदिता ढोबले, श्री प्रदीप कालभोर आईएएस, श्री नामदेव रबड़े आईईएस, मुलताई क्षेत्र से पहले यूपीएससी क्लियर कर आबकारी अधिकारी बने वाले श्री निलेश पवार, सुश्री मेघा परमार पर्वतारोही और बेटी बचाओ अभियान की ब्रांड एम्बेसेडर, श्री शंकर पवार पत्रकार, श्री विजय बारंगे जोनल मैनेजर एयरटेल, शासकीय सेवा में उत्कृष्ट कार्य करने वाले डॉक्टर एम एस परमार कुलपति, श्री प्रकाश बारंगे, प्रधानमंत्री श्रम श्री अवार्ड से सम्मानित श्री पंचम कालभोर मुलताई और श्री फगनलाल पवार सेरके, श्री संतोष पवार बुआड़े एनटीपीसी में सेवारत, स्वर्गीय डॉक्टर अशोक पराड़कर और अशासकीय सेवाओं के लिए श्री राजेश बारंगे खरपतवार निवारण में शोध और नियंत्रण में पेटेंट पुरस्कृत, स्व. गोपीनाथ कालभोर ग्रामीण पत्रकारिता पुरस्कार से सम्मानित श्री राम किशोर पवार रोंढा, श्री संजय पठाडे, श्री सुंदरलाल देशमुख शिक्षा पुरस्कार के लिए श्रीमती प्रभावती पवार उन्होंने 2005 से 2022 तक बेस्ट टीचर अवार्ड से नवाजा गया है। सुखवाड़ा द्वारा ₹31000 का पुरस्कार कुमारी शिवानी पवार डोंगरे राखीढाना छिंदवाड़ा, स्वर्गीय मोहनलाल पवार स्मृति छात्रवृत्ति राशि ₹15000, 5 छात्रों में बांटी गई जिसमें कुमारी शिवानी पवार विजयवाड़ा, कुमारी विजेता पवार रिधोरा, प्रतीक सेरके उमरानाला, प्रियांशु गोहिते, कुमारी आरती बिसेन तिरोड़ा सभी हायर सेकेंडरी स्टेट टॉपरों को ₹3000 की राशि, प्रशस्ति पत्र, श्रीफल से पुरस्कृत किया गया। स्वर्गीय काशीबाई कृष्णराव पराड़कर की स्मृति में ₹5000 की राशि 5 बच्चों में समान रूप से बांटी गई जिसमें कुमारी लवीना जगदीश कोड़ले बैतूल बाजार, कुमारी शिवानी देवा से वर्धा, कुमारी प्रतिक्षा पवार फरकाड़े, कुमारी कृतिका धारे उमरानाला, कुमारी रानी गाडरे को 1000 रुपये, प्रशस्ति पत्र और श्रीफल देकर सम्मानित किया गया। दीक्षा श्रिया बुआड़े छात्रवृत्ति राशि 5000 रुपये के लिए कुमारी अदिति पवार छिंदवाड़ा को सम्मानित किया गया

समाज की त्रिदेवियां जिन्होंने वैवाहिक जीवन में विपरीत परिस्थितियों के बावजूद अपनी स्वयं की पहचान स्थापित करके सम्मानजनक मुकाम हासिल किया है जिसमें श्रीमती आदित्या पवार डोंगरे मैनेजर ग्रामीण बैंक, श्रीमती नीतू बारंगे मैनेजर एसबीआई बैंक, श्रीमती निधि बारंगे उपभोक्ता फोरम सदस्य जज एवं शोधार्थी पीएचडी शामिल है को प्रशस्ति पत्र, पवारी साहित्य और श्रीफल देकर सम्मानित किया गया।

पवार परिणय, पवार मेट्रोमोनियल, सुखवाड़ा, सुखवाड़ा जीवनसाथी एप एडमिन श्रीमती अनीता दिनेश बुआडे़, श्री बलवंत कड़वेकर, श्री विजय बारंगे, श्री नामदेव बारंगे, श्री महेंद्र डिगरसे, श्री अजय डहारे, श्री संतोष कौशिक, श्री हरीश घागरे, श्री मिथिलेश गाकरे, श्री चंदन पवार, श्री श्याम पवार, श्री दिनेश कुमार पवार सभी को समाज के विवाह योग्य सदस्यों की जानकारी संकलित कर समाज में सजा करने के लिए प्रशस्ति पत्र, श्रीफल देकर सम्मानित किया गया।

अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पहुंचकर समाज और देश का नाम गौरवान्वित करने वाली महिला कुश्ती में रजत पदक विजेता कुमारी शिवानी पवार डोंगरे के पिता श्री नंदलाल पंवार डोंगरे राखीढाना छिंदवाड़ा, शिक्षा नवाचार के लिए श्री उदल पवार श्रीमति गीता पवार, श्रीमती निशा हजारे, श्रीमती प्रभावती पवार, श्री संजीव बारंगे, श्री हितेश पठाडे को प्रशस्ति पत्र, पवार साहित्य और श्रीफल देकर सम्मानित किया गया।

रक्तदान के लिए श्री शंकर पवार पत्रकार, श्री बीआर पवार शिक्षक, विधवा महिला सम्मान नानी बाई डिवटया, निरक्षर महिला सम्मान श्रीमती जेएल परिहार भोपाल, श्री गोवर्धन पवार छिंदवाड़ा, कुमारी प्रियंका चोपडे़ कराटे, आशीष चोपडे़ कराटे, कुमारी अविशा बारंगे मुलताई भोपाल कराटे, कुमारी नीतू कालभोर एनसीसी मार्गदर्शक, सारांश पवार और मनीषा पवार बुआडे़ गाडरवारा शिक्षा नेग, इंजीनियर अंशु पवार पिंजारे टेमझिरा भारतीय रेल्वे में 11 वी रैंक, डॉक्टर राजू एस पवार चिकाने की धर्मपत्नी श्रीमती ममता पवार, कुमारी पल्लवी परिहार पोहर राष्ट्रीय बाल विज्ञान, कुमारी काजल पवार पाठेकर पोहर टेनिश बाल क्रिकेट, कुमारी मुस्कान पवार शतरंज, कुमारी भूमि ओमकार कैरम, कुमारी हर्षिता बारंगे आईसस्टॉक, कुमारी सोनिया बारंगे सॉफ्टबॉल, कुमारी गुंजन कड़वे सॉफ्टबॉल, कुमारी कशिश बोबडे सॉफ्टबॉल, कुमारी कुमकुम डहारे सॉफ्टबॉल, युवराज चौधरी सॉफ्टबॉल, लीना कालभोर बाल विज्ञान, कुमारी रुहानी परिहार विज्ञान प्रदर्शनी, कुमारी रितु धारे उमरानाला, भविष्य डोगरदिए, कु. दिव्या कोड़ले जिला टॉपर सभी जूनियर राज्य और राष्ट्र प्रतिभागियों को प्रशस्ति पत्र और श्रीफल देकर सम्मानित किया गया।

राष्ट्रीय भर्तृहरि विक्रम भोज पुरस्कार समिति भारत में सबसे अधिक बच्चों का मनोरंजन करने वाले राहुल चोपड़े बिछुआ ने क्यूबिक की सहायता से जिन्होंने लता मंगेशकर गणेश जी शिवाजी महात्मा गांधी जैसे महान हस्तियों की प्रतिमा बनाकर पूरे देश में ख्याति अर्जित की है आकर्षण का केन्द्र रहे। कुमारी जिज्ञासा देशमुख बैतूल, श्री रामकिशोर पवार रोंढा स्वतंत्र पत्रकारिता के साथ तीन किताबें लिख कर समाज में लेखन में प्रसिद्धि पाने वाले पत्रकार, श्रीमती शकुंतला बारंगे कैंसर पीड़ितों को बाल दान, श्री नामदेव बारंगे और श्रीमती शकुंतला पवार सेरके, श्री बलराम डहारे मंडीदीप और टीम, श्री तान्बाजी बारंगे पांढुर्ना, श्री योगेश पवार बैतूल, डॉक्टर संदीप परिहार बैतूल, डॉ गेन्दलाल फरकाड़े, श्री हरिशंकर पठाडे मुलताई को प्रशस्ति पत्र और श्रीफल देकर सम्मानित किया गया।

अंत में आयोजन समिति, मां कामाख्या देवी मंदिर समिति डहुआ, ग्राम पंचायत डहुआ, बलराम बारंगे और उनकी टीम को प्रशस्ति पत्र और श्रीफल देकर सम्मानित किया गया। साथ ही भोजन व्यवस्था टीम, मंच पंडाल और बैठक व्यवस्था, प्रचार प्रसार की टीम, कैमरा मैन सहित सभी को प्रशस्ति पत्र और श्रीफल देकर सम्मानित किया गया।

तृतीय राष्ट्रीय भर्तृहरि विक्रम भोज पुरस्कार डहुआ में श्री प्रकाश नारायण बारंगे अध्यक्ष सतपुड़ा पवार समाज समिति सारनी और श्रीमती पुष्पलता प्रकाश नारायण बारंगे सदस्या राष्ट्रीय क्षत्रिय पवार महासभा द्वारा राजभोज की 40 प्रतिमाएँ सभी सेवा निवृत्त सैनिक भाइयों और वरिष्ठजनों को भेट की गई।

इस भव्य आयोजन में कार्यक्रम में राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य श्री जगदीशचन्द्र पवार, लक्ष्मण धोटे, श्रीमती निशा हजारे, श्रीमती अर्चना जगदीश पवार, श्री गोविंदा हजारे, श्री रमेश सरोदे, श्री अमित बुआड़े, श्री बीआर कालभोर, श्री रणवीर प्रताप सिंह, श्रीमती कृष्णा हजारे, श्री बलराम बारंगे, दिनेश कुमार गाकरे, धुरेन्द्र बारंगे, सुभाष बारंगे, कमलेश करदाते, अनिल मदन बारंगे, राजेश बारंगे, इमरत बारंगे, कक्कु कड़वे, सुधीर परिहार, सरिता बलराम बारंगे, सुशीला युवराज बारंगे, प्रतिभा दिनेश गाकरे, सरोज बाई पटेल, लता करदाते, सीता बारंगे, जया कड़वे, संगीता हजारे,श्री जगन्नाथ पाठेकर, प्रदीप डिगरसे रोंढा, लक्ष्मीनारायण पंवार, अविनाश देशमुख, कमल पंवार, सुधाकर पंवार, झनक कडवे, अजय पंवार, अखिलेश परिहार का विशेष सहयोग रहा।

श्री इंदल चिकाने, मोहन बुआड़े, अशोक ओंकार, बंशीलाल बारंगे, अशोक बारंगे, अनिल कौशिक, राधेश्याम नागर, राधेश्याम डहारे, प्रकाश चौधरी, शंकर पठाडे, श्री राजा पवार, श्री राजू पवार, श्री जगदीश पवार, तरुण कालभोर, मोहित पवार पत्रकार, निलेश कोड़ले, जगदीश पंवार पत्रकार छिन्दवाडा, कृष्ण कुमार बारंगे, मुन्नालाल कसारे, गजानन पवार, सेवानिवृत सैनिक अशोक पंवार, अजय पवार पत्रकार, मनमोहन पवार, श्री पलाश कड़वे, अंकित कड़वे, मोनू पवार, मनोज बारंगे, जबलपुर से श्री अमर फरकाड़े, श्री धर्मदास बोबडे, श्री दुर्गेश पाठेकर, श्री तेजी लाल पिंजारे, श्री नंदलाल बारंगे, श्यामराव देशमुख, प्रदीप माटे, दिनेश डिगरसे, एम आर देशमुख, मदन महाजन, रोशन चौधरी, श्रीमती बिल्लो पवार, श्रीमती ज्योति देशमुख, श्रीमती रेखा पवार, श्रीमती सरोज पवार, श्रीमती कविता डिगरसे, कुमारी सविता फरकाड़े, श्रीमती हेमलता बारंगे, श्रीमती आशा पवार, श्रीमती मंगलेश्वरी पवार, श्रीमती संगीता पवार सहित सैकड़ों की संख्या में पवार समाज के जनमानस उपस्थित रहे।

स्कूल शिक्षा मंत्री इंदर सिंह परमार का बड़ा बयान – तय समय पर होगी परीक्षा।


स्कूल शिक्षा मंत्री इंदर सिंह परमार का बड़ा बयान – तय समय पर होगी, परीक्षा 10वीं के पेपर 18 से और 12वीं के 17 फरवरी से ही होंगे।

भोपाल।। मध्यप्रदेश में 1 फरवरी से स्कूल खुलने के बाद स्कूल शिक्षा मंत्री इंदर सिंह परमार ने बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा कि बोर्ड परीक्षाएं तय समय पर होंगी। 10वीं के एग्जाम 18 फरवरी से 10 मार्च तक और 12वीं के 17 फरवरी से 12 मार्च तक होंगे। पेपर सुबह 10 बजे से दोपहर 1 बजे तक रहेगा। छात्रों को सलाह है कि कम समय बचा है। अच्छी तैयारी और मन से परीक्षा दें। कोरोना को देखते हुए पहली बार पेपर फरवरी में शुरू हो रहे हैं। एमपी बोर्ड टाइम टेबल मंडल की वेबसाइट http://www.mpbse.nic.in पर जारी किया गया है।

सुबह 8.30 बजे उपस्थित होना जरूरी

परीक्षा के लिए परीक्षार्थी को सुबह 8.30 बजे उपस्थित होना जरूरी है। छात्रों को सुबह 8.45 बजे तक ही केंद्र में प्रवेश दिया जाएगा। उसके बाद आने वाले छात्रों को परीक्षा में बैठने नहीं दिया जाएगा।

हाई स्कूल (10वीं)

परीक्षा शुरू होगी : 18 फरवरी 2022

अंतिम पेपर : 10 मार्च 2022

समय : सुबह 10 बजे से दोपहर 1 बजे तक

हायर सेकंडरी स्कूल (12वीं)

परीक्षा शुरू होगी : 17 फरवरी 2022

अंतिम पेपर : 12 मार्च 2022

समय : सुबह 10 बजे से दोपहर 1 बजे तक

ONLINE eDUCATION भारतीय संस्कृति के अनुरूप नहीं


मुलतापी समाचार

इंदौर । ऑनलाइन शिक्षा भारतीय संस्कृति के अनुरूप नहीं है। गुरु और शिष्य का मिलन जब तक नहीं होता तब तक विद्या का भाव नहीं आता है। एेसे ही शिक्षक और विद्यार्थी आमने-सामने बैठते है तो शिक्षा का वातावरण निर्मित होता है। कोरोना महामारी के कारण ऑनलाइन शिक्षा की अल्पकालीन व्यवस्था बनी है।

यह बात आचार्य विद्यासागर महाराज ने शुक्रवार को पत्रकारों से चर्चा में नेमीनगर जैन मंदिर में कही। उन्होंने एक अन्य सवाल के जवाब में कहा कि सभी समाचार पत्र मिलकर प्रयास करे तो देश के 13 प्रांतों में जहां हिंदी बोली जाती है वहां पर शुद्ध हिंदी बोली जाने लगेगी। हिंदी समाचार पत्रों में अंग्रेजी शब्दों का इस्तमाल नहीं होना चाहिए। अगर एेसा होता है तो इन राज्यों में रहने वाली 70 फीसदी लोग हिंदी भाषा को सही रूप में अपना लेंगे। इसके अच्छे परिणाम सामने आएंगे। देश की तरक्की होगी।

संतों ने मठ मंदिर बना लिए लेकिन उन्हें नदी के समान होना चाहिए-

एक अन्य सवाल के जवाब में आचार्यश्री ने कहा कि संतों ने मठ-मंदिर बना लिए है लेकिन उन्हें नदी की तरह होना चाहिए। संतों को संभव हो तो एक स्थान पर नहीं रहना चाहिए। उन्हें बहते पानी के समान होना चाहिए। जैसे नदी बहती रहती है वैसे ही संतों को भी चलते रहना चाहिए। इस दौरान उन्होंने कहा राजनीति और धर्मनीति में अंतर है। राजनीति में लोग इधर से उधर हो जाते है। धर्म नीति में एेसा संभव नहीं है।

पॉलीटेक्निक महाविद्यालय में 10वीं की मैरिट के आधार पर प्रवेश


विद्यार्थियों को वेरीफिकेशन के लिए नहीं जाना होगा हेल्प सेंटर

Multapi Samachar

आयुक्त एवं अध्यक्ष काउंसलिंग समिति, तकनीकी शिक्षा संचालनालय के द्वारा जारी समय सारणी के अनुसार इस वर्ष मध्यप्रदेश के पॉलीटेक्निक महाविद्यालयों में प्रवेश पीपीटी परीक्षा के आधार पर न होकर कक्षा 10वीं की मैरिट सूची के आधार पर होगा। इस हेतु विद्यार्थी को 10वीं कक्षा के साथ विज्ञान एवं गणित विषय में पृथक उत्तीर्ण होना आवश्यक होगा।

प्रवेश के इच्छुक विद्यार्थी 19 अक्टूबर 2020 तक ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कर 23 अक्टूबर 2020 तक प्राथमिकता क्रम का ऑनलाइन चयन लॉक कर सकते हैं। कोविड-19 महामारी की वजह से इस वर्ष दस्तावेज सत्यापन हेतु विद्यार्थियों को हेल्प सेंटर जाने की आवश्यकता नहीं है। बैतूल सोनाघाटी स्थित शासकीय पॉलीटेक्निक महाविद्यालय में डिप्लोमा इंजीनियरिंग हेतु मैकेनिकल, इलेक्ट्रीकल, इलेक्ट्रॉनिक्स एण्ड टेलीकम्युनिकेशन एवं कम्प्यूटर साइंस ब्रांच संचालित की जा रही है।

Online Class में चला पोर्न वीडियो दौरान मोबाइल पर , पैरेंट्स ने बच्चों से छीना मोबाइल


वॉट्सएप ग्रुप पर होने वाली ऑनलाइन क्लास में चल गया अश्लील वीडियो, अभिभावकों ने शिक्षकों को सुनाई खरी-खोटी…

मुलतापी समाचार

श्योपुर. मध्यप्रदेश के श्योपुर में ऑनलाइन क्लास के दौरान अचानक पोर्न वीडियो चल गया। जैसे ही पोर्न वीडियो चला तो बच्चे हैरान रह गए और माता-पिता को बताया जिसके बाद घटना से हैरान अभिभावकों ने तुरंत बच्चों से मोबाइल छीने और उन्हें बंद किया। घटना को लेकर अभिभावकों ने खासी नाराजगी जाहिर करते हुए शिक्षकों को जमकर खरी-खोटी सुनाई। NSUI ने थाने में की शिकायत।

इंग्लिश सब्जेक्ट की ऑनलाइन क्लास में चला वीडियो
ऑनलाइन क्लास में पोर्न वीडियो चलने की ये घटना रविवार की है। बताया जा रहा है कि शहर के एक निजी स्कूल के 8वीं क्लास के बच्चों की इंग्लिश विषय की ऑनलाइन क्लास चल रही थी इसी दौरान जैसे ही बच्चों ने वॉट्सएप ग्रुप पर दिए गए वीडियो को चलाया तो पोर्न वीडियो चल पड़ा। पोर्न वीडियो चलने से बच्चे घबरा गए और तुरंत ही माता-पिता को बुलाया। पोर्न वीडियो देख माता-पिता के भी होश उड़ गए और उन्होंने तुरंत बच्चों से मोबाइल छीनकर वीडियो को बंद किया। घटना के बाद ऑनलाइन क्लास बंद कर दी गई हैं वहीं घटना से नाराज अभिभावकों ने स्कूल प्रबंधन जमकर नाराजगी व्यक्त की है। वहीं दूसरी तरफ निजी स्कूल के प्रिंसिपल ऑनलाइन क्लास में पोर्न वीडियो चलने की घटना को हैकर्स की करतूत बता रहे हैं। उनका कहना है कि कोई भी टीचर इस तरह की हरकत नहीं कर सकता है। उन्होंने आगे कहा कि अभी ऑनलाइन क्लासेस बंद कर दी गई हैं और सभी चीजों को ठीक कर फिर से ऑनलाइन क्लासेस शुरु की जाएंगी।

NSUI ने थाने में की शिकायत
इस घटना को लेकर छात्र संगठन NSUI ने नाराजगी जताते हुए थाने में शिकायत दर्ज कराई है। NSUI कार्यकर्ताओं की मांग है कि ऑनलाइन क्लास के दौरान पोर्न वीडियो चलाए जाने की घटना की जांच होनी चाहिए और जो भी दोषी है उस पर सख्त कार्रवाई की जानी चाहिए ताकि भविष्य इस तरह की घटना दोबारा न हो पाए। साथ ही NSUI ने निजी स्कूल के खिलाफ भी कार्रवाई की मांग की है।

जेईई एवं नीट परीक्षा में जिले से बड़ी संख्या में परीक्षार्थियों ने कराया पंजीयन


1350 विद्यार्थियों को अन्य स्थानों पर परीक्षा देने जाने के लिए प्रशासन द्वारा की गई परिवहन सुविधा

Multapi Samachar

जेईई एवं नीट परीक्षार्थियों को शासन द्वारा उपलब्ध कराई गई परिवहन सुविधा दिए जाने के अंतर्गत बैतूल जिले से सर्वाधिक लगभग 1800 परीक्षार्थियों ने पंजीयन कराया गया। निर्धारित पोर्टल पर पंजीयन के अतिरिक्त भी परीक्षा हेतु रवाना किए जाने के दिनांक को भी परीक्षार्थी उपस्थित होते रहे जिन्हें तत्काल रजिस्टर करवाते हुए परिवहन सुविधा अंतर्गत सम्मिलित किया गया। यही कारण रहा कि बैतूल जिले से प्रदेश में सर्वाधिक लगभग 1350 परीक्षार्थियों को जिला प्रशासन के मार्गदर्शन में बनाई गई रणनीति के तहत विभिन्न वाहनों से परीक्षा शहरों के लिए रवाना किया गया। यही नहीं कर्नाटक स्थित परीक्षा केंद्र का चयन करने वाले परीक्षार्थी को उनके दो परिजन उनकी माताजी एवं भाई के साथ जाने की इच्छा प्रकट करने पर रेलवे के माध्यम से उन्हें रिजर्वेशन करा कर भेजा गया।मध्यप्रदेश शासन द्वारा उपलब्ध कराई गई इस सुविधा का लाभ जिले के सुदूर सुदूरवर्ती क्षेत्रों के बच्चों द्वारा प्रमुखता से उठाया गया।

जेईई परीक्षा में भी प्रत्येक दिन, 31 अगस्त से 5 सितंबर तक बड़ी संख्या में परीक्षार्थियों को इस सुविधा का लाभ प्रदान किया गया। बैतूल जिले में ही 3 परीक्षा केंद्र होने के बावजूद बड़ी संख्या में परीक्षार्थियों के केंद्र बड़े शहरों में होने से उन्हें वहां भेजा गया। कलेक्टर श्री राकेश सिंह के उत्कृष्ट मार्गदर्शन में एक विस्तृत योजना बनाई जाकर सीईओ जिला पंचायत श्री एमएल त्यागी को नोडल अधिकारी का दायित्व सौंपा गया। कलेक्टर एवं सीईओ द्वारा इस कार्य के सुचारू क्रियान्वयन के लिए अधिकारियों का एक कोर ग्रुप का गठन भी किया गया, जिसमें जिला शिक्षा अधिकारी, सहायक आयुक्त आदिम जाति कल्याण विभाग, जिला परिवहन अधिकारी, जिला परियोजना समन्वयक, उपसंचालक सामाजिक न्याय को सम्मिलित किया गया तथा योजनानुसार किए जा रहे कार्यों की प्रतिदिन समीक्षा भी की गई।

जिला परिवहन अधिकारी श्रीमती रंजना भदौरिया, अनुभाग अधिकारी बैतूल श्री आरआर पांडे द्वारा पर्याप्त संख्या में वाहन उपलब्ध कराए गए। जिला खाद्य एवं आपूर्ति अधिकारी द्वारा वाहनों में ईंधन की समुचित व्यवस्था करवाए जाने में पूर्ण सहयोग प्रदान किया गया। जिला शिक्षा अधिकारी श्री एलएल सुनारिया ने जिला परियोजना समन्वयक श्री सुबोध शर्मा के साथ मिलकर प्रतिदिन की व्यवस्था के लिए योजना अनुसार कार्य किया गया। सर्व शिक्षा अभियान के अमले द्वारा मुस्तैदी से कार्य किया गया। लगभग 20 जन शिक्षक, अनेक शिक्षकों को निश्चित योजना के तहत कार्य आवंटित किए गए जिससे प्रत्येक परीक्षार्थी से बात की जाकर उनके जाने आने, साथ जाने वाले परिजन इत्यादि की जानकारी, परीक्षा शहर से वापस आने तक इस पर नजर रखी जाती रही।

11 सितंबर से युद्ध स्तर पर जारी इस प्रक्रिया का समापन 14 सितंबर प्रात: 7:00 बजे, परीक्षा केंद्र शहरों से परीक्षार्थियों के वापस लौटने तक निरंतर जारी रहा। जिले के वरिष्ठ अधिकारियों द्वारा इस कार्य के लिए, इस कार्य से संबंधित समस्त शिक्षकों जन शिक्षकों, अधिकारियों, कर्मचारियों को अपने इस रचनात्मक जज्बे को बनाए रखने हेतु शुभकामनाएं प्रेषित करते हुए प्रशंसा की गई। परीक्षार्थियों के लिए शासन द्वारा उपलब्ध कराई गई सुविधा के मूल स्वरूप में हितग्राहियों तक पहुंचा पाने में उच्च जिला प्रशासनिक अधिकारियों के कुशल मार्गदर्शन के साथ, जिला शिक्षा अधिकारी श्री एलएल सुनारिया, डीपीसी श्री सुबोध शर्मा, उपसंचालक सामाजिक न्याय श्री संजीव श्रीवास्तव, प्राचार्य उत्कृष्ट विद्यालय श्री राकेश दीक्षित, परीक्षा प्रभारी श्री मनोहर उघड़े के अतिरिक्त जन शिक्षक श्री संजीव धुर्वे, श्री ललित आजाद, बड़ी संख्या में सक्रिय शिक्षकों की रचनात्मक भूमिका रही।

NEET exam शामिल होने वाले विद्यार्थियों के लिए वाहन सुविधा


Multapi Samachar

Betul News नीट परीक्षा में सम्मिलित होने वाले परिक्षार्थियों को मध्य प्रदेश शासन के द्वारा परीक्षा केंद्र शहर तक भेजने की व्यवस्था किए जाने अंतर्गत जिले से लगभग 1800 परीक्षार्थियों को प्रदेश के विभिन्न शहरों में स्थित परीक्षा केंद्रों के लिए 12 सितंबर 2020 को रवाना किया जाएगा।जिला शिक्षा अधिकारी श्री एलएल सुनारिया ने बताया कि परीक्षा में सम्मिलित होने वाले परीक्षार्थियों द्वारा इस हेतु रजिस्ट्रेशन कराया गया था। जिन परीक्षार्थियों के द्वारा रजिस्ट्रेशन नहीं भी कराया गया था, उनके द्वारा संपर्क किए जाने पर रजिस्ट्रेशन संबंधी जानकारी देकर रजिस्ट्रेशन करवाया गया एवं इन परीक्षार्थियों को विभिन्न परीक्षा केंद्रों के शहरों में भेजने के लिए कलेक्टर श्री राकेश सिंह के मार्गदर्शन में वाहनों की व्यवस्था की गई है।

12 सितंबर प्रात: 7 बजे से इन वाहनों को विभिन्न शहरों हेतु रवाना किया जाएगा, इसके लिए शिक्षा विभाग द्वारा प्रबंध किए गए हैं।श्री सुनारिया ने बताया कि रजिस्ट्रेशन कराए गए परिक्षार्थियों से संपर्क कर जानकारी ली जा कर उनसे कहा गया है कि जो परीक्षार्थी शासन के द्वारा प्रदत्त इस सुविधा का लाभ लेना चाहते हैं वह 12 सितंबर को उत्कृष्ट विद्यालय, बस स्टैंड के पास बैतूल पहुंचकर आवश्यक औपचारिकताएं पूरी कराते हुए उन्हें आवंटित परीक्षा केंद्र के शहर हेतु की गई परिवहन सुविधा का लाभ उठाएं।

सुविधा के अंतर्गत परीक्षार्थी को अपने साथ एक परिजन को लेकर जाने की सुविधा प्रदान की गई है। वर्तमान में वर्षा ऋतु, रास्ते में लगने वाला समय, पहाड़ी नाले, जाम की स्थिति इत्यादि को देखते हुए परीक्षार्थियों को परीक्षा दिवस के एक दिन पूर्व 12 सितंबर 2020 को ही परीक्षा शहर तक भिजवाने की व्यवस्था किए जाने के निर्देश हैं। इसी प्रकार परीक्षा केंद्र स्थित शहर में जाम की स्थिति न बने, साथ ही परीक्षार्थी सार्वजनिक परिवहन का उपयोग कर परीक्षा केंद्र तक सुविधाजनक ढंग से पहुंच सके, इस हेतु बाहर के जिलों से आने वाले वाहनों की पार्किंग की व्यवस्था पृथक से की गई है।

अतिथि शिक्षकों का हो रहा शोषण, फिर कैसा शिक्षक दिवस शिक्षकों ने सौंपा ज्ञापन


मुलतापी समाचार

बैतूल। संयुक्त अतिथि शिक्षक संघ बैतूल द्वारा अतिथि शिक्षकों की नियमितिकरण की मांग को लेकर शनिवार मुख्यमंत्री के नाम से जिला प्रशासन और भाजपा के जिला अध्यक्ष बबला शुक्ला को ज्ञापन सौंपा।संघ के जिला अध्यक्ष केसी पंवार व चिंताराम हारोड़े ने बताया कि अतिथि शिक्षक विगत 13 वर्षो से अल्पवेतन पर शासकीय शालाओं में अध्यापन कार्य कर रहें हैं। वेतन के नाम पर मात्र वर्ग 3 को पांच हजार, वर्ग 2 को सात हजार रूपए, वर्ग 1 को नौ हजार रूपए दिया जा रहा है। वेतन में से भी छुट्टियों को वेतन नहीं मिलता है। प्रमोद जागरे व अब्रान शाह ने बताया कि अतिथि शिक्षक का पद भी स्थाई नहीं होता है। इन 13 वर्षो में आंदोलन, हड़ताल व धरना प्रदर्शन, भुख हड़ताल के माध्यम से मांग की गई परन्तु कोई निष्कर्ष नहीं निकला।

मुख्यमंत्री सिर्फ घोषणा और आश्वासन ही देते रहें हैं। अनिल चौकीकर व प्रकाश सूर्यवंशी ने बताया कि हमारी मांगों को ना मानने का खामियाजा प्रदेश सरकार को उपचुनाव में उठाना पड़ेगा। दयानंद साहू व कैलाश पाटिल ने बताया कि अतिथि शिक्षकों को शोषण हो रहा है ऐसे में शिक्षक दिवस मनाना बेमानी लगता है। अतिथि शिक्षकों की मांग पर बबला शुक्ला ने कहा कि वे अतिथि शिक्षकों की बात को मुख्यमंत्री तक पहुंचाएंगे। ज्ञापन सौंपते समय अजाबराव पाटिल, दुर्गेश मनोटे, माधोसिया मन्नासे, खेमराज झरबड़े, आनंद भौंडे, राजेश ठाकरे, बसंत विश्वकर्मा, राजेश बर्डे, विमल चंदेलकर, राजेश चौकीकर, अखलेश सोनपुरे, नारायण हुरमाड़े, राजेन्द्र मालवीय, योगेश वामनकर, विजय डोंगरे, धमेन्द्र साहू, दीपक गोचरे, राजू पंडागरे, आशीष कोकने, मुनीराज हारोड़े मौजूद थे। 

Betul : ठेके पर संचालित हो रही भैंसदेही ब्लॉक में मोहल्ला क्लॉस,एक हज़ार में आठ कक्षा के छात्रों को पढ़ा रहा युवक, शासकिय 5 शिक्षक होने पर भी नहीं जाते गांव में


बैतूल। हमारा घर हमारा विद्यालय अभियान की शुरुआत राज्य शिक्षा केंद्र भोपाल के निर्देशानुसार 6 जुलाई से हुई है। कक्षा 1 से 10 तक पढ़ने वाले बच्चे कोरोना महामारी के कारण स्कूल बंद होने से घर पर रहकर ही पढ़ाई करेंगे। विभाग द्वारा केंद्रों तक पाठ्य पुस्तके,दक्षता उनयनन वर्क बुक बच्चों को वितरण कर दी गई है। हमारा घर हमारा विद्यालय अभियान के अंतर्गत राज्य शिक्षा केन्द्र भोपाल द्वारा प्रति सप्ताह समय विभाग चक्र भेजा जा रहा है जिसके अनुसार शिक्षक पालको के सहयोग से प्रतिदिन सुबह 10 से 1 बजे एवं शाम 4 से 5 बजे महोल्ला क्लास में जाकर कक्षाओं का संचालन एवं गतिविधियों के माध्यम से अध्यापन कार्य करवाने है। लेकिन जिले के आदिवासी भैंसदेही ब्लाक के दादूढ़ाना गांव में संचालित प्राथमिक और माध्यमिक स्कूल के शिक्षकों ने सरकार की मनसा पर पानी फेरते हुए एक शिक्षित बेरोजगार युवक को महज एक हज़ार रुपये महीने में आठ कक्षाओं की पढ़ाई करवाने का ठेका दे दिया है। युवक मनीराम धुर्वे ने बताया कि मैं पढ़ा लिखा हूँ और अभी बेरोजगार हूँ, शिक्षकों ने मुझे एक हज़ार रुपए महीने देने का कहा है। मैं गांव में सुबह 10 बजे से 1 बजे तक पहली से आठवीं कक्षा तक के बच्चों को पढ़ता हूँ। स्कूल के शिक्षक आते नहीं है शिक्षिका उबनारे मैडम 16 जुलाई को आई थी और कुछ कागज़ी कार्यवाही कर और बच्चों से बात करके चली गई थी। इस मामले में सहायक आयुक्त शिल्पा जैन से चर्चा करनी चाही तो उन्होंने फोन रिसीव नही किया।


मॉनिटरिंग की खुली पोल

सरकार की मनसा थी कि बच्चो को प्रदाय वर्क बुक /रेड़ियो/ डिजिलेप व्हाट्सएप ग्रुप द्वारा भेजी गई थी जिससे पाठन सामग्री का उपयोग कर पढ़ाई का जो नुकसान हो रहा है उसे पूरा किया जायेगा। कार्यक्रम को सफल बनाने हेतु शिक्षको व मैदानी अमले को ऑनलाइन प्रशिक्षण दिया गया हैं। जिले भर के बी आर सी सभी संकुल प्राचार्य, डिजिलेप प्रभारी एवं सभी बी ए सी व सी ए सी इसकी मॉनिटरिंग भी करेंगें जिससे पढ़ाई नही रुकेंगी। लेक़िन भैंसदेही ब्लॉक में विभाग की मॉनिटरिंग की पोल खुल गई है। साफ़ ज़ाहिर है कि पूरा कार्यक्रम घर से कागजों पर संचालित हो रहा है और घरों से ही मॉनिटरिंग हो रही है। जिसका उदाहरण दादू ढाना गांव में देखने को मिल रहा है जंहा पूरा जुलाई का महिना गुजर गया लेकिन ठेके पर चल रही यंहा की शिक्षा किसी भी जिम्मेदार को नही दिखाई दी।

इनका कहना है:-

उक्त प्रोग्राम बीआरसी देख रहें हैं वे ही इस मामले में कुछ बता पाएंगे,लेक़िन आपके द्वारा मामला बताया गया है। बीआरसी से जांच करवाई जाएगी।

जी सी सिंग
बीईओ,भैंसदेही

शिक्षकों को कोरोना का बचाव करते हुए स्कूलों में जाना है और बच्चों की पढ़ाई मोहल्ला क्लॉस के माध्यम से करवानी है। दादू ढाना में शिक्षकों द्वारा ठेके पर किसी को पढ़ाई करवाने रखा होगा तो यह गलत है,मामले की जांच मैं स्वयं गांव जाकर करूँगा एवं दोषियों पर कार्यवाही की जाएगी।

बी आर नरवरे
बी आर सी,भैंसदेही

कक्षा 11वीं में प्रवेश लेने वाले प्रत्येक विद्यार्थी की काउंसिलिंग होगी


काउंसिलिंग का दो दिवसीय प्रशिक्षण आयोजित

बैतूल भोपाल–शासकीय शालाओं में कक्षा 11वीं में प्रवेश लेने वाले प्रत्येक छात्र-छात्रा की काउंसिलिंग की जाकर उनकी रूचि और क्षमता के अनुरूप संकाय आवंटित किए जाएंगे। विस्तृत जानकारी देते हुए बताया गया कि एमपी कैरियर मित्र एप के माध्यम से जनवरी 2020 में शासकीय शालाओं में कक्षा 10 में अध्ययनरत समस्त छात्र-छात्राओं का अभिरुचि और अभिक्षमता परीक्षण किया गया था जिसके तहत 90 मिनट का टेस्ट बच्चों का लिया गया, जिससे छात्र-छात्राओं की रूचि और उनकी क्षमता का आंकलन किया जा सके। इसी क्रम में उत्तर वर्ती कार्यक्रम के रूप में मध्यप्रदेश शासन स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा mpaspire.com पर शासकीय शालाओं में कक्षा नवी से 12वीं के समस्त छात्र छात्राओं का प्रोफाइल पंजीयन कराया जा रहा है। इस पोर्टल पर छात्र-छात्राओं को अपने कैरियर चुनने के लिए लगभग 550 कैरियर्स, लगभग 21000 कॉलेजेस में 262000 कोर्सेज, लगभग 1150 प्रवेश परीक्षाओं और इसी प्रकार हायर सेकेंडरी उत्तीर्ण करने के पश्चात लगभग 1100 प्रकार की छात्रवृत्तिओं के बारे में एक ही प्लेटफार्म पर जानकारी उपलब्ध होती है।

जिले में 09 एवं 10 जुलाई 2020 को समस्त शासकीय हाई स्कूल एवं उच्चतर माध्यमिक विद्यालय, प्रत्येक शाला से प्राचार्य एवं दो शिक्षकों को इस संबंध में प्रशिक्षण प्रदान किया गया। यह शिक्षक अपने विद्यालयों में काउंसलर्स का कार्य करेंगे। प्रशिक्षण के दौरान कलेक्टर श्री राकेश सिंह एवं सीईओ जिला पंचायत श्री एमएल त्यागी द्वारा छात्र छात्राओं को कैरियर के चुनाव में रुचि के साथ क्षमता का ध्यान रखे जाने एवं उन्हें उपलब्ध होने वाले अवसरों के बारे में विस्तार से अवगत करा पाने के लिए आयोजित इस प्रशिक्षण के महत्व को समझने हेतु शिक्षकों और प्राचार्यों से उम्मीद जाहिर की। उन्होंने उम्मीद जताई कि प्रत्येक छात्र जो संकाय का चयन 11वीं कक्षा में करता है इसमें उसकी रूचि, क्षमता और उसकी वर्तमान परिस्थितियों, आर्थिक आवश्यकताओं का भी ध्यान रखा जाए। उन्होंने प्राचार्यों को निर्देशित किया कि प्रवेश के समय प्रत्येक बच्चे के साथ काउंसलिंग अनिवार्यत: संपादित की जाए। प्रशिक्षण के दौरान प्रत्येक विकासखंड से 2-2 शिक्षकों को मास्टर ट्रेनर के रूप में भोपाल से प्रशिक्षित किया जा चुका है। वर्तमान में दो दिवसीय प्रशिक्षण के माध्यम से प्रत्येक शाला से 2 शिक्षक एवं प्राचार्य प्रशिक्षित किए गए हैं जिसका लाभ निश्चित रूप से छात्र-छात्राओं को कैरियर के चयन करने में होगा।

इस प्रशिक्षण में जिला शिक्षा अधिकारी श्री एलएल सुनारिया द्वारा प्रवेश के समय से ही काउंसलर्स द्वारा बच्चे की प्रोफाइल बना लिए जाने, नियमित रूप से उनकी काउंसलिंग करते रहने का आग्रह शिक्षकों एवं प्राचार्य से किया गया। जिले के अतिरिक्त जिला परियोजना समन्वयक राष्ट्रीय माध्यमिक शिक्षा अभियान श्री संजीव श्रीवास्तव एवं डीपीसी श्री सुबोध शर्मा द्वारा विस्तार से एमपी कैरियर मित्र, एमपी एस्पायर पोर्टल, काउंसलर्स से अपेक्षाएं इत्यादि की बारीकियों के बारे में प्रशिक्षण प्रदान किया गया। प्रशिक्षण अंतर्गत जिले के जिला स्तरीय मास्टर ट्रेनर्स श्री संजय व्यास एवं श्री विनोद पड़लक के साथ डीईओ कार्यालय से श्री विनोद लिखितकर द्वारा भी सक्रिय सहयोग प्रदान किया गया।

प्रदीप डिगरसे मुलतापी समाचार बैतूल