Category Archives: स्वास्थ्य

Today is World Kidney Day.


World Kidney Day 2020

हर साल मार्च के दूसरे गुरुवार को ‘वर्ल्‍ड किडनी डे’ मनाया जाता है। इस साल दुनियाभर में यह खास दिन 12 मार्च को मनाया जा रहा है। वर्ल्ड किडनी डे के दिन हर साल एक खास थीम रखी जाती है। बता दें, इस साल विश्व किडनी डे की थीम “किडनी हेल्थ फॉर एवरीवन एवरीवेयर” रखी गई है। जिसका मतलब है “हर कहीं हर किसी के लिए किडनी स्वास्थ्य”।

कब से हुई शुरुआत

वर्ल्ड किडनी डे को मनाने की शुरुआत साल 2006 में हुई थी। जिसका उद्देश्य लोगों को किडनी से जुड़ी समस्याओं और उसके उपचार के बारे में जागरूक करना था। भारत में किडनी रोग से पीड़ित लोगों की संख्या में लगातार वृद्धि हो रही है। ऐसे में इसके प्रति सतर्कता और जागरूगता बेहद जरूरी है। आइए जानते हैं आखिर क्या हैं किडनी रोग के कारण, लक्षण और बचाव के उपाय।

इन 7 बातों पर ध्यान नही देने के कारण हो सकती है किडनी की समस्या

बीते कुछ वर्षों में किडनी फेलियर के मामलों में काफी इजाफा हुआ है। इसकी मुख्य वजह है अनियमित जीवनशैली। ऐसे में उम्र से पहले किडनी को खराब या सिकुड़ने से बचाने के लिए कुछ आदतों को छोड़ना बहुत जरूरी है। आज विश्व किडनी दिवस है। ऐसे में आप आज से स्वस्थ किडनी की दिशा में एक कदम बढ़ा सकते हैं। 

1.  पानी कम पीना
पानी कम मात्रा में पीने से किडनियों को नुक़सान हो सकता है। पानी की कमी के चलते किडनी और मूत्रनली में संक्रमण होने का ख़तरा अधिक हो जाता है। साथ ही कम पानी से स्टोन का भी खतरा बना रहता है। 

2. स्मोकिंग और तम्बाकू सेवन 
वैसे तो यह आदत कई बीमारियों की वजह बन सकती है लेकिन धूम्रपान एवं तम्बाकू का सेवन से खासतौर पर  फेफड़े संबंधी रोग होने का खतरा काफी बढ़ जाता है। वहीं, इससे किडनी को सबसे ज्यादा नुकसान पहुंचता है। 

3. पेशाब रोककर रखना 
रात भर में मूत्राशय पूरी तरह मूत्र से भर जाता है, जिसे सुबह उठते ही खाली करने की ज़रूरत होती है। लेकिन जब आलस की वज़ह से लाग मूत्र नहीं त्यागते और काफी देर तक उसे रोके रहते हैं तो आगे चलकर यह किडनी को भारी नुकसान पहुंचाता है।

4. जंक फूड 
हर डॉक्टर आपको जंक फूड न खाने की सलाह देगा। ऐसे में हमेशा जंकफूड खाते रहना शरीर के लिए घातक हो सकता है। इसका असर सबसे ज्यादा किडनी पर पड़ता है। 

5. ज्यादा नमक का सेवन 
कम या ज्यादा नमक खाना सेहत के लिए हानिकारक है। हमारे द्वारा भोजन के माध्यम से खाया गया 95 प्रतिशत सोडियम गुर्दों द्वारा मेटाबोलाइज़्ड होता है। इसलिए नमक का अनावश्यक रूप से अधिक मात्रा में सेवन किडनी को कमजोर कर देता है। 

6. पेनकिलर का ज्यादा इस्तेमाल 
डॉक्टर की सलाह के बिना दवाओं की खरीद से बचें। बिना डॉक्टर की सलाह के दुकान से पेनकिलर दवाएं खरीदकर उनका सेवन किडनी के लिये खतरनाक हो सकता है। खासतौर पर बार-बार सिरदर्द की दवाई न लें। 


7. प्रोटीन सप्लीमेंट 
बॉडी बिल्डिंग करने के लिए लड़के अक्सर प्रोटीन सप्लीमेंट का इस्तेमाल करते हैं। ऐसा लम्बे समय तक करने से किडनी को नुकसान पहूंच सकता है। प्राकृतिक तरीकों से फिटनेस पर ध्यान देना चाहिए। 

World Kidney Day 2020

मुलतापी समाचार बैतूल

महिला दिवस एवं पोषण पखवाड़ा पर नि:शुल्क जांच


घोड़ाडोंगरी (नवदुनिया न्यूज)। विश्व महिला दिवस के उपलक्ष्य में मार्च को बगडोना में मेतराम फ्रैक्चर हॉस्पिटल सारणी के माध्यम से निश्शुल्क स्वास्थ्य शिविर लगाया जा रहा है। शिविर में सभी प्रकार के हड्डी व मांसपेशियों से संबंधित रोगी अपनी जांच व इलाज करा सकते हैं। शिविर में स्त्री एवं प्रसूति रोग संबंधित जांच परीक्षण भी होगा। वहीं नेत्र रोग, बाल रोग, महिलाओं में सुनने की कमी, नेत्र संबंधित समस्या मोतियाबिंद, शुगर, मधुमेह, बवासीर, वात रोग व त्वचा संबंधित अन्य सभी सामान्य रोग व हड्डी रोगों के विशेषज्ञ डॉक्टरों द्वारा जांच व उपचार किया जाएगा। सभी बीमारियों के विशेषज्ञ डॉक्टर भोपाल, होशंगाबाद, पचमढ़ी व अन्य शहरों से आएंगे।

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर जिला चिकित्सालय में कार्यक्रम आयोजित


अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर –

महिला स्वास्थ्य माह का शुभारंभ
महिला रक्तदान शिविर आयोजित आईसीएचएच यूनिट एवं पिंक वैक्सीन कैरियर की शुरुआत

बैतूल — अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर रविवार 08 मार्च को महिला स्वास्थ्य माह का शुभारंभ, महिला रक्तदात्रियों एवं समाज में उल्लेखनीय योगदान देने वाली महिलाओं का सम्मान, आईसीएचएच यूनिट का शुभारंभ, पिंक वेक्सीन कैरियर का शुभारंभ जिला चिकित्सालय बैतूल में विधायक आमला डॉ. योगेश पण्डाग्रे, पूर्व विधायक श्री विनोद डागा, कलेक्टर श्री राकेश सिंह द्वारा किया गया। इस अवसर पर सीईओ जिला पंचायत श्री एमएल त्यागी, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक श्रीमती श्रद्धा जोशी, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. जीसी चौरसिया, सिविल सर्जन डॉ. प्रदीप धाकड़ सहित चिकित्सकगण व अधिकारी-कर्मचारी उपस्थित रहे। इस दौरान महिला रक्तदान शिविर भी आयोजित किया गया।

कार्यक्रम में अतिथियों द्वारा स्वास्थ्य विभाग अंतर्गत बेहतर कार्य करने वाले चिकित्सकों डॉ. प्रतिभा रघुवंशी, डॉ. अंकिता सीते, डॉ. ईशा डेनियल, जिला विस्तार एवं माध्यम अधिकारी श्रीमती श्रुति गौर तोमर, श्रीमती मधुमाला शुक्ला के अतिरिक्त समाज में उल्लेखनीय योगदान देने वाली श्रीमती आभा तिवारी, श्रीमती कमला बाई उइके, श्रीमती संगीता पहाड़े, एएनएन के पद पर चयनित 13 आशा कार्यकर्ताओं तथा प्रशिक्षक के पद पर चयनित चार आशा सहयोगियों सहित 39 महिला रक्तदात्रियों को सम्मानित किया गया।

इस दौरान आईसीएचएच एकीकृत हीमोग्लोबिनोपैथी एवं हीमोग्लोबिन केंद्र का शुभारंभ भी अतिथियों द्वारा किया गया। सिकलसेल थैलेसीमिया के ऐसे पंजीकृत बच्चे जो रक्ताधान हेतु सुबह आते हैं एवं उनकी शाम को छुट्टी होती है, को लाभ प्रदाय किए जाने हेतु, साथ ही संभावित सिकलसेल मरीजों की जांच सुविधा, कंफर्ममेंट्री टेस्ट, परिवार की स्क्रीनिंग, उपचार की पूरी सुविधा यहां उपलब्ध रहेगी। आईसीएचएच के नोडल अधिकारी शिशु रोग विशेषज्ञ डॉ. जगदीश घोरे हैं।

कार्यक्रम में पिंक वैक्सीन केरियर का भी शुभारंभ किया गया। यह मध्यप्रदेश का नवाचार है, जिसे शीघ्र ही संपूर्ण बैतूल जिले के सभी प्रसव केंद्रों पर उपलब्ध करवाया जाएगा। इससे हमें सभी बच्चों का जन्म के समय का टीकाकरण, 24 घंटे के अंदर करने में सहायता मिलेगी और इससे अपेक्षित है कि जीरो डोज़, संस्थागत प्रसव पश्चात जन्मे सभी बच्चों को मिल पायेगा और जीरोडोल विथ जीरो एरर की अवधारणा को सार्थक कर पायेंगे। पिंक रंग के वैक्सीन कैरियर ही इसलिए ताकि प्रसव केंद्र पर जीरो डोज़ दिया जाना है और प्रसव केंद्र पर पिंक रंग का वैक्सीन कैरियर बच्चों की माता आदि महिलाओं को अच्छा लगेगा। महिलाओं का सबसे पसंदीदा रंग गुलाबी होता है जीरो डोज़ टीकाकरण कार्नर पर यह पिंक वैक्सीन कैरियर सबका ध्यान आकर्षित करेगा। पिंक वैक्सीन कैरियर से वैक्सीन पाने वाला बच्चा स्वस्थ भी होगा।

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए विधायक आमला डॉ. योगेश पण्डाग्रे ने अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस की शुभकामनाएं देते हुए कहा कि आज के समय में महिलाएं पुरुषों से किसी भी क्षेत्र में पीछे नहीं हैं। समाज के तथा देश के विकास में इनका अनुकरणीय योगदान है ।

पूर्व विधायक श्री विनोद डागा ने कहा कि महिलाओं का लिंगानुपात सही हो सकेगा तभी यह दिवस सालों साल मनाया जाता रहेगा। ऐसा हमारा संकल्प हो कि स्वास्थ्य विभाग द्वारा महिलाओं को बेहतर इलाज उपलब्ध करा सकें, ताकि वे जीवन में हमेशा निरोगी एवं सुखी रहें ।

कलेक्टर श्री राकेश सिंह ने कहा कि इस दिवस का विशेष महत्व इसलिए भी है क्योंकि समाज में महिलाओं की उल्लेखनीय भागीदारी है। जिले का जन्म के समय का लिंगानुपात एक चिंता का विषय है, इसको संतुलित बनाने के लिए कार्य किया जाना जरूरी है। परिवार में बच्चियों की शिक्षा, रोजगार में आना इत्यादि बेहद जरूरी है। साथ ही एमटीपी न हो इसके लिए समाज में जागरूकता बहुत जरूरी है।

मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. जीसी चौरसिया ने कहा कि 8 मार्च 2020 अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस की इस वर्ष की थीम आईएम जनरेशन इक्वेलिटी रियलाईजिंग वीमन राइट है। इस वर्ष स्वास्थ्य विभाग द्वारा अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस को महिला स्वास्थ्य माह के रूप में मनाया जा रहा है। इसके तहत 11 मार्च 2020 से 31 मार्च 2020 तक प्रत्येक बुधवार, गुरूवार एवं शनिवार को समस्त स्वास्थ्य संस्थाओं, हेल्थ एण्ड वैलनेस सेंटर, प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र, सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र, सिविल अस्पताल एवं जिला अस्पताल पर एनीमिया उच्च रक्तचाप, डायबिटीज, सरवाईकल कैंसर, ब्रेस्ट कैंसर एवं ओरल कैंसर जैसी बीमारियों की पहचान एवं उपचार हेतु स्क्रीनिंग की जाएगी। समस्त महिला अधिकारी-कर्मचारियों की जांच की जाकर उपचार हेतु चिन्हांकित स्टाफ की अन्य जांच की जाकर पॉजीटिव केसेस का एडवांस ट्रीटमेंट किया जाएगा।

मुलतापी समाचार बैतूल

निःशुल्क आयुर्वेदिक उपचार शिविर का हुआ आयोजन


निःशुल्क आयुर्वेदिक उपचार शिविर बगडोना

मुलतापी समाचार

बगडोना। निःशुल्क आयुर्वेदिक उपचार समिति के तत्वाधान में रविवार को क्षत्रिय पवार समाज संगठन ब्लॉक घोड़ाडोंगरी के मंगल भवन में 08.03.2020 को प्रातः 11:00 बजे से शिविर का शुभारंभ हुआ उक्त शिविर में वेद पुनाराम जी पवार, डॉक्टर हरेंद्र सिंह राणा डॉक्टर गेंदलाल पंवार, डॉक्टर सोनू एवं रितु साहू दंत चिकित्सक ने अपनी सेवाएं प्रदान की । इस निशुल्क शिविर में निर्धन परिवार व सभी आवश्यक लोगों ने लाभ लिया। पवार समाज के अध्यक्ष ने बताया कि यह शिविर मानव सेवा के कल्याण के लिए एवं सभी की निरोगी काया के लिए सेवाभावी लोगों के द्वारा आयोजित किया जाता है। आप सभी गणमान्य बंधुओं से निवेदन है कि उक्त शिविर में आप सभी तन मन धन से सहयोग कर इस पुनीत कार्य को आगे बढ़ाने में सहयोग कर सकते है। मानव सेवा ही सच्ची सेवा है इस भाव को लेकर आप सभी इसमें सहयोग प्रदान करें साथ ही आप सभी सामाजिक बंधु माताये बहनें अगले शिविर में समय दान हेतु सादर आमंत्रित हैं। यह 25 वाँ शिविर आप सभी की सेवा के लिए था सभी बंधुओं से निवेदन है कि पुनीत कार्य में सहयोग कर पुण्य लाभ अर्जित करें इस शिविर में प्रेम पंचकर्म के डाक्टर हरेंद्र सिंह राणा ,वंदना राणा, मनीषा राजुरकर,सिजू जोसेफ एवं पुरी टीम का विशेष सहयोग रहा।

मुलतापी समाचार बैतूल

अंडों एवं मुर्गियों से नहीं फैलता कोरोना वायरस


मुलतापी समाचार बैतूल – उप संचालक पशु चिकित्सा सेवाएं डॉ. केके देशमुख ने बताया कि कोरोना वायरस का संक्रमण मुर्गियों एवं अंडों में नहीं होता है। अत: अंडे एवं मुर्गी का मांस खाने कोरोना बीमारी नहीं फैलती है। बैतूल जिले में सामान्य रूप से अंडों एवं मुर्गियों के मांस का उपयोग उबालकर एवं पकाकर किया जाता है। उबलने के तापमान पर किसी भी प्रकार का वायरस जीवित नहीं रह सकता है। उबालकर एवं पकाकर अंडे एवं मांस का सेवन पूर्णत: सुरक्षित है।

इस संबंध में संयुक्त सचिव भारत सरकार मत्स्य पालन, पशुपालन एवं डेयरी मंत्रालय डॉ. ओपी चौधरी ने भी निर्देश जारी किए हैं। अत: किसी भी प्रकार की अफवाह अथवा भ्रांति पर ध्यान न दें।

मुलतापी समाचार बैतूल

निःशुल्क आयुर्वेदिक उपचार शिविर का आयोजन 8 मार्च को


बगडोना घोड़ाडोंगरी – निःशुल्क आयुर्वेदिक उपचार समिति के तत्वाधान में क्षत्रिय पवार समाज संगठन ब्लॉक घोड़ाडोंगरी के मंगल भवन में 08.03.2020 दिन रविवार को प्रातः 11:00 बजे से शिविर का शुभारंभ होगा उक्त शिविर में वेद पुनाराम जी पवार, डॉक्टर महेंद्र सिंह राणा, डॉक्टर गेंद लाल पवार, डॉक्टर सोनू एवं रितु साहू दंत चिकित्सक अपनी सेवाएं प्रदान करेंगे । जिसके लिए समाज के अध्यक्ष और कार्यकारिणी सदस्यों ने सभी बंधुओं से निवेदन किया है कि वे इस शिविर में पहुँचकर निःशुल्क सेवा का लाभ लेवे। यह शिविर मानव सेवा के कल्याण और निरोगी काया के लिए सेवाभावी लोगों के द्वारा आयोजित किया जाता है आप सभी गणमान्य बंधुओं से निवेदन है कि उक्त शिविर में आप सभी तन मन धन से सहयोग कर इस पुनीत कार्य को आगे बढ़ाने में सहयोग करे। क्षत्रिय पवार समाज के अध्यक्ष बाबूराव जी पवार ने बताया है कि इस बार का 25 वाँ शिविर है।

मुलतापी समाचार बैतूल

कोरोना वायरस के संबंध में स्वास्थ्य विभाग ने जारी किए दिशा निर्देश


मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. जी.सी. चैरसिया ने बताया कि मंगलवार को प्रमुख सचिव स्वास्थ्य डॉ. पल्ल्वी जैन गोविल द्वारा दिये गये निर्देशानुसार चीन के हुबई राज्य के वुहान शहर में एक नये प्रकार के कोरोना वायरस से निमोनिया के प्रकरण पाये गये है। कोरोना वायरस से सामान्य खांसी, गंभीर श्वसन संक्रमण जैसी बीमारियां होती है। इसमें मनुष्य से मनुष्य में संक्रमण फैलने की संभावना होती है। इस संबंध में वरिष्ठ कार्यालय से चिकित्सकों तथा स्वास्थ्य कर्मियों की जागरूकता हेतु एडवाइजरी जारी की गई है। मंगलवार को स्वास्थ्य विभाग द्वारा आयोजित वीडियो कांफे्रंसिंग में इस संबंध में प्रमुख सचिव स्वास्थ्य द्वारा निर्देश भी जारी किये गये।

डॉ. चौरसिया ने बताया कि जिले में कोरोना वायरस से निपटने के संबंध में जिला टास्क फोर्स का आयोजन किया जा चुका है। साथ ही रैपिड रिस्पॉन्स टीम का भी गठन किया जा चुका है। जिला चिकित्सालय में इस प्रकार के मरीजो को हेंडल करने हेतु व्यवहारिक प्रशिक्षण की तैयारी मॉक-ड्रिल के माध्यम से 02 मार्च को की गई। पर्सनल प्रोटेक्शन किट एवं मास्क की व्यवस्था भी की गई है। बीमारी होने की स्थिति में सेंपल (ब्लड सिरम थ्रोड सेंपल) लेने तथा जांच हेतु पुणे (महाराष्ट्र) भेजने की व्यवस्था की गई है।
डॉ. चौरसिया ने इस संबंध में जिला अस्पताल एवं समस्त विकासखण्डों के खण्ड चिकित्सा अधिकारियों को निर्देश जारी किये हैं। डॉ. चैरसिया ने यह भी बताया कि कोरोना वायरस से चिन्हित एक भी मरीज अभी जिले में नहीं पाया गया है, अत: सजग रहें, किन्तु अनावश्यक भयभीत न हों तथा अफवाहों पर ध्यान न दें।

गंभीर श्वसन संक्रमण से पीडि़त भर्ती मरीज जिसे खांसी व बुखार की तकलीफ रही है तथा जिसका कारण स्पष्ट न हो रहा हो, के लक्षणों में तेज बुखार (38 डिग्री सेल्सियस से अधिक), खांसी, गले में खराश, सांस फूलना आदि लक्षण प्रकट होने के 14 दिन के भीतर चीन, इटली, ईरान, थाइलेंड आदि देशों की यात्रा की हो, कोई स्वास्थ्य कर्मी जो गंभीर श्वसन के मरीज के संक्रमण में आया हो चाहे उसका यात्रा इतिहास न हो, मरीज जिसमें असामान्य तथा असंभावित लक्षण प्रकट हो रहे हों व संभव इंलाज के बाद भी हालत में सुधार नहीं हो रहा हो व कारण स्पष्ट न हो पा रहा हो तथा जिसका यात्रा इतिहास भी न हो। वह व्यक्ति जिसमें गंभीर श्वसन संक्रमण के लक्षण प्रकट हो तथा लक्षण प्रकट होने के भीतर वह किसी कन्फर्म केस के संपर्क में आया हो, किसी प्रकरण को रिपोर्ट करने वाले अस्पताल गया हो, किसी रिपोर्ट करने वाले देश से आये हुए जानवर के सीधे संपर्क में आया हो।

संक्रमण में सावधानी रखने के लिए आवश्यक है कि खांसते-छींकते समय मुंह पर रूमाल या कपड़ा लगायें, हाथ को आंख, नाक मुंह में न लगाएं, अनावश्यक किसी से हाथ न मिलाएं एवं भीड़ वाले स्थानों पर अधिक समय तक न रूकें, संभावित संक्रमित रोगी के संपर्क में न आएं, गले न लगाएं, हाथों को साबुन से स्वच्छ पानी से धोएं, अधिक मात्रा में तरल पदार्थ एवं पौष्टिक आहार का सेवन करें, मास्क का उपयोग करें तथा किसी भी प्रकार के लक्षण दिखाई देने या संक्रमण की स्थिति में तत्काल जिला चिकित्सालय या नजदीकी स्वास्थ्य संस्थाओं में संपर्क करें। सावधानी एवं सतर्कता से बचाव आसान हैं।

प्रमुख सचिव स्वास्थ्य डॉ. पल्लवी जैन गोविल द्वारा दिये गये निर्देशानुसार आगामी होली पर्व को देखते हुये गुलाल से सूखी होली खेला जाना उपयोगी रहेगा। पानी एवं रंगों का उपयोग होली खेलते समय न करें। किसी भी प्रकार का संक्रमण त्यौहार के दौरान न फैले इसलिए नमस्ते कैम्पेन चलायें एवं वायरस से बचें।

कोरोना वायरस के संक्रमण की रोकथाम एवं बचाव हेतु प्रदेश का नोवल कोरोना वायरस कंट्रोल रूम, दूरभाष टोल फ्री नंबर 104 हेल्थ हेल्प लाइन प्रतिदिन प्रात: 8 बजे से सायंकाल 8 बजे तक कमला नेहरू अस्पताल, हमीदिया अस्पताल के पास, भोपाल में स्थापित किया गया है।

मुलतापी समाचार बैतूल

एनसीडी अभियान के तहत प्रशिक्षण आयोजित


बैतूल – मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. जीसी चौरसिया ने बताया कि 02 मार्च को मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी कार्यालय के सभाकक्ष में बीपीएम, बीसीएम, सीएचओ एवं डाटा एन्ट्री ऑपरेटर का एनसीडी अभियान के तहत एनसीडी एप के प्रशिक्षण का आयोजन किया गया। प्रशिक्षण मेटरनल कंसलटेंट टाटा ट्रस्ट भोपाल डॉ. पल्लवी सोनी द्वारा प्रदाय किया गया। प्रशिक्षण में जिला कार्यक्रम प्रबंधक डॉ. विनोद शाक्य एवं एम.एण्ड.ई. श्री मनोज चढ़ोकार उपस्थित रहे।

डॉ. चौरसिया ने बताया कि नागरिकों को उनके निवास के समीप समग्र स्वरूप की प्राथमिक स्वास्थ्य सेवाऐं उपलब्ध कराने हेतु आयुष्मान भारत कार्यक्रम के अंतर्गत चयनित प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों एवं उप स्वास्थ्य केन्द्रों में हेल्थ एण्ड वेलनेस सेंटर का संचालन किया जा रहा है। इन सेंटर्स पर आरएमएनसीएचए की सेवाओं के साथ-साथ संचारी एवं असंचारी रोगों से संबंधित सेवाएं प्रदान किये जाने हेतु उच्च रक्तचाप, ह्नदय रोग, मधुमेह एवं कैंसर जैसी प्रमुख असंचारी रोगों के समयबद्ध चिन्हांकन स्क्रीनिंग एवं उपचार हेतु समस्त हेल्थ एण्ड वेलनेस सेंटर के केचमेंट में निवासरत नागरिकों की समुदाय आधारित स्क्रीनिंग को आसान बनाने हेतु एनसीडी एप का प्रशिक्षण प्रदाय किया गया। प्रशिक्षण में एप से संबंधित प्रश्नों का भी समाधान किया गया।

मुलतापी समाचार बैतूल

श्योपुर जिला अस्पताल में महिला ने छ: बच्चों को दिया जन्म


श्योपुर अस्पताल में महिला ने छ: बच्चों को दिया जन्म

श्योपुर – मध्यप्रदेश के श्योपुर जिला अस्पताल में एक चौंकाने वाला मामला सामने आया है अस्पताल में एक महिला ने 1 साथ 6 बच्चों को जन्म दिया यह देखकर हॉस्पिटल में मौजूद डाक्टर और स्टाफ दंग रह गए है डॉक्टरों का कहना है कि अपने जीवन में ऐसा कभी नहीं देखा और ना ही कभी सुना है महिला का प्रसव 6 माह में किया गया है उसे अत्यधिक प्रसव पीड़ा हो रही थी महिला को जिला अस्पताल ले जाया गया जहां महिला ने 6 बच्चों को जन्म दिया और बच्चों में 4 लड़के 2 लड़कियों को जन्म दिया है दोनों लड़कियों की जन्म के कुछ देर बाद ही मौत हो गई जबकि महिला और चारों बालक स्वास्थ्य बताए जा रहे है। श्योपुर जिलें के बड़ौदा निवासी मूर्ति पति विनोद माली को करीब साढ़े छह माह का गर्भ था। शनिवार को पेट दर्द की शिकायत पर महिला को परिजनों ने महिला को जिला अस्पताल में भर्ती कराया डॉक्टर ने इलाज के दौरान सोनोग्राफी कराने की सलाह दी जिसमें महिला के पेट में चार बच्चे दिखाई दिए। महिला को प्रसव पीड़ा अधिक होने पर डॉक्टरों ने प्रसव कराने का निर्णय लिया प्रसव कराने वाले डॉक्टर बीएल यादव ने बताया कि उनके 28 साल के कार्यकाल में यह पहली घटना है। प्रसव समय पूर्व होने के कारण बच्चों का वजन कम है।

मुलतापी समाचार बैतूल

सतत तीसरे वर्ष नगर में निःशुल्क नेत्र शिविर का सफल आयोजन


100 लोग ने आंखों का सफल ऑपरेशन कराया

मुलताई। आपरेशन करवाकर वापस लौटे लोग।

मुलताई। वैश्य महासम्मेलन के द्वारा तीसरा निःशुल्क नेत्र जांच शिविर के तहत 100 मरीजों की आंखों का सफल आपरेशन करा के मुलताई लौटे जिनका स्वागत समिति के सदस्यों द्वारा स्थानीय अरिहंत लान में किया गया। विगत 29 जनवरी को निःशुल्क जांच शिविर में लगभग 300 आंखों के मरीजों की जांच की गई थी जिसमें से 108 लोग मोतियाबिन्द से पीडि़त मिले थे। संस्था द्वारा जांच उपरांत 100 मरीजों को लायन आई हास्पिटल परासिया आपरेशन के लिए भेजा गया था जिसमें सभी का आपरेशन संपन्ना होने के बाद मरीज शुक्रवार मुलताई पहुंचे जहां उनका स्वागत किया गया। संस्था के संजय अग्रवाल ने बताया कि वैश्य महासम्मेलन द्वारा विभिन्न सेवाभावी गतिविधियों के तहत सतत तीसरे वर्ष नगर में निःशुल्क नेत्र शिविर का आयोजन किया गया था जिसका लाभ नगर सहित पूरे क्षेत्र के ग्रामीणों को मिला है।