Category Archives: हत्या

चिचोली के हर्रावाड़ी में कॉलेज छात्र ने लगाई फांसी


बैतूल। चिचोली थाना क्षेत्र में हर्रावाड़ी के पास खेत की झोपड़ी में रहने वाले 24 वर्षीय युवक ने अज्ञात कारणों से फांसी लगा कर आत्महत्या कर ली। जानकारी के अनुसार सदन पिता मंगल (24) ने अज्ञात कारणों से फांसी लगा ली। परिजनों ने बताया कि मृतक सदन शाम 7 बजे खाना खाकर गया था। उसके बाद वापस नहीं आया। मृतक सदन उइके दुकान में मजदूरी कर कॉलेज की पढ़ाई कर रहा था। थाना प्रभारी आरडी शर्मा के मुताबिक मृतक के मोबाइल की कॉल डिटेल निकाली जा रही है।

दिल दहला देने वाली घटना- अपहरण के दिन ही मासूम के साथ दुराचार कर की थी हत्या


बैतूल – मासूम बच्ची का अपहरण करने वाले दरिंदे ने अपहरण के दिन ही मासूम को जंगल लेकर गया उसके साथ दुराचार कर गाला घोटकर हत्या कर दी है।दिल दहला देने वाली घटना ने सभी को झकझोर दिया है।घटना का खुलासा करते हुए शाहपुर  एसडीओपी महेंद्र सिंह मीणा ने बताया कि 15 मार्च को चिचोली थाना क्षेत्र के सेधुरजना निवासी 3 वर्षीय मासूम बच्ची का दिनदहाड़े अपहरण हो गया था।  अपहरण करने वाले युवक की पहचान दभेरी निवासी आरोपी विनोद उर्फ टिंकू साबले 33 वर्ष के रूप में की गई। घटना के दिन से पुलिस आरोपी और बच्ची की तलाश कर रही थी।एसपी बैतूल  ने आरोपी पर 10 हजार और  होशंगाबाद आईजी ने 30 हजार  का इनाम रखा था। दो दिन पहले आरोपी को झल्लार पुलिस ने पकड़ा। जिससे पूछताछ की तो सनसनीखेज मामला सामने आया। आरोपी ने बताया की अपहरण के घटना के दिन ही वह बच्ची को चिचोली  नांदा के जंगल ले गया और उसके साथ दुराचार किया  इसके बाद बच्ची की गला घोंटकर हत्या कर दी और शव को जंगल में ही फेंक दिया। पुलिस ने घटना  स्थल पर पहुंचकर जयजा लिया  जंगल से बच्ची का कंकाल मिला है कंकाल के पास मिले कपड़ों की आधार पर बच्ची की शिनाख्त की गई। पुलिस ने बताया कि आरोपी घटना के बाद जंगल जंगल घूमता और किसी भी होटल में भोजन कर जंगल मे ही सो जाता था। जिले में लॉक डाउन हुआ तो सारी होटल, ढाबे बंद हो गये तो आरोपी भोजन के लिए परेशान होने लगा। एक दिन आरोपी झल्लार क्षेत्र में राशन की तलाश करने आया  जिसकी  जानकारी पुलिस को मिली वैसे ही पुलिस ने घेराबंदी करते हुये आरोपी को दबोच लिया। 

लाठी मारकर हत्या की हत्या, छोटे भाई के सिर पर


 

पानी के छींटे उड़ने से नाराज था आरोपित, पुलिस ने कि या गिरफ्तार

बुरहानपुर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। गणपति थाना क्षेत्र के मालीवाड़ा में सोमवार दोपहर को पानी के छींटे उड़ने के मामूली विवाद पर बड़े भाई ने छोटे भाई के सिर पर लाठी मारकर हत्या कर दी।

थाना प्रभारी चैनसिंह उइके ने बताया कि सोमवार सुबह खुर्शीद अहमद पिता गुलाम मुस्तफा की पत्नी घर के बाहर सड़क पर कपड़े धो रही थी। इसी बीच उसका जेठ मोहम्मद रमजान वहां से गुजरा। कपड़े धोने के कारण पानी के कु छ छींटे उस पर पड़ गए, जिससे वह नाराज हो गया। उस समय तो वह चला गया, लेकि न दोपहर में इसी बात को लेकर फिर विवाद शुरू कर दिया। उसने घर के पास आकर छोटे भाई खुर्शीद को बुलाया और जैसे ही वह बाहर निकला, उसके सिर पर डंडे से जोरदार वार कर दिया। घायल खुर्शीद को तत्काल जिला अस्पताल पहुंचाया गया जहां डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया। थाना प्रभारी ने बताया कि देर शाम आरोपित को हिरासत में ले लिया गया है। मंगलवार को उसे कोर्ट में पेश कि या जाएगा।

च्छादेवी मंदिर ट्रस्ट की धर्मशाला राहत कैप में तब्दील

बुरहानपुर। कलेक्टर राजेश कौल ने सोमवार को एक आदेश जारी कर इच्छापुर स्थित इच्छादेवी मंदिर ट्रस्ट धर्मशाला को राहत कै ंप में तब्दील कर दिया है। इस कै ंप में बुरहानपुर जिले की सीमा में प्रवेश करने वाले महाराष्ट्र से आए मजदूरों व अन्य बेसहारा लोगों को रखा जाएगा। इसके लिए उन्होंने आरआई देवेश डोंगरे को प्रभारी और ट्रस्ट के सचिव को सहयोगी बनाया है। राहत कै ंप में भोजन और इलाज आदि की समुचित व्यवस्था भी कराने के निर्देश दिए गए हैं। यह आदेश तत्काल प्रभाव से लागू हो गया हैं।

पुलिस ने बाहर कराई सुपर बाजार में उमड़ी भीड़

सुपर बाजार से लोगों को बाहर कराते हुए पुलिसकर्मी।

बुरहानपुर। सोमवार को हमीदपुरा स्थित स्मार्ट मॉल सुपर बाजार को ग्राहकों के लिए खोल दिया गया था। जिसके बाद सामान लेने यहां खासी संख्या में लोग उमड़ पड़े। कि सी ने इसकी सूचना कोतवाली पुलिस को दे दी। जिसके बाद पुलिस ने सुपर बाजार पहुंच कर भीड़ को बाहर कराया। सुपर बाजार में उमड़ी भीड़ भी इस ओर इशारा कर रही है कि शहर के अधिकांश क्षेत्रों में लोगों को कि राना, राशन समेत अन्य जरुरी सामान की आपूर्ति नहीं हो पा रही है।

शाहपुर के प्रभाकर ने प्रधानमंत्री राहत कोष में दिए एक लाख रुपये

शाहपुर। नगर पंचायत शाहपुर क्षेत्र के प्रगतिशील कि सान और समाजसेवी प्रभाकर विट्ठल पाटिल ने एक बार फिर देश और समाज के प्रति अपनी प्रतिबद्धता को साबित कि या है। उन्होंने सोमवार को प्रधानमंत्री राहत कोष में एक लाख एक हजार रुपये जमा कराए। यह राशि उन्होंने स्थानीय बैंक आफ बड़ोदा की शाखा में आरटीजीएस के जरिए जमा कराई। इससे पहले भी वे देश में आई आपदा के दौरान समाजसेवा के काम करते रहे हैं

पाथाखेड़ा में नाले में मिला महिला का शव


बडी घटना

देश मे 22 मार्च से कर्फ्यु लगने के बावजूद महिला की हत्‍या कर नाले में फेंकी लाश

3 दिन से लापता बुजुर्ग महिला का मिला शव

मुलतापी समाचार, अंकित यादव, सारनी

घोड़ाडोंगरी ब्लॉक के पाथाखेडा कांग्रेस नगर में पिछले 3 दिनों से लापता बुजुर्ग महिला का शव मिला है। जानकारी के अनुसार उक्त बुजुर्ग महिला तीन दिन से कई चली गई थी जिसकी गुमशुदगी की रिपोर्ट परिवार के माध्यम से कराई गई थी । आज सुबह 9 बजे उक्त महिला का शव नाले में पड़े होने की सूचना पुलिस को नागरिकों के माध्यम से मिली, जिसकी सूचना मिलते तत्काल मौके पर पुलिस ने वहां पहुँचकर शव की शिनाख्त की। वहीं मामले की गंभीरता को देखते हुए बैतूल से एसएफएल टीम को बुलाया गया। महिला की पहचान दशरी बाई निवासी अम्बेडकर नगर पाथाखेड़ा के रूप में हुई है।

मुलतापी समाचार

नक्सलियों के एंबुश में फंसकर शहीद हो गए 17 जवान, मुठभेड़ में हो गए थे लापता


Naxal Encounter in Sukma : मुलतापी समाचार

सुकमा। धुर नक्सल प्रभावित सुकमा जिले के चिंतागुफा थाना क्षेत्र के मिनपा-कसालपाड़ इलाके में शनिवार को हुई मुठभेड़ में लापता 17 जवानों के शव रविवार को बरामद किए गए। रविवार को इनकी तलाश के लिए 500 जवानों की टीम को भेजा गया था। मौके से जवानों के शव बरामद हुए। सभी जवानों के पार्थिव देह को जंगल से बाहर निकाल लिया गया है। समाचार लिखे जाने तक जवानों के शव बुरकापाल कैंप में ही रखे हुए हैं। उन्हें जिला मुख्यालय नहीं लाया जा सका है।

मिनपा इलाके में नक्सलियों के बड़े जमावड़े की सूचना पर शुक्रवार शाम को अलग-अलग कैंपों से करीब 550 जवान जंगल में गए थे। वापसी के दौरान नक्सलियों ने कसालपाड़ व मिनपा के बीच कोटपाड़राज रेंगापारा के पास एंबुश लगाया। फोर्स अलग-अलग चल रही थी। हर टीम में सौ से डेढ़ सौ जवान थे। इन्हीं में से एक टीम नक्सली एंबुश में फंसी। मौके पर चार तालाब हैं। इन तालाबों की मेड़ के पीछे नक्सलियों ने एंबुश लगा रखा था जबकि जवान खुले में फंस गए। शनिवार दोपहर करीब 12.30 बजे फायरिंग शुरू हुई जो चार घंटे तक जारी रही।

नक्सली चारों ओर थे। चौतरफा भारी फायरिंग से जवान बिखर गए। मौके पर करीब तीन सौ नक्सली थे। जवानों ने बताया कि नक्सली गैर छत्तीसगढ़ी लग रहे थे। घटनास्थल चिंतागुफा कैंप से करीब सात किमी दूर दक्षिण में है। चिंंतागुफा के ग्रामीणों ने बताया कि उनके गांव तक हर दस मिनट में विस्फोट की आवाज आती रही।

नक्सली गोले दाग रहे थे। उन्होंने देसी बम का भी इस्तेमाल किया। मौके पर पेड़ों में गोलियां धंसी हुई हैं। एंबुश में जो टीम फंसी थी उसमें एसटीएफ और डीआरजी के जवान ही थे। लगातार फायरिंग के चलते जवानों की गोलियां खत्म हो गईं। रात नौ बजे बुरकापाल से कोबरा बटालियन की टीम गई और एलओपी (लाइन ऑफ पाइंट) लगाया तब जाकर घायलों को निकाला जा सका। मौके पर जगह जगह जवानों के जूते, टोपी और अन्य सामान बिखरे हैं।

24 घंटे लग गए शव निकालने में

शहीदों के शव रातभर वहीं पड़े रहे। सुबह नौ बजे बुरकापाल और चिंतागुफा से रेस्क्यू टीम रवाना की गई। पहले ड्रोन उड़ा फिर जवान रवाना हुए। जगह-जगह शव पड़े मिले। जवान अपने साथियों का शव सात किमी कंधे पर लादकर बाहर लाए। कोबरा बटालियन के डीआइजी बुरकापाल तक गए थे। बस्तर आइजी सुंदरराज पी ने बताया कि शहीदों में 12 जवान डीआरजी (डिस्ट्रिक रिजर्व गार्ड) के हैं व पांच एसटीएफ के। बुरकापाल में पदस्थ डीआरजी के पांच व चिंतागुफा के तीन जवान शहीद हुए हैं। अन्य डीआरजी जवान दूसरी जगहों के हैं।

15 हथियार लूटे, एक यूबीजीएल भी

नक्सली, जवानों के 15 हथियार लूटकर ले गए हैं। इनमें 12 एके 47 रायफल व एक अंडर बैरल ग्रेनेड लांचर(यूबीजीएल) शामिल है। डीआरजी के सबसे ज्यादा हथियार लूटे गए हैं। जो यूजीबीएल लूटा गया है वह बुरकापाल डीआरजी का था।

शहीद जवानों के नाम

एसटीएफ

1. पीसी गीतराम राठिया पुत्र परमानंद राठिया, ग्राम सिंघनपुर, थाना भूपदेवपुर, जिला रायगढ़

2. एपीसी नारद निषाद पुत्र फगुआ राम निषाद, ग्राम सिवनी, थाना बालोद, जिला बालोद

3. आरक्षक 3541 हेमंत पोया, पुत्र गुलाब राम पोया, ग्राम डबराखार, पोस्ट सरोना, थाना नरहरपुर, जिला कांकेर

4. आरक्षक 1639 अमरजीत खलको, पुत्र अमृत खलको, ग्राम औराजोर, पोस्ट हर्राडांड, थाना कुनकुरी, जिला जशपुर

5. सहायक आरक्षक 234 मड़कम बुच्चा, पुत्र मड़कम देवा, ग्राम टटरई, पोस्ट आरगट्टा, थाना एर्राबोर, जिला सुकमा

डीआरजी

6. आरक्षक 1193 हेमंत दास मानिकपुरी, पुत्र सुखदास मानिकपुरी, ग्राम छिंदगढ़, जिला सुकमा

7. सहायक आरक्षक 194 गंधम रमेश, पुत्र गंधम मदना, ग्राम जगरगुंडा, जिला सुकमा

8. आरक्षक 594 लिबरूराम बघेल, पुत्र सुकालू राम, ग्राम लेदा, थाना तोंगपाल, जिला सुकमा

9. आरक्षक 418 सोयम रमेश, पुत्र सोयम लच्छा, ग्राम एर्राबोर, जिला सुकमा

10. सहायक आरक्षक 368 उइका कमलेश, पुत्र उइका भीमा, ग्राम जगरगुंडा, जिला सुकमा

11. सहायक आरक्षक 804 पोड़ियम मुत्ता, पुत्र पोड़ियम सुब्बा, ग्राम मुरलीगुड़ा, जिला सुकमा

12. सहायक आरक्षक उइका धुरवा, पुत्र उइका सुकलू, ग्राम जगरगुंडा, जिला सुकमा

13. आरक्षक 1202 वंजाम नागेश, पुत्र बंजाम बुच्चा, ग्राम सुन्न्मगुड़ा, जिला सुकमा

14. प्रधान आरक्षक 463 मड़कम मासा, पुत्र मड़कम माड़ा, ग्राम चिचोरगुड़ा, जिला सुकमा

15. आरक्षक 1268 पोड़ियम लखमा, पुत्र पोड़ियम हिड़मा, ग्राम जिडपल्ली, जिला बीजापुर

16. आरक्षक 1244 मड़कम हिड़मा, पुत्र मड़कम दुला, ग्राम करीगुंडम, जिला सुकमा

17. गोपनीय सैनिक नितेंद्र बंजामी, पुत्र देवा, ग्राम कन्हाईपाड़, जिला सुकमा

इनका कहना है

यह वक्त बहुत ही नाजुक है, हम पर हमले-दर-हमले हैं। दुश्मन का दर्द यही तो है, हम हर हमले पर संभले हैं। वीर जवानों की शहादत को नमन।

– भूपेश बघेल, मुख्यमंत्री।

शहीद जवानों को अश्रुपूर्ण श्रद्धांजलि, परिजनों के प्रति गहरी संवेदना। ईश्वर से प्रार्थना है कि उनकी आत्मा को मोक्ष/शांति प्रदान करें। परिजनों को दुखद घड़ी को सहन करने की क्षमता प्रदान करें। घायल जवानों को ईश्वर शीघ्र स्वास्थ्य लाभ प्रदान करें।

– अनुसुइया उईके राज्यपाल।

वृद्ध की हत्या कर रेत में दफनाई लाश, चार आरोपी गिरफ्तार


Multapi Samachar

जादू-टोना के शक में चार लोगों ने वृद्ध की हत्या की

रेत में दफन आदमी की फाइल फोटो

अंधे कत्‍ल की गुत्थी सुलझाने में पुलिस को मिली सफलता, चार आरोपित गिरफ्तार

सारणी। मुलतापी समाचार

सारणी थाना क्षेत्र के छतरपुर गांव में निवास करने वाले 60 वर्षीय मदरसा सरेयाम की हत्या जादू टोना के संदेह में की गई थी। पाथाखेड़ा पुलिस ने अंधे कत्ल की गुत्थी सुलझाने में सफलता हासिल कर ली है। सारणी एसडीओपी अभय चौधरी ने बताया कि 12 मार्च को 60 वर्षीय मदरसा पिता गरीबा अपने घर से खाना खाकर अपनी साइकल से खेत की तरफ गया हुआ था। उसके बाद यह अपने खेत से गायब पाया गया। जिस पर उसके पुत्र अनिल सरेयाम के द्वारा दो दिनों तक आसपास के क्षेत्रों एवं रिश्तेदारों से पूछने के बाद 14 मार्च को खेत से दो किलोमीटर की दूरी पर तवा नदी के जामुन की झाड़ियों के पास रेत में मदरसा का शव दफनाया पाया गया था। एसडीओपी अभय चौधरी ने बताया कि जांच में गांव में मदरसा से किसकी अनबन थी उन लोगों को चिन्हित किया गया। ज्यादातर गांव के लोगों ने बताया कि मदरसा जादू टोना करता था।

गांव के मंगल परते पिता मनोहर परते 30 वर्ष, दीपक पिता कृष्णा अहके 19 वर्ष ,मोहन पिता झिरितु अहाके 19 वर्ष, दीपक धुर्वे पिता नन्हे सिंह धुर्वे उम्र 19 वर्ष को मुखबिर सूचना व शक के आधार पर हिरासत में लेकर पूछताछ की गई। उन्होंने मदरसा सरेयाम की हत्या कर शव नदी की रेत में छुपाना स्वीकर कर लिया। एसडीओपी ने बताया कि चारों युवकों के रिश्तेदार किसी ना किसी बीमारी से बीमार चल रहे थे। जिसकी वजह से इन चारों युवकों को संदेह हुआ कि इनके परिवार के लोगों को मदरसा जादू टोना करके परेशान कर रहा है और इसी के आधार पर चारों युवकों ने उसकी क्षेत्र में हत्या करके उसके शव को तवा नदी के रेत में गाड़ दिया था। पुलिस ने चारों को गिरफ्तार कर उनके पास से हत्या में उपयोग आने वाली मोटरसाइकल को जप्त कर ली है।