Tag Archives: आंगनवाड़ी कार्यकर्ता

आँगनवाड़ी केन्द्रों पर फीवर क्लीनिक, कोविड-19 की गतिविधियाँ नहीं होंगी संचालित


मुलतापी समाचार

भाेेेेेेपाल। बैतूल । प्रमुख सचिव लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण श्री फैज अहमद किदवई ने सभी कलेक्टरों को निर्देशित किया है कि प्रदेश के आँगनवाड़ी केन्द्रों पर फीवर क्लीनिक अथवा कोविड-19 की गतिविधियों का संचालन नहीं किया जायेगा।श्री किदवई ने कहा है कि कोविड-19 से संक्रमित मरीज के थूक के कणों से दो मीटर के भीतर सम्पर्क में आए किसी अन्य व्यक्ति को संक्रमित कर सकती है। प्रदेश में संचालित किसी भी आँगनवाड़ी में कोविड-19 संबंधी गतिविधियां, फीवर क्लीनिक का संचालन या सेम्पलिंग कार्य के लिये आँगनवाड़ी सह-आरोग्य केन्द्र का उपयोग न किया जाये। श्री किदवई ने कहा कि भारत सरकार की गाईडलाइन के अनुसार गर्भवती महिलाएँ और 10 वर्ष से कम उम्र के बच्चे हाईरिस्क की श्रेणी में चिन्हित किए गए हैं। आँगनवाड़ी का उपयोग सिर्फ महिला बाल विकास विभाग के अन्तर्गत चिन्हित टीकाकरण, स्वास्थ्य सेवाएँ पोषण आहार वितरण आदि के लिए ही किया जाए।

आंगनवाड़ी कार्यकर्ता व सहायिका द्वारा घर घर जाकर पोषण आहार वितरण, माक्स वितरण, जागरूकता कार्य किया


महिला एवं बालविकास की आंगनवाड़ी कार्यकर्ता हरदा की फ़ोटो

मुलतापी समाचार

हरदा। कोरोना के संकट काल से उभरने हेतु शासन केे कई विभागों के द्वारा विभिन्न प्रकार से आपदा से बचाव हेतु कार्य किये जा रहे है। इन्ही के साथ महिला एवं बाल विकास विभाग का मैदानी क्षेत्र जिसमें आंगनवाड़ी कार्यकर्ता व सहायिका की भूमिका भी पीछे नहीं है। इसी कतार में जिला हरदा अंतर्गत महिला एवं बाल विकास परियोजना खिरकीया, सेक्टर चारूवा के अंतर्गत आने वाली आंगनवाड़ी केन्द्र हरिपुरा माल की कार्यकर्ता श्रीमती ममता सोनी व सहायिका सीमा सल्लाम द्वारा अपने कर्तव्य को पूर्ण निष्ठा के साथ किया जा रहा है।

इनके द्वारा कई जनहित के कार्य भी किये जा रहे है जैसे – सोशल डिस्टेंसिग के बारे में सभी को अवगत कराया जा रहा है। अपने कार्य क्षेत्र में, खुद बहुत अधिक धनी ना होकर भी लोगों की सेवा के लिये स्वयं के द्वारा बनाये गये मास्क का वितरण बहुत से गरीब लोगों के लिये कर रही है और दिये गये मास्क का उपयोग घर से बाहर निकलते समय आवष्यक रूप से करने की सलाह दी जा रही है।

जिसके कारण लोगों को अपने घर से निकलने पर शासन द्वारा दिये गये निर्देषो का पालन करने में मदद मिल रहीं हैं। आंगनवाड़ी केन्द्र के सभी हितग्राहियों को पूरक पोषण आहार एवं रेडी टू ईट जिसमें स्वयं के द्वारा सत्तु, लड्डू एवं मटरी तैयार कर घर-घर जाकर वितरण किया जा रहा है साथ ही जरूरतमंद व्यक्ति को भी इसका लाभ दिया जा रहा है। इसके अलावा अपने क्षेत्र चारूवा में लगने वाले मेले में बाहर से आये हुए लोग जो लाॅक डाउन की वजह से गांव में फस गए उन्हें भी टी0एच0आर0 व रेडी टू ईट वितरण कर मदद की जा रही है।

खांसी-बुखार होने पर ग्राम वासियों को अपनी जल्द से जल्द स्वास्थ्य जांच करवाने के लिये जागरूक किया जा रहा है साथ ही अपने ग्राम में किसी अन्य व्यक्ति के बाहर से आने की सूचना की जानकारी देने के लिये भी बोला जा रहा है। अपने कार्यक्षेत्र में सभी को समझाइष दी जा रही है कि लाॅकडाउन के समय बिना अति-आवष्यक कार्य के लिये घर से बाहर न निकले घर पर ही रहें। गर्मी के दिनांे में पक्षियों के लिये भी दाना-पानी की व्यवस्था आंगनबाडी कार्यकर्ता एवं सहायका के द्वारा की जा रहीं है।

इस महामारी के दौर में स्वच्छता को लेकर सभी को जागरूक किया जा रहा है कि अपने आसपास सफाई रखें एवं साबुन द्वारा अपने हांथों को बार-बार धोएं। कोरोना महामारी के समय में शासन द्वारा दिये गये निर्देषो का पालन करें यह बताया जा रहा हैं। कोरोना महामारी से जहां पूरा विष्व जूझ रहा है, और लोगांे में इस बीमारी का भय बडता जा रहा हैं।

ऐसे समय मंे वरिष्ठ अधिकारियों का मार्गदर्षन प्राप्त कर आंगनबाडी कार्यकर्ताओं व सहायिकाआंे द्वारा सोषल डिस्टेंसिग का पालन करते हुए अपने कर्तव्यों के निर्वाहन के साथ-साथ समाज सेवा के कार्यांे को पूर्ण निष्ठा के साथ किया जा रहा हैं।

आंगनवाड़ी कार्यकर्ता घर घर पहुंचा रही पोषण आहार,माक्‍स वितरण एवं पक्षीयों के ली सुध


तपती गर्मी में आंगनवाडी केन्‍द्राेें पर पक्षियों के लिए की दाने पानी की व्यवस्था

आंगनवाड़ी कार्यकर्ता पौनी सोपई गौला डोंगरपुर जामगांव मोहरखेडा मास्क वितरण करतेे हुए

मुलताई। नोवल कोरोना वायरस के संक्रमण की रोकथाम के लिए किए गए टोटल लॉकडाउन के दौरान भी आंगनवाड़ी कार्यकर्ता अपने कर्त्तव्यों का निबार्ध्‍य रूप से पालन कर रही हैं। आंगनवाड़ी केंद्रों के बंद रहने की स्थिति में आंगनवाड़ी सेवा से संबद्ध 6 माह से 6 वर्ष तक के आयु वर्ग के बच्चों एवं गर्भवती व धात्री माताओं को टेक होम राशन और पोषण आहार प्रदाय किया जा रहा है। सेक्टर में आंगनवाड़ी केंद्रों में 3 से 6 वर्ष की आयु वर्ग के बच्चों को मिलने वाले नाश्ता और गर्म पका भोजन व्यवस्था प्रभावित होने के कारण रेडी टू ईट पूरक पोषण आहार की व्यवस्था सुनिश्चित की गई है। ये सामग्री आंगनवाड़ी कार्यकर्ता अपने घरों में तैयार कर रही हैं।

महिला बाल विकास विभाग परियोजना मुलताई की सुपरवाइजर सुश्री सकु गलफट ने बताया कि खेेेेेेेेडीकोट सेक्टर में आंगनवाड़ी कार्यकर्ता पौनी, सोपई, गौला, डोंगरपुर, जामगांव, मोहरखेडा, मास्क वितरण करतेे हुए समस्त आंगनवाड़ी केंंद्रों कार्यकर्ताओं द्वारा 3 से 6 वर्ष की आयु वर्गके बच्‍चों को मिलने वाले नाश्‍ता और गर्म पका भोजन व्‍यवस्‍था प्रभावित होने के कारण रेडी-टू-ईट का वितरण घर घर जाकर किया एवं कोविड 19 के बचाव के लिए स्वंय के द्वारा मास्क बनाकर वितरण करनेे की व्‍यवस्‍था की गई है और साथ ही इस तपती गर्मी में आंगनवाडी केन्‍द्राेें पर पक्षियों के लिए की दाने पानी की व्यवस्था की जा रही है।

तपती गर्मी में आंगनवाडी केन्‍द्राेें पर पक्षियों के लिए की दाने पानी की व्यवस्था

रेडी टू इट आंगनवाड़ी केन्द्र पोहर परियोजना मूलताई में 3 से 6 वर्ष की आयु वर्ग के बच्चों को मिलने वाले नाश्ता और गर्म पका भोजन व्यवस्था प्रभावित होने के कारण रेडी टू ईट पूरक पोषण आहार की व्यवस्था सुनिश्चित की गई है। ये सामग्री आंगनवाड़ी कार्यकर्ता अपने घरों में तैयार कर रही हैं।

मास्क वितरण सोपई गौला डोंगरपुर जामगांव मोहरखेडा लडडु वितरण रेडी-टू-ईट जामगांव सोपई मोहरखेडा

मुलतापी समाचार सभी महिला एवं बाल विकास अधिकारी पर्यवेक्षक और हमारी आंगनवाडी कार्यकताफ्रन्‍टलाईन वर्कर, कोरोना वारियर्स जो की कोरोना वैश्‍यविक महामारी में जन हित के लिए सजग और सुचारू रूप से जागरूकता, घर घर पोषण आहार वितरण, स्‍वयं माक्‍स बनाकर वितरण कार्य निरंतर करने हेतु धन्‍यवाद करता है