Tag Archives: काेेेेेेेरोना

भारत में कोरोना संक्रमितों की संख्या पहुंची 19 हजार के करीब, 24 घंटे में 44 की मौत-1329 नए मामले आए सामने


Coronavirus India Cases:

मुलतापी समाचार

भारत में कोरोनावायरस से संक्रमितों की संख्या 18985 हो गई है. पिछले 24 घंटों में कोरोना के 1329 नए मामले सामने आए हैं और 44 लोगों की मौत हुई है.

नई दिल्ली: 

भारत में कोरोनावायरस (Coronavirus) का कहर तेजी से बढ़ता जा रहा है. स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से जारी ताजा आंकड़ों के मुताबिक भारत में कोरोनावायरस से संक्रमितों की संख्या 18985 हो गई है. पिछले 24 घंटों में कोरोना के 1329 नए मामले सामने आए हैं और 44 लोगों की मौत हुई है. देश में कोरोना से अब तक 603 लोगों की मौत हो चुकी है, हालांकि 3260 मरीज इस बीमारी को हराने में कामयाब भी हुए हैं. बता दें कि देश में कोरोना के बढ़ते मामले को देखते हुए लॉकडाउन को 3 मई तक के लिए बढ़ा दिया गया है. हालांकि 20 अप्रैल से लॉकडाउन के दौरान उन इलाकों में कुछ छूट दी गई है, जहां कोरोना के मामले कम हैं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को राष्ट्र के नाम संबोधन में लॉकडाउन बढ़ाने की घोषणा की थी. बता दें कि पहले चरण का लॉकडाउन 14 अप्रैल को खत्म हो रहा था.

राष्ट्रपति भवन पहुंची कोरोना की आंच
कोरोना का कहर राष्ट्रपति भवन परिसर तक पहुंच गया है. सूत्रों के मुताबिक, राष्ट्रपति भवन का एक सफाई कर्मचारी कोरोना संक्रमित (Corona Positive) पाया गया है. सफाई कर्मचारी के पॉजिटिव आने पर करीब 100 लोगों को क्वारंटाइन किया गया. इसमें कर्मचारी से लेकर सेक्रेटरी स्तर तक के कर्मचारी और उनके शामिल हैं. कर्मचारियों को बाहर जबकि अधिकारियों को होम क्वारंटाइन किया गया है. यह मामला 4 दिन पहले का है. फिलहाल सफाई कर्मचारी के अलावा सभी रिपोर्ट निगेटिव है. 

राहुल गांधी का हमला
कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट पर एनडीटीवी की खबर को शेयर करते हुए केंद्र सरकार पर निशाना साधा है. कोरोना संकट के बीच सरकार के एक फैसले से विवाद खड़ा हो गया है, जिसमें उसने गोदामों में मौजूद अतिरिक्त चावल का उपयोग हैंड सैनिटाइजरों की आपूर्ति के लिए जरूरी इथेनॉल बनाने में करने का फैसला किया है. इस पर राहुल गांधी सरकार पर हमला करते हुए कहा ट्वीट किया और लिखा, ”आख़िर हिंदुस्तान का ग़रीब कब जागेगा? आप भूखे मर रहे हैं और वो आपके हिस्से के चावल से सैनीटाईज़र बनाकर अमीरों के हाथ की सफ़ाई में लगे हैं.”

https://www.covid19india.org/

बैतूल जिला में कोरोना वायरस का एक हि मरीज पाजीटिव


कार्यालय मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी बैतूल द्वारा

देश एवं प्रदेश में कोरोना वायरस (कोवीड 19) को लेकर मचा हाहाकार

बैतूल जहां देश प्रदेश एवं दुनिया में (कोविड 19) कोरोना वायरस को लेकर हाहाकार मचा हुआ है।

वही प्रदेश के बैतूल जिला में कोरो ना वायरस पाजिटिव केवल एक ही मरीज पाया गया।

देश एवं प्रदेश सरकार का एक सराहनीय कदम 22 मार्च से लेकर 14 अप्रैल तक लॉक डाउन किया गया था। देश एवं प्रदेश की स्थिति को देखते हुए माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी द्वारा लॉक डाउन की अवधि बढ़ा दी गई है। (कोविड 19) कोरोना वायरस को लेकर जिससे कि देश एवं दुनिया में हाहाकार मचा हुआ है। वहीं भारत सरकार द्वारा (कोविड 19) कोरोना वायरस मुक्त प्रदेश एवं देश हो जिसके लिए लॉक डाउन की प्रक्रिया बढ़ाते हुए 3 मई कर दि गई है।

कार्यालय मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ जी सी चौरसिया का कथन

मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ जी‌ सी चौरसिया द्वारा श्रीमान कलेक्टर महोदय जिला बैतूल को अवगत कराते हुए बताया गया है कि बैतूल जिले में केवल एक ही मरीज पॉजिटिव है। जिले में अब तक कोई अन्य मरीज पॉजिटिव नहीं है।

विभाग द्वारा जारी किए गए जानकारी के अनुसार मीडिया बुलेटेन को ही प्रमाणिक माना जाए।

बैतूल जिले में अब तक कोरोना का कोई दूसरा मरीज नहीं मिला है।

भैंसदेही निवासी एक युवक कोरोना वायरस पॉजिटिव पाया गया था।

उसी युवक की दोबारा से रिपोर्ट जांच के लिए भेजी गई थी।

दुसरी रिपोर्ट भी पॉजिटिव आई है।

कोई भी दूसरा नया केस पॉजिटिव नहीं मिला है।

यह सरकार द्वारा लॉक डाउन किए गए सराहनीय पहल का ही एक नतीजा है, कि हमारे बैतूल जिले में अब तक नया पॉजिटिव मरीज नहीं मिला।

kovid-19 इंदौर में फि‍र हुई घटना स्वास्थ्यकर्मियों पर चाकू से हमला


Multapi Samachar

इंदौर के विनोबा नगर में सर्वे कर रहे डॉक्टर, टीचर, पैरामेडिकल और आशा कार्यकर्ताओं पर अचानक ही पारस नाम के एक युवक ने हमला कर दिया.

इंदौर. कोरोना संक्रमण के इस दौर में हमारे लिए अपनी जान जोखिम में डाल कर जंग लड़ रहे डॉक्टर्स, चिकित्साकर्मी और पुलिसकर्मियों के साथ बदसलूकी और अभद्रता की वारदातें रुकने का नाम नहीं ले रही हैं. एक बार फिर ऐसी ही खबर इंदौर से है. यहां पर एक बार फिर सर्वे कर रही स्वास्‍थ्य विभाग की टीम पर हमला किया गया. इस बार हमला एक बदमाश ने किया. इस दौरान उसने चाकू लेकर टीम पर हमला बोल दिया, बीच बचाव करने आए पड़ोसियों को चाकू लगा और वे घायल हो गए हैं. इसके साथ ही एक स्वास्‍थ्य कर्मी के सिर और हाथ पर चोट आई है.

हाइलाइट्स

  • इंदौर के विनोबा नगर में मेडिकल टीम से बदसलूकी
  • अपराधी पारस यादव पर है आरोप
  • अधिकारियों ने कहा कि सिर्फ आरोपी ने तोड़ा है मोबाइल
  • अपराधी का पड़ोसी से चल रहा था विवाद
  • टीम शामिल डॉक्टर ने कहा कि हमारी टीम पर पत्थर फेंके गए

नशे की हालत में था हमलावर
इंदौर के विनोबा नगर में सर्वे कर रहे डॉक्टर, टीचर, पैरामेडिकल और आशा कार्यकर्ताओं पर अचानक ही पारस नाम के एक युवक ने हमला कर दिया. इस दौरान वो नशे की हालत में था. बताया जा रहा है कि वो नशा बेचने का ही काम करता है, हमला करने पर स्‍थानीय लोगों ने जब उसे रोकने की कोशिश की तो उनको भी मारने के लिए वो चाकू लेकर दौड़ा. हमले में स्‍थानीय लोगों के साथ्‍ एक स्वास्‍थ्यकर्मी भी घायल हो गया है.

पहले भी हो चुका हमला
इससे पहले इंदौर के ही टाट पट्टी बाखल इलाके में भी स्वास्‍थ्य जांच के लिए गई टीम पर लोगों ने हमला कर दिया था. इस दौरान लोगों ने टीम के पहुंचते ही पथराव और विरोध शुरू कर दिया था. पूरे इलाके में उस दौरान जमकर हंगामा हुआ. तनाव को देखते हुए बड़ी तादाद में पुलिस बल को तैनात किया गया था. टाट पट्टी बाखल इलाके में बीते दिनों एक शख्स की कोरोना संक्रमण से मौत हो गई थी. उस मरीज के संपर्क में जो लोग भी आए स्वास्थ्य विभाग की टीम उनकी स्क्रीनिंग के लिए गयी थी, लेकिन सहयोग करने के बजाए इलाके के लोग स्वास्थ्य विभाग की टीम का विरोध करने पर आमादा हो गए थे. धीरे-धीरे शुरू हुआ विरोध तेज होता गया और बात पथराव तक आ पहुंची. कोरोना संक्रमण का फैलाव रोकने के लिए इस इलाके को कैंटोमेंट घोषित किया गया था. सुरक्षा के लिहाज से बेरिकेडिंग की गई थी, लेकिन गुस्साई भीड़ ने बेरिकेड भी तोड़ दिए थे.

डॉक्टरों पर थूंका भी था
वहीं शहर के रानीपुरा इलाके में कुछ दिन पहले जांच के लिए गए डॉक्टरों पर स्‍थानीय लोगों ने थूंक दिया था. इसके बाद डॉक्टरों ने मामले की शिकायत पुलिस से की थी.

कोरोना वायरस से डरे शोएब अख्तर ने भारत के आगे फैलाए हाथ


मुलतापी समाचार मनोज कुमार अग्रवाल

नई दिल्ली: पूर्व पाकिस्तानी क्रिकेटर शोएब अख्तर ने भारत-पाकिस्तान से मिलकर कोरोनावायरस महामारी का सामना करने का अनुरोध किया है! शोएब अख्तर ने कहा कि संकट की इस घड़ी में दोनों देशों को एक दूसरे का साथ देना चाहिए! ऐसे समय में भारत यदि हमें 10000 वेंटिलेटर प्रदान करता है तो पाकिस्तान इसे हमेशा याद रखेगा!

उन्होंने कहा कि भारत पाकिस्तान के बीच तीन वनडे मैचों की सीरीज कराई जानी चाहिए! जिससे काफी पैसा एकत्रित हो सकता है जो महामारी के समय में पीड़ितों के काम आएगा! दोनों देशों के तनावपूर्ण संबंधों के चलते कई सालों से इनके बीच कोई द्विपक्षीय क्रिकेट सीरीज नहीं खेली गई है! हम भारत के साथ क्रिकेट सीरीज का प्रस्ताव रख सकते हैं लेकिन इस पर फैसला तो अधिकारियों को लेना होगा! वैसे संकट के इस समय में यदि यह सीरीज होती है तो मैचों के परिणाम पर कोई देश निराश नहीं होगा! शोएब अख्तर ने कहा कि इस समय बात देश या धर्म की नहीं बल्कि इंसानियत की है!

मुलतापी समाचार

कोरोना से मौत-अब्बा अस्पताल में भर्ती है, सब खैरियत तो है, डॉक्टर बोले- उनका तो शव भिजवा दिया


CORONA VIRUS IN INDORE

Multapi Samachar

इंदौर।कोरोना से मृत लोग अस्पतालों के लिए बोझ से बन गए हैं। उनका एक ही मकसद है शव गाड़ी में भरो और घर भिजवा दो। खैरियत की दुआ कर रहे स्वजन को भी खबर नहीं कर रहे हैं। शुक्रवार को एक व्यक्ति का शव चौराहे पर करीब तीन घंटे रखा रहा। स्वजन को मौत का पता ही तब चला, जब खैरियत जानने के लिए अस्पताल फोन किया।

चंदन नगर निवासी 55 वर्षीय व्यक्ति (मैकेनिक) की शुक्रवार तड़के कोरोना से मौत हो गई। उसका खुड़ैल स्थित निजी अस्पताल में उपचार चल रहा था। बेटों और अन्य स्वजन को पुलिस-प्रशासन ने सेवन स्टेप गार्डन में क्वारंटाइन करवा दिया था।

शुक्रवार दोपहर मैकेनिक के दामाद ने हालचाल जानने के लिए अस्पताल में कॉल कर ड्यूटी डॉक्टर से पूछा- ‘मेरे अब्बा भर्ती हैं। हम देखने नहीं आ सकते। आप ही बता दें वहां सब खैरियत तो है न?’ नाम-पता पूछने के बाद डॉक्टर ने कहा कि आपके अब्बा नहीं रहे। यहां से एक घंटा पहले उनका शव भी भिजवा दिया।

इतना कहकर फोन काट दिया गया। यह भी नहीं बताया कि शव कहां भिजवाया। शव देने आए हैं, घर बता दो इधर, चंदन नगर चौराहे पर एक एंबुलेंस आकर रुकी और ड्राइवर मैकेनिक के घर का पता पूछने लगा। कुछ देर बाद पार्षद रफीक खान पहुंचे। उनके पूछने पर ड्राइवर ने कहा हम शव देने आए हैं, मैकेनिक का घर बता दो।

इससे नाराज पार्षद ने कहा कोरोना से मृत व्यक्ति का शव उसके घर कैसे ले जा सकते हो। इससे मोहल्ले में संक्रमण फैल जाएगा। उनके स्वजन को बुलाना पड़ेगा। आप बगैर सूचना के शव लेकर आ गए। क्रियाकर्म करने वाले परिवार का एक सदस्य तक नहीं है। अभी कब्र भी नहीं खुदी। कब्र खोदने में तीन-चार घंटे लगते हैं। तब तक शव गाड़ी में ही रखा रहेगा क्या?हंगामे के काफी देर बाद एसडीएम (राऊ) रवि सिंह ने मैकेनिक के दो बेटों को लाने की अनुमति दी।

सिपाही बेटे का इंतजार करता रहा पिता का शव

चंदन नगर निवासी एक अन्य वृद्ध की भी शुक्रवार को मौत हो गई। बेटा पीटीसी में सिपाही है। वह दस्तूर मैरिज गार्डन में क्वारंटाइन था। वृद्ध का शव पहले ही पहुंच चुका था। स्वजन को काफी देर बाद सूचना दी गई। बाद में स्वजन लुनियापुरा कब्रिस्तान पहुंचे और शव सुपुर्द-ए-खाक किया गया।

इनका कहना है

एंबुलेंस को ज्यादा इंतजार नहीं करना पड़ा। मृतक के बेटे गार्डन में क्वारंटराइन थे। कुछ देर बाद उन्हें बुला लिया और सुपुर्द ए खाक करवा दिया।-रविसिंह, एसडीएम

MP खरगोन में एक ही परिवार के आठ लोग कोरोना पॉजिटिव के बाद हड़कंप


CORONAVIRUS IN KHARGONE :

Multapi Samachar

खरगोन। शहर के सहकार नगर में एक ही परिवार के आठ लोगों में कोरोना का संक्रमण मिलने के बाद प्रशासन हरकत में आया। स्वास्थ्य विभाग ने सभी संक्रमित लोगों को इंदौर रेफर किया है। इनमें 13 से लेकर 75 वर्ष तक के सदस्य शामिल हैं।

49 वर्षीय व्यक्ति में कोरोना संक्रमण पाया गया था

उल्लेखनीय है कि इसी परिवार के एक 49 वर्षीय व्यक्ति में कोरोना संक्रमण पाया गया था। यह व्यक्ति पत्नी के साथ दक्षिण अफ्रीका से दिल्ली मरकज गया था और वहां से खरगोन लौटा था। इसके बाद स्वास्थ्य विभाग ने परिवार के अन्य सदस्य और उनके संपर्क में आए लोगों के सैंपल जांच के लिए इंदौर भेजे थे।

कोरोना वायरस से प्रभावित व्यक्तियों की संख्या 12 हो गई

मंगलवार देर शाम रिपोर्ट आई। इनके साथ ही जिले में कोरोना वायरस से प्रभावित व्यक्तियों की संख्या 12 हो गई है। बताया जाता है कि जिस परिवार के आठ लोग संक्रमित पाए गए हैं, उस परिवार में एक महिला की मृत्यु हो चुकी है। जिनकी मृत्यु हुई है, उस महिला की रिपोर्ट भी पॉजिटिव आई है।

सीएमएचओ डॉ. रजनी डावर ने बताया कि परिवार के सभी सदस्यों को इंदौर रेफर किया गया है। सदस्यों के संपर्क में लोगों की जानकारी ली जा रही हैं। क्षेत्र में सर्वे कार्य लगातार किया जा रहा है। गौरतलब है कि जिले में धरगांव में कोरोना संक्रमण से 65 वर्षीय व्यक्ति की मौत हो चुकी है, जबकि बड़गांव में 42 वर्षीय व्यक्ति और असनगांव के 34 वर्षीय युवक भी कोरोना संक्रमित मिले हैं। उनका इंदौर में इलाज चल रहा है।

मुलतापी समाचार

जरूरत मंदों को करा रही भोजन महिला समाज सेवी


मुलतापी समाचार

मुलताई क्षेत्र की यह पहली लड़की है जिसका नाम पल्‍लवी यादव है जो कोरोना वायरस के कारण हुए लॉकडाउन के चलते जरूरत मंदो को भोजन बाटा है।

सार्वजनिक धार्मिक आयोजन, पूजन, भंडारे की अनुमति नहीं


धार्मिक आयोजन, पूजन, भंडारे की फाइल फोटो

मुलतापी समाचार

बैतूल। कलेक्टर एवं दंडाधिकारी श्री राकेश सिंह ने लोगों से कि दुर्गाष्टमी अथवा रामनवमी के दौरान एक एवं दो अप्रैल को अपने घरों में ही रह कर पूजा आराधना करने का आग्रह किया है. उन्होंने स्पष्ट किया है कि इस दौरान किसी भी प्रकार के सार्वजनिक धार्मिक उत्सवों , पूजन अथवा भंडारों के आयोजन की कतई अनुमति नहीं दी जाएगी .निर्देशों का उल्लंघन कर आयोजन करने वालों को प्रतिबंधात्मक धाराओं में तत्काल गिरफ्तार किया जाएगा. इस आदेश में किसी भी प्रकार की छूट अथवा अपालन बर्दाश्त नहीं होगा

बैतूल – कोरोना से संघर्ष में जिले के निजी अस्‍पताल एवं डॉक्टर्स प्रशासन के कंधे से कंधा मिलाकर करेंगे सहयोग


निजी अस्पतालों के वेंटीलेटर जिला अस्पताल को उपलब्ध कराए जाएंगे

कलेक्टर ने मकान मालिकों को निजी क्षेत्र के स्वास्थ्यकर्मियों से इस माह किराया नहीं मांगने एवं मकान खाली नहीं कराने के दिए निर्देश

बैतल। बैठक को संबोधित करते कलेक्टर।

मुलतापी समाचार

बैतूल। कोरोना संक्रमण के विरूद्ध लड़ाई लड़ने में जिला प्रशासन के साथ जिले के निजी अस्पताल/नर्सिंग होम संचालक एवं निजी चिकित्सक भी पूरी शिद्दत के साथ आगे आए हैं। मंगलवार को कलेक्टर राकेश सिंह के साथ निजी चिकित्सालय व नर्सिंग होम संचालकों एवं निजी चिकित्सकों की बैठक में सभी ने इस लड़ाई में जिला प्रशासन का कंधे से कंधा मिलाकर साथ देने का आश्वासन दिया। साथ ही निर्णय लिया गया कि जिला चिकित्सालय जो कि कोविड-19 अस्पताल के रूप में घोषित है, उसे पूरी तरह आवश्यक उपकरणों से तैयार रखा जाएगा। बैठक में निर्णय लिया गया कि जिले के निजी अस्पतालों के लगभग 15 वेंटीलेटर उपलब्ध कराए जाकर जिला अस्पताल में एक पृथक ईकाई के रूप में लगाए जाएंगे। बैठक में विधायक डॉ. योगेश पण्डाग्रे, पुलिस अधीक्षक डीएस भदौरिया सहित जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी एमएल त्यागी, अपर कलेक्टर जेपी सचान, स्वास्थ्य अधिकारी एवं निजी चिकित्सालय व नर्सिंग होम संचालक व डॉक्टर्स मौजूद थे।

बैठक में तय किया गया कि कोरोना संक्रमण से बचाव के संबंध में आवश्यकता पडे पर जिले के समस्त निजी चिकित्सक अपनी सेवाएं देंगे। जो चिकित्सक यह सेवाएं देंगे, वे नगर में होटल अधिग्रहित कर ठहराए जाएंगे। बैठक में किसी भी आकस्मिक परिस्थिति में वेंटीलेटर सहित अन्य सभी उपकरण-सहायक उपकरण तथा दवाइयों की उपलब्धता एवं इनके उपार्जन के संबंध में भी चर्चा हुई, साथ ही यह निर्णय लिया गया कि उपरोक्त समस्त जरूरतें आवश्यकता पडे पर उपलब्ध रहेगी। बैठक में मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. जीसी चौरसिया ने बताया कि कोरोना पॉजीटिव मरीजों के इलाज के लिए चिकित्सकों एवं पैरामेडिकल स्टाफ द्वारा पहने जाने वाली सुरक्षा ड्रेस (पीपीई) अभी जिले में 110 नग से अधिक उपलब्ध है, आवश्यक मटेरियल बुलवाकर आगामी एक सप्ताह में इनको स्थानीय स्तर पर तैयार करवाया जाएगा। यह ड्रेस सभी निजी अस्पतालों को भी प्रदान की जाएगी।

बैठक में कलेक्टर के ध्यान में यह मुद्दा लाया गया कि निजी चिकित्सालयों में कार्य करने वाले नर्सिंग व सहायक स्टाफ जो नगर में विभिन्ना स्थानों पर किराए के मकान में रहते हैं, ऐसे लोगों को कुछ मकान मालिकों द्वारा आवास खाली करने के लिए कहा जा रहा है। इस संबंध में कलेक्टर ने स्पष्ट निर्देश दिए कि आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 व दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 144 के अंतर्गत इस तरह का कृत्य पूर्णतः प्रतिषेध है। ऐसे मकान मालिकों पर आपराधिक कार्रवाई हो सकती है।

मुलतापी समाचार

लॉक-डाउन के दौरान मरीजों को टेलीमेडिसिन से उपचार हेतु 20 चिकित्सकों के मोबाइल नम्बर जारी


टेलीमेडिसिन एक ऐसी व्यवस्था हैं जिसमे चिकित्सा विशेषज्ञों की वीडियो कोंफ्रेंस के माध्यम से ग्रामीण क्षेत्रों में अपनी सेवा प्रदान करते हैं.

Multapi Samachar

टेलीमेडिसिन  एक ऐसी व्यवस्था हैं जिसमे चिकित्सा विशेषज्ञों की वीडियो कोंफ्रेंस के माध्यम से ग्रामीण क्षेत्रों में अपनी सेवा प्रदान करते हैं

जिसका मध्‍यप्रदेेश मेंं टोल फ्री नं. 104, 181 है

बैतूल जिले के लिए मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. जी.सी. चौरसिया ने बताया कि टेलीमेडिसिन पद्धति से उपचार की सुविधा मुहैैैैया कराई जा रही ि‍जिसकास्वास्थ्य विभाग बैतूल द्वारा 20 चिकित्सकों की टीम तैयार की गई है जिनके नम्बर जारी किये हैं,

बैतूल जिले की जनता के लिए स्‍वास्‍थ्‍य विभाग द्वारा विशेष टेलीमेडिसिन टीम तैयार की गई है आपनेे ब्‍लाक स्‍तर के डॉ. के फोन नं. पे संंपर्क कर सुझाव लेकर मेडिकल से दवा क्रय ले सकते है। जिससे सामान्‍य बिमार व्‍यक्ति को इलाज मुहैैैैया हो जायेगा और सरल तरिके से कोरोना वायरस के बडते लक्षण से बचनेे केे लिए शासन ने लॉकडॉन ि‍किया हुआ है इस स्‍थिती से उभरने के लिए आमजन को सरल इलाज मिल सके टेलीमेडिसिन अपनाया जा रहा है, जनता से भी अपील की जा रही है कि सर्दी,खांसी सर्दद, जैसी बिमारी के लिए घर से ना निकले अपने क्षेत्रीय डॉ से फोन पर इलाज कराएं ।

बैतूल जिले के मरीज उपचार हेतु इन नम्बरों पर सम्पर्क सकते हैं।

डॉ. एम.आर. बागद्रे मो.नं. 7987004731 बैतूल, डॉ. राहुल शर्मा 8770971307 बैतूल।

डॉ. अरूण अटल 9981873800 भैंसदेही, डॉ. तरूण कुमार 8962247395 भैंसदेही।

डॉ. आकाश गेंदा 9140914746 भीमपुर।

डॉ. तरूण साहू 8236991218 चिचोली

डॉ. व्हीएन झरबड़े 9171568890 घोड़ाडोंगरी, डॉ. स्वीटी सेन 7898740945 घोड़ाडोंगरी।

डॉ. चन्द्रभान ठाकुर 7415523024 मुलताई, डॉ. राजाराम धुर्वे 9407296862 मुलताई।

डॉ. पल्लव अमृत फले 900974966 मुलताई, डॉ. रघुवीर सिंह निगम 7987851859 मुलताई।

डॉ. आकांक्षा जोशी 8349718336 प्रभात पट्टन।

डॉ. मनोज खरे 8518911908 सेहरा, डॉ. पी. तिवारी 9899640234 सेहरा।

डॉ. आशीष गोनांडे 9584575621 सेहरा।

डॉ. विजय सिंह 9424471028 शाहपुर, डॉ. यूपा वर्मा 9009334583 शाहपुर।

डॉ. अक्षय सावातुल 7772966817 शाहपुर, डॉ. एस.के. रघुवंशी 9406622372 शाहपुर।

जाने यह क्‍या है और कैैैैसे काम करता हैैं…….

टेलीमेडिसिन की क्या आवश्यकता हैं ?
भारत वर्ष में चिकित्सा विशेषज्ञों की कमी हैं, चिकित्सा विशेषज्ञों ग्रामीण /अर्ध शहरी क्षेत्रों में जाना नही चाहते हैं, उनकी सेवाए बड़े शहरों तक ही सिमित रह जाती हैं , ग्रामीण /अर्ध शहरी क्षेत्रों के रोगियों को बड़ी बीमारियों के परामर्श के लिए बड़े शहरों में जाना पड़ता हैं, जिससे उनका समय और धन का अधिक व्यय होता हैं, उस समय और धन को बचाने के लिए टेलीमेडिसिन की आवश्यकता हैं.

टेलीमेडिसिन कैसे कार्य करता हैं?

नर्सिगकर्मी/पेरामेडीकलकर्मी/फार्माकर्मी मेडिकल लोज के अनुसार क्लिनिक प्रक्टिस के लिए अधिकृत नही हैं, नर्सिंगकर्मी/पेरामेडिकलकर्मी/फार्माकर्मियों को मेडिकल में स्किल डेवलपमेंट की ट्रेनिग (कार्डियोलोजिस्ट, न्यूरो सर्जन, पीडियाट्रिक्स, ओर्थोपोंडिक्स, गायनोलोजिस्ट, गेस्ट्रोलोजिस्ट) विभागों में ट्रेनिग दिलवाकर उन को ग्रामीण /अर्धशहरी क्षेत्रों में टेलीमेडिसिन सेन्टर खोलकर, ग्रामीण और अर्धशहरी क्षेत्रों में चिकित्सा विशेषज्ञ से विडियो कांफ्रेंस के माध्यम से रोगियों को कंसल्टिंग, दवाईयां, जाँचे, की सुविधा प्रदान करते हैं.

टेलीमेडिसिन के फायदे

स्वास्थय देखभाल की गुणवक्ता में सुधार, चिकिस्ता त्रुटियों को रोकना, स्वास्थ्य देखभाल लागत कम करना, प्रसासनिक दक्षताओ वृद्धि,  कागजी कारवाई घटाना, सस्ती देखभाल के लिए पहुच बढाना…