Tag Archives: कोरोना उपचार

कोरोना हेल्थ सेंटर के 3 मरीजों की मौत-मुलताई


मुलताई बना हॉट स्पॉट

स्वास्थ्य विभाग नहीं है अलर्ट

आये दिन बढ़ते जा रही हैं संक्रमितों की संख्या

मुलतापी समाचार

मुलताई। क्षेत्र में लगातार कोरोना का प्रकोप बढ़ते जा रहा है। इस बार तो न सिर्फ कोरोना पॉजिटिव मरीजो की संख्या ज्यादा है बल्कि इस बार कोरोना के कारण मरने वालो की संख्या भी अब धीरे धीरे बढ़ते जा रही है को अब चिंता बढ़ा रही है।        

स्वास्थ्य विभाग से प्राप्त जानकारी के अनुसार 10 अप्रेल 2021 को राजीव गांधी वार्ड निवासी 30 वर्षीय कोरोना पॉजिटिव जो कोविड सेंटर मुलताई भाग कर गया था आज शाम करीब 6 बजे के आस पास उसकी भी मौत हो गयी है।

मुलताई बीएमओ डॉ पल्लव अमृतफुले ने इस बात की पुष्टि की है        

वही आज मंगलवार को मुलताई की ताप्ती वार्ड  से 67 वर्षीय एक मरीज को कोविड सेंटर लाया गया जिस की स्थिति अत्यंत खराब थी जिसकी इलाज के दौरान मौत हो गई। वही मुलताई से लगा हुआ ग्राम देवरी से 50 वर्षीय एक कोरोना पॉजिटिव मरीज को कल सोमवार को कोविड सेंटर मुलताई में भर्ती किया गया था उसकी भी स्थिति ठीक नहीं होने के कारण उसे रेफर कर दिया गया लेकिन उसने यही दम तोड़ दिया।         

कोरोना मरीज की मौत के बाद उनके अंतिम संस्कार के मस्य स्थिति ऐसी हो गयी कि नगर पालिका के कोई कर्मचारी पहुचे न ही उनके परिजन उन्हें हाथ लगाने को तैयार हुए ऐसे में समुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के कमर्चारियों के साथ मिलकर बीएमओ डॉक्टर पल्लव ने उनका अंतिम संस्कार करवाया। 

विश्व हिंदू परिषद नगर अध्यक्ष व युवा नेता राहुल पवार ने ट्वीट कर मुख्यमंत्री की प्रदेश में कोरोना के उपचार हेतु प्लाजमा थेरेपी अपनाने का सुझाव दिया


मूलतापी समाचार

विश्व हिंदू परिषद नगर अध्यक्ष बैतूल व पवार समाज के युवा नेता राहुल पवार ने ट्विटर के माध्यम से माननीय मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान को प्रदेश में कोरोना मरीजों के उपचार हेतु प्लाज्मा थेरेपी को अपनाने का सुझाव दिया है राजमा थेरेपी उपचार का वह तरीका है जिसमें कोरोना वायरस से ठीक हुए मरीज के ब्लड में से प्लाज्मा निकाल कर इस बीमारी से पीड़ित को ठीक करने में उपयोग किया जा सकता है प्याज में ब्लड का वह हिस्सा है जिसमें किसी भी जीव का शरीर विभिन्न बीमारियों से लड़ने के लिए एंटीबॉडी का निर्माण करता है इन्हीं एंटीबॉडी के माध्यम से कोई भी जीव विभिन्न बीमारियों से आसानी से लड़ पाता है अर्थात जो भी व्यक्ति कोरोना वायरस के उपचार के पश्चात स्वस्थ होकर घर गया हो उसके प्लाज्मा में इस वायरस से लड़ने के लिए एंटीबॉडी पहले से निर्मित हो चुकी होंगी अर्थात उसके प्लाज्मा को दूसरे इंसान के शरीर में प्रविष्ट कर उसे कोरोनावायरस से आसानी से बचाया जा सकता है हमारे देश में केरल तथा दिल्ली दो राज्य इस तकनीक का उपयोग कर रहे हैं साथ ही साथ विश्व के विभिन्न देशों में भी इस तकनीक का सफलतापूर्वक प्रयोग किया गया है जिम्मेदार नागरिक के रूप में माननीय मुख्यमंत्री से यह मेरा एक सुझाव है।