Tag Archives: कोलकाता

जो भी रेलवे संपत्ति या ट्रेनों में तोड़-फोड़ करेगा, उसे देखते ही गोली मार दी जाये’, रेलवे मंत्रालय


Railway में आग जनी करने वालो को पकड़ कर मरो

मुलतापी समाचार न्यूज़ नेटवर्क

रेल राज्य मंत्री ने हुब्बली में कहा, यदि कोई व्यक्ति रेलवे संपत्ति को नुकसान पहुंचा रहा है, तब मैं उस राज्य के मुख्यमंत्री से ‘सख्त कार्रवाई करने को कहूंगा, ठीक उसी तरह जैसे कि सरदार वल्लभभाई पटेल ने भारत संघ में हैदराबाद के विलय के दौरान कदम उठाया था।’  यह पूछे जाने पर कि सख्त कार्रवाई से उनका मतलब क्या है, रेल राज्य मंत्री ने कहा, ”सख्त कार्रवाई का मतलब है कि देखते ही गोली मार दी जाए… ”। गौरतलब है कि हैदराबाद का भारत संघ में विलय भारत के प्रथम गृह मंत्री सरदार पटेल के नेतृत्व में पुलिस कार्रवाई के बाद किया गया था। पटेल ने निजाम और उसकी सेना को आत्मसमर्पण के लिए मजबूर कर दिया था। अब केंद्रीय रेल राज्य मंत्री चाहते हैं कि रेलवे पुलिस और प्रशासन भी हिंसा भड़का रहे प्रदर्शनकारियों से ऐसे ही निपटे।

अंगड़ी ने आगे कहा “रेलवे के बुनियादी ढांचे के विकास और स्वच्छता को सुनिश्चित करने के लिए दिन-रात 13 लाख कर्मचारी काम करते हैं। लेकिन विपक्ष द्वारा समर्थित कुछ असामाजिक तत्व देश में समस्याएं पैदा कर रहे हैं”। बता दें कि इससे पहले मालदा में कुछ हिंसक प्रदर्शनकारियों ने भालुका रेलवे स्टेशन में तोड़-फोड़ मचाई थी। इसके अलावा इन गुंडों ने 5 ट्रेनों और 3 अन्य रेलवे स्टेशन्स को भी क्षति पहुंचाई थी। ये लोग ना सिर्फ सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचा रहे थे, बल्कि आम लोगों को भी निशाना बना रहे थे। ऐसी खबरें आई थी कि इन गुंडों ने यात्रियों से भरी चलती ट्रेन को भी अपने पत्थरों से निशाना बनाया था। पश्चिम बंगाल की CM ममता बनर्जी लगातार इन गुंडों को भड़का रही हैं और अपने भड़काऊ बयानों से इन हिंसक प्रदर्शनों को हवा देने का काम कर रही हैं।

CAA को लेकर जहां देश के कुछ हिस्सों में हिंसक घटनाएँ देखने को मिल रही हैं, तो वहीं अब एक केंद्रीय मंत्री ने आगजनी कर रहे विरोध-प्रदर्शनकारियों को लेकर एक बड़ा बयान दिया है। दरअसल, केंद्रीय रेल राज्य मंत्री सुरेश अंगड़ी ने अपने एक बयान में कहा है किउन्होंने एक केंद्रीय मंत्री के तौर पर हिंसक विरोध प्रदर्शनकारियों को देखते ही गोली मारने के आदेश दे दिये हैं। बता दें कि इससे पहले पश्चिम बंगाल में कुछ प्रदर्शनकारियों ने रेलवे की संपत्ति को नुकसान पहुंचाया था और साथ ही रेलवे के परिचालन में भी बाधा उत्पन्न की थी। इसी के बाद केंद्रीय मंत्री का यह बयान आया।

यह स्पष्ट है कि रेलवे की संपत्ति को हिंसक और उग्र भीड़ से खतरा है। इसके साथ ही स्थानीय प्रशासन ने भी इन प्रदर्शनों को लेकर इतना कडा रुख नहीं दिखाया है। हालांकि, अब केंद्रीय रेल राज्य मंत्री की ओर से इस बयान से यह स्पष्ट है कि वे इन उग्र प्रदर्शनकारियों को किसी भी सूरत बर्दाश्त नहीं किए जाएगा। इसकी अभी सबसे ज़्यादा ज़रूरत भी है।

पश्चिम बंगाल में ममता समर्थक भारत बंद के दौरान हिंसा और आगजनी, कोलकाता में 55 को किया गिरफ्तार


पश्चिम बंगाल में भारत बंद के दौरान हिंसा और आगजनी, कोलकाता में 55 गिरफ्तार
पश्चिम बंगाल में भारत बंद के दौरान रेलवे ट्रैक पर बैठे प्रदर्शनकारी

भारत बंद (Bharat Bandh) के दौरान पश्चिम बंगाल (West bengal) में कई स्थानों पर हिंसा और आगजनी की घटनाएं हुई. कोलकाता में 55 लोगों को हिरासत में लिया गया.

कोलकात. पश्चिम बंगाल (West bengal) में बुधवार को एक दिन के भारत बंद (Bharat Bandh) के दौरान कई स्थानों पर हिंसा और आगजनी की घटनाएं हुई. इस दौरान प्रदर्शनकारियों ने बसों, एक पुलिस वाहन और सरकारी संपत्तियों को नुकसान पहुंचाया. अधिकारियों ने बताया कि भीड़ को रोकने के लिए पुलिस को लाठीचार्ज, आंसू गैस के गोले दागने पड़े. इस दौरान पुलिस ने कोलकाता में 55 लोगों को हिरासत में लिया है.

प्रदर्शनकारियों ने मालदा जिले के सूजापुर इलाके में प्रमुख सड़क अवरुद्ध कर दी, टायरों को जलाया, सरकारी बसों में लूटपाट की और पुलिस की एक वैन समेत कई वाहनों को आग लगा दी. पुलिस ने स्थिति को नियंत्रण में लेने की कोशिश की तो उन्होंने पथराव किया और देसी बम फेंके. प्रदर्शनकारियों ने राज्य के कई स्थानों पर रेल एवं सड़क यातायात बाधित किया, जिससे सामान्य जनजीवन प्रभावित हुआ.

पूर्वी बर्दवान जिले में विभिन्न स्थानों पर जलते हुए टायर डाले गए और सड़कें बाधित की गई. इसके अलावा रेलवे पटरियों को भी अवरुद्ध किया गया जिससे रेल यातायात बाधित हुआ. पूर्वी मिदनापुर जिले में बसों पर पथराव किया गया. पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को हटाने का प्रयास किया जिसके बाद झड़प शुरू हो गई और इसके बाद कई प्रदर्शनकारियों को गिरफ्तार कर लिया गया.
रेलवे ट्रैक को किया जाम

पुलिस ने बताया कि दमदम और लेक टाउन इलाकों में वाम समर्थकों और तृणमूल समर्थकों में झड़प हुई. हालात पर काबू पाने के लिए भारी पुलिस बल को घटनास्थल पर भेजा गया. बंद समर्थकों ने यादवपुर में रेलवे की पटरियों को अवरुद्ध किया और नजदीक की सड़कों पर भी वाहनों की आवाजाही रोक दी. इसके बाद पुलिस को वहां लाठीचार्ज करना पड़ा. अधिकारियों ने बताया कि माकपा के विधायक दल के नेता सुजान चक्रवर्ती को हिंसा भड़काने के आरोप में हिरासत में लिया गया.

24 परगना में मिले देसी बम
यादवपुर विश्वविद्यालय के छात्रसंघ के सदस्य भी प्रदर्शन में शामिल हुए. अधिकारियों ने बताया कि उत्तरी 24 परगना जिले के बारासात इलाके में सड़कों पर देसी बम मिले. जिले में कुछ स्थानों पर रेलवे की पटरियों पर भी देसी बम मिले. प्रदर्शनकारियों ने बराकपुर और सोडेपुर समेत जिले के औद्योगिक हिस्से में रैलियां निकालीं और सड़कों तथा रेलवे पटरियों को अवरुद्ध किया.कोलकाता में सरकारी बसें सामान्य रूप से चल रही हैं, लेकिन शुरुआती घंटों में निजी बसों की संख्या कम थी. इस दौरान शहर में मेट्रो सेवाएं सामान्य थीं और सड़कों पर ऑटो-रिक्शा तथा टैक्सियां भी चल रही थीं. टॉलीगंज, बेहाला, एस्प्लांडे और यादवपुर समेत शहर के कई इलाकों में भारी पुलिस तैनाती देखी गई है.

ममता ने वामदलों और कांग्रेस पर साधा निशाना

वामदलों और कांग्रेस पर हमला करते हुए मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने बुधवार को कहा कि राज्य में जिनका कोई राजनीतिक आधार नहीं है, वे बंद जैसी सस्ती राजनीति करके यहां की अर्थव्यवस्था को बर्बाद करने की कोशिश कर रहे हैं. ममता ने कहा कि वह बंद के मकसद का समर्थन करती हैं, लेकिन उनकी पार्टी और सरकार किसी भी तरह के बंद के विरोध में हैं. उन्होंने कहा कि पुलिस प्रदर्शनकारियों के खिलाफ कानून सम्मत कार्रवाई करेगी.

कोलकाता में 55 लोग हिरासत में लिए गए
कोलकाता पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि वाहनों एवं सरकारी बसों को रोकने और दुकानदारों को दुकान खोलने से रोकने के लिए दोपहर तक शहर के विभिन्न हिस्सों से 55 लोगों को गिरफ्तार किया गया. नेताजी सुभाषचंद्र बोस अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे पर विमान सेवा सामान्य रही. हालांकि सियालदह, हावड़ा और खड़गपुर सेक्शन पर रेल सेवाएं बाधित हुई.

ट्रेड यूनियनों ने बुलाया भारत बंद
देश के कई ट्रेड यूनियनों इंटक, सीटू, सेवा, एआईटीयूसी, एचएमएस, एआईयूटीयूसी, टीयूसीसी, एआईसीसीटीयू, एलपीएफ और यूटीयूसी ने बुधवार को देशव्यापी हड़ताल का आह्वान किया था. इस दौरान राज्य के कई बैंकों की शाखाएं और एटीएम बंद रहे.

21,000 करोड़ रुपये का नहीं हुआ भुगतान
अखिल भारतीय बैंक कर्मचारी संघ के मुताबिक 21,000 करोड़ रुपये के 28 लाख चेक भुनाने के लिए नहीं भेजे जा सके. संघ के महासचिव समीर घोष ने बंद को सफल बताया. रिजर्व बैंक के कर्मचारी भी प्रदर्शन में शामिल हुए.

मुलतापी समाचार न्‍यूज नेटवर्क