Tag Archives: क्रराइम न्‍यूज

पुरानी रंजिश को लेकर जताई हत्या की आशंका


अपराधियों परआठनेर पुलिस हुई मेहरबान

पुलिस ने मामले की लीपापोती

Multapi Samachar

काेलगाव आठनेर पुलिस द्वारा मामले को रफा-दफा करने के कारण आवेदक लीलाबाई बेवा 60 वर्ष जाति मराठा निवासी कॉल गांव जिला बैतूल ने पुलिस अधीक्षक बैतूल को लिखित आवेदन देकर सूचित किया है कि विजय सिंघाड़े पिता ज्ञान राव 45 वर्ष एवं सरस सिंघाड़े पिता ज्ञान राव 42 वर्ष निवासी कोऴगाव ने पुरानी रंजिश को लेकर एक्सीडेंट का नाम बता कर उसके पति की हत्या कर दी चुकी मामला आठनेर परी क्षेत्र अधिकार के अंतर्गत आता है इसलिए आवेदिका ने आठनेर पुलिस को लिखित आवेदन देकर शिकायत की थी कि इसके पति कि आवेदकों द्वारा हत्या कर दी गई है लेकिन आठनेर पुलिस ने मामले की लीपापोती करते हुए एक्सीडेंट का रूप दे दिया

उल्लेखनीय है कि मृतक एवं अनावेदकों के परिवार में काफी दिनों से लड़ाई झगड़ा मारपीट गाली-गलौज के कारण आपसी रंजिश चल रही थी दोनों परिवार एक दूसरे पर हमला करने का अवसर ढूंढते रहते थे चुकी मृतक का परिवार सीधा-साधा एवं साधारण जीवन जीने वाला था गांव के रहने वाले पंकज काले प्रवीण काले तथा अन्य लोगों ने रात दिन के इस झगड़े को सुलझा ने पहल करते हुए दोनों परिवार में समझौता करा दिया लेकिन अन आवेदक गन भीतर ही भीतर बदला लेने की फिराक में रहे हैं परिवार में गोल मिलकर रहने आने जाने अन्य सामाजिक कार्यों में सहभागिता बनाए रखने के कारण मृतक के परिवार को कभी यह एहसास ही नहीं हुआ की अन आवेदक गन कभी इस प्रकार के घटनाक्रम को अंजाम देंगे
ज्ञात हो कि दोनों परिवार में समझौता होने के कारण दोनों परिवारों में आना जाना सुलभ हो गया था दिनांक 29/9/ 2020 दिन सोमवार को शाम के 4:00 बजे के लगभग 1 आवेदक गन विजय और शरद सिंघाड़े मृतक को उसके घर से यह कह कर ले गए कि चलो घूम कर आते हैं मृतक की पत्नी ने बताया कि पहले तो उसके पति ने मना किया किंतु बार-बार आग्रह करने पर वह जाने के लिए तैयार हो गए मृतक को अन आवेदक की मोटरसाइकिल जिसका नंबर एमपी 48 एमके 0 298 है उस पर बैठा कर ले गए कहां जा रहे हैं इस बात का उन्हें इल्म नहीं था
उसी दिन रात्रि के लगभग 7:30 बजे अन आवेदक गन विजय सिंघाड़े ने गांव के प्रवीण काले के मोबाइल पर फोन लगाकर बताया कि वे तीनों मुसाखेड़ी के बीच आठनेर रोड पर है जहां उनकी मोटरसाइकिल किसी अज्ञात वाहन ने टक्कर मारकर क्षतिग्रस्त कर दिए जिसमें गंभीर चोट होने की बात नहीं बताई प्रवीण काले ने मेरे पुत्र गजानन को मोबाइल पर इस विषय में सूचना दी मेरा पुत्र गजानन प्रवीण काले और दीक्षांत काले अखिल वामन कर सभी लोग घटनास्थल पर पहुंचे प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि दुर्घटनाग्रस्त व्यक्तियों को आठनेर के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र ले गए हैं मेरे पुत्र को आठनेर अस्पताल पहुंचने पर पता चला कि उसके पति गंभीर हालत में है डॉक्टर ने उन्हें बैतूल जिला अस्पताल भेजा है जिला अस्पताल के स्टाफ ने बताया कि आपके पति की हालत बहुत गंभीर है बचने की संभावना नहीं है इसके पश्चात अगले दिन 29/9 /2020 को सवेरे 5:00 बजे लगभग मेरे पति की मौत हो गई
गौरतलब हो कि आठनेर पुलिस ने इस मामले में लीपापोती करके मामले को एक्सीडेंट का बताकर प्रकरण पंजीबद्ध कर लिया मेरे द्वारा अन आवेदक को एवं पूर्व में उनसे चल रहे रंजीत की बात बताई गई और बताया कि मेरे पति को षड्यंत्र कर मार दिया गया है आवेदक गणों ने बताया एक्सीडेंट में किसी को चोट नहीं आई है मोटरसाइकिल भी सुरक्षित है कहीं टूट-फूट नहीं है मेरे पति जब जीवित थे तब उनको अनावेदक गणों द्वारा जान से मारने की बात कही थी
चुकी कि मेरे द्वारा मेरे पति कि हत्या किए जाने की बात कहने पर अन आवेदक हमें जान से मारने की धमकी दे रहे हैं पुलिस हमारा कुछ नहीं बिगाड़ सकती यह कह रहे हैं हम ने पुलिस को ₹50000 दे दी है इसलिए पुलिस हम पर कोई कार्रवाई नहीं कर सकती अन आवेदक ऊपर कोई पुलिस यह कार्रवाई नहीं होने मामले को एक्सीडेंट का रूप देने के कारण उनके हौसले बुलंद है हमें डर है कि भविष्य में हमारे परिवार के सदस्यों के साथ कोई अनहोनी हो सकती है पुलिस के द्वारा कोई कार्यवाही नहीं करने एवं पुलिस की निष्क्रियता के कारण अन आवेदक खुलेआम घूम रहे हैं उन पर कोई कार्रवाई नहीं हुई है मामले की जांच कर आठनेर पुलिस महकमें पर उचित कार्रवाई करने की कृपा करने बाबत पुलिस अधीक्षक का बैतूल को लिखित आवेदन प्रस्तुत किया है पुलिस अधीक्षक ने उचित कार्रवाई का आश्वासन दिया है।

ज्ञात हो कि आठनेर पुलिस की निष्क्रियता के कारण क्षेत्र में जुआ सट्टा एवं अन्य अपराध खुलकर हो रहे अपराधी बे लगाम होकर कार्य कर रही है एवं अपनी जेब गर्म करके अपराधियों को खुली छूट दे रही है।

थाना प्रभारी आठनेर की निष्क्रियता के कारण पुलिस महकमा बदनाम हुए जा रहा है इन पर तत्काल कार्रवाई कर अन्य स्थान पर पदस्थ किया जाना चाहिए