Tag Archives: नदी में बहाये ग्रामीणों के Atm कार्ड

आदिवासी ग्रामीणों PM जनधन योजना के एटीएम कार्ड नदी में बहाये, मामले में पुलिस ने बैंक से मांगी डिटेल


बैतूल : गणेश विसर्जन के समय नदी में बहते मिले पीएम जनधन योजना के हज़ारों ATM कार्ड

जिले मचा हडकंप-आदिवासी ग्रामीणों के PM जनधन योजना के एटीएम कार्ड नदी में बहायेे बैंक से पैसे निकाले में ग्रामीण होत रहते है परेसान

मूलतापी समाचार

मध्‍यप्रदेश । बैतूल. एक तरफ देश  डिजिटल बनता जा रहा है, वहीं बैतूल (Betul) भीमपुर में सेंट्रल बैंक के एटीएम कार्ड बोरी में भरकर नदी में बहाए जाने के मामले में पुलिस ने बैंक से एटीएम कार्ड के बारे में विस्तार से जानकारी मांगी है। पुलिस को बैंक द्वारा जानकारी दी गई है कि 473 एटीएम कार्ड मिले हैं, इसके अलावा कुछ अधि‍क एटीएम कार्ड नदी में बह चुके हैं। पाच बोरीयों मेें एटीएम मीले इसे देखते हुए पुलिस ने अब बैंक से एटीएम कार्ड के बारे में विस्तृत जानकारी तलब की है।

स्थानीय लोगों ने बोरियों में भरे एटीएम कार्ड बहते पानी से बाहर निकाले तो ये सभी कार्ड भीमपुर की सेंट्रल बैंक ब्रांच के निकले. इन कार्ड्स में से अधिकतर में चिप नहीं थी और कुछ में चिप भी थी.

कार्ड्स पर बाकायदा उपभोक्ताओं के नाम भी हैं. ऐसा लगता है कि इन सभी कार्ड्स को उपभोक्ताओं तक समय पर पहुंचाया नहीं गया जिससे इनकी वैद्यता खत्म हो चुकी थी. लेकिन नियमों के अनुसार बिना वैद्यता वाले एटीएम कार्डों को एक निश्चित प्रक्रिया के तहत डिस्पोज किया जाना चाहिए था जो शायद नहीं किया गया और उन्हें कचरे की तरह नदी में बहा दिया गया.

बैंक अफसरों से पूछताछ
इस मामले में सेंट्रल बैंक भीमपुर ब्रांच को सूचना मिलने के बाद ब्रांच मैनेजर से पूछताछ जारी है. वहीं इस घटना से बैंक के जिम्मेदारों की कार्यप्रणाली पर भी सवाल उठ रहे हैं. बैंक के उच्चाधिकारियों तक बात पहुंचने के बाद हड़कम्प मचा हुआ है और मामले की उच्चस्तरीय जांच होने की पूरी उम्मीद है.

भीमपुर पुलिस चौकी प्रभारी संदीप परतेती ने बताया कि बैंक से जानकारी मांगी गई है कि यह एटीएम कार्ड कब बने हैं, किस-किस के हैं, क्या यह नष्ट करने योग्य हो चुके थे या नहीं। यह सारी जानकारी चूंकि बैंक के ही पास है, इसलिए बैंक से जानकारी मांगी गई है। श्री परतेती ने बताया कि बैंक के अधिकारियों से संपर्क करने पर उन्होंने मुख्य शाखा से समन्वय स्थापित कर जानकारी मुहैया कराने की बात कही है। यह जानकारी आने पर मिलान किया जाएगा और इसके बाद देखा जाएगा कि इसमें लापरवाही किसकी है। इसके बाद कार्रवाई की जाएगी।