Tag Archives: निःशुल्क राशन वितरण

सम्पूर्ण प्रदेश में 16 सितम्बर को मनेगा अन्न उत्सव


प्रदेश के 37 लाख नये हितग्राहियों को होगा राशन वितरण आरंभ

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने की तैयारियों की समीक्षाऑटो चालकों को हितग्राही सूची में जोड़ने के निर्देश

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि 16 सितम्बर का दिन प्रदेश के 37 लाख लोगों के लिए आशा-उत्साह और आनंद का दिन है। इन सभी को पात्रता पर्ची प्रदान कर अन्न उत्सव के अंतर्गत राशन वितरण आरंभ किया जाएगा। कोरोना काल में यह बड़ी राहत है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने हितग्राहियों की पात्रता श्रेणी के अंतर्गत ऑटो चालकों को जोड़ने के निर्देश भी दिए। मुख्यमंत्री श्री चौहान 16 सितम्बर को प्रदेश में खाद्य सुरक्षा अधिनियम के अंतर्गत सम्मिलित हुए 37 लाख नए हितग्राहियों को पात्रता पर्ची और राशन वितरण कार्यक्रम के लिए जारी तैयारियों की समीक्षा कर रहे थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि इसके बाद भी जो जरूरतमंद होगा उसे इस अभियान से जोड़ा जाएगा। राज्य सरकार हर गरीब के साथ खड़ी है। कार्यक्रम आयोजन में पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग तथा नगरीय निकायों का भी सहयोग लिया जाएगा। बैठक में खाद्य नागरिक आपूर्ति मंत्री श्री बिसाहूलाल सिंह भी उपस्थित थे।

समन्वय भवन में आयोजित राज्यस्तरीय कार्यक्रम के मुख्य अतिथि होंगे

मुख्यमंत्री श्री चौहानअन्नपूर्णा योजना के अंतर्गत अन्न उत्सव के नाम से आयोजित राज्यस्तरीय कार्यक्रम का मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान 16 सितम्बर को प्रात: 11.45 बजे भोपाल के समन्वय भवन में शुभारंभ करेंगे।

मुख्यमंत्री श्री चौहान हितग्राहियों से चर्चा भी करेंगे। प्रदेश के प्रत्येक जिले में आयोजित कार्यक्रम में राज्य के मंत्रीगण, सांसद तथा विधायकगण एक साथ राशन वितरण का शुभारंभ करेंगे। इसके साथ ही सभी ग्राम पंचायतों और वार्डों में भी अन्न उत्सव मनाया जाएगा। राज्यस्तरीय कार्यक्रम और मुख्यमंत्री के उद्बोधन का सीधा प्रसारण दूरदर्शन सहित सभी प्रमुख इलेक्ट्रॉनिक चेनल्स और वेबकॉस्ट के माध्यम से फेसबुक/टि्वटर पर सीधा प्रसारण होगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने निर्देश दिए है कि सभी आयोजन स्थल पर कोरोना से बचाव की सावधानियों का अनिवार्यत: पालन सुनिश्चित किया जाए।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने आयोजन में दिव्यांगजन, वृद्धजन, महिलाओं आदि की सुविधा का ध्यान रखने के निर्देश भी दिए।9 जिलों में जुड़े एक लाख से अधिक हितग्राहीबैठक में जानकारी दी गई कि राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम 2013 के अंतर्गत फेरी वाले, हम्माल, तुलावटी, केश शिल्पी, बीपीएल कार्ड धारक, बीड़ी श्रमिक, साइकिल रिक्शा और हाथ ठेला चालक जैसी 25 श्रेणी के 37 लाख पात्र हितग्राही अन्न उत्सव से लाभान्वित होंगे। प्रदेश में इन्दौर, मुरैना, जबलपुर, भोपाल, ग्वालियर, भिण्ड, छिंदवाड़ा, छतरपुर तथा सागर में एक-एक लाख से अधिक नवीन हितग्राहियों को जोड़ा गया है। प्रदेश में 25 हजार 176 उचित मूल्य दुकानें संचालित हैं। मुख्यमंत्री निवास पर आयोजित बैठक में अपर मुख्य सचिव पंचायत एवं ग्रामीण विकास श्री मनोज श्रीवास्तव, प्रमुख सचिव खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति श्री फैज अहमद किदवई तथा अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

स्‍कूली बच्‍चों को घर घर राशन वितरण


मध्यान्ह भोजन में रसोइयों को भोजन बनाने के लिए पैसा

मुलतापी समाचार

मुलताई। कोरोना जैसी महामारी बीमारी को देखते हुए शासन ने मार्च-अप्रैल में स्कूल बंद हैं। जिसमें स्कूल के बच्चे को मिलने वाले मध्यान्ह भोजन भी स्कूल बंद होने के साथ बंद हो चुका हैं। जिसके बाद राज्य शासन के निर्देशानुसार मध्यान्ह भोजन की जगह प्राइमरी स्कूल के बच्चो को अनाज में 2 किलो 700 ग्राम गेहूऔर 700 ग्राम चावल दिया गया। और जो मध्यान्ह भोजन में रसोइयों को भोजन बनाने के लिए पैसा दिया जायेगा , वहां पैसा भी सीधे बच्चों के खाते में 147 रुपये डाल दिया जा रहा है। इसके साथ ही माध्यमिक शाला के विद्यार्थियों को 4 किलो 950 ग्राम अनाज एवं 221 रुपये राशि उनके खाते में डाली जा रही हैं। इसी क्रम में आज सोमवार को मुलताई में एक शाला एक परिषर भगत सिंह वार्ड प्रायमरी स्‍कूल की शिक्षि‍का कुमारी सवीता गायकी ने घर घर विद्यार्थियों को अनाज वितरण किया। कुमारी गायकी ने बताया कि शासन के निर्देशानुसार विद्यार्थियों को लॉक डाउन की अवधि में सहायता हेतु बच्‍चों के घर घर राशन वितरित किया जाना है, जिसे पालन करते हए स्‍कूल प्रबंधन के माध्यम से विद्यार्थीयो को अनाज वितरित किया गया। अनाज वितरण में कार्यरत कुमारी सवीता गायकी शिक्षक, श्री राजेश कुमार शिक्षक, श्रीमती अरूणा जगताप एवं श्रीमती मनीषा भटकरें, बरखा स्‍वयं सहायता समुह के सदस्‍यों द्वारा घर घर राशन वितरित किया गया।

इस दौरान सभी विद्यार्थियों को बताया गया है कि वह बिना मतलब अपने घरों से ना निकले और अगर किसी आवश्यक कार्य से उन्हें अपने परिवार के किसी सदस्य निकलना पड़ता है तो उन्हें मास्क लगाने हेतु एवं सेनीटाइजर या साबुन से बार बार हाथ घोने की प्रेरणा दी। अनाज वितरण के दौरान विद्यालय प्रबंधन के माध्यम से सोशल डिस्टेंसिंग का भी पालन किया गया जिसमें देखने में मिला की 5 फीट की दूरी पर विद्यार्थियों ने खड़े होकर अनाज लिया।

लॉकडाउन में दवेदूत बन पुलिस और प्रशासन केे द्वारा दूर गांव तक राशन पहुंचाया, 18 00 फीट ऊंचेे पहाड़ी पर 250 किलो लेकर पंहुचे


कोराेेेना सैैनिक पुलिस द्वारा पहाड चड़ कर राशन पहुचाते हुए, चौपना पुलिस टीम द्वारा सराहनिय कार्य

भंडारपानी में लॉकडाउन के दौरान लोग अन्न के दाने को तरस गए थेअब जिला प्रशासन ने मदद पहुंचाने का काम शुरू किया है

बैतूल. यहां 1800 फीट ऊंची दुर्गम पहाड़ी पर बसा गांव भंडारपानी। लॉकडान में लोग राशन तक के लिए तरस रहे थे, जिनके लिए गुरुवार को स्थानीय पुलिसकर्मियों ने कंधों पर राहत लेकर पहुंचे। वह उनके लिए देवदूत की तरह थे। पथरीली पहाड़ी पर तमाम कठिनाइयों को पार करते हुए जब ये पुलिस वाले यौद्धा गांव पहुंचे तो लोगों की आंखें खुशी से डबडबा गईं। प्रशासन के सहयोग से यह मदद पहुंचाई गई है।

5 अप्रैल को दैनिक भास्कर ने भंडारपानी में लॉकडाउन की वजह से उपजे हालातों और ग्रामीणों के पास राशन के संकट का मुद्दा उठाया था। जिला प्रशासन ने मामले का संज्ञान लेते हुए ग्रामीणों के लिए भंडारपानी तक राहत सामग्री पहुंचाई। चोपन थाना प्रभारी गोविंद सिंह राजपूत ने बताया भंडारपानी गांव पहाड़ी पर बसा है, यहां के लोगों के पास अनाज नहीं होने की जानकारी मिली थी। पहाड़ी बैतूल और छिंदवाड़ा बॉर्डर पर है। ग्रामीणों की समस्याओं को देखते हुए प्रशासन और पुलिस के सहयोग से ग्रामीणों के लिए 100 किलो आटा, 50 किलो चावल, 50 किलो दाल, 20 किलो तेल व अन्य सामग्री पुलिसकर्मियों के सहयोग से दुर्गम पहाड़ी पर चलकर पहुंचाई। 

अब स्वास्थ्य की जांच का इंतजार

लोगों से स्वास्थ्य जांच की मांग की है। प्रशासन ने ग्रामीणों को आश्वस्त भी किया है कि वे उनके साथ हैं और समय समय पर उनको सहयोग किया जाएगा। ग्रामीणों की स्वास्थ्य संबंधी समस्या है। श्रमिक आदिवासी संगठन से जुड़े राजेंद्र गढ़वाल ने भी प्रशासन और पुलिस से मिले सहयोग पर आभार जताया। उन्होंने कहा कि लॉकडाउन के कारण ग्रामीणों के हालात गंभीर हो गए थे। मजदूरी भी नहीं मिल पा रही थी। उनके लोग भी बाहर क्षेत्रों में फंसे होने के कारण नहीं आ पाए थे। न ही मदद पहुंर पा रही थी। इससे खाने पीने की समस्या पैदा हो रही थी । इस अनाज से राहत मिलेगी।

मुलतापी समाचार परिवार की ओर से आप सभी कोरोना सैनिकों पुलिस कर्मीयों को सेल्‍युट करता हुॅँँ, और पुरे टिम की ओर धन्‍यवाद करता हुंं जो इस विप‍रित परिस्थिति में निरंतर कार्य कर रहे हैं, जनता की सेेेेवा एक जुट सेवा प्रदान कर रहें, स्‍वास्‍थ विभाग, पुलिस विभाग,सफाई कर्मी, जल वितरण कर्मी, एवं पत्रकार साथी गण आप सभी काेे पुन: सहृदय से धन्‍यवाद करता हूँ।

नि:शुल्क राशन बिना पात्रता पर्ची वालों को भी मिलेगा : शिवराजसिंह


फाइल फोटो राशन वितरण

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के निर्देशानुसार कोरोना संकट के चलते प्रदेश के 32 लाख ऐसे व्यक्तियों को भी नि:शुल्क राशन प्रदाय किया जाएगा, जिनके पास राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा योजना के अंतर्गत पात्रता पर्चियां नहीं हैं। इन्हें एक माह का नि:शुल्क उचित मूल्य राशन राज्य सरकार के कोटे से प्रदाय किया जाएगा। राशन के अंतर्गत इन्हें चार किलो गेहूँ एवं एक किलो चावल प्रति व्यक्ति प्रदान किया जाएगा। 

प्रमुख सचिव खाद्य, नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण श्री शिव शेखर शुक्ला ने बताया कि प्रदेश में 31 लाख 81 हजार 525 ऐसे व्यक्ति हैं, जो राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा योजना के अंतर्गत निर्धारित 25 पात्रता श्रेणियों में तो आते हैं, परंतु उन्हें वर्तमान में उचित मूल्य राशन प्राप्त करने की पात्रता नहीं है। भारत सरकार द्वारा वर्ष 2014-15 में प्रदेश में योजना के अंतर्गत पात्रता पर्चीधारियों की संख्या 5 करोड़ 46 लाख निर्धारित किए जाने से इन्हें पात्रता नहीं है। अब राज्य शासन ने इन्हें अपने कोटे से एक माह का नि:शुल्क राशन दिए जाने का निर्णय लिया है। राज्य के समग्र सामाजिक सुरक्षा पोर्टल पर इनका नाम दर्ज है। 

खाद्यान्न वितरण के लिए प्रदेश के इन 8 लाख 8 हजार 946 परिवारों के 31 लाख 81 हजार 525 सदस्यों के लिए राज्य स्तर से 12 हजार 726 मीट्रिक टन गेहूँ तथा 3 हजार 181 मीट्रिक टन चावल का कोटा जारी किया जा चुका है। 

किसी भी नजदीकी दुकान से प्राप्त कर सकेंगे राशन

बिना पात्रता पर्ची वाले सभी व्यक्ति सुविधानुसार अपने आस-पास की किसी भी उचित मूल्य दुकान से यह राशन प्राप्त कर सकेंगे। वर्तमान में कोरोना संकट के मद्देनजर कलेक्टर्स को निर्देश दिए गए हैं कि वे राशन वितरण में सोशल डिस्टेंसिंग एवं अन्य सुरक्षात्मक उपायों का कड़ाई से पालन कराएं। हितग्राहियों से कहा गया है कि वे बारी-बारी से राशन प्राप्त करें तथा राशन दुकानों पर एक-दूसरे की बीच दूरी कायम रखते हुए भीड़ न लगाएं। इन सभी हितग्राहियों की सूची nfsa.samagra.gov.in पोर्टल पर DSO लॉगिन में उपलब्ध है।