Tag Archives: बांध

अज्ञात युवती का शव सापना जलाशय में मिला



जलाशय किनारे युवती की चप्पल और कीटनाशक दवा की शीशी मिली
 
बैतूल–  सापना जलाशय में आज अज्ञात युवती का शव दिखाई दिया जिसकी सूचना बैतूल बाजार पुलिस को मिली थी पुलिस मौके पर पँहुची और युवती के शव को जलाशय से बाहर निकाला गया है युवती ने जलाशय में कूदकर आत्महत्या की है एस आई भैया लाल उइके ने बताया कि युवती को शुक्रवार को सापना के पास ग्रामीणों ने देखा था जलाशय के किनारे युवती की चप्पल और कीटनाशक दवा की सीसी रखी हुई मिली जिसे देखकर यह प्रतीत होता है कि युवती ने आत्महत्या की है युवती का शव जलाशय से निकालकर पोस्टमार्टम के लिए जिलाअस्पताल पंहुचाया जा रहा है युवती की शिनाख्त नही हो सकी है

शिवा पवार मुलतापी समाचार बैतूल

12.5 करोड़ की लागत से मुलताई क्षेत्र में बनेंगे पांच बांध एवं बैराज


मुलतापी समाचार

पांच बांधों के लिए प्राप्त हुई स्वीकृति, सैकड़ों हेक्टेयर जमीन में आसानी से हो सकेगी सिंचाई

मुलताई। पीएचई मंत्री एवं मुलताई विधायक सुखदेव पांसे के प्रयासों से मुलताई क्षेत्र में पांच नए बांध बनाने के लिए स्वीकृति प्राप्त हो गई है। लगभग साढ़े बारह करोड़ रुपये की लागत से उक्त पांच बांध बनवाएं जाएंगे। जिससे सैकड़ों हेक्टेयर भूमि की सिंचाई हो पाएगी। पीएचई मंत्री सुखदेव पांसे ने बताया कि बैतूल जिले की मुलताई, प्रभात पट्टन विकास खंडों के अंतर्गत कान्हा बघोली लघु सिंचाई योजना 657.95 लाख रुपये सिंचाई क्षमता 227 हेक्टेयर, अंबोरा नदी पर खेड़ी रामोशी बैराज रुपये 144.84 लाख सिंचाई क्षमता 100 हेक्टेयर, हिडली बैराज 150.15 लाख सिंचाई क्षमता 105 हेक्टेयर, ताप्ती नदी पर मीरापुर बैराज 152. 88 लाख रुपये सिंचाई क्षमता 105 हेक्टेयर, बलेगांव बैराज 144.56 लाख रुपये सिंचाई क्षमता 105 हेक्टेयर की स्वीकृति प्रदान की गई।

दरअसल लंबे समय से इन बांधों के निर्माण की मांग की जा रही थी। ग्रामीणों ने बताया कि उनके द्वारा लगातार पीएचई मंत्री श्री पांसे से बांध निर्माण की मांग की जा रही है। जिसके बाद श्री पांसे द्वारा उक्त बांधों के निर्माण के लिए लगातार प्रयास किए जा रहे थे। जिससे पांच नए बांधों की सौगात किसानों की खुशहाली एवं समृद्धि हेतु लागत 1250.30 लाख रुपये के नए 5 बांधों से लगभग 642 हेक्टेयर सिंचाई रकबा में बढ़ोतरी होगी। सुखदेव पांसे ने कहा कि क्षेत्र का विकास करना एवं हर खेत को पानी हर किसान की समृद्धि, खुशहाली, हरियाली लाना ही उनकी प्राथमिकता है।