Tag Archives: मध्यप्रदेश

जिले में आरक्षण की प्रक्रिया हुई संपन्न, देखे किसे कहा मिला आरक्षण


बैतूल। जिला पंचायत अध्यक्षों के आरक्षण की प्रक्रिया मंगलवार को भोपाल में संपन्न हुई। इस आरक्षण प्रक्रिया में अभी तक एसटी वर्ग के लिए आरक्षित थी लेकिन मंगलवार को हुए आरक्षण मेंं जिला पंचायत बैतूल की सीट अनारक्षित घोषित कर दी गई है।

वही निकाय चुनाव को लेकर आज भोपाल के रविंद्र भवन में महापौर, नगर पालिका और नगर परिषद अध्यक्ष के लिए आरक्षण की प्रक्रिया संपन्न हुई ।

आरक्षण में बैतूल नगर पालिका के अध्यक्ष पद अनारक्षित महिला के लिए आरक्षित किया गया है।

नगर पालिका मुलताई में भी अनारक्षित महिला के लिए अध्यक्ष पद आरक्षित किया गया है ।

वही सारणी नगर पालिका एवं आमला नगर पालिका का अध्यक्ष पद अनुसूचित जाति वर्ग के लिए आरक्षित हो गया है।

घोड़ाडोंगरी नगर परिषद अध्यक्ष की सीट एसटी महिला वर्ग के लिए आरक्षित हुई है।

शाहपुर की सीट अनारक्षित हो गई है।

बैतूल बाजार नगर परिषद अध्यक्ष की सीट ओबीसी महिला के लिए आरक्षित हो गई है।

आठनेर, चिचोली और भैंसदेही नगर परिषद अनारक्षित महिला वर्ग के लिए आरक्षित हो गई हैं।

बैतूल जनपद की 77 ग्राम पंचायतों का आरक्षण की स्थिति


बैतूल– त्रि-स्तरीय पंचायत आम निर्वाचन 2022 के लिए बुधवार को बैतूल तहसील कार्यालय में जनपद पंचायत बैतूल के वार्डो के लिए आरक्षण की प्रक्रिया बैतूल एसडीएम रीता डेहरिया, तहसीलदार प्रभात मिश्रा और जनपद सीईओ अपूर्वा सक्सेना ने संपन्न कराई ।

अनारक्षित मुक्त—-ग्राम पंचायत दनोरा( जीन), बोदी जूनापानी, मंडई बुजुर्ग, खेडला, कुम्हारटेक, रोंढा, गोराखार, भैसदेही, खेड़ली, बयावाड़ी, चारवन, जसोन्दी, सेलगांव(ब), बारव्ही, रेडवा, साईखण्डारा, नाहिया, बरसाली, नीमझिरी ।

अनारक्षित महिला—-ग्राम पंचायत चाँदबेहड़ा, टाहली, माथनी, कल्याणपुर, खेड़ीसावलीगढ़, सराड, ढोंढवाड़ा, खंडला, सूरगांव, भरकाबाड़ी, आरुल, खंडारा, बघवाड, मलकापुर, मिलानपुर, बघौली, गुढ़ी, लाखापुर, कन्हड़गांव, मोवाड़

अनुसूचित जनजाति मुक्त—-ग्राम पंचायत कुम्हली, हिवरखेड़ी, मंडईखुर्द, रातामाटी बुजुर्ग, सिल्लोट, सावंगा, महदगांव, भडूस, जामठी, बाँसपानी, बाजपुर, सेहरा ,दीवान चारसी, जैतापुर, थावड़ी, गोंडी गोला

अनुसूचित जनजाति महिलाग्राम पंचायत जीन, बोरगांव, देवगांव, कोदारोटी, लावन्या, डहरगांव, दनोरा भडूस, मरामझिरी, बडोरा, भोगीतेड़ा, पीपला, बोरीकास, हथनाझिरी, कोलगांव, सोहागपुर, जावरा

अनुसूचित जाति मुक्त—-ग्राम पंचायत साकादेही, लापाझिरी, सेलगांव खेड़ी,

अनुसूचित जाति महिला—-ग्राम पंचायत कढ़ाई, टेमनी, अमदर

नगरपालिका चुनाव 15 वार्ड की आरक्षण प्रक्रिया पूर्ण, पिछड़ा वर्ग के वार्डों की संख्या 5


मुलताई -नगर पालिका के 15 वार्ड एवं मुलताई जनपद क्षेत्र की 69 पंचायतों के लिए आरक्षण प्रक्रिया राज नंदिनी शर्मा प्राधिकृत अधिकारी एवं अनुविभागीय अधिकारी राजस्व, तहसीलदार सुधीर जैन बाएवं नगर पालिका अधिकारी नितिन कुमार बिजवे की उपस्थिति में तहसील कार्यालय में जनप्रतिनिधियों की उपस्थिति में संपन्न हुई।

नगर के 15 वार्ड में हुए आरक्षण इस प्रकार है वार्ड क्रमांक 1 ताप्ती वार्ड अनुसूचित जाति महिला ,वार्ड क्रमांक 2 तिलक वार्ड अन्य पिछड़ा वर्ग ,वार्ड क्रमांक 3 भगत सिंह वार्ड अन्य पिछड़ा वर्ग महिला ,वार्ड क्रमांक 4 सुभाष वार्ड अनारक्षित,वार्ड क्रमांक 5 शास्त्री वार्ड अनारक्षित ,वार्ड क्रमांक 6 गुरु साहब वार्ड अनारक्षित महिला  ,वार्ड क्रमांक 7 महावीर वार्ड अन्य पिछड़ा वर्ग महिला , वार्ड क्रमांक 8 विवेकानंद वार्ड अनारक्षित महिला, वार्ड क्रमांक 9 नेहरू वार्ड महिला अनारक्षित,वार्ड क्रमांक 10 आजाद वार्ड अनारक्षित महिला ,वार्ड क्रमांक 11 पटेल वार्ड अन्य पिछड़ा वर्ग ,वार्ड क्रमांक 12 गांधी वार्ड अनुसूचित जाति , वार्ड क्रमांक 13 अंबेडकर वार्ड अनारक्षित महिला, वार्ड क्रमांक 14 राजीव गांधी वार्ड अन्य पिछड़ा वर्ग महिला, वार्ड क्रमांक 15 इंदिरा गांधी वार्ड अनारक्षित है।

ग्राम पंचायत आरक्षण प्रभातपट्टन, देखे किस गाँव में कौन बनेगा सरपंच।


प्रभातपट्टन ब्लाक की 65 ग्राम पंचायतों में से 10 ग्राम पंचायतों में सरपंच पद अनुसूचित जाति वर्ग, 18 ग्राम पंचायतों में अनुसूचित जनजाति वर्ग के लिए आरक्षित हुए हैं। जबकि 5 ग्राम पंचायतों में अन्य पिछड़ा वर्ग के लिए सरपंच के पद आरक्षित किए गए हैं। शेष 32 ग्राम पंचायतों में सरपंच पद अनारक्षित है। हालांकि इनमें से 16 ग्राम पंचायतों में अनारक्षित महिला के लिए सरपंच पद आरक्षित किया गया है।

अनुसूचित जाति वर्ग के लिए आरक्षित पंचायतें—-ग्राम पंचायत काजली, अमरावतीघाट, बोरपेंड, चिल्हाटी, तिवरखेड में सरपंच पद अनुसूचित जाति वर्ग उम्मीदवार के लिए आरक्षित हुआ है। जबकि ग्राम पंचायत नांदकुड़ी, बिहरगांव, चिखलीमाल, इटावा, मंगोनाखुर्द में सरपंच पद अनुसूचित जाति वर्ग की महिला के लिए आरक्षित हुआ है।

अनुसूचित जनजाति वर्ग के लिए आरक्षित पंचायतें—-ग्राम पंचायत रगड़गांव, मोरंड, गेहूंबारसा, गाडरा, खड़कीपांढरी, वायगांव, खंबारा, पचधार, नरखेड में सरपंच पद अनुसूचित जनजाति वर्ग के उम्मीदवार के लिए जबकि ग्राम पंचायत बोरगांव शेरगढ़, मालेगाव, डोहलन, बिरौली झिल्पा, सोमगढ, घाटबिरोली, सहनगांव, मासोद और दतोरा में सरपंच पद अनुसूचित जनजाति वर्ग की महिला के लिए आरक्षित हुआ है।

ओबीसी वर्ग के लिए आरक्षित पंचायतें—-ग्राम पंचायत मंगोनाकला, सेंदुरजना और प्रभातपट्टन में सरपंच पद अन्य पिछड़ा वर्ग महिला के लिए और रायआमला हिरडी में सरपंच पद अन्य पिछड़ा वर्ग उम्मीदवार के लिए आरक्षित हुआ है।

32 ग्राम पंचायतों में सरपंच का पद रहेगा अनारक्षित—-पग्राम पंचायत वलनी, चारसी, सालबर्डी, दाबका, बोरगांव, माजरी, हिवरखेड़ छिंदखेड़ा, बिरूलबाजार, बाड़ेगांव, बलेगांव, वंडली, देवगांव, पाबल, चिचन्डा, निम्बोटी में सरपंच पद अनारक्षित रहेगा। ग्राम पंचायत बिसनूर, जामठी सवासन,रजापुर, चकोरा, साईखेडाखुर्द, सिरडी, धाबला, आष्टा, सावंगी, खेड़ी रामोशी, गंगापुर, बघोड़ा, ताइखेडा, सिरसावाड़ी, गोधनी और खेड़ी देवनाला में सरपंच पद अनारक्षित वर्ग की महिला के लिए आरक्षित हुआ है।

ग्राम पंचायत आरक्षण मुलताई, देखे किस गाँव में कौन बनेगा सरपंच


मुलताई– पंचायत निर्वाचन को लेकर आज मुलताई तहसील में आरक्षण की प्रक्रिया संपन्न कराई गई । एसडीएम राजनंदिनी शर्मा ,तहसीलदार सुधीर जैन और जनपद पंचायत सीईओ मनीष शेंडे की उपस्थिति में आरक्षण की कार्यवाही की गई ।

आरक्षण की स्थिति इस प्रकार है ग्राम पंचायत साबरी सामान्य, टेमझिरा अ सामान्य, कान्हाखापा सामान्य महिला, खेड़ीकोर्ट अनुसूचित जनजाति महिला, ऐनखेड़ा सामान्य महिला ,निमानवाड़ा अनुसूचित जनजाति ,गोला सामान्य ,पौनी पिछड़ा वर्ग महिला ,लिहादा अनुसूचित जाति महिला,

साईंखेड़ा पिछड़ा वर्ग ,मोहरखेड़ा सामान्य, पोहर अनुसूचित जनजाति महिला, जूनापानी पिछड़ा वर्ग, बानूर पिछड़ा वर्ग महिला, उभारिया अनुसूचित जाति ,बोथिया सामान्य, एनस अनुसूचित जाति, सेमझिरा पिछड़ा वर्ग,पिसाटा सामान्य, दाँतोरा अनुसूचित जनजाति महिला, सांडिया सामान्य ,सोनोरा सामान्य महिला ,जमबाड़ी सामान्य महिला,

भिलाई पिछड़ा वर्ग ,मोही अनुसूचित जनजाति महिला, निरगुण अनुसूचित जाति महिला ,डिबटिया पिछड़ा वर्ग महिला,हेटी सामान्य ,जोलखेड़ा सामान्य महिला ,सर्रा सामान्य ,खतेड़ाकला सामान्य ,टेमझिरा ब पिछड़ा वर्ग ,परमंडल पिछड़ा वर्ग ,वलनी अनुसूचित जनजाति महिला ,जामगांव अनुसूचित जाति महिला, चौथिया अनुसूचित जनजाति महिला ,कामथ सामान्य महिला, देवरी सामान्य महिला, चांदोराखुर्द अनुसूचित जाति महिला ,

करपा अनुसूचित जनजाति, बरई सामान्य, महतपुर अनुसूचित जनजाति, माथनी सामान्य महिला ,खड़कबार पिछड़ा वर्ग, परसठानी सामान्य, डहुआ पिछड़ा वर्ग, पारडसिंगा सामान्य महिला ,बघोडी बुजुर्ग सामान्य महिला ,मालेगाव सामान्य महिला, हथनापुर सामान्य महिला ,बाडया खापा पिछड़ा वर्ग ,बरखेड़ अनुसूचित जनजाति, पिपरिया सामान्य महिला ,खैरवानी अनुसूचित जाति ,छींदी सामान्य महिला ,रिधोरा सामान्य ,

कपास्या सामान्य, सावरी पिछड़ा वर्ग महिला ,सेमरिया पाढरी सामान्य ,जाम पिछड़ा वर्ग ,लेदागोंदी सामान्य महिला ,चिखली कला अनुसूचित जनजाति ,सोनेगांव सामान्य महिला ,मयावाड़ी सामान्य महिला ,दुनावा सामान्य महिला ,सिपावा अनुसूचित जनजाति,भैंसादंड पिछड़ा वर्ग ,सरई सामान्य और घाट पिपरिया सामान्य के लिए आरक्षित हुई है ।

ग्राम रोंढा ने मनाया अपना पहला गौरव दिवस


बैतूल। जिला मुख्यालय के समीपस्थ ग्राम रोंढा में मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान जी की मंशा अनुसार ग्राम गौरव दिवस का आयोजन किया गया। इस अवसर पर मुख्य अतिथि के रूप में ग्राम प्रधान श्रीमती विमला बाई धुर्वे, पूर्व सरपंच श्रीमती मीना बाई बारंगे, क्षत्रिय पवार समाज संगठन के जिलाध्यक्ष श्री बाबूलाल कालभोर, वरिष्ठ पत्रकार और लेखक रामकिशोर पवार, श्री दिलीप ओमकार और श्री अशोक जग्गू बारंगे के मुख्य आतिथ्य में संपन्न हुआ।

कार्यक्रम का शुभारंभ मुख्य अतिथियों के द्वारा ग्राम में विराजमान भगवान भोलेनाथ के चरणों में नमन करते हुए पूजा अर्चना और दीप प्रज्वलित कर किया गया। ग्राम की बालिकाओं कुमारी पलक, कुमारी निधि और कुमारी अमृता के द्वारा सरस्वती वंदना, स्वागत गीत कुमारी अंशिका पवार, कुमारी निकिता पवार कुमारी विभा पवार के द्वारा प्रस्तुत किया गया।

ग्राम के प्रथम गौरव दिवस पर ग्राम रोंढा की पावन धरा पर जन्मे और गांव का गौरव बढ़ाने वाले शिक्षकों, पटवारियों, भूतपूर्व सैनिकों, प्रतिभावान छात्र-छात्राओं, भूतपूर्व सरपंचों, ग्राम के हित में सेवा कार्य करने वाले नागरिकों को साल और श्रीफल देकर सम्मानित किया गया और आगे आने वाले वर्षों में भी खेल, शिक्षा, सांस्कृतिक कार्यक्रम, उन्नत कृषि, लघु उद्योग, शासकीय सेवा, अशासकीय सेवा, पत्रकारिता, लेखन में जिला संभाग राज्य और अंतरराष्ट्रीय स्तर की सभी प्रतिभाओं को सम्मानित करने का लक्ष्य रखा गया है।

ग्राम गौरव दिवस के अवसर पर ग्राम रोंढा के गौरव और पहले कलेक्टर बने माननीय श्री प्रदीप कालभोर जी अप्रत्यक्ष रूप से उपस्थित रहकर ग्राम गौरव दिवस के उपलक्ष्य में शुभकामना संदेश प्रेषित किया जिसका वाचन ग्राम के युवा प्रदीप डिगरसे के द्वारा किया गया श्री कालभोर के शुभकामना संदेश के अनुसार 23 मई 2020 दिन सोमवार को ग्राम रोंढा में आयोजित भव्य ग्राम गौरव दिवस कार्यक्रम के अवसर पर सभी ग्रामवासियों, सभी सम्मानित अधिकारी, कर्मचारी, प्राविव्य प्राप्त छात्र-छात्राएं एवं सम्मानित शिक्षकों के लिए शुभकामना एवं धन्यवाद देना चाहता हूं। इस तरह के बड़े समारोह का आयोजन करने और हमें आमंत्रित करने के लिए ग्राम पंचायत, सचिव, प्रबंधन समिति का भी धन्यवाद देना चाहूंगा। उक्त आयोजित कार्यक्रम के अवसर पर मैं सभी ग्रामवासी एवं पूर्वजों का नमन करते हुए धन्यवाद करना चाहता हूँ, जिन्होंने मुझे एवं अन्य अनेकों महान और प्रतिभाशाली अधिकारीगण निर्मित कर उपलब्ध कराए। इस कार्यक्रम को एक यादगार दिवस बनाने के लिए विशेष धन्यवाद।
आईएएस प्रदीप कुमार कालभोर पूर्व कलेक्टर एवं सचिव महाराष्ट्र शासन

पहले ग्राम गौरव दिवस पर इनका हुआ सम्मान….ग्राम गौरव दिवस के अवसर पर ग्राम के भूतपूर्व शिक्षकों श्री माधोराव जी ओमकार, श्री महेपराव जी ओमकार, श्री नारायण राव जी कोड़ले, श्री संपतराव जी चौधरी, श्री ओंकार प्रसाद जी माथुरकर, ग्राम के पटवारियों श्रीराम जी ओमकार, श्री चिन्धया जी पठाडे, वर्तमान शिक्षक श्री रितेश पठाडे, भूतपूर्व सैनिक श्री मिसरु देवासे, श्री अवनीश डोगरदिए, श्री चंदू बारंगे, भूतपूर्व नगर रक्षक श्री परसराम कालभोर, श्री सरजूप्रसाद फरकाड़े, गूगल के इंजीनियर श्री अंकित डिगरसे,

पंचायत ग्रामीण विकास के पहले जनपद अध्यक्ष रहे श्री शेषराव जी बारंगे, ग्राम पंचायत के भूतपूर्व सरपंचों डॉक्टर बकाराम जी कालभोर, श्री छोटेलाल जी कालभोर, श्री नत्थू ओंकार, श्री बाबूलाल जी देवासे, श्री संपतराव जी पाठा, श्री रमेश कुमार ओमकार, श्रीमती उर्मिला बाई कोड़ले, श्री मिश्रीलाल जी कोड़ले, श्रीमती मीना बाई बारंगे, श्रीमती नीलू बाई उईके, श्रीमती कुंदाबाई कोड़ले, श्रीमती मालती बाई कोकाडिया को प्रत्यक्ष या अनुपस्थित लोगों के परिजनों को सम्मानित किया गया।

ग्राम का गौरव बढ़ाने वाले छात्र-छात्राओं को भी सम्मानित किया गया जिसमें कुमारी अंशिका पवार (89%), कुमारी निकिता कालभोर (86%), कुमारी विभा पवार (85%), कुमारी पलक ढोबारे (96%), कुमारी निधि कोड़ले (91%), कुमारी भाग्यश्री ओमकार (85%), कुमारी अमृता कोड़ले (91%) को सम्मानित किया गया।

क्षत्रिय पवार समाज संगठन के जिलाध्यक्ष बाबूलाल कालभोर ने अपने संबोधन में ग्राम के गौरव को प्रति वर्ष मनाने और ग्राम की माटी से सभी जुड़े रहने का आवाहन किया।

समाज के वरिष्ठ पत्रकार रामकिशोर पवार ने भी अपने संबोधन में ग्राम की माटी को मरते दम तक याद करने और जुड़े रहने की बात कही और प्रतिवर्ष गौरव दिवस मनाते रहने और प्रतिभाओं का इसी प्रकार सम्मान किए जाने का आग्रह ग्राम पंचायत से किया।

ग्राम अवसर पर ग्राम पंचायत सचिव श्री रघुनाथ ठाकरे, ग्राम पटवारी श्री संदीप चौरागढे़, ग्राम रोजगार सहायक उषा मालवी, एएनएम आभा डिगरसे, आंगनवाड़ी कार्यकर्ता आशा पवार, सुनीता पवार, प्राथमिक शाला के शिक्षक श्री राजेश बाजपेयी, श्रीमती रेखा माथुरकर, श्रीमती अर्चना पवार, अलकेश हजारे सहित गांव के सैकड़ों वरिष्ठजन, युवा, महिलाएं और बच्चे उपस्थित रहे। मंच संचालन का कार्य ग्राम के युवा प्रदीप डिगरसे और आभार प्रदर्शन ग्राम रोजगार सहायक उषा मालवी द्वारा किया गया।

23 मई को ग्राम रोंढा का गौरव दिवस सासंद, विधायक कार्यक्रम में रहेगे मौजूद


बैतूल। 23 मई दिन सोमवार दोपहर 12 बजे ग्राम रोंढा में भव्य ग्राम गौरव दिवस का कार्यक्रम जिले के सासंद श्री डी डी उइके , श्री हेमंत खण्डेलवाल पूर्व सासंद, बैतूल विधायक श्री निलय डागा की गरीमामय उपस्थिति में होने जा रहा है। कार्यक्रम में जनपद अध्यक्ष श्रीमति पूर्णिमा सतीश पाठा, जनपद सदस्य लोकेश बारंगे सहित ग्राम पंचायत के पूर्व एवं वर्तमान सरपंच मौजूद रहेगें। जिला मुख्यालय से मात्र 9 किमी दूर बैतूल जनपद की ग्राम पंचायत रोंढा का प्रथम ग्राम स्थापना दिवस कार्यक्रम में गांव के सेवानिवृत शासकीय सेवकों, जनप्रतिनिधियो, गांव का नाम रोशन करने वाले स्कूली छात्र – छात्राओं को भी सम्मानित किया जाएगा। ग्राम पंचायत सचिव श्री रघुनाथ ठाकरे ने बताया कि बाजार चौक रोंढा के शिव मंदिर परिसर में उक्त कार्यक्रम को आयोजित किया गया है।


उल्लेखनीय है कि प्रदेश की शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व वाली भाजपा सरकार ने नगरीय क्षेत्रों की तरह गांवो का गौरव दिवस मनाने की घोषणा की थी जिसके अनुरूप उक्त कार्यक्रम आयोजित किया जा रहा है।

नगरीय निकायों के आम निर्वाचन के लिए रिटर्निंग एवं सहायक रिटर्निंग अधिकारी नियुक्त


बैतूल। कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी (स्थानीय निर्वाचन) श्री अमनबीर सिंह बैंस ने मध्यप्रदेश नगरपालिका निर्वाचन नियम 1994 के नियम 13 एवं 14 के अंतर्गत जिले में नगरीय निकायों के आम निर्वाचन 2022 सम्पन्न कराने के लिए रिटर्निंग अधिकारी एवं सहायक रिटर्निंग अधिकारियों की नियुक्ति की है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार नगर पालिका परिषद् बैतूल के लिए कलेक्टर श्री अमनबीर सिंह बैंस रिटर्निंग अधिकारी होंगे। सीईओ जिला पंचायत श्री अभिलाष मिश्रा, अपर कलेक्टर श्री श्यामेन्द्र जायसवाल, एसडीएम बैतूल श्रीमती रीता डेहरिया, कार्यपालन यंत्री जल संसाधन श्री ए.के. डेहरिया को सहायक रिटर्निंग अधिकारी बनाया गया है।

नगरपालिका परिषद् मुलताई के लिए एसडीएम मुलताई सुश्री राजनंदिनी शर्मा को रिटर्निंग अधिकारी एवं तहसीलदार मुलताई श्री सुधीर जैन तथा नायब तहसीलदार आमला श्रीमती कीर्ति प्रधान को सहायक रिटर्निंग अधिकारी बनाया गया है।

नगर परिषद आमला के लिए संयुक्त कलेक्टर श्री एसपी मंडराह को रिटर्निंग अधिकारी तथा तहसीलदार आमला श्री वैधनाथ वासनिक एवं नायब तहसीलदार बोरदेही श्री संजय बारस्कर को सहायक रिटर्निंग अधिकारी बनाया गया है।

नगर परिषद् बैतूल बाजार के लिए नायब तहसीलदार बैतूल सुश्री सृष्टि डेहरिया को रिटर्निंग अधिकारी तथा नायब तहसीलदार बैतूल सुश्री डॉली रैकवार को सहायक रिटर्निंग अधिकारी बनाया गया है।

नगर परिषद् भैंसदेही के लिए एसडीएम भैंसदेही श्री केसी परते को रिटर्निंग अधिकारी एवं तहसीलदार भैंसदेही श्री नीरज कालमेघ को सहायक रिटर्निंग अधिकारी बनाया गया है।

नगर परिषद शाहपुर के लिए एसडीएम शाहपुर श्री अनिल कुमार सोनी को रिटर्निंग अधिकारी एवं नायब तहसीलदार शाहपुर श्री रोहित विश्वकर्मा को सहायक रिटर्निंग अधिकारी बनाया गया है।

नगर परिषद् घोड़ाडोंगरी के लिए तहसीलदार घोड़ाडोंगरी श्री अशोक कुमार डेहरिया को रिटर्निंग अधिकारी एवं विकासखंड शिक्षा अधिकारी घोड़ाडोंगरी श्री हाकम सिंह रघुवंशी को सहायक रिटर्निंग अधिकारी बनाया गया है।

पंच, सरपंच, जनपद पंचायत सदस्य एवं जिला पंचायत सदस्य के आम निर्वाचन के लिए रिटर्निंग एवं सहायक रिटर्निंग अधिकारी नियुक्त


पंच, सरपंच, जनपद पंचायत सदस्य एवं जिला पंचायत सदस्य के आम निर्वाचन के लिए रिटर्निंग एवं सहायक रिटर्निंग अधिकारी नियुक्त

बैतूल। कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी (स्थानीय निर्वाचन) श्री अमनबीर सिंह बैंस ने मध्यप्रदेश पंचायत निर्वाचन नियम 1995 के नियम 20 एवं 21 (1) के तहत जिला बैतूल में पंच, सरपंच, जनपद पंचायत सदस्य एवं जिला पंचायत सदस्य के आम निर्वाचन सम्पन्न कराने के लिए रिटर्निंग अधिकारी एवं सहायक रिटर्निंग अधिकारियों की नियुक्ति की है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार जिला पंचायत बैतूल के लिए कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी (पंचायत) श्री अमनबीर सिंह बैंस रिटर्निंग अधिकारी होंगे। डिप्टी कलेक्टर एवं एसडीएम बैतूल श्रीमती रीता डेहरिया को (निर्वाचन क्षेत्र क्रमांक 01 से 12 तक) तथा अधीक्षक भू-अभिलेख श्री एसके नागू को (निर्वाचन क्षेत्र क्रमांक 13 से 23 तक) सहायक रिटर्निंग अधिकारी बनाया गया है।

जनपद पंचायत बैतूल के लिए तहसीलदार श्री प्रभात मिश्रा को रिटर्निंग अधिकारी एवं अतिरिक्त सहायक विकास आयुक्त एवं पदेन मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत बैतूल सुश्री अपूर्णा सक्सेना को सहायक रिटर्निंग अधिकारी बनाया गया है।

जनपद पंचायत घोड़ाडोंगरी के लिए तहसीलदार घोड़ाडोंगरी श्री अशोक कुमार डहेरिया को रिटर्निंग अधिकारी एवं अतिरिक्त सहायक विकास आयुक्त एवं पदेन मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत घोड़ाडोंगरी श्री प्रवीण इवने को सहायक रिटर्निंग अधिकारी बनाया गया है।

जनपद पंचायत मुलताई के लिए तहसीलदार मुलताई श्री सुधीर जैन को रिटर्निंग अधिकारी एवं अतिरिक्त सहायक विकास आयुक्त एवं पदेन मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत मुलताई श्री मनीष शेन्डे को सहायक रिटर्निंग अधिकारी बनाया गया है।

जनपद पंचायत आठनेर के लिए नायब तहसीलदार आठनेर श्रीमती लवीना घाघरे को रिटर्निंग अधिकारी एवं अतिरिक्त सहायक विकास आयुक्त एवं पदेन मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत आठनेर श्री केपी राजोदिया को सहायक रिटर्निंग अधिकारी बनाया गया है।

जनपद पंचायत भैंसदेही के लिए नायब तहसीलदार भैंसदेही श्री नीरज कालमेघ को रिटर्निंग अधिकारी एवं अतिरिक्त सहायक विकास आयुक्त एवं पदेन मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत भैंसदेही श्री जितेन्द्र सिंह ठाकुर को सहायक रिटर्निंग अधिकारी बनाया गया है।

जनपद पंचायत आमला के लिए तहसीलदार आमला श्री बैधनाथ वासनिक को रिटर्निंग अधिकारी तथा अतिरिक्त सहायक विकास आयुक्त एवं पदेन मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत आमला श्री दानिश अहमद खान को सहायक रिटर्निंग अधिकारी बनाया गया है।

जनपद पंचायत प्रभात पट्टन के लिए नायब तहसीलदार प्रभातपट्टन सुश्री याचिका परतेती को रिटर्निंग अधिकारी एवं नायब तहसीलदार मासोद सुश्री स्मिता देशमुख को सहायक रिटर्निंग अधिकारी बनाया गया है।

जनपद पंचायत शाहपुर के लिए तहसीलदार शाहपुर श्रीमती अंतोनिया एक्का को रिटर्निंग अधिकारी एवं अतिरिक्त सहायक विकास आयुक्त एवं पदेन मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत शाहपुर सुश्री फिरदोश शाह को सहायक रिटर्निंग अधिकारी बनाया गया है।

जनपद पंचायत चिचोली के लिए नायब तहसीलदार चिचोली श्री नरेश सिंह राजपूत को रिटर्निंग अधिकारी एवं विकासखंड शिक्षा अधिकारी चिचोली श्री डीके शर्मा को सहायक रिटर्निंग अधिकारी बनाया गया है।

जनपद पंचायत भीमपुर के लिए नायब तहसीलदार भीमपुर श्री कार्तिक मौर्य को रिटर्निंग अधिकारी एवं अतिरिक्त सहायक विकास आयुक्त एवं पदेन मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत भीमपुर सुश्री कंचना वास्केल को सहायक रिटर्निंग अधिकारी बनाया गया है।

भाजपा ने ओबीसी का शोषण कर महापाप किया- सुखदेव पांसे


बैतूल। ओबीसी आरक्षण को लेकर कांग्रेस और भाजपा में घमासान मचा हुआ है। बैतूल के पूर्व सांसद हेमंत खंडेलवाल ने हाल ही में ओबीसी आरक्षण को लेकर बनी स्थिति के लिए कांग्रेस को जिम्मेदार ठहराया था। अब कांग्रेस ने इस आरोप पर पलटवार किया है।

सोमवार को सर्किट हाउस में पत्रकार वार्ता में पूर्व मंत्री और मुलताई विधायक सुखदेव पांसे ने पूर्व सांसद हेमंत खण्डेलवाल का नाम लेकर भाजपा पर हमला बोल दिया है। पांसे ने कहा कि हेमंत खण्डेलवाल और भाजपा ने ओबीसी का शोषण कर महापाप किया है। भाजपा ने हमेशा ओबीसी को धोखा दिया है।

विधायक सुखदेव पांसे ने कहा कि कांग्रेस ने ओबीसी की जनक है। आरक्षण देने की शरुआत कांग्रेस ने की है…ओबीसी की शुरुआत अर्जुन सिंह की सरकार में हुई थी। मुलताई से रामजी महाजन को पिछड़ा वर्ग आयोग का अध्यक्ष बनाया है। भाजपा को 18 वर्ष में पिछड़ा वर्ग नजर नही आया। कमलनाथ ने 27 प्रतिशत आरक्षण देने का काम किया है। ओबीसी आरक्षण में जो भी हो रहा है इसका पूरा पाप भाजपा को जाता है। आरक्षण को लेकर भाजपा घड़ियाली आंसू बहा रहे है। हेमन्त खण्डेलवाल को आरक्षण पर बोलने का अधिकार नही है। पत्रकारवार्ता के कांग्रेस जिलाध्यक्ष सुनील शर्मा, बैतूल विधायक निलय डागा, कांग्रेस नेता समीर खान, मोनू बडोनिया, पिछड़ा वर्ग के नारायण धोटे भी मौजूद थे।