Tag Archives: मुलताई बैतूल

पान मसाला व्यापारी की दूकानों पर मारा छापा, एक्सपायरी हुए पाऊच के बंडल मिले


मुलताई प्रशासन अलर्ट
नगर की पान मसाला एवम खाद्य सामग्री दुकानों पर sdm सहित प्रशासनिक टीम का छापा, दोगुने रेट में बेचा जा रहा था, पान मसाला, एक्सपायर डेट की खाद्य सामग्री, गांधी चौक में दुकान के गोडाउन सील, बड़ा मामला लोगो के स्वास्थ्य एवं बच्चो के भविष्य से खिलवाड़

दो गुना भाव बढाये 60 रूपयेे का गुटके का पेकैट 150 रूपये में बैच रहे

मुलताई। मुलताई नगर में स्थित चार पान मसाला व्‍यापारी की दुकानों पर राजस्व विभाग, नापतोल विभाग एवम खाद्य विभाग द्वारा संयुक्त रूप से छापामार की गई। कार्रवाई से पूरे बाजार में हड़कम्प मच गया और कुछ पान मसाला व्यापारियों ने आनन फानन में दुकान से पान मसाला के पाउच एवम कार्टून गायब कर दिए। आश्चर्य इस बात का है कि करवाई से पूर्व एक दुकान से प्रशासनिक टीम के ही सदस्य से दुकानदार ने दोगुना दाम वसूला जिसके बाद कार्रवाई चालू हुई। दुकानों में शैलेश खंडेलवाल, रितेश अग्रवाल ( अक्षित ट्रेडर्स) अतीक चौहान तथा विन्नी पंडोले की दुकानों की जांच की गई। गांधी चौक में अक्षित ट्रेडर्स की दुकान में एक्सपायर डेट की बड़ी मात्रा में खाद्य सामग्री मिली जिससे प्रशासनिक अमला भी भौचक्का रह गया। उक्त दुकान के तीन से चार गोडाउन सील किये गए। पूरे मामले में SDM सी एल चनाप ने बताया कि जिस दुकानों में धांधली मिली है नियमानुसार कार्रवाई की जा रही है।

कलेक्टर, एसपी ने खेड़ीरामोसी एवं प्रभातपट्टन पहुंच कर कोरोना संक्रमण बचाव व्यवस्थाओं का निरीक्षण किया


Multapi Samachar

Betul : कलेक्टर श्री राकेश सिंह एवं पुलिस अधीक्षक श्री डीएस भदौरिया ने बुधवार को प्रभातपट्टन विकासखण्ड के ग्राम खेड़ीरामोसी में घोषित किए गए कंटेन्मेंट एरिया की व्यवस्थाओं का निरीक्षण किया। साथ ही अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिए।कलेक्टर एवं एसपी प्रभातपट्टन में बनाए गए कोविड केयर सेंटर भी पहुंचे, जहां की व्यवस्थाओं के संबंध में अधिकारियों से जानकारी ली। उन्होंने बाहर से आ रहे व्यक्तियों की स्क्रीनिंग व्यवस्था के संबंध में भी अधिकारियों से जानकारियां ली एवं आवश्यक दिशा-निर्देश दिए।

छिन्दवाड़ा नेशनल हाईवे पर खैरवानी मुलताई के पास हुआ भीषण सड़क हादसा


मुलताई –  छिंदवाड़ा नेशनल हाईवे पर ग्राम खैरवानी मुलताई के पास हुआ भीषण सड़क हादसा। सड़क हादसे में वाहन चालक दुनई निवासी कमलेश कौशिक उम्र 30 वर्ष, विमला पति विकास उम्र 28 वर्ष और पुत्री रिया उम्र 5 वर्ष सवार थे। जिसे विपरीत दिशा से आ रही बोलेरो जीप में टक्कर मार दी। दुर्घटना में बाइक सवार युवक, महिला और बालिका घायल हो गई। युवक की हालत गंभीर बताइए जा रही है, घटना रविवार सुबह 10:30 बजे के आसपास की है तीनों घायलों को शासकीय अस्पताल मुलताई में भर्ती कराया गया है। दुर्घटना में कमलेश के सिर में गंभीर चोट आई जबकि विमला का पैर और रिया का हाथ फैक्चर हो गया है। सरकारी अस्पताल में प्राथमिक उपचार करने के बाद कमलेश की हालत गंभीर होने से डॉक्टर ने जिला अस्पताल रेफर किया परन्तु परिजन कमलेश को उपचार के लिए नागपुर के अस्पताल ले गए हैं।

बोलेरो गाड़ी मध्यप्रदेश शासन के कार्यपालन यांत्रिकी विभाग की है। खैरवानी गांव की लोगों ने मौके पर पहुंचकर बोलेरो गाड़ी के पहिए से हवा निकाल दी और प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है कि मध्यप्रदेश शासन की गाड़ी तेज रफ्तार में विपरीत दिशा से आ रही थी। जिससे कारण बाईक सवार से भीषण टक्कर हो गई और वाहन चालक कमलेश कौशिक, विमला और भांजी रिया भी गंभीर रूप से घायल हो गए।

बैतूल से प्रदीप डिगरसे की रिपोर्ट

नवीन हजारे प्रदेश सचिव नियुक्त


नवीन हजारे प्रदेश सचिव नियुक्त

बैतूल – प्रधानमंत्री जन कल्याणकारी योजना प्रचार प्रसार अभियान के तहत नवीन हजारे को युवा मोर्चा इकाई में प्रदेश सचिव के पद पर नियुक्त किया गया है। संगठन के प्रदेश अध्यक्ष मदन मोहन श्रीवास्तव ने राष्ट्रीय अध्यक्ष पुषेश आर्य की अनुशंसा पर नवीन हजारे को प्रदेश सचिव के पद पर नियुक्त किया है। साथी अभियान में प्रचार-प्रसार की जिम्मेदारी के निर्देश भी दिए है। नवीन हजारे को मिली इस जिम्मेदारी पर शुभचिंतकों ने खुशी जताई और बधाई दी है।

प्रदीप डिगरसे मुलतापी समाचार बैतूल

माँ सूर्यपुत्री ताप्ती जागृति समिति के आह्वाण पर पूरे ताप्तीचंल में सुबह – शाम 7 बजे एक साथ हजारो दीपक पुण्य सलिला माँ सूर्यपुत्री ताप्ती के नाम पर जल उठे.


कोरोना सैै‍निकों के प्रति धन्‍यवाद स्‍वरूप एवं ताप्‍ती जी के नाम जलाएं घरों में दीपक

Multapi Samachar

बैतूल, (मध्यप्रदेश). आज माँ सूर्यपुत्री ताप्ती जागृति समिति के आह्वाण पर पूरे ताप्तीचंल में सुबह – शाम 7 बजे एक साथ हजारो दीपक पुण्य सलिला माँ सूर्यपुत्री ताप्ती के नाम पर जल उठे. लोगो ने अपने घरो के पूजा घरो , घर के आंगन में लगे तुलसी के पौधे के नीचे , ताप्ती जी के छायाचित्रो एवं ताप्ती मंदिरो, में अपनी आस्था एवं के दीपक जलाए. यह क्रम माँ सूर्यपुत्री ताप्ती जागृति समिति मध्यप्रदेश की अपील के बाद ताप्तीचंल में बसे बैतूल जिले के दस जनपदो की सभी 556 ग्राम पंचायतो के 1,473 गांवो में रहने वाली तथा बैतूल, मुलताई, चिचोली, आमला, सारनी, भैसदेही, आठनेर, बैतूल बाजार की शहरी जनता के घरो , आंगनो, पूजा स्थलो में देखने को मिली. घर की वयोवद्ध माता से लेकर छोटी बेटियों एवं बहनो ने उक्त दीपक इस सोमवार दिनांक 20 अप्रेल 2020 को प्रात: स्नान – ध्यान कर माँ पुण्य सलिला सूर्यपुत्री ताप्ती के नाम का सुबह 7 बजे एवं शाम 7 बजे जला कर माँ ताप्ती के प्रति आभार व्यक्त करते हुए जलाए. उल्लेखनीय है कि जिले के ताप्ती भक्तो की ऐसी आस्था एवं विश्वास है कि माँ पुण्य सलिला सूर्यपुत्री के तेज एवं तप के कारण बैतूल जिले में ग्रीष्म ऋतु के माह अप्रेल की 20 तारीख के बाद बैतूल जिला पूर्ण रूप में कोरोना नामक महामारी के प्रकोप से मुक्त होकर आरेंज से ग्रीन में आ जाएगा।


माँ सूर्यपुत्री ताप्ती जागृति समिति के प्रदेश अध्यक्ष रामकिशोर पंवार के अनुसार बैतूल जिले ने प्रधानमंत्री के आह्वान पर ताली एवं थाली बजाने के आद 9 मिनट के लिए बिजली का लॉक डाउन करके दीपक जला चुके है. पहली बार जिले की जनता को एक साथ हजारो की संख्या में अपने – अपने घरो एवं आंगन में मोक्ष दायनी, संकट हरिणी, पाप नाशिनी, पुण्य सलिला माँ सूर्यपुत्री ताप्ती जिसके पावन जल का जिले की आधी से ज्यादा आबादी पेयजल के रूप में उपयोग करती है उस आधी आबादी को पूरी आबादी ने माँ ताप्ती का आभार मानते हुए माता रानी के सम्मान में एक दीया जलाया. जननी से बड़ी जन्मभूमि होती है और जननी और जन्मभूमि के आंचल में अमृत रूपी दुध की धारा बहाने वाली माँ सूर्यपुत्री ताप्ती के प्रति हमें सदैव कृतज्ञ रहना चाहिए. श्री पंवार ने विश्वास जताया कि बैतूल जिले की धर्म प्रेमी जनता जिले की सीमा में लगभग 250 किलो मीटर के क्षेत्र में बहने वाली माँ ताप्ती के सम्मान में दीया जलाने के लिए जिले की धर्म प्रेमी जनता का आभार माना.
Ramkishor Pawar

हेल्पलाइन no. को save करे पायें कोरोना सम्बंधित जानकारी 1 click में


माँ ताप्ती ब्रिगेड मुलतापी द्वारा

मुलतापी समाचार

मुलताई। माँ ताप्ती ब्रिगेड मुलतापी द्वारा पूर्व केबिनेट मंत्री सुखदेव पांसे द्वारा कोरोना के प्रति लोगो को जागरूक करने व अफवाहों से बचाने के लिए whatsapp हेल्पलाइन no. 9399051560 जारी किया ।
ब्रिगेड के ओम बावने द्वारा बनाये इस हेल्पलाइन no. को save करने पर Hii भेजने से कोरोना सम्बंधित सारी जानकारी 1 click पर उपलब्ध होगी ।।
जिसमे जिले , प्रदेश व देश के कोरोना मरीजो की संख्या , बचाव के तरीके आसानी से उपलब्ध होंगे ।

सुखदेव पांसे ने कहा कि युवाओं का ये प्रयास अफवाह रोकने में सहायता करेगा और अधिक से अधिक लोग इसका लाभ ले व सुलभता से सारी जानकारी प्राप्त करे ।
इस अवसर पर माँ ताप्ती ब्रिगेड के पवन पाठेकर , ऋषभ पाटनकर , अनीस साहू , सौरभ कड़वे , सोनू धनराज , कुणाल बावने व लोकेश डोंगरे उपलब्ध थे ।।

मुलताई किसान नेता प्रहलाद अग्रवाल का निधन


मुलताई गोलीकांड में हो चुकी है आजीवन कारावास की सजा

मुलतापी समाचार

मुलताई। मुलताई के किसान नेता और डाक्टर सुनीलम के प्रमुख सहयोगी प्रहलाद स्वरूप अग्रवाल का बुधवार की सुबह 11 बजे निधन हो गया। स्व. प्रहलाद अग्रवाल मुलताई गोलीकांड मामले में आजीवन कारावास की सजा भी हो चुकी है। मुलताई गोलीकांड में उन्होंने किसानों की आवाज उठाई थी और आंदोलन को जिंदा रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। किसान संघर्ष समिति के फाउंडर सदस्य रहे प्रहलाद अग्रवाल मुलताई के पूर्व विधायक डॉ. सुनीलम के विश्वासपात्र एवं प्रमुख साथी माने जाते हैं। सुनीलम जब मुलताई आए थे, तब प्रहलाद अग्रवाल ने ही उन्हें आश्रय दिया था एवं उनके भोजन आदि की व्यवस्था भी वह ही करते थे। किसान नेता प्रहलाद अग्रवाल ने किसानों के लिए कई आंदोलनों में हिस्सा लिया। 1998 के बाद जब तक क्षेत्र में सुनीलम पूरी तरह से सक्रिय रहे, पुलिस प्रशासन की सबसे तेज नजर प्रहलाद अग्रवाल पर ही रहती थी। लॉकडाउन के कारण नगर एवं क्षेत्र के अधिकांश लोग उनके अंतिम दर्शन नहीं कर पाए एवं उनकी अंतिम यात्रा में भी शामिल नहीं हो पाए।

किसान संघर्ष समिति ने मुख्य मंत्री शिवराज सिंह चौहान के नाम ज्ञापन प्रेषित कर समस्याओं के निराकरण की अपील की।


किसान संघर्ष समिति क कार्यकारीे अध्यक्ष और मुलताई के पूर्व विधायक डॉ.सुनीलम

किसान संघर्ष समिति मध्य प्रदेश में कोरोना संकट के चलते मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के नाम ज्ञापन पत्र सौंपकर 13 सूत्री मांगों के निराकरण की अपील की है 

श्री शिवराज सिंह चैहान,
मध्य प्रदेश शासन, 
भोपाल 

विषय : किसान संघर्ष समिति का ज्ञापन पत्र 

माननीय मुख्यमंत्री महोदय,

कोरोना संक्रमण को रोकने और देश के नागरिकों के बचाव के  लिये देश और प्रदेश में 21 दिन का  लॉक-डाउन किया गया है।
 परन्तु आप कोरोना वायरस को अंगूठा बताते हुए ,विधायकों की खरीद फरोख्त के जरिये  मुख्यमंत्री बन गये हैं। हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं ।
 आप किसान के बेटे  हैं , इसलिये किसानों की विशेष अपेक्षा आपसे है। किसान संघर्ष समिति की ओर से आपको यह ज्ञापन पत्र इस अपेक्षा से भेजा जा रहा है कि आप किसानों की तकलीफों को दूर करने के लिये तत्काल कदम उठायेंगे। 
जब कांग्रेस की सरकार थी तथा प्रदेश में अतिवृष्टि हुई थी तब आपने घुटने तक पानी में खड़े होकर फसलों का मुआवजा तथा फसल बीमा देने की मांग मुख्यमंत्री कमलनाथ से की थी,  ठीक ही किया  था,जरूरी था । 

 1 आप देख ही रहे हैं कि खड़ी फसल अतिवृष्टि से बर्बाद हो रही  है। ऐसी स्थिति में सभी पीड़ित किसानों को अंतरिम राहत देना जरूरी है ,हर किसान को 10 हज़ार रुपये की अंतरिम राहत राशि प्रदान की जाए।   
 क्राप-कटिंग सर्वे किसानों के परामर्श से किया जाये। क्राप-कटिंग सर्वे की रिपोर्ट  बनने के तुरंत बाद किसान को  (व्हाट्सअप  के माध्यम से) उपलब्ध कराई जाये। फसल बीमा के  क्लेम को प्रोसेस करने वाले कर्मचारी का फोन नंबर संबंधित किसान को मैसेज के जरिये उपलब्ध कराया जाये। आप यह सुनिश्चित करें कि एक माह के भीतर किसान को फसल बीमा कंपनी द्वारा मुआबजा  राशि किसान के खाते में डाल दिया जाये। जिन किसानों ने कोओपरेटिव या अन्य बैंकों से कर्जा लिया था उनकी बीमा राशि तो कटी है लेकिन बड़ी संख्या में ऐसे किसान हैं जिनका फसल बीमा नहीं हैं। ऐसे किसानों को भी फसल खराब होने के कारण एक मुश्त मुआबजा  राशि प्रदान की जानी चाहिये। 

 2. कांग्रेस सरकार ने किसानो के दो लाख रुपये तक के कर्जे माफ करने को लेकर सरकार बनाई थी। लेकिन एक भी किसान का दो लाख रुपये का कर्जा माफ नहीं हुआ। हमारी जानकारी में पचास हजार रुपये तक के कर्जे माफ किये गये। कर्जा माफी न होने के कारण किसान डिफाल्टर घोषित कर दिये गये हैं। आपकी सरकार को किसानों का कर्जा माफ कर उन्हें नये कर्जे लेने की सुविधा तुरंत उपलब्ध करानी चाहिये। यदि आप यह नहीं करना चाहते (क्योंकि आपको ऐसा लगता है कि आपकी सरकार अब बन ही गई है) फिर भी कम से कम किसानों से कर्जा वसूली तथा ब्याज एक साल के लिये स्थगित कर दिया जाना चाहिये।

3.आपने घोषणा की है कि किसानों से गेहूं की खरीद 2000 रुपये प्रति क्विंटल की जायेगी तथा 100 रुपये बोनस दिया जायेगा। जिन किसानों ने जल्दी बोनी की थी उनका गेहूं आ गया है। मंडी कोरोना संक्रमण के चलते बंद है। व्यापारियों द्वारा गांव-गांव में 1500 रुपये क्विंटल तक खरीद की जा रही है। यह जरूरी है कि प्रदेश की सभी कृषि मंडियों स्वाथ्य संबंधी समुचित व्यवस्था  बनाकर जल्द से जल्द खोली जायें। टोकन देकर किसानों को बुलाया जा सकता है। मंडियां 24 घंटे काम कर सकती हैं। ट्रैक्टर के साथ ट्रैक्टर चालक और  किसान परिवार के दो व्यक्तियों को अनुमति दी जा सकती है। उन्हें व्हट्सऐप पर पास जारी किये जा सकते हैं। किसानों और उन्हें लाने वाले वाहनों को भी पास जारी किये जायें। 

4 सरकार को पंचायत स्तर पर अनाज खरीदने तथा जन वितरण प्रणाली के माध्यम से राशन गांव में ही उपलब्ध कराने की व्यवस्था इस विपदा काल में बनानी चाहिये। जैसा तेलगांना और कर्नाटक में किया जा रहा है।

5 जिन व्यापारियों द्वारा गांव में 2100 रुपये क्विंटल से कम पर खरीद की जा रही है उनपर तत्काल एफआईआर दर्ज की जानी चाहिये। संकट के समय में किसानों की लूट को रोकना सरकार की विशेष जिम्मेदारी है। 

6 आप जानते ही हैं कि किसानों की फसल पक चुकी है तथा तुरंत काटने का काम शुरू किया जाना जरूरी है। आपके इलाके में हारवेस्टर से कटनी कराई जाती है लेकिन प्रदेश के अधिकतर( 80%)  छोटे और मझोले किसान, 1 हेक्टेयर से छोटी जोत के कारण तथा चारे की जरूरत को पूरा करने के लिये खेतिहर मजदूरों से कटाई कराते हैं। कटनी के लिये मजदूर प्रदेश के आठ-दस जिलों से प्रदेश भर में जाते हैं। लॉक-डाउन होने के कारण मजदूरों का खेतों तक पहुंच पाना संभव नहीं हो पा रहा है। इसलिये यह जरूरी है कि गांव में मनरेगा में काम करने वाले मजदूरों को इस काम में लगाया जाये। सरकार द्वारा मनरेगा के अंतर्गत कटाई का कार्य कराया जाना चाहिये इससे मजदूरों को भी काम मिलेगा तथा किसानों की समस्या का हल भी होगा। विश्व स्वास्थ्य संगठन के मानकों के मुताबिक एक मीटर की जगह दो मीटर की दूरी भी यदि तय कर दी जाये तब भी कटनी का कार्य सुचारू रूप से किया जा सकता है। यदि आपकी सरकार हारवेस्टर की उपलब्धता सुनिश्चित करे तब भी किसानों को तत्काल राहत मिल सकती है। असल में स्थिति यह है कि सरकार किसानों को मदद करने को तैयार भी नहीं है तथा किसान जो कुछ खुद करना चाहता है ,कर सकता है,करता रहा है, सरकार उसको भी नहीं करने दे रही है।

7आप जानते ही हैं कि हर किसान परिवार हाथ खर्चे के लिये खेत में पैदा हुई सब्जी तथा दूध बिक्री पर निर्भर है। पूरे प्रदेश में हाट बाजार बंद कर दिये गये हैं। हाट बाजारों को तत्काल शुरू किया जाना आवश्यक है। किसान हाट बाजार में वैसे भी एक-दो बोरी सब्जी लेकर जाता है तथा एक मीटर से अधिक दूरी पर बैठता है। सब्जी लेने वालों की दूरी बनी रहे इसका प्रबंध स्थानीय पंचायत( स्थानीय निकायों ) द्वारा किया जा सकता है। यदि सरकार हाट बाजार अभी चालू नहीं करना चाहती तो उसे खेतों से सब्जी की खरीद, बाजार दामों पर सुनिश्चित करनी चाहिये। यह काम पंचायतों के माध्यम से भी किया जा सकता है। पंचायतें ट्रैक्टर-ट्राली से सब्जियां गांव से शहर में पहुंचा सकती हैं। उससे सब्जी तोड़ने वालों , सब्जी ट्रोली में भरने वालों को, ट्रैक्टर वालों को सभी को काम मिलेगा तथा शहरों में बिना हाट बाजार के मोहल्लों में सब्जियां उपलब्ध कराई जा सकती हैं। 

8. आपकी जानकारी में आया होगा कि खपत के अभाव में सभी प्राइवेट दूध डेयरियां बंद हैं। जिसके चलते मुलतापी जैसे इलाकों में जहां किसान कहीं हद तक दूध की बिक्री पर आर्थिक तौर पर निर्भर हैं वो बड़े संकट में फंस गया है। प्राइवेट डेयरी चालू रखने के लिये उचित निर्देश आवश्यक हैं। सार्वजनिक वितरण प्रणाली में दूध, दही,घी  और पनीर का वितरण भी किया जा सकता है। यह गांव के स्तर पर ही संभव है। कोरोना संक्रमण से बचने के लिए पोष्टिक भोजन आवश्यक है।

9 आपको भी यह सूचना मिल रही होगी कि शहरों में दूध और सब्जी लेकर जाने वाले किसानों को पुलिस द्वारा प्रताड़ित किया जा रहा है इसके लिए जरूरी है कि शहर आने वाले किसानों को पास वितरित करने का अधिकार पंचायतों को दिया जाये, इसकी निगरानी प्रशासनिक अधिकारियों द्वारा की जाये। गृह मंत्रालय सभी प्रशासनिक एवं पुलिस अधिकारियों को इस संबंध में आवश्यक निर्देश जारी करे। दूध, सब्जी , फल और अनाज को अति आवश्यक वस्तुओं में शामिल किया जाना चाहिये। 

10  किसानों को सभी अन्न दाता के रूप में स्वीकारते हैं परन्तु यदि लॉक-डाउन लंबा चलता है तो किसानों के सामने भी खाद्य सुरक्षा का संकट पैदा हो जायेगा। ऐसी स्थिति में किसानों को राशन उपलब्ध कराने की जरूरत पड़ेगी। कम से कम गैस, बिजली, खाने का तेल और शक्कर की उपलब्धता किसानों के लिये भी कम से कम तीन माह के लिये निःशुल्क  की जानी चाहिये। किसानों के लिये पी एम किसान योजना के तहत 2000 रुपये की घोषणा गत लोकसभा चुनाव के  पहले प्रधानमंत्री द्वारा की गई थी। एक लाख पिचहतर हज़ार करोड़   का जो पैकेज प्रधानमंत्री ने घोषित किया है ,उसमें किसानों को  2000 रुपये की राशि देने की बात दोहराई है। किसानों के लिए अलग से कोई राहत पैकेज नहीं दिया गया है । कम से कम यह तो हो ही सकता  था कि हर वर्ष किसानों को दी जाने वाली 6000 रुपये की सालाना राशि एक मुश्त किसानों के खाते में अप्रैल के प्रथम सप्ताह तक ट्रांसफर कर दी जाती। आपसे अनुरोध है कि मध्यप्रदेश सरकार की ओर से 6000 रुपये की राशि हर किसान को  शीघ्र उपलब्ध कराने का प्रस्ताव केंद्र सरकार को भेजें । केन्द्र सरकार से आपके रिश्तों को देखते हुये यह भी अपेक्षा की जाती है कि आप मध्यप्रेदश के लिये केन्द्र सरकार से 50,000 करोड़ का  विशेष पैकेज  ला पायेंगे।गत 6 वर्षों में आपकी पार्टी की केंद्र सरकार 14 लाख करोड़ की माफी कॉर्पोरेट को दे सकती है तो मध्यप्रदेश को 50 हज़ार करोड़ क्यों नहीं दे सकती।

11. किसान संघर्ष समिति मानती है कि यदि मोदी सरकार ने चीन से शुरू हुई महामारी को गंभीरता से लिया होता तो जनवरी से लेकर अब तक विदेश से आने वाले सभी यात्रियों को क्वारनटाइन  में भेजकर तथा आवश्यकता पड़ने पर इलाज कर देश और प्रदेश को इस आपदा से बचाया जा सकता था। आपराधिक लापरवाही के बाद अब अचानक लॉक-डाउन किये जाने से गांव से शहरों में रोजगार के लिये गये गरीब, मजदूर, महिला और बच्चे सबसे ज्यादा परेशान हुये हैं। उन्हें शहर छोड़कर बिना किसी व्यवस्था के गांव में आने को मजबूर होना पड़ा है। शहर की बीमारी गांव तक पहुंचा दी गई है। हम मानते हैं कि शारीरिक दूरी बनाये रखना जरूरी है लेकिन कुछ विदेशी यात्रियों की वजह से पूरे देश को परेशान करना उचित नहीं माना जा सकता। 

12. मुलतापी, बैतूल और मध्य प्रदेश में डॉक्टरों, नर्सों ,पैरामेडिकल स्टाफ,कोरोना टैस्टिंग किट, वैंटीलेटर, अस्पताल में बिस्तरों का अभाव है।आपको ग्रामीण इलाकों पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। हम जानते  हैं कि सरकारें इसे दूर करने की कोशिश कर रही है परन्तु यह जरूरी है कि वर्तमान स्थिति की गंभीरता को समझते हुये स्वास्थ्य सेवाओं को चुस्त-दुरस्त करने को सरकार प्राथमिकता दे, इसके लिए स्वास्थ्य बजट को कई गुणा बढ़ाया जाना जरूरी है। तत्काल प्रदेश में स्वास्थ्य विभाग को अधिकतम राशि उपलब्ध करायी जानी चाहिए ।

13. वर्तमान विपदा से हम सब मिलकर निपटेंगे लेकिन वर्तमान स्थिति से भविष्य के लिये सबक भी लेंगे। ताकि हमारा प्रदेश स्वास्थ्य , सुखी और  समृद्ध  होकर  आगे बढ़ सके । 

डॉ. सुनीलम 
कार्यकारी अध्यक्ष
किसान संघर्ष समिति
संलग्न -जनांदोलनों का राष्ट्रीय समन्वय -भूमि अधिकार आंदोलन- अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति

बच्चों के भविष्य के साथ खिलवाड़


अंधेरे में पड़ने को मजबूर बच्चे।

मुलताई – जहाँ एक ओर मध्यप्रदेश शिक्षा विभाग द्वारा बोर्ड कक्षा में पढने वाले बच्चों की परीक्षा ले रहा है, वही दूसरी ओर बिजली विभाग आँख-मिचौली खेलने में व्यस्त होकर परीक्षार्थियों के भविष्य के साथ खिलवाड़ करने में कोई कसर नही रख रहा है।

गांव के बच्‍चे अंधेरे में पढने को मजबूर है बाेर्ड परीक्षा चल रही है ब‍िजली विभाग द्वारा लापरवाही बरती जा रही है।

मामला बैतूल जिलें की मुलताई तहसील के आसपास के गांवों का है जहाँ 12 मार्च कल कक्षा दसवीं के गणित विषय का पेपर होना है वही 11 मार्च की रात में बच्चों के साथ बिजली आँख-मिचौली का खेल खेल रही है और करीब एक से देढ़ घंटे तक लगातार बिजली बंद रही। बिजली का बार बार आना जाना बच्चों की पढ़ाई में बाधा उत्पन्न कर रहा है। और बच्चों को अपनी पढ़ाई दिये, मोमबत्ती, टार्च में करनी पड़ रही है। जिससे बच्चों को पढ़ाई करने में भी बहुत तकलीफों का सामना करना पड़ता है।

मुलतापी समाचार बैतूल

फांसी के फंदे पर झूली सैनिक की पत्नी


मायके पक्ष ने लगाये हत्या के आरोप और उच्च स्तरीय जांच की मांग

मुलतापी समाचार – मुलताई तहसील के मोही गांव में महिला दिवस के एक दिन पूर्व शनिवार को एक महिला अपने ही घर के बेडरूम में फांसी के फंदे पर लटकी मिली । महिला के परिजनों ने प्रताड़ित करने वाले पति पर हत्या का आरोप लगाया है । साथ ही इस संबंध में उच्च स्तरीय जांच की मांग की है । महिला ग्राम धारनी की निवासी थी जिसका विवाह 4 साल पहले आर्मी में पदस्थ मोही के विजय प्रकाश सिसोदिया के साथ हुआ था । जिनका 1 साल का पुत्र भी है। मृतिका दीपिका ने अपनी मां को फोन करके बताया था कि उसका पति उसे मारने की धमकी दे रहा है और तलवार से काट दूंगा, कुएं में फेंक दूंगा जैसी धमकी दे रहा है । उसके बाद सुबह दीपिका फांसी के फंदे पर लटकी पाई गई । इस संबंध में मायके पक्ष में थाने में भी आवेदन दिया है, और उच्च स्तरीय जांच की मांग की है । टीआई मनोज सिंह ने बताया है कि परिजनों के बयान दर्ज कर आगे कार्रवाई की जाएगी।