Tag Archives: रायपुर

अजीत जोगी के निधन से दमोह जिले में शोक की लहर, दमोह उनकी ससुराल थी


मुलतापी समाचार मनोज कुमार अग्रवाल

दमोह: छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी के निधन से दमोह जिले में शोक की लहर है। दमोह में अजीत जोगी की ससुराल है, और उनके साले स्वर्गीय श्री रत्नेश सालोमन दिग्विजय सरकार में मंत्री रहे हैं तो उनके भतीजे और भतीजी की आज भी इलाके में मजबूत पकड़ है। दमोह जिले के जबेरा से विधानसभा की प्रत्याशी रही तान्या सालोमन ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि परिवार ने अपना मुखिया खो दिया है वही उनके भतीजे आदित्य सालोमन ने कहा कि उनकी कमी को कभी पूरा नहीं किया जा सकता।वह सदा एक उदारवादी नेता थे और गरीबों के मसीहा थे।

मुलतापी समाचार

अभिषेक पारधी की JEE Mains में देश में 67वीं रैंक , छत्तीसगढ़ में प्रथम


IISC बंगलोर द्वारा आयोजित किशोर वैज्ञानिक प्रोत्साहन योजना परीक्षा 2019 उत्तीर्ण

होमी जहागीर भाभा संस्थान मुम्बई द्वारा आयोजित ओलंपियाड परीक्षा 2019 उत्तीर्ण, IIT genius में all india में 7 वी रैंक

मुलतापी समाचार न्यूज़ नेटवर्क


दुर्ग। अभिषेक पारधी की उपलब्धियों को देखकर कोई भी दांतों तले उंगली दबाए बिना नहीं रह सकता।

पिता जयसिंह पारधी एवं माता विमलेश पारधी के सुपुत्र अभिषेक पारधी मूलतः वारासिवनी जिला बालाघाट म प्र निवासी हैं। वर्तमान में आप न्यू आदर्श नगर दुर्ग में निवासरत हैं।

अभिषेक पारधी ने NTA द्वारा आयोजित JEE Mains 2020 में 99.9923468 परसेंटाइल के साथ all india में 67 रैंक वीं के साथ छत्तीसगढ़ में प्रथम स्थान प्राप्त किया है।

अभिषेक पारधी कक्षा 12 वीं में अध्ययनरत है और IISC बंगलोर द्वारा आयोजित किशोर वैज्ञानिक प्रोत्साहन योजना परीक्षा 2019 उत्तीर्ण किया है। साथ ही होमी जहागीर भाभा संस्थान मुम्बई द्वारा आयोजित रसायन शास्त्र एवं भौतिकी शास्त्र की ओलंपियाड परीक्षा 2019 भी उत्तीर्ण कर लिया है।

अपनी इसी प्रतिभा के कारण अभिषेक पारधी को कोटा की एक ख्यातनाम कोचिंग द्वारा निशुल्क कोचिंग प्रदान की जा रही है।

आपने प्राइवेट कोचिंग संस्थान से भिलाई में अध्ययनरत रहते हुए IIT genius में all india में 7 वी रैंक हासिल की है।आप कक्षा 10 वी में MGM स्कूल से मेरिट में उत्तीर्ण हुये थे। आपके पिता जयसिंह पारधी डाक विभाग में सहायक अधिक्षक के पद पर कार्यरत है।

तीन साल से सौतेला पिता करता रहा था दुष्कर्म, मां की थी मौन स्वीकृति


रायपुर। मुलतापी समाचार

दस वर्षीय नाबालिग बच्ची तीन साल लगातार सौतेले पिता के दुष्कर्म का शिकार होती रही।

दस वर्षीय पीड़िता ने कोर्ट में दिए गए बयान में बताया कि उसके जैविक पिता की मृत्यु 2016 में हुई थी। पिता की मौत के कुछ दिन बाद ही मां ने आरोपित से दूसरी शादी कर ली। मां एक स्कूल में काम करती थी जबकि सौतेला पिता माना कैंप के ही एक होटल में काम करता था। वर्ष 2018 से सौतेला पिता लगातार दैहिक शोषण करता आ रहा था। इसकी जानकारी उसकी मां को भी थी। सौतेले पिता के दरिंदगी से परेशान बच्ची ने इसका विरोध करते हुए घर में रहने से जब इंकार कर दिया तो मां ने उसे बाल संप्रेक्षण गृह में सौंप दिया। जहां बाल संप्रेक्षण गृह की अधीक्षिका रत्ना दुबे ने बच्ची के गुमसुम रहने पर उससे बात की तो बच्ची ने उन्हें आपबीती सुनाई। जिसके बाद रत्ना दुबे ने 9 मई 2019 को पंडरी थाना में इसकी रिपोर्ट दर्ज कराई थी। कोर्ट ने आरोपित पिता को अलग-अलग धाराओं में 20, 10 और 10 साल के साथ 50, 10 और 10 हजार के अर्थदंड और मां को 20 और 3 माह की सजा के साथ 50 हजार रुपये के अर्थदंड की सजा से दंड़ित किया।

यह सब जानते हुए भी उसकी मां ने चुप्पी साध ली थी। उसने कभी भी पति को ऐसा करने से नहीं रोका। बाल संप्रेक्षण गृह में पहुंची बच्ची ने जब अपनी आपबीती बताई तब दुष्कर्म मामले का खुलासा हुआ। आठ महीने पहले थाने में केस दर्ज होने के बाद प्रकरण की सुनवाई कोर्ट में चलती रही। फास्ट ट्रैक कोर्ट ने गुरुवार को इस प्रकरण की सुनवाई कर आरोपित सौतेले पिता के साथ ही मां को भी दोषी ठहराया है। न्यायालय ने दोनों को 20-20 साल की सजा सुनाई। यहीं नहीं न्यायालय ने आरोपित पिता के उपर 70 हजार और मां के उपर 50 हजार रुपये का जुर्माना भी लगाया है।

मुलतापी समाचार न्‍युज नेटवर्क

सुखदेव पाँसे ने दुर्ग में प्रेस वार्ता को संबोधित कर जानकारी दी।


मध्यप्रदेश के कैबिनेट मंत्री मा. श्री सुखदेव पाँसेजी ने दुर्ग में प्रेस वार्ता को संबोधित कर प्रदेश में कमलनाथ सरकार के द्वारा किये जा रहे कार्यो की जानकारी दी।
भाजपा ने देश को दिया बेरोजगारी का तोहफा
भिलाई प्रवास के दौरान बृजमोहन के नेतृत्व में भव्य स्वागत


भिलाईनगर। मध्यप्रदेश सरकार के पीएचर्ई मंत्री श्री सुखदेव पांसेजी ने कहा कि, भारतीय जनता पार्टी के 5 वर्षीय शासनकाल ने देश को 50 वर्षों के सबसे अधिक बेरोजगारी का तोहफा दिया है। कांँग्रेस पार्टी का इतिहास बलिदान, त्याग, तपस्या कर रहा है दूसरी ओर भाजपा का शासन काल केवल छल और कपट का रहा है। भाजपा ने जनता को केवल धोखा दिया है पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के कार्यकाल में देश की अर्थव्यवस्था विश्व की सबसे अच्छी अर्थव्यवस्था थी। निजी प्रवास पर भिलाई पहुँचे मंत्री श्री सुखदेव पांसेजी पत्रकारों से चर्चा कर रहे थे। उन्होंने कहा कि, मध्यप्रदेश व छत्तीसगढ़ की सीमा रेखाएं भले ही अलग हो गई हों लेकिन रिश्ते वही पुराने हैं। यूथ कांग्रेस के समय एमपी व सीजी एक हुआ करते थे और उस समय यहांँ के युवा नेताओं से गहरी मित्रता थी जो आज भी है। काँंग्रेस पार्टी ने सदैव से ही जनता की सेवा की है और जनता को अधिकार भी काँंग्रेस ने ही दिए हैं चाहे वह सूचना का अधिकार हो शिक्षा का अधिकार हो या फिर पंचवर्षीय योजनाएं केवल कांँग्रेसी जनता के लिए लोक कल्याणकारी कार्य करते आ रही है।
मध्यप्रदेश के केबिनेट मंत्री मा. सुखदेव पांसेजी ने कहा देश में काँंग्रेस पार्टी ऐसी पार्टी है जिसने लोगों को अधिकार दिया। मोदी सरकार को घेरते हुए उन्होंने कहा कि, केन्द्र सरकार हर मोर्चे पर विफल है और अपनी विफलताओं को छिपाने व जनता का ध्यान भटकाने के लिए दूसरे पैंतरे आजमाती है। मंत्री सुखदेव ने चुटकी लेते हुए कहा कि, मध्यप्रदेश भाजपा के शासनकाल में चार साल सूखा रहा वहीं कमलनाथ की सरकार बनने के बाद ऐसी बारिश हुई कि पिछले कई वर्षों का रिकार्ड टूट गया। उन्होंने कहा कि, मध्यप्रदेश व छत्तीसगढ़ में एक साथ कांँग्रेस की सरकार बनी और दोनों राज्यों में सरकार जनता के हित में कार्य कर हैं। काँंग्रेस पार्टी ने जनता के हित को देखते हुए किसानों का कर्ज माफ किया। वहीं एक साल के भीतर दोनों राज्यों में ऐसी कई योजनाओं पर काम हुआ जो लोगों के हित में रहे।
इसके ठीक विपरीत उन्होंने कहा कि, मध्यप्रदेश में मुख्यमंत्री कमलनाथ की सरकार जनता को पानी का अधिकार देने जा रही है प्रदेश की भुपेश बघेल सरकार ने भी धान के लिए सर्वाधिक समर्थन मूल्य दिया है साथ ही बिजली के बिल को आधा किया है।
भिलाई प्रवास पर आये पीएचई मंत्री मा. सुखदेव पांसेजी का संक्षिप्त व गरिमामय समारोह में काँग्रेस के नेताओं ने फूलमालाओं से भव्य स्वागत किया। इस अवसर पर वरिष्ठ काँग्रेसी नेता जितेन्द्र साहू व जिला काँग्रेस कमेटी के अध्यक्ष तुलसी साहू ने संबोधित करते हुए सुखदेव पाँसेजी का स्वागत करते हुए छ.ग. शासन के एक वर्ष के कार्यकाल की उपलब्धि बतायी। इस मौके पर पूर्व साडा उपाध्यक्ष बृजमोहन सिंह, वशिष्ठ नारायण मिश्रा, अमित जैन, केशव चौबे, संजीत चक्रवर्ती, अमीर अहमद, अशोक गुप्ता, दिनेश पाठक, दीपक भाटिया, निरंजन मिश्रा, महेश जायसवाल, चन्द्रशेखर गवई, पंकज गौर, निरंजल दलई, उमेश सिंह, चवनराम साहू, राधेकांत मिश्रा, साकेत कुशवाहा, प्रदीप महाजन सहित सैंकड़ों काँग्रेसियों ने भव्य स्वागत किया। स्वागत समारोह का संचालन संजीत चक्रवर्ती ने किया।

Manmohan Pawar (Sampadak) Khabr News send kare WhatsApp no.- 9753903839

आदिवासी महोत्सव में बिक रहे बस्तर के मशहूर व्यंजन


रायपुर। स्वादिष्ट व्यंजनों की खुशबू लोगों को दूर से ही खींच लाती है। यही नजारा राजधानी में आयोजित राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव में देखने को मिल रहा है। बस्तर चो गॅवली रांधा-बाड़ा में बस्तर के पारंपरिक व्यंजन राजधानीवासियों को अपनी ओर खींच रहे हैं। जय मां काली महिला स्व-सहायता समूह तीरथगढ़ बस्तर की महिलाएं उड़ीद बोबो, गुर

स्वादिष्ट व्यंजनों की खुशबू लोगों को दूर से ही खींच लाती है। यही नजारा राजधानी में आयोजित राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव में देखने को मिल रहा है। बस्तर चो गॅवली रांधा-बाड़ा में बस्तर के पारंपरिक व्यंजन राजधानीवासियों को अपनी ओर खींच रहे हैं।

जय मां काली महिला स्व-सहायता समूह तीरथगढ़ बस्तर की महिलाएं उड़ीद बोबो, गुर बोबो, दार बोबो, गुलगुलिया, भजिया, टमाटर चटनी (माडबांगा), केऊकांदा चटनी, जोंदरा पेज (मक्का), मंडिया पेज, चापड़ा आमट, चापड़ा चटनी, भेंडा (जिर्रा) सुक्सी, सोरंदाकांदा, तरगगरिया कांदा, लांदा, कोचे पिकी (कोचई), कोदो भात, चिकमा भात आदि व्यंजन परोस रही हैं। इनकी खास चटनी लोगों के शरीर में गर्माहट पैदा कर रही है। उड़ीद बोबो में उड़द दाल के बड़े गुलगुलिया भजिया का स्वाद ले रहे हैं।

केऊकांदा की चटनी

बस्तर की पारंपरिक चटनी में केऊकांदा, चापड़ा आमट, चापड़ा चटनी, टमाटर चटनी शामिल हैं। इनमें खास है केऊकांदा की चटनी। केऊकांदा जंगलों में पेड़ के नीचे पाया जाता है। इसे खोद कर निकाला जाता है। फिर पानी में उबाला जाता है। इसके बाद हल्का मिर्च, नमक के साथ चटनी परोसी जाती है। चापड़ा आमट चटनी लाल चींटी से बनाई जाती है। इस चटनी के स्वाद के लोग दीवाने हो रहे हैं।

जोंदरा और मंडिया पेज

बस्तर के आदिवासियों का प्रिय जोंदरा और मंडिया पेज शहरवासियों को अपनी ओर खींच रहा है। जोंदरा पेज मक्का के बीज का बनाया जाता है। इसे हल्की शक्कर, दूध के साथ पकाया जाता है। वहीं मंडिया चावल की एक प्रजाति है। इसे भी जोंदरा पेज की तरह पकाया जाता है।

Manmohan Pawar (Sampadak) Khabr News send kare WhatsApp no.- 9753903839