Tag Archives: लाक डॉउन

COVID-19, तीन मई के बाद भी स्कूल, मॉल, पब्लिक ट्रांसपोर्ट बंद रह सकते हैं, अगले हफ्ते होगा फैसला


इस कदम का संकेत सोमवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) और सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों (CMs) की तीन घंटे तक चली बैठक में भी मिला.

नई दिल्ली. कोरोना वायरस (Coronavirus) के संक्रमण (Infection) को फैलने से रोकने के लिए तीन मई तक लागू लॉकडाउन (Lockdown) के बाद भी शिक्षण संस्थान, शॉपिंग मॉल, धार्मिक स्थल और सार्वजनिक परिवहन (Public Transport) के बंद रहने की संभावना है. यह जानकारी अधिकारियों ने दी.

इसका संकेत सोमवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) और सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों (CMs) की तीन घंटे तक चली बैठक में भी मिला.

कुछ स्थानों के लिए शुरू की जा सकती है सीमित रेल और हवाई सेवा
घटनाक्रमों की जानकारी रखने वाले अधिकारी ने बताया कि ग्रीन जोन (Green zone) के जिलों में सीमित संख्या में निजी वाहनों की आवाजाही की अनुमति दी जा सकती है लेकिन रेलगाड़ियों और हवाई सेवाओं की बहाली की हाल फिलहाल कोई संभावना नहीं है.

उन्होंने बताया कि इस बात की संभावना है कि मई के मध्य में कुछ स्थानों के लिए सीमित आधार पर रेल और हवाई सेवा (Rail and Air Services) शुरू की जा सकती है लेकिन यह कोविड-19 के हालात पर निर्भर करेगा.

लॉकडाउन पर आखिरी फैसला सप्ताहांत में लिया जाएगा
अधिकारी ने बताया कि स्कूल (School), कॉलेज, शॉपिंग मॉल, धार्मिक स्थल और सार्वजनिक परिवहन पर रोक आगे भी जारी रहने की संभावना है. तीन मई के बाद भी सार्वजनिक और सामाजिक कार्यक्रम में लोगों के एकत्र होने पर रोक जारी रहेगी.

कोरोना वायरस की महमारी (Pandemic) के खिलाफ रणनीति बनाने के लिए सोमवार को हुई बैठक के बाद अधिकारी ने बताया कि लॉकडाउन पर अंतिम फैसला इस सप्ताहांत लिया जाएगा.

उल्लेखनीय है कि प्रधानमंत्री के साथ वीडियो कांफ्रेंसिंग (Video Conferencing) के जरिये मुख्यमंत्रियों की बैठक में अपनी बात रखने वाले नौ मुख्यमंत्रियों में से पांच ने मजबूती के साथ तीन मई के बाद भी लॉकडाउन बढ़ाने का समर्थन किया जबकि कुछ ने कोविड-19 मुक्त जिलों में एहतियात के साथ ढील देने की वकालत की.

ग्रीन जोन में वे जिले, जहां से पिछले 28 दिनों में नहीं आया कोई मामला
ओडिशा (Odisha), गोवा, मेघालय और कुछ अन्य राज्य लॉकडाउन को कुछ और हफ्ते बढ़ाने के पक्ष में थे जबकि कुछ राज्यों ने ग्रीन जोन के रूप में चिह्नित जिलों में छूट देने की सलाह दी. ग्रीन जोन में उन जिलों को रखा गया है जहां पर गत 28 दिनों से कोई मामला सामने नहीं आया हैं

हालांकि सभी मुख्यमंत्री (Chief Minister) इस पर सहमत थे की लॉकडाउन से बाहर निकलने की प्रक्रिया क्रमबद्ध और सभी एहतियाती उपायों के साथ होनी चाहिए.

एक अन्य अधिकारी ने बताया कि प्रधानमंत्री ने बताया कि शुरुआत में ही लॉकडाउन (Lockdown) घोषित करने से हजारों जिंदगियां बची है लेकिन भारत पर कोविड-19 का खतरा बना हुआ है. हालांकि सभी इस बात पर सहमत थे कि निरंतर सतर्कता बनाए रखने की जरूरत है.

अक्षय तृतीया पर भी नहीं हो पाएंंगी शादीयांं


न तो शहनाई गूंजेगी और नहीं निकाह कबूल होंगे

अप्रैल माह के बाद जून के अंतिम सप्ताह में ही विवाह के मुहूर्त

जून में भी समारोह होने की संभावना नहीं

मुलतापी समाचार

बैतूल। हर साल की तरह इस साल भी अक्षय तृतीया के शुभ मुहुर्त पर सैकड़ों जोड़े परिणय सूत्र में बंधते हैं, लेकिन इस बार न तो शहनाई गूंजेगी और नहीं निकाह कबूल होंगे। लॉकडाउन के दूसरे चरण के कारण अप्रैल माह में शादी की तैयारियां कर चुके परिवार भी मायूस हैं और अब तो अक्षय तृतीया पर भी कोई उम्मीद बाकी नहीं रह गई है। अप्रैल माह के बाद सीधे जून के अंतिम सप्ताह में ही विवाह के मुहूर्त हैं और लॉकडाउन बढ़ गया तो फिर जून में भी समारोह होने की संभावना नहीं है। यही हाल रहे तो कोरोना के चलते विवाह के लिए अब करीब आठ माह का इंतजार करना पड़ सकता है।

अक्षय तृतीया पर करीब एक सैकड़ा शादियां होना तय थी, लेकिन अब विवाह के लिए एसडीएम की अनुमति अनिवार्य कर दी गई है। कई लोग तो अनुमति की झंझट में ही नहीं पड़ना चाहते इसलिए शादी आगे के लिए टाल दी। वहीं कुछ लोगों ने आवेदन एसडीएम को दिए लेकिन अनुमति नहीं मिलने से शादी टालनी पड़ी।

इस संबंध में एसडीएम आरआर पांडे ने बताया कि शादियों के लिए अनुमति नहीं दी जा रही है। लोग अनुमति मांगने के लिए आ रहे जिन्हें समझाकर लौटा दिया जाता है। इस समय प्रशासन कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए पूरी तरह अलर्ट है।

Betul पुलिस अफसर लोगों की फूल,मला से उतार रहे आरती


पहले दिखाई पुलिस ने सख्ती और अब दे रही है समझाइश

बैतूल। लॉकडाउन का उल्लंघन करने वालों को फूल भेंट कर आरती उतारती पुलिस। फोटो- नवदुनिया

बैतूल । लॉकडाउन का उल्लंघन करने वालों पर पहले सख्ती दिखा चुकी पुलिस अब उन्हें फूल बांटकर समझाइश दे रही है। ऐसा करके पुलिस खुद ही सुरक्षित शारीरिक दूरी के मापदंड को ताक पर रखकर लोगों के बिल्कुल करीब जा रही है और एक बड़ा खतरा उठा रही है। जागरूक लोगों का कहना है कि अब समय है जब पुलिस को सख्त रवैया अपनाना चाहिए, लेकिन अब वह समझाइश जैसे कदम उठा रही है।

एसडीओपी विजय पुंज के नेतृत्व में गुरूवार को गंज और कोतवाली पुलिस सड़क पर उतरी और गांधीगिरी दिखाते हुए लॉकडाउन का पालन नहीं करने वाले वाहन चालकों को गुलाब के फूल देकर उनकी आरती उतारी। इसके साथ ही उन्हें समझाइश दी कि अब तो मान जाओ और लॉकडाउन का उल्लंघन न करो।

कोतवाली थाना प्रभारी राजेन्द्र धुर्वे ने बताया कि गुरूवार को जो भी व्यक्ति लॉकडाउन का नियम तोड़ते हुए वाहनों से घर के बाहर निकले थे, उन्हें फूल देकर उनका तिलक किया और आरती उतारी। उन्हें समझाया कि इस तरह से लॉकडाउन के नियम नहीं तोड़ें। आप अपनी जान जोखिम में डालकर बाहर निकल रहे हैं और दूसरों को भी खतरे में डाल रहे हैं। इधर लोगों का कहना है कि ऐसे करते हुए पुलिस खुद ही लोगों के बिल्कुल करीब आ रही है। इससे सुरक्षित शारीरिक दूरी के मापदंड का भी उल्लंघन हो रहा है। ऐसा करके पुलिस खुद ही बड़ा खतरा मोल ले रही है। लोगों का यह भी कहना है कि पुलिस ने पहले तो सख्ती दिखा दी और मामले भी दर्ज किए। अब जब पुलिस कार्रवाई का डर लोगों में बैठ रहा है तो पुलिस ने इसी तरह सख्त रहने की बजाय फूल देने और समझाइश देने का नर्म रवैया अपना लिया। इससे लोगों का डर पूरी तरह से खत्म हो जाएगा।

कोरोना के नोडल अधिकारी डॉ. सौरभ राठौर का कहना है कि कोरोना के संक्रमण से बचने का मुख्य उपाय घरों से नहीं निकलना और सुरक्षित शारीरिक दूरी है। सभी को इसका पालन करते हुए लॉकडाउन में घरों में ही रहना चाहिए।

लाठी मारकर हत्या की हत्या, छोटे भाई के सिर पर


 

पानी के छींटे उड़ने से नाराज था आरोपित, पुलिस ने कि या गिरफ्तार

बुरहानपुर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। गणपति थाना क्षेत्र के मालीवाड़ा में सोमवार दोपहर को पानी के छींटे उड़ने के मामूली विवाद पर बड़े भाई ने छोटे भाई के सिर पर लाठी मारकर हत्या कर दी।

थाना प्रभारी चैनसिंह उइके ने बताया कि सोमवार सुबह खुर्शीद अहमद पिता गुलाम मुस्तफा की पत्नी घर के बाहर सड़क पर कपड़े धो रही थी। इसी बीच उसका जेठ मोहम्मद रमजान वहां से गुजरा। कपड़े धोने के कारण पानी के कु छ छींटे उस पर पड़ गए, जिससे वह नाराज हो गया। उस समय तो वह चला गया, लेकि न दोपहर में इसी बात को लेकर फिर विवाद शुरू कर दिया। उसने घर के पास आकर छोटे भाई खुर्शीद को बुलाया और जैसे ही वह बाहर निकला, उसके सिर पर डंडे से जोरदार वार कर दिया। घायल खुर्शीद को तत्काल जिला अस्पताल पहुंचाया गया जहां डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया। थाना प्रभारी ने बताया कि देर शाम आरोपित को हिरासत में ले लिया गया है। मंगलवार को उसे कोर्ट में पेश कि या जाएगा।

च्छादेवी मंदिर ट्रस्ट की धर्मशाला राहत कैप में तब्दील

बुरहानपुर। कलेक्टर राजेश कौल ने सोमवार को एक आदेश जारी कर इच्छापुर स्थित इच्छादेवी मंदिर ट्रस्ट धर्मशाला को राहत कै ंप में तब्दील कर दिया है। इस कै ंप में बुरहानपुर जिले की सीमा में प्रवेश करने वाले महाराष्ट्र से आए मजदूरों व अन्य बेसहारा लोगों को रखा जाएगा। इसके लिए उन्होंने आरआई देवेश डोंगरे को प्रभारी और ट्रस्ट के सचिव को सहयोगी बनाया है। राहत कै ंप में भोजन और इलाज आदि की समुचित व्यवस्था भी कराने के निर्देश दिए गए हैं। यह आदेश तत्काल प्रभाव से लागू हो गया हैं।

पुलिस ने बाहर कराई सुपर बाजार में उमड़ी भीड़

सुपर बाजार से लोगों को बाहर कराते हुए पुलिसकर्मी।

बुरहानपुर। सोमवार को हमीदपुरा स्थित स्मार्ट मॉल सुपर बाजार को ग्राहकों के लिए खोल दिया गया था। जिसके बाद सामान लेने यहां खासी संख्या में लोग उमड़ पड़े। कि सी ने इसकी सूचना कोतवाली पुलिस को दे दी। जिसके बाद पुलिस ने सुपर बाजार पहुंच कर भीड़ को बाहर कराया। सुपर बाजार में उमड़ी भीड़ भी इस ओर इशारा कर रही है कि शहर के अधिकांश क्षेत्रों में लोगों को कि राना, राशन समेत अन्य जरुरी सामान की आपूर्ति नहीं हो पा रही है।

शाहपुर के प्रभाकर ने प्रधानमंत्री राहत कोष में दिए एक लाख रुपये

शाहपुर। नगर पंचायत शाहपुर क्षेत्र के प्रगतिशील कि सान और समाजसेवी प्रभाकर विट्ठल पाटिल ने एक बार फिर देश और समाज के प्रति अपनी प्रतिबद्धता को साबित कि या है। उन्होंने सोमवार को प्रधानमंत्री राहत कोष में एक लाख एक हजार रुपये जमा कराए। यह राशि उन्होंने स्थानीय बैंक आफ बड़ोदा की शाखा में आरटीजीएस के जरिए जमा कराई। इससे पहले भी वे देश में आई आपदा के दौरान समाजसेवा के काम करते रहे हैं

पूर्व जिलापंचायत उपाध्यक्ष राजा पवार ने कोरोना से लड़ने 31 हजार रुपये का सहायता राशी प्रदान की


मुलतापी समाचार

राजा पवार जिला पंचायत द्वारा अनुविभागीय अधिकारी चनाप जी को चेक प्रदान करते हुए

मुलताई । देेेेश में कोरोना वायरस के संंक्रमण के प्रभाव से बचने के प्रयास रत हैैै, प्रदेश में २१ दिन का लॉकडाउन की इस मुसकिल की घडी में नगर के समाज सेवक अपने-अपने तरह से जरूरत मंदों को सेवा प्रदान कर रहें है इसी तारतम्‍य में पूूर्व जिला पंचायत उपाध्‍यक्ष राजा पवार द्वारा कोरोना वायरस से प्रदेश एवं देश में आयी इस संकट की घड़ी में 31000 ₹की सहायता राशि का चेक अनुविभागीय अधिकारी जी को सौपा ।

इस दौरान अनुविभागीय अधिकारी से मुलताई क्षेत्र में चल रहे सहायता कार्यो अनाज- भोजन आदि वितरण संबंधी चर्चा हुई .

वहींं नगर के युवाओं और समाज सेवकों गरीब परि‍वार की अनाज वितरण कर सहायता की और नगर सेवकों में सेनेटाइजर वितरण कर सभी जनता से अपने घरों में रहनेे का निवेदन किया।

Bhopal कलेक्टर एवं डीआईजी ने सीमा नाकों व सम्पूर्ण शहर का भ्रमण कर चेकिंग व लॉकडाउन व्यवस्था का जायजा लिया


कोरोना की रोकथाम व शहर में सुरक्षा व्यवस्था के मद्देनजर अधिकारियों ने सीमा नाकों व सम्पूर्ण शहर का भ्रमण कर चेकिंग व लॉकडाउन व्यवस्था का जायजा लिया-

भोपाल : डीआईजी शहर श्री इरशाद वली, कलेक्टर भोपाल श्री तरुण पिथोड़े व एसपी नार्थ श्री शैलेंद्र सिंह चौहान ने आज दोपहर शहर में लगे विभिन्न चेकिंग पॉइंट व नाकों का भ्रमण किया व सम्पूर्ण शहर में भ्रमण कर लॉकडाउन स्थिति का जायजा लिया। उपरांत भोपाल जिले की सभी सीमाओं पर बने चेकिंग नाकों का निरीक्षण कर सुरक्षा व चेकिंग व्यवस्था का जायजा लिया। इस दौरान विभिन्न पॉइंट/नाकों पर चेकिंग में लगे अधिकारी/कर्मचारियों को ब्रीफ़ कर कोरोना से बचाव के सभी उपायों एवं विशेषकर सोशल डिस्टेंसिंग को ध्यान रखकर संवेदनशीलता व गहनता से वाहनों/लोगों की चेकिंग करने हेतु दिशा निर्देश दिए गए। भारत सरकार की एडवायजरी अनुसार लॉकडाउन के सभी नियमों का सख्ती से अनिवार्यत पालन करवाने एवं बगैर अनुमति/इमरजेंसी बाहरी वाहनों शहर बिल्कुल भी प्रवेश न होने देने हेतु निर्देशित किया गया।

गरीबों के लिए 10 किलो 5 किलो और 1 किलो की थैलियां बनाकर बांट रहे अनाज


बिछुआ ने फिर एक बार प्रस्तुत की मानव सेवा की मिसाल

राष्ट्रीय भर्तृहरि विक्रम भोज पुरस्कार समिति के सम्मानीय सदस्य एवं बिछुआ पवार समाज के अध्यक्ष श्री देवेन्द्र पवार


बिछुआ। संकट की इस घड़ी में सरकार के साथ-साथ समृद्ध लोग भी गरीबों की सेवा के लिए आगे आ रहे हैं। बिछुआव में भी इसी तरह का उदाहरण प्रस्तुत किया गया।
बिछुआ के समृद्ध और दानी लोगों द्वारा 10 किलो 5 किलो और 1 किलो अनाज और एक लीटर तेल की थैलियां तैयार कर उन गरीबों के सहायतार्थ उनके घर घर पहुंचाने का कार्य किया जा रहा है।

उल्लेखनीय है इस कार्य के लिए संस्कृति मंच बिछुआ नगर द्वारा शासन से अनुमति लेकर दानशील लोगो के ग्रुप के द्वारा दिहाड़ी मजदूरी करने वाले या ऐसे परिवार जो इस विपरीत परिस्थिति में भोजन की व्यवस्था करने में असमर्थ हैं उन्हें राशन प्रदान करने का कार्य किया जा रहा है।
इस कार्य हेतु बिछुआ नगर के उक्त भाई बहनों का हृदय से आभार।
जानकारी स्रोत – श्री देवेंद्र पवार बिछुआ
आपका “मुलतापी समाचार ” ई-दैनिक और मासिक भारत।