Tag Archives: शहडोल

कटनी, शहडोल, सागर सहित अन्य जिलों के 58 मजदूरों को बसों से घर भेजा


लॉकडाउन में फंसे मजदूरों को मिला सहारा।

हरदा। बसों से घर की ओर रवाना होते मजदूर।

नासिक से आए प्रेमलाल केवट परिवार सहित कटनी के लिए हुए रवाना।

हरदा। मंगलवार सुबह घर जाने के लिए हंगामा करने वाले मजदूरों को जिला प्रशासन ने उनके घर पहुंचा दिया है। जिला प्रशासन द्वारा प्रदेश के अनेक जिलों के मजदूरों को उनके घरों तक पहुंचाने के लिए बसों की व्यवस्था की गई और विभिन्ना जिलों के 58 मजदूरों को दो बसों द्वारा रवाना किया गया। जिसमें कटनी के 26, मंडला के तीन,शहडोल के चार, उमरिया के तीन, सागर के पांच, सिवनी के चार, नरसिंहपुर के एक, दमोह के पांच एवं पन्नाा के सात व्यक्तियों को दो बसों द्वारा उनके गृह जिलों में भेजा गया है। इनमें से अधिकांश मजदूर महाराष्ट्र के विभिन्न शहरों से हरदा पहुंचे थे। जिला प्रशासन द्वारा शासकीय पॉलीटेक्निक महाविद्यालय में इनके ठहरने एवं भोजन की व्यवस्था की गई थी। लेकिन मंगलवार को घर जाने की जिद करते हुए इन्होंने आश्रय स्थल का गेट तोड़कर हंगामा कर दिया था।

शहडोल जिला शासकीय अस्पताल में 12 घंटे के अंदर 6 नवजात बच्चों की मौत; सतना में भी दो बच्चों की जान गई


शहडोल. जिला चिकित्सालय शहडोल में 12 घंटे के अंदर 6 नवजात बच्चों की मौत हो गई। जिन बच्चों की मौत हुई है, उनमें से 2 बच्चे वॉर्ड और 4 एसएनसीयू में भर्ती थे। एसएनसीयू में भर्ती नवजात बच्चों की उम्र एक महीने से कम थी, वहीं बच्चा वार्ड में भर्ती बच्चों की उम्र दो-तीन महीने की बताई जा रही है। सभी बच्चों को निमोनिया हुआ था। अस्पताल में एक साथ 6 बच्चों की मौत से हड़कंप मच गया है। वहीं सतना में दो नवजातों की सोमवार को मौत हो गई थी।
ये भी पढ़े
कोटा के सरकारी अस्पताल में दिसंबर में 100 नवजातों की मौत, मायावती का प्रियंका पर तंज- यूपी की तरह वहां भी जातीं
स्वास्थ्य मंत्री तुलसी सिलावट ने शहडोल और सतना जिले में बच्चों की मौत की घटनाओं की जांच के आदेश दिए हैं। सिलावट ने बच्चों की मौत की सूचना मिलते ही पीड़ित परिजनों के प्रति संवेदनाएं जाहिर की हैं। उन्होंने संबंधित जिला कलेक्टरों और मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारियों (सीएमएचओ) को इन मामलों की जांच कर कार्रवाई के आदेश दिए हैं।
पंचायत मंत्री ने किया अस्पताल का निरीक्षण
वहीं पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री कमलेश्वर पटेल छह बच्चों की मौत के बाद मंगलवार को सुबह शहडोल जिला चिकित्सालय पहुंचे। वह बच्चों के परिजनों से मिले और परिवार के प्रति संवेदना व्यक्त करते हुए घटना के जांच के निर्देश कलेक्टर को दिए हैं।
एसएनसीयू में भर्ती इन बच्चों की मौत
शहडोल जिला अस्पताल में जिन बच्चों की मौत की खबर सामने आई है, उनमें जैतपुर विकासखंड के ग्राम खरेला में रहने वाली चौथ कुमारी पिता बालक कुमार की मौत 13 जनवरी को सुबह 10:50 बजे हुई।एसएनसीयू में दूसरी बच्ची जयसिंह नगर विकास खंड ग्राम भटगांव निवासी फूलमती पिता लाल सिंह निवासी की सुबह 7:50 बजे मौत हुई। तीसरी बच्ची श्याम नारायण कोल ग्राम अमिलिया की थी, जिसने दोपहर बाद 3:30 बजे दम तोड़ा। वहीं एसएनसीयू में भर्ती सूरज बैगा पिता संतलाल बैगा, निवासी ग्राम पनिया है।
बच्चों की मौत की वजह निमोनिया बताई जा रही
इसी तरह बच्चा वार्ड में भर्ती दो अन्य बच्चों की भी मौत की जानकारी सामने आई है। इनमें से एक बच्ची का नाम अंजलि बैगा है। बच्चे की मौत का कारण निमोनिया बताया जा रहा है। जिस छठवें बच्चे ने अस्पताल में दम तोड़ा, उसे शोभापुर से यहां लाकर भर्ती कराया गया था। सीएमएचओ और सिविल सर्जन इस मसले पर बात करने से इनकार कर दिया है।
सतना में हो गई थी दो बच्चों की मौत
सतना जिले के वीरसिंहपुर क्षेत्र के आंगनवाड़ी केंद्र में टीकाकरण के बाद एक माह से कम उम्र के दो नवजात बच्चों की मौत हो गई थी। साथ ही पांच अन्य बच्चों के गंभीर रूप से बीमार हो गए थे। सोमवार को हुई घटना के बाद जिला कलेक्टर और पुलिस मौके पर पहुंच गई थी, जिससे आक्रोशित परिजनों को शांत कराया गया था।
Deependra Verma

multapisamachar@gmail.com