Tag Archives: Bhopal

सरकार अन्नोत्सव नहीं प्रचारोत्सव मना रही – विधायक निलय डागा


बैतूल – प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के तहत सरकार द्वारा प्रदेश में अन्न उत्सव कार्यक्रम का आयोजन कर पात्र हितग्राहियों को खाद्यान्न बांंटा गया। इस आयोजन को विधायक निलय डागा ने आडे़ हाथोंं लेेेते हुए कहा कि यह अन्नोत्सव नहीं प्रचारोत्सव है। पात्र हितग्राही को जब पहले से ही राशन मिल रहा है तो यह पाखंड रचने की क्या आवश्यकता है। श्री डागा ने आरोप लगाया कि प्रचार की मंशा से सरकार ने अन्नोत्सव के तहत मुख्यमंत्री व प्रधानमंत्री की फोटो लगे बेग में राशन वितरण किया। इन बेगों की छपाई में लाखों रूपये खर्च हुए हैं। सभी सोसायटीयों पर टेन्ट लगाना अनिवार्य किया किया गया। इसमें भी हजारों रुपये खर्च हुए होंगे। अमूमन 40 से 50 हजार रुपये प्रति सोसायटी पर खर्च हुए। जनता की गाड़ी कमाई के लाखों रूपये का मोदी कम्पनी अपने प्रचार के लिए दुरूपयोग कर रही है। इसके साथ-साथ हर सोसायटी पर बारिश के समय में रंग रोगन के नाम पर लाखों रुपए खर्च किए गए।

विधायक का कहना कि जब प्रदेश कोरोना जैसी वैश्विक महामारी से जूझ रहा था, जनता दाने दाने के लिए मोहताज थी तब सरकार द्वारा किसी भी प्रकार की कोई सहायता आमजन को नहीं की गई। लेकिन अब प्रधानमंत्री एवं उनकी पार्टी द्वारा अपना प्रचार- प्रसार करने के लिए अन्न उत्सव के माध्यम से राष्ट्रीय मद का दुरुपयोग किया जा रहा है। विधायक का आरोप है कि 5 रुपये का गेहूं देने के लिए 50 रुपये का थैला तैयार किया गया। जिसमें प्रधानमंत्री एवं शिवराज सिंह चौहान ने अपनी फोटो चस्पा कर अपना प्रचार करने का माध्यम बना दिया है। पहली व दूसरी लहर के दौरान जब आमजन मौत की लड़ाई लड़ रहा था तब राष्ट्रीय मद में कमी की बात की जा रही थी। लेकिन अब प्रचार- प्रसार करने के लिए राष्ट्रीय मद का उपयोग किया जा रहा है। विधायक ने कहा एक दिन अन्न दे देने से सिर्फ एक दिन का गुजारा हो सकता है, लेकिन रोजगार प्रदान करने से व्यक्ति स्वयं आत्मनिर्भर बनेगा अपना पालन पोषण कर सकेगा। विधायक ने कहा जिनके कार्ड नहीं हैं उन्हें भी अनाज प्रदान किया जाए।  पात्रता पर्ची नहीं होने के कारण सैकड़ों हितग्राही राशन दुकानों से अनाज लिए बिना ही वापस लौटने को विवश हो रहे हैं। नए बीपीएल कार्ड धारी परिवार को कूपन नहीं मिलने के कारण मुफ्त अनाज नहीं मिल पा रहा है। ऐसे में अन्नोत्सव का कोई औचित्य नहीं है।

रोंढा में सिर्फ 50 हितग्राहियों को बाँटा गया राशन, बाकी लौटे बैरंग


बैतूल- प्रदेशभर सहित जिलेभर में शनिवार को अन्नोत्सव का आयोजन किया गया। इस दौरान सभी प्राथमिक सेवा सहकारी समितियों में पात्र हितग्राहियों को 10-10 किलो अनाज के बेग वितरित किए गए। इनमें चावल, गेहूं सहित अन्य खाद्यान्न दिए गए।

प्रधानमंत्री एवं मुख्यमंत्री का लक्ष्य है कि देश-प्रदेश में कोई भी व्यक्ति भूखा न रहे। इसी को लेकर देशभर मेें अन्नोत्सव मनाया जा रहा है। यह आयोजन लगातार जारी रहेगा औैर सभी हितग्राहियों को अनाज वितरित किया जाएगा।

इसी योजना के अन्तर्गत बैतूल जिले के समीपस्थ ग्राम रोंढा में प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के अंतर्गत पात्र हितग्राहियों को 5 किलोग्राम प्रति व्यक्ति के हिसाब से गेहूं का वितरण किया गया। जिसमें शासन के निर्देशानुसार प्रत्येक परिवार को 10 किलो गेहूं का वितरण प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री के सचित्र बैगों में बाँटा गया। प्रधानमंत्री की गरीब कल्याण अन्न योजना के अंतर्गत पात्र हितग्राही भारी संख्या में राशन दुकान पर पहुंचे। स्थानीय जनप्रतिनिधि कार्यक्रम स्थल पर मौजूद रहे और जनप्रतिनि़धियों की मौजूदगी में पात्र हितग्राही परिवारों को 10 किलो गेहूं का वितरण किया गया।

प्रशासन के निर्देशों के अनुसार 100 परिवारों को राशन वितरित किया जाना था परन्तु केवल 50 परिवार को ही राशन वितरित किया गया और अन्य पात्र हितग्राही को बैरंग वापस लौटना पड़ा। पात्र हितग्राहियों का कहना है कि वह सुबह 9:00 बजे से राशन दुकान पर पहुंचे थे और दोपहर 2:00 बजे तक बैठे रहने के पश्चात भी उन्हें बिना राशन लिए वापस लौटना पड़ा। साथ ही राशन प्राप्त कर चुके लाभार्थियों का कहना है कि हमें केवल 10 किलोग्राम अनाज प्राप्त हुआ है जबकि शेष अनाज कब मिलेगा इसके अभी फिलहाल कोई जानकारी नही है।

कार्यक्रम में इस अवसर पर ग्राम पंचायत की प्रधान श्रीमती मालती बाई, वर्तमान जनपद सदस्य ललित बारंगे, पूर्व जनपद सदस्य दशरथ कोड़ले, सोसाइटी प्रबंधक प्रदीप मालवी, ग्राम पटवारी संदीप चौरगडे़, ग्राम रोजगार सहायक ऊषा मालवी, राशन दुकान संचालिका ललिता इवने सहित ग्राम के जनप्रतिनिधि और राशन हितग्राही मौजूद रहे।

भोयर पवार समाज का शिष्टमंडल मिला केंद्रीय मंत्री गडकरी एवं वीरेंद्र कुमार से


नागपूर – 3 अगस्तः- केंद्र सरकार के ओबीसी सूची से पवार नाम हट जाने से उत्पन्न हुई समस्या का हल निकालने एवं नाम पुनःसम्मिलित करने हेतू भोयर पवार समाज के प्रतिनिधि मंडल ने हाल ही मे दिल्ली में केंद्रीय मंत्री नितीन गडकरी और मा. केंद्रीय सामाजिक न्याय मंत्री वीरेंद्रकुमार से मुलाकात कर समस्या की जानकारी दी।

सुधीर दिवे इनके माध्यम से समाज के प्रतिनिधी श्रावण फरकाडे, मोरेश्वर भादे, अजय फरकाडे इन्होने भंडारा के सासंद सुनिल मेंढे, बालाघाट सिवनी के सांसद ढालसिंग बिसेन, सासंद रामदास तडस इनसे दिल्ली निवास स्थान पर मुलाकात कर जानकारी दी। निवेदन में पवार समाज का पवार जातीय नाम केंद्र के ओबीसी सूची से हट जाणे के संदर्भ में मंत्री को तथा सभी सांसद को ने जानकारी दी और इस समस्या का समाधान करने की अपील की गयी। इस पर सामाजिक न्याय विभाग के वरिष्ठ अधिकारी सुब्रम्णनेम इनसे मंत्री महोदय ने चर्चा करके इस संदर्भ में विस्तृत अहवाल सोंपने के निर्देश दिये। पवार समाज की इस समस्या का समाधान जल्दी ही करेंगे ऐसे आस्वस्त किया। प्रतिनिधि मंडल द्वारा पंतप्रधान कार्यालय एवं राष्ट्रपति कार्यालय को निवेदन सौपा गया इस अवसर पर रुचित पांडे,आदित्य कुमार, प्रणव जोशी, अविनाश बैंगणे (महाराष्ट्र सदन दिल्ली ) इनका सहकार्य प्राप्त हुआ।

विधायक धरमुसिंग सिरसाम फिल्म जंगल सत्याग्रह मे बतौर अभिनेता के रूप मे निभाएंगे किरदार


बैतूल- बगडोना बस्ती में सामुदायिक भवन में द्वितीय ऑडिशन संपन्न किया गया, फिल्म के लेखक एवं निर्देशक प्रदीप उइके ने बताया कि मध्यभारत (गोंडवाना प्रांत) वर्तमान मध्यप्रदेश के बैतूल जिले के घोड़ाडोंगरी क्षेत्र मे जन्मे सरदार गंजन सिंग कोरकू और सरदार विष्णुसिंग उइके हजारों आदिवासी के साथ मिलकर अंग्रेजो से लोहा लेकर देश के आजादी में अमूल्य योगदान दिया, नमक सत्याग्रह के समतुल्य आदिवासी नेतृत्व ने पुरे देश में घास पर लगे कर के विरोध मे जंगल सत्याग्रह कर अंग्रेजों को दांतो तले चने चबाने के लिए मजबूर कर दिया था, शराब दुकान लूटना, रेल्वे जलाना अनेक आंदोलन किये।

इस पर जंगल सत्याग्रह फिल्म बनाया जाना है, उसके लिए ऑडिशन रखे जा रहे है, निर्देशक लेखक प्रदीप उइके ने ये भी बताया कि विधायक धरमु सिंग सिरसाम भी फिल्म मे अहम भूमिका निभाते दिखाई देंगे, 150 से अधिक नागपुर, छिंदवाड़ा, होशंगाबाद, हरदा, बैतूल के कलाकारों ने हुनर पेश किया, फिल्म में 20-25 मुख्य कलाकार दिखाएंगे अपनी भूमिका उन्ही कि तलाश में कर रहे जगह जगह ऑडिशन, ऑडिशन मे जिले के वरिष्ठ जन विधायक धरमु सिंग सिरसाम, पूर्व जिला सदस्य श्यामू परते, जनपद अध्यक्ष आठनेर रामचरण इरपाचे, जनपद अध्यक्ष भैंसदेही संजय मावस्कर, जनपद उपाध्यक्ष घोड़ाडोंगरी, मिश्री परते, डॉ राजा धुर्वे, सरवन परते, सुभाष उइके, जयचंद सरियाम, इंजी. राजा धुर्वे, मुकेश धुर्वे मौजूद थे,

ऑडिशन समापन पर विधायक धरमुसिंग सिरसाम ने अपने वक्तव्य में कहाँ कि 1947 से आज प्रयन्त तक आदिवासियों के इतिहास को उजागर नहीं किया, मेरे बेटे तुल्य प्रदीप उइके ने आदिवासी क्रांतिकारियों पर फिल्म लिख इतिहास रच दिया, उन्हें फिल्म बनाने के लिए आर्थिक सहयोग किया जायेगा, श्यामू परते ने कहाँ कि गीत के माध्यम से बैतूल जिला आज भी गौरवान्वित महसूस करता है पहली बार हमारे इतिहास पर फिल्म बन रही है हमें गर्व महसूस हो रहा है सपना सच होते दिखाई दे रहा है, रामचरण इरपाचे ने बताया कि हमारे क्षेत्र आठनेर के जुगरु गोंड आष्टी के रहने वाले थे, उनके मित्र गंजन, विष्णु थे और इन्होने मिलकर इतिहास रच दिया, इससे युवावों को प्रेरणा लेनी चाहिए, तन, मन और धन से पूर्ण सहयोग किया जायेगा, संजय मावस्कार ने कहाँ कि कोरकू समुदाय आर्थिक पिछड़ा जरूर है मगर आज भी एकता मजबूत है, हमारे पूर्वजों ने विरासत में ये गुण हमें दिये, मिश्री परते जी सम्बोधन करते हुये कहने लगे ये दिन देखने के लिए हम राह देख रहे थे, कोई तो समाज में पैदा होगा जो समाज पर फिल्म लेखन कर बनायेंगा, देर है पर अंधेर नहीं, सुभाष उइके ने कलाकारों का हौशल बढ़ाते हुये कहाँ कि कोई कलाकार छोटा और बड़ा नहीं होता, सभी को लगन से काम करने कि जरूरत, इंजी. राजा धुर्वे ने थिएटर एक्टर कि कहानी बताते हुये कहाँ शुरुआत एक बंद कमरे से होती है और पहचान पुरे देश में मिलती है, ये फिल्म आपकी किस्मत बदलकर ऊँचाई पर ले जाएंगी, अंतिम मे श्यामू परते ने सभी कलाकारों को उनके उज्जवल भविष्य कि शुभकामनायें दी।

प्रभारी मंत्री श्री इंदर सिंह परमार का दौरा कार्यक्रम


बैतूल- जिले के प्रभारी एवं प्रदेश के स्कूल शिक्षा (स्वतंत्र प्रभार) एवं सामान्य प्रशासन मंत्री श्री इंदर सिंह परमार 03 अगस्त मंगलवार को प्रात: 10 बजे विश्राम गृह भौंरा (अपर रेस्ट हाउस, वन विभाग) पहुंचेंगे एवं प्रातः 11 बजे महामहिम राज्यपाल महोदय के प्रस्तावित भ्रमण कार्यक्रम में साथ रहेंगे। मंत्री श्री परमार दोपहर 3 बजे भोपाल के लिए प्रस्थान करेंगे।

राज्यपाल श्री मंगू भाई पटेल का दौरा कार्यक्रम


बैतूल- मध्यप्रदेश के राज्यपाल श्री मंगू भाई पटेल मंगलवार 03 अगस्त को प्रात: 11 बजे गेस्ट हाउस भौंरा पहुंचेंगे। इसके पश्चात दोपहर 12 बजे जिले के ग्राम बाचा पहुंचकर यहां कल्याणकारी योजनाओं/कार्यों एवं पौधरोपण कार्य की समीक्षा करेंगे। श्री पटेल दोपहर 12.30 बजे ग्रामीणों के साथ भोजन करेंगे। दोपहर एक बजे से 1.30 बजे तक कल्याणकारी योजनाओं से लाभान्वित हितग्राहियों से चर्चा करेंगे। दोपहर 1.45 बजे शाहपुर पहुंचेंगे एवं यहां नवनिर्मित सामुदायिक स्वास्थ्य भवन की विजिट करेंगे। इसके पश्चात् दोपहर 2.15 बजे गेस्ट हाउस भौंरा पहुंचेंगे। राज्यपाल श्री पटेल दोपहर 2.30 बजे भौंरा गेस्ट हाउस से तवा डेम के लिए रवाना होंगे।

FPO के मार्गदर्शन में किया गया पौधारोपण का कार्य


बैतूल- कृषि विकास सहकारी समिति द्वारा किसान उत्पादक संगठन (FPO) ग्रो प्योर एग्रो कृषि प्रोड्यूसर कंपनी लिमिटेड बैतूल के मार्गदर्शन व संबंधित किसानों द्वारा ग्राम रोंढा, नएगांव, करजगाँव, सेलगांव, सुरगांव, महदगाँव में ग्राम वासियों और युवाओं को अधिक से अधिक पौधे लगाने के लिए प्रेरित किया गया।

और अभी चल रहे 10,000 किसान उत्पादक संगठन संवर्धन योजना के बारे में जानकारी दी। जिसमें किसान उत्पादक संगठन के मैनेजर कैलाश लोखंडे ने बताया कि किसान भाई FPO के माध्यम से समूह बनाकर जुड़ सकते है और अपने उत्पादकों के माध्यम से उद्योगों को संचालित कर सकते है।

किसान बंधु सुभाष कालभोर ने भी किसान उत्पादक संगठन ग्रो प्योर एग्रो कृषि प्रोड्यूसर कंपनी लिमिटेड के बारे में सहयोगी किसान बंधुओं को जानकारी दी।

इस अवसर पर ग्राम के किसान भाई बलवंत पवार, ललित बारंगे, मुंशी देशमुख, संतोष, सरजेराव मस्हकी, अशोक बारंगे, सिरपत डिगरसे, कृष्णकुमार डोगरदिए, चंद्रभान वराठे, बद्री प्रसाद, रिंकू डिगरसे, राजा पवार, लक्ष्मण सातपुते, प्रदीप डिगरसे, सुखराम ढोबारे, प्रवीण चौधरी, मोनू पवार, जितेन्द्र हजारे सहित सभी किसान बंधुओं ने उत्साह के साथ पौधारोपण का कार्य भी किया।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का ऐलान – 31 मई तक कर्फ्यू का सख्ती से हो पालन, जून में धीरे-धीरे अनलॉक होगा।


भोपाल: कोरोना कर्फ्यू को लेकर सीएम शिवराज सिंह चौहान ने एक बार फिर बड़ा ऐलान किया है। उन्होंने राज्य भर में कोरोना कर्फ्यू बढ़ाकर 31 मई तक कर दिया है। सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि प्रदेश भर में 31 मई तक कोरोना कर्फ्यू का कड़ाई से पालन किया जाएगा। अभी कोरोना गया नहीं है इसे गंभीरता से लेना चाहिए। इसके बाद धीरे-धीरे जून में कोरोना कर्फ्यू में छूट दी जाएगी। उन्होंने यह घोषणा उज्जैन संभाग में जिला, विकासखंड तथा ग्राम स्तरीय क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप को संबोधित करते हुए की। इस मौके पर उन्होने सभी अधिकारी कर्मचारियों के प्रयासों की तारीफ की और कहा कि प्रशासन बधाई का पात्र है जिसने दिन रात मेहनत कर कोरोना को हराया है।

इस दौरान सीएम शिवराज ने कहा कि राज्य में कोरोना के रिकीवरी रेट में सुधार हो रहा है। लगातार पॉजिटिविटी रेट घट रही है। लेकिन हमें ओवर कॉन्फिडेंस में नहीं रहना है। कोरोना वायरस अभी भी है और लेकिन स्थिति इसलिए काबू में है क्योंकि हमने कोरोना कर्फ्यू लगाया हुआ है। उन्होंने कहा कि हमारा टारगेट है कि 31 मई तक हम जीरो कोरोना केस तक पहुंच पाएं। उन्होने कहा कि हम 31 मई से आगे कर्फ्यू नहीं लगा सकते क्योंकि जून में हमें सब खोलना ही पड़ेगा। हालांकि हम अनलॉक भी वैज्ञानिक तरीके से करेंगे। हमें अनुशासन में रहना पड़ेगा। इसके बाद धीरे धीरे राहत दी जाएगी। शादी समारोह की अनुमति भी जून में ही मिलेगी।

वहीं कोरोना की तीसरी लहर को लेकर सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि इससे निपटने के लिए हमें अभी से तैयारी करनी होगी।इसके लिए स्वास्थ्य विभाग में स्टाफ की भर्ती कर रहे हैं। सीटी स्कैन सहित अन्य सभी आवश्यक मेडिकल उपकरण लाने की कोशिश की जा रही है। इसी के साथ ब्लैक फंगस पर सीएम ने कहा कि पोस्ट कोविड मरीज एंव ब्लैक फंगस के मरीज इलाज के लिए आगे आए। इस बीमारी से निपटने के लिए सरकार ने दवाईयां उपलब्ध कराने की कोशिश में है। उनका न्यायपूर्ण वितरण हो यह भी सुनिश्चित कराएंगे। सीएम ने कहा कि हर जिले में पोस्ट कोविड सेंटर बनाना है जहां ब्लैक फंगस, हार्ट आदि से संबंधित बीमारियों का इलाज किया जाएगा। जो कोरोना को मात देकर घर लौटने वालों को यदि कोई परेशानी होती है तो उन्हें तुरंत पोस्ट कोविड सेंटर में आएं और समय रहते इलाज कराएं।वहीं रेमडेसिवीर की कालाबाजारी को लेकर कहा कि ऐसे लोगों को किसी कीमत पर छोड़ना नहीं है। ऐसे लोगों पर सीधे एनएसए की कार्रवाई की जाए। 

स्वास्थ्य विभाग की एक बड़ी लापरवाही तब सामने आ रही, जीवित मरीज को मरा बताया, किसी की बॉडी किसी परिवार को दी, मरीजो की संख्या बढ़ी


स्वास्थ्य विभाग की एक बड़ी लापरवाही तब सामने आई, जब एक मरीज को 2 बार मृत घोषित कर दिया गया। साथ ही किसी अन्य मरीज का शव परिजनों को बताने की कोशिश की गई। परिजनों ने जब शव को देखा तो वह हैरान रह गए, क्योंकि यह शव किसी और व्यक्ति का था । मामला सुल्तानिया के रहने वाले कोरोना पॉजिटिव गौरेलाल कौरी का है ।

अटल बिहारी वाजपेयी मेडिकल कॉलेजकोरोना पॉजिटिव को दो बार मृत बताया।

दरअसल, गौरेलाल की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी, जिसके बाद इलाज के लिए उन्हें अटल बिहारी वाजपेयी मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया था। इलाज के दौरान एक दिन पहले जहां रात के समय रोगी की स्थिति गंभीर बताई। फिर इसके बाद 13 अप्रैल की देर रात गौरेलाल को मरा हुआ बताया गया। गौरेलाल की मौत की खबर लगते ही हड़बड़ाहट में जब परिजन अस्पताल पहुंचे तो बताया गया कि उनके मरीज की सांसे चल रही हैं। परिजनों ने डाक्टरों से मरीज के अच्छे इलाज की मांग की, लेकिन 14 अप्रैल बुधवार की सुबह साढ़े 8 बजे डाक्टर का एक बार फिर फोन आया। इस बार भी डाक्टर ने मरीज की मौत की खबर परिजनों को सुनाई।

शव देखा तो नहीं और कोई निकला

मरीज के बेटे ने जब शव देखने की जिद की तो पता चला कि यह किसी और का शव था। जांच पड़ताल की गई तो उनके मरीज की हालत गंभीर थी और वह आइसोलेशन वार्ड में भर्ती थे, जबकि मंगलवार की रात में ही स्वास्थ्य मंत्री ने मरीजों के अच्छे इलाज के लिए स्वास्थ्य विभाग को

चेस्ट किया था। इस मसले पर अब कई सारे सवाल खड़े हो

गौरेलाल के बेटे कैलाश ने बताया कि स्वास्थ्य विभाग ने हमें काफी देर तक गफलत में डाल दिया, जब डेड बॉडी को देखा तब जाकर सच सामने आया। अभी उनके पिता की हालत गंभीर है, और वह संक्षेपण वार्ड में भर्ती हैं। कैलाश ने बताया कि इस मामले की शिकायत भी की गई लेकिन कार्रवाई के नाम पर कुछ नहीं हो सका। कैलाश ने बताया कि उनके पिता गौरेलाल भोपाल में रेलवे डाक विभाग में पोस्टमैन हैं।

मेडिकल कॉलेज के डॉ। । गंभीर आरोप लगे

मरीज के बेटे ने बताया कि दो दिन पहले उनका तबीयत बहुत बुरा बता रहा था। इसके बाद हमें बताया गया कि हमारे पिता की मृत्यु हो गई है, और नर्स ने 10 मिनट बाद कहा कि रोगी की सांस चल रही है। मैंने कहा कि डॉ से आप अच्छे से इलाज करते हैं, लेकिन डॉक्टरों की यही लापरवाही चल रही है और फिर शाम को बताया जा रहा है। कि मरीज के गले का ऑपरेशन किया जाएगा। फिर बाद में शाम 6 बजे ऑपरेशन के दौरान अपडेट आता है कि उनका ऑपरेशन करते-करते मौत हो गई है। जब हमने आकर देखा की मृत्यु प्रमाण पत्र घोषित कर दिया गया है। हमारे परिजन मरीज को देखने गए तो मरीज वेंटिलेटर पर भर्ती था। हमें डेड बॉडी भी दी जाने लगी । जब हमने कहा कि डेड बॉडी का चेहरा देख लें। चेहरा देखने के लिए गए, तो हमारे मरीज का नहीं था, जबकि हमारा मरीज जीवित है।

लड़खड़ाते बोले डीन

सुनील नंदेश्वर मेडिकल कॉलेज के डीन का कहना है कि कोरोना के चलते आपाधापी बढ़ गई है। कहीं रोगी वेंटिलेटर पर हैं, तो दूसरे की सांस फूल रही है, तीसरे का यह हो रहा है, तो थोड़ा सा हो जाता है। डीन ने कहा कि मरीज वेंटिलेटर पर ही थे। उनके हृदय की गति रुक गई थी, तो इस बार किसी नर्स ने बताया कि उनकी मृत्यु हो गई है, लेकिन हृदय की गति रूकती है तो उसके बाद में डॉ। हृदय को दोनों हाथों से दबाकर हृदय को पुनः चालू करने की कोशिश करता है। जिसमें एक से दो घंटे लगभग लग जाते हैं।

डीन ने कहा,

हमारे यहां के डॉक्टरों ने उन्हें रिवाइज किया और फिर रिवाइज करने के बाद ब्लने वापस आई। और उन्हें फिर हमने वेंटिलेटर पर रखा था। इस कारण से यह थोड़ा सा कन्फ्यूजन हो गया। हमने उनके परिजनों को बता दिया है कि मरीज वेंटिलेटर पर है ।

युवा गुर्जर महासभा के जिला अध्यक्ष बने धर्मेन्द्र सिंह गुर्जर…


भोपाल अखिल भारतीय युवा गुर्जर महासभा के प्रदेश अध्यक्ष दिलीप गुर्जर ने राजवीर पटेल के अनुशंसा पर भोपाल जिले के धर्मेन्द्र सिंह गुर्जर को अखिल भारतीय गुर्जर महासभा युवा इकाई के जिला अध्यक्ष के पद पर नियुक्त किया इनकी नियुक्ति पर समाज के वरिष्ठजन एवं इष्ट मित्रों द्वारा बधाई एवं शुभकामनाएं दी गई…